Submit your post

Follow Us

वो पांच जवान, जो बड़गाम हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए

2.60 K
शेयर्स

# स्कॉड्रन लीडर निनाद मंडावगने की बेटी पिछले हफ्ते ही 2 साल की हुई थी. वो घर नहीं जा पाए. क्योंकि भारत-पाक के बीच तनाव बढ़ रहा था. इंडियन एयरफोर्स के सभी पायलटों की छुट्टियां कैंसल कर दी गई थीं. अब वो कभी घर जा नहीं पाएंगे. उनको आखिरी बार घर ले जाया जाएगा. क्योंकि बडगाम में क्रैश हुए MI 17 हेलिकॉप्टर में निनाद भी सवार थे. वो इसके पायलट थे. TOI के मुताबिक निनाद के पिता अनिल मंडावगने ने कहा कि-

मुझे मेरे बेटे पर गर्व है. उसने देश के लिए प्राण न्यौछावर कर दिए. वो मानसिक तौर पर मज़बूत था. और जब से एयर फोर्स जॉइन की थी, वो किसी भी हालात का सामना करने के लिए तैयार था.

हादसे के कुछ ही देर बाद आर्मी ने इलाके को अपने कंट्रोल में कर लिया
हादसे के कुछ ही देर बाद आर्मी ने इलाके को अपने कंट्रोल में कर लिया.

# दूसरी ओर चंडीगढ़ में भी माहौल गमगीन था. जगदीश कांसल के इकलौते बेटे सिद्धार्थ वशिष्ठ भी बडगाम क्रैश में शहीद हुए हैं. सिद्धार्थ इंडियन एयर फोर्स में स्कॉड्रन लीडर थे. उनकी पत्नी आरती भी एयर फोर्स में स्कॉड्रन लीडर हैं. आजकल छुट्टी पर थीं. लेकिन भारत-पाक के बीच बढ़ते तनाव के कारण छुट्टी रद्द हो गई. कुछ ही दिनों में ड्यूटी जॉइन करने वाली थीं. शायद किस्मत को ये कबूल ना था.
दोनों की शादी 2013 में हुई थी. दोनों का 2 साल का बेटा है- अंगद. हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक, सिद्धार्थ फौजी बैकग्राउंड से आते थे. वो फौज में सेवाएं देने वाली परिवार की चौथी पीढ़ी थे. इससे पहले उनके पिता, दादा और परदादा फौज में रहकर देश की सेवा कर चुके हैं. सिद्धार्थ के पिता जगदीश कांसल के मुताबिक सिद्धार्थ अपने मामा से इंस्पायर थे. सिद्धार्थ के मामा विनीत भारद्वाज भी इंडियन एयर फोर्स में विंग कमांडर थे. 2002 में एक MiG 21 क्रैश में वो शहीद हुए थे.

चार भाई-बहनों में सिद्धार्थ सबसे छोटे थे. वो 31 साल के थे और 2010 में ग्रेजुएशन पूरी करने बाद इंडियन एयर फोर्स का हिस्सा बने थे. सिद्धार्थ का परिवार मूल रूप से हरियाणा के अंबाला जिले में हमीदपुर गांव से है.

बडगाम साउथ कश्मीर का इलाका है. पिछले दिनों में कश्मीर के इस हिस्से में तनाव बढ़ा है.
बडगाम साउथ कश्मीर का इलाका है. पिछले दिनों में कश्मीर के इस हिस्से में तनाव बढ़ा है.

# हरियाणा के एक और कोना है झज्जर. वहां के भदानी गांव में भी मातम पसरा है. क्योंकि गांव ने अपने जांबाज़ बेटे विक्रांत के खोया है. शहादत की खबर मिलते ही पूरा गांव विक्रांत के घर जुट गया. सभी को दिल में रोष था. विक्रांत एयर फोर्स में सार्जेंट थे. उनके पिता कृष्ण सहरावत ने सरकार से अपील की है कि इस समस्या का पक्का इलाज ढूंढ़ा जाए. कहा-

रोज़-रोज़ की लड़ाई खत्म हो ताकि माओं की गोद सूनी ना हो और पत्नियों के सुहाग सलामत रहें.

विक्रांत के पिता अपने दूसरे बेटे को भी सेना में भेजना चाहते हैं. ताकि दुश्मनों को सबक सिखाया जा सके.

बडगाम हमले में यूपी के भी 2 जवान शहीद हुए.

# कॉरपोरल पंकज कुमार मथुरा के रहने वाले थे. पंकज के पिता नौबत सिंह भी आर्मी में सूबेदार थे. पंकज 27 साल के थे. 2015 में उनकी शादी मेघा से हुई थी. दोनों का 15 महीने का एक बेटा है- रुद्राक्ष. पंकज ने 2012 में एयर फोर्स जॉइन की थी. पंकज ने 2 फरवरी को ही दोबारा ड्यूटी जॉइन की थी. पंकज का परिवार अब इस समस्या का पक्का हल चाहता है.

सरकार ने इस क्रैश का कारण टेक्निकल फेल्यर बताया है
सरकार ने इस क्रैश का कारण टेक्निकल फेल्यर बताया है.

# पंकज के पक्के वाले दोस्त थे कॉरपोरल दीपक पांडे. कानपुर के रहने वाले थे. एक हफ्ता पहले ही वापस ड्यूटी जॉइन की थी. दीपक ने अपनी मां से आखिरी बार बात एक दिन पहले ही की थी. ड्यूटी पर लौटते वक्त दीपक ने मां से वादा किया था कि अगली बार आएंगे और उनकी पसंद की लड़की से शादी करेंगे. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. अब दीपक नहीं आएंगे.


वीडियो- इमरान खान प्रेस कॉन्फ्रेंस: अब आतंक पर बात करने को तैयार पाकिस्तान

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Indian Air force personnel killed in MI 17 Helicopter crash in Budgam

क्या चल रहा है?

जोश-जोश में विवेक ओबेरॉय ने सलमान की फिल्म का प्रमोशन कर डाला, उन्हें खुद पता नहीं चला

लगता है विवेक इस हफ्ते 'मिस्टेक सप्ताह' मना रहे हैं.

इंडियन प्लेयरों की पत्नियों पर तो 20 दिन का बैन लगा, पाकिस्तानियों के साथ तो और भी बुरा हुआ है

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को लगता है कि प्लेयरों का फोकस बिगड़ गया है.

2019 चुनाव नतीजे: BJP के वो दो विजेता जिनके नाम रिकॉर्डबुक में जुड़ गए हैं

दोनों की वजहें एक दम अलग हैं.

जिस उम्मीदवार की रिज़ल्ट आने से पहले ही हत्या हो गई थी, वो जीत गए

उनके बेटे के साथ और 11 लोगों को मार दिया गया था.

फिर से मोदी सरकार बनने पर इन 16 फ़िल्मी सितारों ने क्या कहा?

सबसे क्यूट अनुपम खेर की मम्मी का वीडियो है.

काउंटिंग शुरू होने से कुछ ही घंटे पहले कांग्रेसी उम्मीदवार को गोली मारी, गला रेता

हथियारों से लेस छः लोगों ने उन्हें और उनके एक साथी को घेर लिया था.

दिल्ली में 22 साल के लड़के ने पिता के 50 टुकड़े किए और सूटकेस में भरकर फेंकने जा रहा था

ये केस 1930 के एक सीरीयल किलर की याद दिलाता है.

ICC की ये लिस्ट देखकर कोहली ने रोहित से कहा- भाई कोई नहीं है टक्कर में!

यही भौकाल वर्ल्ड कप में भी कायम रखना है.

वर्ल्ड कप 2019 जीतने के लिए इंग्लैंड ने 27 साल पहले वाला टोटका किया है

कहीं ये पाकिस्तान की बांछें न खिला दे.

अयोध्या में 7 गायों के साथ रेप करने वाला शख्स, गोशाला के सीसीटीवी के चलते पकड़ में आया

पुलिस ने पूछताछ की तो बोला- नशे में था, कुछ याद नहीं.