Submit your post

Follow Us

MCD चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल को लगे 5 बड़े झटके

दिल्ली नगर निगम चुनाव की तैयारी में जुटी आम आदमी पार्टी को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं. पंजाब और गोवा में औंधे मुंह गिर चुकी ‘आप’ को MCD चुनाव से पहले पांच बड़े झटके लगे हैं.

पिछले विधानसभा चुनाव में AAP ने 70 में से 67 सीटें जीती थीं. ऐसे में साख बचाने के लिए अरविंद केजरीवाल की पार्टी यूपी-विजेता बीजेपी को रोकने की कोशिशों में जुटी है.

लेकिन फिलहाल उल्टा हो रहा है. राजधानी में वर्चस्व के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण हो चुके MCD चुनाव से पहले ‘आप’ के दो बड़े नेता पार्टी छोड़ चुके हैं, एक बगावती सुर उठा चुका है और विज्ञापन नियमों का उल्लंघन करने की वजह से पार्टी पर 97 करोड़ का जुर्माना भी ठोंका गया है. जानिए पूरा हाल:

#1. बीजेपी में शामिल हुए वेद प्रकाश, लगाया उत्पीड़न का आरोप

बीजेपी में शामिल होते समय दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी के हाथों मिठाई खाते वेद प्रकाश
बीजेपी में शामिल होते समय दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी के हाथों मिठाई खाते वेद प्रकाश

दिल्ली की बवाना विधानसभा सीट से ‘आप’ के विधायक रहे वेद प्रकाश अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं. उनके इस्तीफे पर दिल्ली विधानसभा से लेकर पार्टी तक में हाई वोल्टेज हंगामा हुआ. 27 मार्च को बीजेपी के दिल्ली वाले दफ्तर में पार्टी की सदस्यता लेने के बाद वेद प्रकाश विधानसभा पहुंचे थे, जहां उन्हें विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देना था. वेद प्रकाश जब स्पीकर के सचिव के ऑफिस पहुंचे, तो वहां ‘आप’ के कई नेता भी पहुंच गए और वेद प्रकाश को समझाने का प्रॉसेस शुरू हुआ. खुद अरविंद केजरीवाल वेद को समझाने आगे आए, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ.

वहां से किसी तरह बाहर निकलकर वेद प्रकाश ने ‘आप’ पर कई गंभीर आरोप लगाए. हालांकि, उनके इस्तीफे को रिश्वतखोरी और शाहबाद डेयरी इलाके में सरकारी जमीन पर कब्जे वाले मामलों से जोड़कर भी देखा जा रहा है. 29 मार्च तक विधानसभा अध्यक्ष ने वेद का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया था, जिसके बाद वेद ने आरोप लगाया कि उन्हें सोची-समझी साजिश के तहत मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है. वेद ने बताया,

‘तीन दिन पहले इस्तीफा देने के बावजूद विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने मेरा इस्तीफा स्वीकार नहीं किया. उन्होंने मुझे बात करने के लिए अपने ऑफिस बुलाया, लेकिन जब मैं गया, तो मुझे डेढ़ घंटे इंतजार कराया गया. फिर जब उन्होंने मुझे बुलाया, तो मुझसे कई अनाप-शनाप सवाल किए गए, जिनका इस्तीफे से कोई लेना-देना नहीं था. मुझ पर इस्तीफा वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा है.’ आखिर में 30 मार्च को विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता के साथ विधानसभा जाने के बाद वेद का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया.

#2. बगावती सुर में केजरीवाल को नसीहतें दे रहे विधायक राजेश ऋषि

'आप' विधायक राजेश ऋषि
‘आप’ विधायक राजेश ऋषि

‘आप’ के अधिकतर नेता अक्सर कविताओं और व्यंग्य के सहारे अपनी बात कहते नजर आते हैं. इस बार ऐसा किया है जनकपुरी विधानसभा से ‘आप’ विधायक राजेश ऋषि ने. अब तक पार्टी पर कभी कोई सवाल न उठाने वाले राजेश ने 30 मार्च को अपने ट्विटर अकाउंट पर फिल्म ‘अमर प्रेम’ की दो लाइनें लिखते हुए पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल को आगाह करने की कोशिश की. उन्होंने लिखा,

‘मंझधार में नैय्या डोले, तो मांझी पार लगाए
मांझी जो नाव डुबोए, उससे कौन बचाए.’

एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा,

‘जिस राजा में घमंड होता है, वो राजा अपने राज्य को खुद डुबो देता है.’

केजरीवाल को टैग करते हुए उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा,

‘अगर कोई चापलूसों पर भरोसा करता है, तो उसका शासन खत्म होने की तरफ है.’

इस ट्वीट में राजेश ने केजरीवाल और पार्टी के सीनियर लीडर कुमार विश्वास को टैग किया था. इस बारे में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘मेरा मेसेज अपने-आप समझ में आने वाला है. कई बार राजा चापलूसों से घिरा होता है, लेकिन राजा को सब कुछ साफ देखना चाहिए. हमारी पार्टी डूब रही है, लेकिन विधायकों को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है. कोई हमारे फोन नहीं उठाता. पंजाब की हार की समीक्षा की जरूरत है. पार्टी में कुमार विश्वास इकलौते ऐसे नेता हैं, जिनके अंदर सच के साथ खड़े होने की क्षमता है.’ हालांकि, राजेश ने कुछ ही देर में ट्वीट्स डिलीट कर दिए थे.

#3. कांग्रेस में शामिल हुईं ‘आप’ की महिला विंग की उपाध्यक्ष

कांग्रेस की सदस्यता लेने के दौरान सीमा कौशिक
कांग्रेस की सदस्यता लेने के दौरान सीमा कौशिक

‘आप’ की रोहिणी जिला महिला विंग की उपाध्यक्ष और रोगी कल्याण समिति की अध्यक्ष सीमा कौशिक 30 मार्च को अपने 250 समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गईं. पार्टी छोड़ते समय सीमा ने आरोप लगाया, ‘आम आदमी पार्टी में अब भ्रष्टाचार का बोलबाला हो गया है. वो कहते कुछ और हैं और करते कुछ और हैं. नेता भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं और कार्यकर्ता मारे-मारे घूम रहे हैं. कार्यकर्ताओं को कुछ देने की बात आती है, तो रिश्तेदार आगे आ जाते हैं. कांग्रेस इकलौती पार्टी है, गरीबों और बेसहारों की पार्टी है.’ सीमा को कांग्रेस जॉइन कराते समय अजय माकन ने भी ‘आप’ पर निशाना साधते हुए खूब खरी-खोटी सुनाई.

#4. मायावती से भी बुरे तानाशाह हैं अरविंद केजरीवाल: देवेंद्र सहरावत

देवेंद्र सहरावत
देवेंद्र सहरावत

दिल्ली की बिजवासन विधानसभा सीट से विधायक देवेंद्र सहरावत ने केजरीवाल पर खुलकर निशाना साधा है. देवेंद्र की बातें सबसे ज्यादा चौंकाने वाली हैं. उन्होंने कहा,

‘मैं दूसरी सभी पार्टियों के साथ संपर्क में हूं. नीतीश कुमार के जनता दल के साथ भी. ‘आप’ के कई विधायक इस समय दूसरी पार्टियों के नेताओं से मिल रहे हैं. कुछ अकेले जा रहे हैं और कुछ ग्रुप बनाकर. सारी ताकत केजरीवाल और उनके कुछ समर्थकों के हाथ में होने की वजह से पार्टी में बागी पैदा हो रहे हैं. स्थानीय नेताओं को उठने का मौका नहीं दिया गया. केजरीवाल खुद को मायावती से बुरा तानाशाह साबित कर रहे हैं. वो काम करने के बजाय प्रधानमंत्री को कोसने में वक्त जाया कर रहे हैं. ये स्कूल के बच्चे और प्रिंसिपल के बीच लड़ाई जैसा दिखता है.’

इससे पहले देवेंद्र ने पार्टी के उस लेटर पर साइन करने से भी इनकार किया था, जिस पर पार्टी के फाउंडर मेंबर योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को निकाले जाने का आदेश था. पिछले साल सितंबर में देवेंद्र ने केजरीवाल को एक पत्र लिखकर बताया था कि ‘आप’ के कुछ नेता पंजाब में टिकट देने की आड़ में महिलाओं का शोषण कर रहे हैं. इस आरोप के बाद उनकी पार्टी सदस्यता खत्म कर दी गई थी और संजय सिंह और दुर्गेश पाठक ने उन पर पंजाब में मानहानि का केस कर दिया था. इस मामले में ट्विस्ट तब आया, जब अक्टूबर में देवेंद्र के पिता ने केजरीवाल को खत लिखकर कहा था कि उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है.

#5. विज्ञापन नियमों का उल्लंघन करने पर 97 करोड़ का जुर्माना

अरविंद केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल

पिछले दिनों दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने मुख्य सचिव एमएम कुट्टी को विज्ञापन के नियमों का उल्लंघन करने पर ‘आप’ से 97 करोड़ रुपए वसूलने का आदेश दिया. ये जुर्माना भरने के लिए ‘आप’ को एक महीने का वक्त दिया गया है. इससे एक महीने पहले केंद्र सरकार ने तीन सदस्यों की एक कमेटी बनाई थी, जिसने बताया कि केजरीवाल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए जनता के पैसों को विज्ञापन पर खर्च किया. एलजी ने इस मामले में जांच के आदेश भी दिए हैं.

दिल्ली के साउथ, ईस्ट और नॉर्थ कॉर्पोरेशन की 272 सीटों पर चुनाव के लिए 23 अप्रैल को वोटिंग होगी और नतीजे 26 अप्रैल को आएंगे.


ये भी पढ़ें:

MCD चुनावों में अरविंद केजरीवाल बनाम योगी आदित्यनाथ?

आम आदमी पार्टी पर ये क्विज खेलो, खास फीलिंग आएगी

पंजाब की जनता ने इन दिग्गज नेताओं के खोल दिए धुर्रे

कौन है जो अरविंद केजरीवाल को रेप में फंसाने की कोशिश कर रहा है?

AAP के बड़े नेता ने बताई वजह, पंजाब क्यों हार गए केजरीवाल

केजरीवाल को हमारे चचा ने धर लिया. और मूस (चूहों) की समस्या के बारे में बात की, देखो इंटरव्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?