Submit your post

Follow Us

BJP ने बड़बोली प्रज्ञा ठाकुर को चुप कराने का आईडिया निकाल लिया है

529
शेयर्स

मालेगांव धमाकों की आरोपी और भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर. नरेंद्र मोदी ने कहा था कि दिल से माफ़ नहीं कर सकते. क्यों? क्योंकि प्रज्ञा ठाकुर का नाम मालेगांव बम धमाके की प्रमुख आरोपी के तौर पर आया था. प्रज्ञा बड़बोली मानी जाती हैं. गोबर से अपना कैंसर ठीक कर दिया. और सुषमा स्वराज, बाबूलाल गौड़ और अरुण जेटली के निधन के बाद कहा कि विपक्ष काले जादू और मारक शक्तियों का उपयोग कर रहा है, इस वजह से भाजपा के वरिष्ठ नेता मारे जा रहे हैं.

अब भाजपा की भद्द पिटी तो पार्टी को होश आया. और प्रज्ञा को चुप कराने का इंतजाम कर लिया गया. क्या इंतज़ाम? ठाकुर को बाक़ायदे बताया गया है कि अगली बार अगर कुछ गड़बड़ बोलती हैं, तो आपके खिलाफ गंभीर कार्रवाई की जाएगी.

भाजपा में मौजूद सूत्रों ने बताया है कि साध्वी प्रज्ञा को कहा गया है कि वे पब्लिक में न बोलें और ऐसे विवादित बयान न दें.

हिन्दुस्तान टाइम्स की मानें तो भाजपा के मध्य प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने ये कदम उठाए हैं. उनके बयानों से बवाल उठा. एक हफ्ते पहले तक प्रज्ञा ठाकुर मध्य प्रदेश में अरुण जेटली की स्मृति में होने वाले कार्यक्रमों में बोलने के लिए पार्टी नेतृत्त्व को स्लिप भेज रही थीं, लेकिन पार्टी नेतृत्त्व ने उनकी मांग को हर बार दरकिनार किया.

पार्टी के एक नेता ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बातचीत करते हुए कहा,

“हम फिर से ऐसा होते दुहरा नहीं सकते थे. सोमवार को प्रज्ञा ठाकुर ने ऐसी मांग की थी. लेकिन बाबूलाल गौड़ भोपाल से आने वाले नेता थे और प्रज्ञा खुद भोपाल से सांसद हैं. पार्टी को आभास हुआ है कि जब भी वे बोलती हैं, तो हर बार वो गलत ही करती हैं.”

लेकिन प्रज्ञा के सहयोगी जेपी शर्मा ने कहा है कि प्रज्ञा को बोलने से क्या कोई रोक सकता है? जब मीडिया ने जेपी शर्मा से पूछा कि अब उन्हें कई कार्यक्रमों में क्यों नहीं बुलाया जा रहा है, खासकर एक हालिया कार्यक्रम में जिसे भोपाल के मेयर ने आयोजित किया था, तो शर्मा ने कहा कि प्रज्ञा जी की तबीयत ठीक नहीं थी, इसलिए खुद ही वे नहीं गयीं.

और पार्टी के कार्यकर्ता प्रज्ञा के साथ काम नहीं करना चाहते. चुनाव के परिणाम आए महीने बीत चुके हैं लेकिन प्रज्ञा ने भोपाल में खुद के प्रतिनिधि की नियुक्ति नहीं की है. इस बारे में गप्पबाज़ी शुरू हुई तो बात सामने आई कि दरअसल पार्टी के कार्यकर्ता प्रज्ञा ठाकुर के साथ काम नहीं करना चाह रहे हैं. इसकी वजह प्रज्ञा का गिरता ग्राफ है.

हाल में ही बीजेपी का सदस्यता अभियान ख़त्म हुआ है. पार्टी दावे कर रही है. और इसी बीच प्रज्ञा ठाकुर की बयानबाज़ी चल रही थी. एक और नेता ने मीडिया से कहा,

“हम उनके बयानों से सहमत नहीं हैं. हम इस समय भाजपा के सदस्यता अभियान में व्यस्त हैं. उनके बयानों से हमारी मुहिम को नुकसान पहुंच रहे हैं, जिनके लिए हम इतनी मेहनत कर रहे हैं.”


लल्लनटॉप वीडियो : RBI और मोदी सरकार के बीच लेनदेन पर ये सात विद्वानों ने क्या बोला है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

उजड़ा चमन से विवाद खत्म हुआ तो फिल्म बाला पर एक और बड़ी मुसीबत आ गई

फिल्म की रिलीज़ में सिर्फ दो दिन बचे हैं और फिल्म बनाने वालों को कोर्ट ने नोटिस भेज दिया

'राधे' फिल्म की शूटिंग से सलमान ने वीडियो शेयर किया, लोग टूट-टाटकर देख रहे हैं

इंटरनेट न बैठ जाए कसम से.

बांदा: सरकारी दफ्तर में कर्मचारी हेलमेट लगाकर काम करते हैं, वजह काफ़ी दुखी करने वाली है

यहां सड़क से ज्यादा कमरे के अंदर हेलमेट लगाना जरूरी है.

ज़िंदा जलाई गई तहसीलदार को बचाने की कोशिश करने वाले ड्राइवर की भी मौत

ड्राइवर के परिवार में आठ महीने की प्रेगनेंट पत्नी और दो साल का एक बेटा है.

एक परिवार ने अनुष्का-विराट को घर बुलाया, चाय पिलाई, बिना ये जाने कि दोनों स्टार हैं

इस ग्रामीण परिवार और उनकी सादगी ने अनुष्का को भावुक कर दिया.

अधिकारी को बल्ले से पीटने वाले आकाश विजयवर्गीय ने ऐसा काम किया कि मोदी माफ़ नहीं कर पाएंगे

आकाश विधायक हैं, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं.

छोटे भाई की हत्या की, डेड बॉडी के साथ जो किया वो और भी डरावना है

मकान मालिक को शक हुआ, तो पता चला 18 घंटे पहले ही हो चुका था सबकुछ.

गंभीर रूप से बीमार थीं, फिर भी देश के डॉक्टर्स पर ऐसा भरोसा था कि विदेशी इलाज से मना कर दिया

किडनी ट्रांसप्लांट के दौरान सुषमा स्वराज ने दिल छू लेने वाली बात कही थी.

विराट कोहली ने इतने टैटू बनवा रखे हैं, आखिरी दो उनके करियर के सबसे बड़े पल दिखाते हैं

जानिए हर टैटू का अर्थ.

दिल्ली की हवा इतनी ज़हरीली है, लेकिन भारत के सबसे प्रदूषित टॉप-10 शहरों में नहीं है इसका नाम

जब दिल्ली की हालत इतनी ख़राब है, तो उन शहरों का क्या हाल होगा? वैसे लिस्ट में सबसे ज़्यादा एंट्री UP की हैं.