Submit your post

Follow Us

सपा की हार पर मंथन को मीटिंग हुई, मुलायम ने अखिलेश को झाड़ के रख दिया

5.16 K
शेयर्स

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी में विचार का दौर चल रहा है. बसपा और राष्ट्रीय लोकदल के साथ मिलकर सपा ने चुनाव लड़ा. परिवार की दो सीटें, धर्मेन्द्र यादव की बदायूं और अक्षय प्रताप यादव की सीट फिरोजाबाद, भी गंवा बैठे. डिम्पल यादव भी कन्नौज से चुनाव हार गयीं. पार्टी के बहुतेरे बड़े नाम भी अपना चुनाव बचा नहीं सके.

सोमवार को पार्टी के लखनऊ कार्यालय में हार को लेकर मंथन मीटिंग हो रही थी. राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पार्टी में थे. पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव भी मीटिंग में पहुंचे. सूत्रों की मानें तो मुलायम सिंह यादव ने नाकामी के लिए पार्टी के नेताओं की जमकर क्लास लगायी.

इसके पहले जब सपा और बसपा में गठबंधन के बाद सीटों का बंटवारा हुआ था तो भी मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव के इस फैसले पर आपत्ति ज़ाहिर की थी. सूत्र बताते हैं कि सपा और बसपा ने जब 38-38 सीटें बांट लीं तो मुलायम ने अखिलेश से तभी कहा था कि “आधी सीटें तो तुम पहले ही हार गए.”

चर्चा रही है कि मुलायम सिंह यादव सपा-बसपा गठबंधन के पक्ष में नहीं थे. कल की मीटिंग में उन्होंने गठबंधन के औचित्य पर भी बात की तो अखिलेश यादव के परफॉरमेंस पर भी बात की. मीटिंग में मौजूद एक सपा नेता बताते हैं –

“नेताजी ने कोर्स करेक्शन यानी रास्ता सुधारने की बात की है. उन्होंने नेताओं से कहा कि पार्टी को गठबंधन से ज्यादा ज़रुरत ज़मीनी स्तर पर काम करने की है.”

सूत्रों के अनुसार, मुलायम सिंह यादव ने अक्षय यादव, धर्मेन्द्र यादव और डिम्पल यादव के चुनाव हारने पर अखिलेश और बाकी नेताओं से कहा –

“तुम लोग तो घर की सीट भी नहीं बचा सके.”

बैठक में मौजूद नेताओं के मुताबिक़ मुलायम सिंह यादव बसपा को मिली बढ़त से खासे नाराज़ दिखे. उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा में एक भी सीट न जीतने वाली बसपा इस बार दस सीटें जीतकर आ गयी. उन्होंने कहा कि सपा ने अपनी मजबूत सीटें बसपा के खाते में दे दीं और खुद ऐसी सीटों पर लड़ी, जिस पर पार्टी कभी मजबूत नहीं रही.

एक पार्टी नेता के मुताबिक़ मीटिंग में मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल के पार्टी में न रहने को भी हार का एक बड़ा कारण करार दिया
एक पार्टी नेता के मुताबिक़ मीटिंग में मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल के पार्टी में न रहने को भी हार का एक बड़ा कारण करार दिया

बैठक में कुछ नेताओं ने हार के कुछेक कारण गिनाने शुरू किए तो मुलायम सिंह यादव ने उन्हें भी डांट दिया.

सूत्रों के अनुसार मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव के करीबियों और उनके प्रचार के तरीके पर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि अखिलेश जिन लोगों से घिरे रहते हैं, उनकी मदद से चुनाव मजबूत नहीं होता है.

एक पार्टी नेता बताते हैं –

“अखिलेश यादव साईकिल चलाकर मुख्यमंत्री बने थे. अब एसी बस या हेलिकॉप्टर से नीचे उतरते नहीं. नेताजी ने इस पर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि अखिलेश भईया का ज़मीन से कनेक्शन कट चुका है.”

सूत्रों के मुताबिक़ शिवपाल यादव के पार्टी से अलग हो जाने पर भी मुलायम सिंह यादव ने सवाल उठाए. उन्होंने हार का एक बड़ा कारण शिवपाल की गैर-मौजूदगी को भी बताया. उन्होंने अखिलेश के बारे में कहा कि उन्हें रास्ता दिखाने वाले लोग गलत रास्ता दिखा रहे हैं.

चुनाव परिणाम आने के बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सभी प्रवक्ताओं को हटा दिया. और टीवी पैनलिस्टों को भी पद से हटा दिया. इसके अलावा समाजवादी पार्टी के साथ समाजवादी छात्रसभा, समाजवादी युवजन सभा, लोहिया वाहिनी और यूथ बिग्रेड को फिर गठित करने की तैयारी हो रही है. सूत्र बताते हैं कि संगठन के पुनर्गठन की घोषणा अखिलेश यादव आज शाम कर सकते हैं.

सपा ने कहा-ऐसा कुछ नहीं
उधर, समाजवादी पार्टी के मीडिया सचिव आशीष यादव ने ऐसी किसी भी बात का खंडन किया है. उन्होंने कहा कि मीडिया में चल रही इस तरह की खबरें सही नहीं हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
election result 2019 : Samajwadi Party leader Mulayam Singh Yadav attends meeting in Lucknow, comes hard on Akhilesh yadav and other SP leaders

क्या चल रहा है?

पहले नरेंद्र मोदी समर्थकों को मिर्ची लगाई, अब मरहम क्यों लगा रही है अमेरिकी मैगजीन टाइम?

मोदी को लेकर टाइम के सुर कैसे बदल रहे...

'मंत्री की रिश्वत के तौर पर दो बॉलीवुड हिरोइन की डिमांड', स्वामी कुछ बड़ा विस्फोट करने वाले हैं?

बीजेपी नेता के ट्वीट से हलचल मची. जनता पूछ रही कौन है ये मंत्री?

हेनरी ओलंगा की घातक बॉलिंग तो आपको याद ही होगी, अब उन्हें गाते हुए देख झूम उठेंगे

वर्ल्ड कप के एक मैच में काली पट्टियां बांधने के बाद उनका क्रिकेट करियर ही खत्म हो गया.

जब ‘जेसीबी की खुदाई’ देखने अमिताभ बच्चन भी रुक गए!

और तो और नागपुर पुलिस भी जेसीबी को अपने ट्विटर हैंडल पर ले गई.

जोफ्रा आर्चर ने जो कहा उसे सुनकर इशांत शर्मा की कॉलर पक्का खड़ी हो जाएगी

वर्ल्ड कप में जोफ्रा का बड़ा भौकाल है.

वर्ल्ड कप इंडिया ही जीतेगी! धोनी ने फिर वही किया जो 2011 वर्ल्ड कप से पहले किया था

अगर इतिहास खुद को दोहराता है, तो पटाखे खरीद लीजिए.

कंपनी ने नौकरी से निकाला तो सातवें फ्लोर पर चढ़ कर बोली- नौकरी दो, नहीं तो कूद जाऊंगी

वीडियो वायरल हो गया है.

टीम से बाहर बैठे ऋषभ पंत ने टीम इंडिया से वर्ल्ड कप को लेकर एक जरूरी बात कही है

पंत की इस बात के साथ पूरा इंडिया खड़ा है.

2 किलोमीटर लंबी ट्रेन दौड़ाकर इंडियन रेलवे ने रिकॉर्ड बना दिया है

इतनी लंबी कि देखते-देखते आंखें पथरा जाएं.

जब कमेंट्री करते हुए सौरव गांगुली और जॉन राइट 2003 वर्ल्ड कप की यादों में खो गए

दोनों के बीच गजब की ट्यूनिंग थी.