Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

109 लोग जहरीली शराब से मर गए, अब जाकर यूपी पुलिस छापामार कार्रवाई कर रही है

1.26 K
शेयर्स

जहरीली शराब से मौत का आंकड़ा तीन दिन बीतने के बाद भी रुकने का नाम नहीं ले रहा. मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है.  यूपी के सहारनपुर, कुशीनगर और उत्तराखंड के रुड़की में जहरीली शराब पीने से कुल मरने वालों की संख्या 109 हो गई है.  सरकार के आदेश के बाद यूपी में 20 से ज्यादा जिलों में अवैध शराब के ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारे जा रहे हैं.

एक्शन में पुलिस, 3000 से ज्यादा गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब से मौतों का सिलसिला जारी है. साथ ही सिलसिला शुरू है राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का. अधिकारियों पर कार्रवाई और जांच भी जारी है. उत्तर प्रदेश सरकार ने सहारनपुर और कुशीनगर में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों की जांच एसआईटी (विशेष जांच दल) से कराने की घोषणा की है. साथ ही दोनों जिलों के संबंधित क्षेत्राधिकारियों को भी निलंबित कर दिया है.

इटावा पुलिस एवं आबकारी विभाग की संयुक्त टीम द्वारा थाना जसवंतनगर क्षेत्र से 2000 लीटर लहन, 150 लीटर कच्ची शराब व शराब बनाने के उपकरण सहित 03 अभियुक्तों को किया गया गिरफ्तार। @Uppolice @adgzonekanpur @igrangekanpur pic.twitter.com/igeRQIhGFz

— ETAWAH POLICE (@etawahpolice) February 10, 2019

प्रदेश में जहरीली शराब से हुई भारी संख्या में मौतों के बाद प्रशासन एक्शन में है. डीजीपी ने 15 दिनों तक अवैध शराब के खिलाफ विशेष अभियान चलाने के निर्देश  दिए हैं. जिसका असर दिखने लगा है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने एक स्टेटमेंट में बताया कि पिछले दो दिनों में अवैध शराब के व्यापार से जुड़े 3049 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. सबसे ज्यादा 2700 गिरफ्तारी आगरा ज़ोन में हुई है. साथ ही 79000 लीटर कच्ची शराब बरामद की गई है. इस अभियान में अब तक 2812 मुकदमे भी दर्ज किए जा चुके हैं.

त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा नया कानून लाएंगे

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जहरीली शराब मामले में बड़ी कार्रवाई के साथ-साथ राज्य में एक अलग कानून बनाने की वकालत की है. सीएम ने कहा अवैध रूप से शराब बेचने वालों के खिलाफ ठीक वैसा ही कानून होगा जैसा बलात्कार करने वालो के खिलाफ है. सीएम ने कहा कि यह घटना बेहद गंभीर है. मामले का खुलासा हो चुका है. आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा. मौजूदा सदन में सरकार एक ऐसा विधेयक लाने जा रही है जिसके पास होने के बाद राज्य में जहरीली और अवैध रूप से शराब बेचने और बनाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो सकेगी.

योगी ने कहा सपा कार्यकर्ताओं का हो सकता है हाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसमें सपा कार्यकर्ताओं के शामिल होने की बात कही थी. संवाददाताओं से बात करते हुए योगी ने कहा था कि सपा कार्यकर्ताओं का नाम पहले भी इस तरह की घटनाओं में आ चुका है. इसलिए इस दुर्घटना में साजिश की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता. योगी ने कहा कि जहरीली शराब का उत्पादन उत्तराखंड में हो रहा था. मैंने वहां के सीएम से बात की है. दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

अखिलेश का पलटवार, कहा सरकार की मिलीभगत से चल रहे गिरोह 

वहीं पलटवार करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि बिना सरकार के समर्थन के इस तरह के रैकेट नहीं चल सकते. दोनों राज्यों में भाजपा की सरकार है. सरकार ने कोई कार्रवाई इसीलिए नहीं की क्योंकि इसमें भाजपा के लोग शामिल थे. अखिलेश ने मृतकों के परिजनों को 20 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग की है.


वीडियो देखें: उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर, 90 से अधिक लोगों की मौत

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
hooch tragedy update: death toll rises to 109 in Uttar Pradesh and Uttarakhand

टॉप खबर

रफाएल पर 'द हिंदू' का एक और खुलासा, लेकिन क्या इसमें जानकर कुछ छिपाया गया?

'द हिंदू' के मुताबिक सरकार ने रफाएल से एंटी-करप्शन क्लॉज़ हटाया...

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा, जिसे ममता-मोदी दोनों तरफ के लोग अपनी जीत मान रहे हैं

CBI और कोलकाता पुलिस की लड़ाई असल में ममता और मोदी की लड़ाई मानी जा रही है...

सीबीआई को लेकर मोदी सरकार से क्यों टकरा रही हैं ममता बनर्जी

जानिए कोलकाता से लेकर दिल्ली तक क्यों बरपा है हंगामा, क्या-क्या हुआ अब तक?

CBI पहुंची थी कोलकाता कमिश्नर के घर, पुलिस ने टीम को ही हिरासत में ले लिया

मोदी बनाम ममता की लड़ाई अब पुलिस बनाम सीबीआई, ममता बनर्जी धरने पर.

'5 लाख तक टैक्स नहीं' ये सुनने के बाद कन्फ्यूजन क्यों फैला?

अंतरिम बजट आ गया है. आपके लिए क्या निकलकर आया, वो जानो.

इन्कम टैक्स पर मोदी सरकार का सबसे बड़ा ऐलान

गाइए - 'जिसका मुझे था इंतज़ार, वो घड़ी आ गई.'

हम पकौड़ों में रोज़गार तलाश रहे थे, बेरोजगारी 45 साल के टॉप पर पहुंच गई

रिसी हुई रिपोर्ट का रहस्योद्घाटन कि रोजगार के नाम पर तो रायता फ़ैल चुका है.

क्या है मायावती सरकार में हुआ 1400 करोड़ का स्मारक घोटाला, जिसमें ED ने छापा मारा है

सवा चार लाख का हाथी, बांटे गए 60 लाख. जमके लूट मची थी!

महात्मा गांधी की हत्या के तीन आरोपी, जिनके अभी भी जिंदा होने की आशंका है

गांधीजी के पड़पोते तुषार का कहना है कि ये अकेली लापरवाही नहीं थी!

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, गांधीजी की डेथ एनिवर्सरी पर जानिए कुछ इनसाइट्स.