Submit your post

Follow Us

कंगना की बहन रंगोली ने ऋतिक के साथ उनकी लड़ाई को घटिया लेवल तक पहुंचा दिया

169
शेयर्स

कंगना रनौत और ऋतिक रौशन की अगली फिल्में बॉक्स ऑफिस पर एक ही दिन रिलीज़ हो रही है. कंगना और राजकुमार राव स्टारर फिल्म ‘मेंटल है क्या’ की प्रोड्यूसर एकता ने ट्विटर पर अनाउंस किया कि उनकी फिल्म 21 जून के बदले 26 जुलाई को रिलीज़ होगी. साथ ही उन्होंने ऋतिक की फिल्म का नाम न लेते हुए ये भी बताया कि इसमें पर्सनल कुछ नहीं है. सब बिज़नेस के लिए हो रहा है. इसके जवाब में ऋतिक की फिल्म ‘सुपर 30’ के प्रोड्यूसर्स ने सिर्फ एक ट्वीट किया और कहा कि उनकी फिल्म निर्धारित तारीख यानी 26 जुलाई को ही रिलीज़ होगी.

एकता कपूर ने स्टेटमेंट में इसे फिल्म के बेहतर बिज़नेस के लिए उठाया गया कदम बताया था. आगे उन्होंने लिखा उनकी टीम हरसंभव कोशिश करेगी कि बिना वजह किसी विवाद में उलझने की जरूरत नहीं पड़े. जैसे ही एकता ने ये ट्वीट किया लोग कमेंट कर बताने लगे कि ऐसा कंगना के कहने पर किया गया है. इस बार एकता ने कड़े शब्दों में कहा कि लोगों को किसी के ऊपर पर्सनल कमेंट नहीं करना चाहिए. क्योंकि ये उनका फैसला है उनके एक्टर्स का नहीं. इसके बाद कंगना रनौत की बहन रंगोली चंदेल ने एक के बाद कई ट्वीट्स कर ऋतिक रौशन पर निशाना साधा. इस दौरान उनकी भाषा देखने लायक थी. रंगोली के वो ट्वीट्स आप नीचे देख सकते हैं:

7405-tweets-by-rangoli-chandel

इसमें रंगोली ऋतिक को बिना वजह खरी-खोटी सुनाती नज़र आ रही हैं. और कंगना पर लग रहे इन सब आरोपों का ठीकरा उनके ही सिर पर फोड़ रही हैं. इन ट्वीट्स में रंगोली ने भाषा का बिलकुल ख्याल नहीं रखा. वो सामने वाले यानी ऋतिक रौशन को अपने ट्वीट्स में टैग कर ‘जादू’, ‘बेटा’ समेत और भी कई ऑफेंसिव शब्दों का इस्तेमाल उनके लिए कर रही हैं. और ये बाहर से देखने में बहुत ओछा लग रहा है. सिर्फ इतना ही नहीं रंगोली के कमेंट सेक्शन में एक ई-मेल का स्क्रीनशॉट चल रहा है. इस पर कई सारी बातें लिखीं हैं. लेकिन संक्षेप में ये कुल मिलाकर प्लानिंग इस चीज़ की है कि ये सारा विवाद कंगना के मत्थे मढ़ दिया जाए. और बताया जा रहा है कि ये ऋतिक की ओर से करवाया जा रहा है. हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं कि ऐसा ऋतिक की ओर से हो रहा है. इसलिए इसके फर्जी होने की संभावनाएं ज़्यादा हैं. वो लिस्ट आप नीचे देख सकते हैं:

D6CekkyXkAESKZu (1)

एकता कपूर ने कहा था कि वो किसी भी तरह एक दूसरे पर कीचड़ नहीं उछलने देंगी. लेकिन उनका बिज़नेस वाला पर्पस बिना विवाद के तो सॉल्व हो ही नहीं सकता है. कंगना रनौत और ऋतिक रौशन का कुछ पर्सनल मसला है. इस पर बात कर कंगना लगातार सुर्खियां में रहती हैं. अब तो फिल्म एक ही दिन रिलीज़ हो रही है. इससे जनता के दिमाग की शांति जाती रहेगी. क्योंकि जब तक फिल्म रिलीज़ नहीं हो जाती यानी अगले तीन महीने तक कंगना अपने इस चैप्टर को फिर से रिवाइज़ करेंगी. और ऋतिक को घेरने की कोशिश करेंगी. रोज़ नई हेडलाइन्स बनेंगी. दोनों फिल्मों का प्रचार होगा और जनता दोनों देखेगी. और कंगना के इस फिल्म का प्रमोशनल कैंपेन की शुरुआत रंगोली के ट्वीट्स के साथ हो भी चुकी है.

रंगोली ने आखिर में एक ट्वीट किया. इसमें उन्होंने लिखा कि अगर कंगना को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा, उसे ट्रोल और बुली नहीं किया जाएगा, तो वो ‘सुपर 30’ और उसके मेकर्स के खिलाफ कुछ नहीं बोलेगी. हालांकि ऐसा अभी तक देखा नहीं गया है कि कंगना को कोई व्यक्ति या कंपनी विशेष ट्रोल या बुली करने की कोशिश की है. बाकी ट्विटर के रेगुलर ट्रोल्स को कौन ही रोक पाया है.

रंगोली और कंगना के पास फिलहाल ऋतिक को पिछले पांव पर रखने की वजह है. क्योंकि ऋतिक अपनी फिल्म को खुद ही अभी बहुत चर्चा में नहीं रखना चाहते हैं. जैसे ही इस फिल्म की बात छिड़ेगी उसके डायरेक्टर तक जाएगी. मीटू, सेक्शुअल हैरसमेंट से लेकर फिल्म के पोस्ट-प्रोडक्शन तक पर सवाल पूछे जाएंगे. इससे मार्केट में नेगेटिव पब्लिसिटी होगी. फिलहाल तो मसला ये है कि ग्रज कंगना-ऋतिक का, फिल्म भी इनकी, पैसा भी इनका लेकिन अगले तीन महीने तक दिमाग हमारा खराब होने वाला है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!

बरसों से इंडिया का मित्र राष्ट्र रहा नेपाल क्या अब ज़मीन को लेकर कसमसा रहा है?

'कालापानी' को लेकर उत्तराखंड के CM टीएस रावत चिंता में हैं या गुस्से में, कहना मुश्किल है.

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...