Submit your post

Follow Us

U19 वर्ल्ड कप जिताने वाले मनजोत और IPL में छक्के पीटने वाले नीतीश का क्रिकेट करियर तबाह हो सकता है

5
शेयर्स

दिल्ली क्रिकेट के 2 बड़े नाम. मनजोत कालरा और नीतीश राणा. एक ने भारत को अंडर 19 वर्ल्ड कप जिताने में बड़ी भूमिका निभाई, तो दूसरा आईपीएल टीम कोलकाता नाइट राइडर्स का महत्वपूर्ण बल्लेबाज़ है. दोनों उम्र छिपाने के मामले में फंस गए हैं. दोनों खिलाड़ियों पर आरोप है कि दिल्ली में जूनियर क्रिकेट खेलने के लिए अपनी उम्र को कम करके बताया. इस बात का खुलासा दिल्ली पुलिस की एसआईटी जांच से हुआ है.

# क्या है मामला?

पूर्व सांसद और क्रिकेटर कीर्ति आजाद ने इस मामले में साल 2014-15 में एक केस दर्ज कराया था. उन्हें खिलाड़ियों की उम्र को लेकर शक था. केस दर्ज होने के बाद दिल्ली पुलिस की विशेष टीम ने मामले की जांच की. जिसके बाद धीरे-धीरे चीज़ें साफ होनी शुरू हो गई. दिल्ली के तीस हज़ारी कोर्ट में दाखिल चार्जशीट के मुताबिक दोनों खिलाड़ियों ने अपनी-अपनी उम्र एक साल कम करके बताई है.

कीर्ति आजाद ने इस मामले में साल 2014-15 में केस दर्ज कराया था. (फाइल तस्वीर)
कीर्ति आजाद ने इस मामले में साल 2014-15 में केस दर्ज कराया था. (फाइल तस्वीर)

# चार्जशीट में क्या है?

चार्जशीट के मुताबिक मनजोत कालरा की जन्म की असली तारीख 15 जनवरी 1998 है, जबकि BCCI के रिकॉर्ड में उन्होंने अपनी जन्मतिथि 15 जनवरी 1999 बताई है. दिल्ली पुलिस ने इसके लिए बीसीसीआई के रिकॉर्ड और स्कूली सर्टिफिकेट्स का हवाला दिया है. दूसरी ओर नीतीश राणा पर आरोप है कि अंडर-15 टीम में जगह बनाने के लिए उन्होंने सर्टिफिकेट के साथ छेड़छाड़ की थी. सर्टिफिकेट के मुताबिक नीतीश राणा का डेट ऑफ बर्थ 27 दिसंबर 1993 है लेकिन पुलिस का कहना है कि नीतीश का जन्म 1992 में हुआ है.

# क्या कहता है परिवार?

चूंकि जिस वक्त ये एफआईआर दर्ज की गई उस वक्त ये दोनों खिलाड़ी नाबालिग थे, इसीलिए चार्जशीट में खिलाड़ियों के माता-पिता का नाम है. नीतीश के पिता के मुताबिक उन्हें चार्जशीट के बारे में जानकारी नहीं है. मनजोत कालरा के पिता ने उम्र को लेकर किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया है. उन्होंने कहा कि मनजोत की जन्मतिथि स्कूल में एक बार गलत लिखी गई थी जिसे बाद में ठीक करा 1999 करवा दिया गया था.

# बीसीसीआई का नियम क्या कहता है?

उम्र के मामले में फर्जीवाड़ा करने के बाद पकड़े जाने पर खिलाड़ी को 2 साल के लिए बैन कर दिया जाता है. 2 साल के लिए खिलाड़ी किसी भी तरह के कोई बीसीसीआई टूर्नामेंट में भाग नहीं ले सकते. बैन खत्म होने के बाद ही खिलाड़ी किसी भी तरह के टूर्नामेंट में भाग ले सकते हैं.

ककि
फर्जीवाड़े में पकड़े जाने पर बीसीसीआई 2 साल का बैन लगा सकती है (सांकेतिक तस्वीर)

# कई और नाम भी हैं लपेटे में

इन दोनों क्रिकेटर्स के साथ ही हर्ष त्यागी, अंकित प्रताप सिंह, हर्षित सेठी, राजा खान, भरत गुप्ता, प्रशांत भंडारी, प्रतीक कौशिक और सारंग रावत के माता-पिता के नाम चार्जशीट में शामिल हैं क्योंकि एफआईआर के वक्त सभी नाबालिग थे. क्रिकेटर दीपक खत्री का नाम चार्जशीट में डाला गया है, क्योंकि एफआईआर के वक्त वह बालिग थे.

# अभी क्या कर रहे हैं दोनों खिलाड़ी?

साल 2018 में अंडर 19 वर्ल्ड कप जिताने के बाद मनजोत कालरा को आइपीएल के लिए दिल्ली की टीम ने खरीदा था. उसके बाद 2019 में भी उन्हें दिल्ली की टीम ने रिटेन किया. हालांकि दोनों ही सीज़न में मनजोत एक भी मैच नहीं खेल पाए. दूसरी ओर दिल्ली रणजी के लिए खेल चुके नीतीश राणा आईपीएल में कोलकाला नाइट राइडर्स की तरफ से खेल रहे हैं. इससे पहले वो मुंबई और दिल्ली की टीम की तरफ से भी खेल चुके हैं. आईपीएल में नीतीश ने 134 के स्ट्राइक रेट से 1 हजार से ज्यादा रन बनाए हैं. नीतीश को मिडिल ऑर्डर का बढ़िया बल्लेबाज माना जाता है.


वीडियो: संगरूर में बोरवेल में गिरे फतेहवीर की जान NDRF और आर्मी भी नहीं बचा सकीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
In Delhi police SIT investigation in Under 19 cricketers age fudging case includes Manjot kalra and Nitish rana parents along with 9 cricketers

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे ने संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

जेल में बंद पेरारिवलन ने संजय दत्त से जुड़ी बहुत सी जानकारी इकट्ठी की है.

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में बंपर वोट खींचने वाला ऐलान कर दिया है

वो ऐसी स्कीम लेकर आए हैं कि दिल्ली-NCR की महिलाएं खुश हो गईं.

आखिर क्या सोचकर मोदी ने UP के इन नेताओं को कैबिनेट में जगह दी है?

इनमें कुछ से पिछली सरकार के दौरान बीच में ही मंत्रालय छीन लिया गया था.