Submit your post

Follow Us

कर्नाटक चुनाव रिजल्ट : बीजेपी, कांग्रेस-जेडीएस के बीच चूहे-बिल्ली का खेल शुरू

543
शेयर्स

कर्नाटक चुनाव के नतीजे जैसे-जैसे समय बढ़ता जा रहा है, मजेदार होते जा रहे हैं. सुबह कांग्रेस आगे थी. फिर बीजेपी आगे निकल गई. बहुमत पा लिया. भगवा खेमे में जश्न मनने लगा. दिल्ली से लेकर कर्नाटक तक में नगाड़े बजने लगे. मगर जल्दबाजी हानिकारक होती है. दोपहर तक ये बात सही हो गई. खेल बिगड़ गया. बीजेपी बहुमत से पीछे चली गई. और कांग्रेस मुक्त भारत का अभियान फिलहाल रुका सा दिखने लगा.

गवर्नर से मिलने जाते येदियुरप्पा.
गवर्नर से मिलने जाते येदियुरप्पा.

नंबर्स की बात करें तो बीजेपी अब 105 सीटों पर आगे है. कांग्रेस बढ़कर 77 सीटों पर आ गई है. वहीं जैसी आशंका थी, जेडीएस 38 सीटों के  साथ किंगमेकर की भूमिका में आ गई है. किसी को बहुमत नहीं मिला है. और इसी के साथ चूहे-बिल्ली का खेल शुरू हो गया है. कौन सरकार बनाएगा, इसकी जंग शुरू हो गई है. कांग्रेस ने दांव खेलते हुए जेडीएस को समर्थन की घोषणा कर दी है. जेडीएस के एचडी कुमारस्वामी को सीएम बनाने का ऑफर दे दिया है, जिसके बाद दोनों ने हाथ मिला लिए हैं. नंबर के लिहाज से भी कांग्रेस-जेडीएस सरकार बनाने की ज्यादा बड़ी दावेदार हो गई हैं. हालांकि अब गेंद गवर्नर वजुभाई वाला के पाले में चली गई है. जेडीएस के कुमारस्वामी ने गवर्नर से समय मांगा था, जिसके बाद कुमारस्वामी और सिद्धारमैया गवर्नर से मिले और सरकार बनाने का दावा पेश किया.

कांग्रेस ने दिया जेडीएस को समर्थन.
कांग्रेस ने दिया जेडीएस को समर्थन.

वहीं, माना ये भी जा रहा है कि राज्यपाल पहले बीजेपी को सरकार बनाने का मौका देंगे. वजह बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है. इस बीच खबर आ रही है कि येदियुरप्पा गवर्नर से मिलने भी पहुंच गए हैं. सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है. गवर्नर उन्हें अगर सरकार बनाने का मौका देते हैं तो बीजेपी को बहुमत साबित करना होगा. इसके लिए समय कितना मिलेगा, वो गवर्नर के विवेक पर निर्भर करेगा.

इन सबकी किस्मत का आज फैसला होने वाला है.

शेयर बाजार में उछाल

कर्नाटक चुनाव के रुझानों में बीजेपी को बहुमत मिलता देख शेयर बाजार भी झूम उठा था. सेंसेक्स ने 400 से ज्यादा अकों की उछाल मारी है. आंकड़ा 35,900 पार कर चुका है. निफ्टी भी बढ़कर 10,900 का आंकड़ा क्रॉस कर चुका है. सुबह जब बाजार खुला था तो कांग्रेस को आगे देख मामला थोड़ा डगमगाया था. माने सेंसेक्स 19 पॉइंट गिरकर 35,537 पर खुला तो निफ्टी भी गिरावट के साथ खुला था.

कर्नाटक में तीन दल ही मेन प्लेयर्स हैं. सिद्धारमैया के नेतृत्व में कांग्रेस, येदियुरप्पा के नेतृत्व में बीजेपी और एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व में जेडीएस. इन्हीं तीनों के बीच राज्य की 222 सीटें बंटनी हैं. 15 मई के सुबह से ही नतीजे आने शुरू हुए तो तीनों के समर्थकों ने पूजा-पाठ शुरू कर दिया था. इस उम्मीद से कि नतीजे उनके पक्ष में रहे. देखें –

क्कि
बीजेपी समर्थक पूजा करते हुए.
कुमारस्वामी के समर्थकों ने हवन शुरू कर दिया है.
कुमारस्वामी के समर्थकों ने हवन शुरू कर दिया है.
कांग्रेस समर्थक भी हवन कर रहे हैं.
कांग्रेस समर्थक भी हवन कर रहे हैं.

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बैनर्जी का भी बयान आ गया है. ट्वीट कर जीतने वालों को बधाई दी है और हारने वालों को वापसी के लिए लड़ने का संदेश दिया है. साथ ही एक और मारक बात बोलते हुए कहा है कि अगर कांग्रेस ने जेडीएस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा होता तो रिजल्ट कुछ और होता.

7


ये भी पढ़ें –

वो छह सीटें जहां कर्नाटक के चार मुख्यमंत्रियों की इज़्ज़त दांव पर लगी है

16वीं सदी का राजा टीपू सुल्तान क्यों 2018 के चुनाव में बन गया मुद्दा?

क्या मुस्लिम और ईसाई समूहों ने साजिश करके लिंगायतों को हिंदुओं से अलग किया?

कर्नाटक के मुख्यमंत्री: एस एम कृष्णा – कांग्रेस ने जिसे मुख्यमंत्री बनाया वो 87 की उम्र में BJP सदस्य बना

कांग्रेस के इस दलित नेता की मुख्यमंत्री बनने की हसरत फिर अधूरी रह गई!

उन छह सीटों पर क्या हुआ, जहां कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे चार नेताओं की इज़्ज़त दांव पर है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

BHU : मुस्लिम संस्कृत शिक्षक ने कहीं और पढ़ाने के लिए आवेदन किया है

एक पत्थर पर लिखी बात संविधान से ज्यादा ज़रूरी?

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!