Submit your post

Follow Us

पाकिस्तान के कोढ़ियों के लिए 'मसीहा' है ये औरत

252
शेयर्स

आज इंडिया गर्व से कहता, हमारे नसीब में दो मदर टेरेसा रहीं. लेकिन मार्च 1960 में वीजा के इश्यू की वजह से दूसरी मदर टेरेसा इंडिया आते-आते रह गईं. पर फिर वो रुकी कहां? अरे वही, आपके पसंदीदा मुल्क पाकिस्तान में.

अब से 20 साल पहले पाकिस्तान ने कोढ़ पर कंट्रोल कर लिया था. साल था 1996. पर अगर आप इस बेहतरीन काम के लिए अपनी सरकार को कोसते हुए पाकिस्तानी सरकार की तारीफ करने की सोच रहे हैं, तो रुकिए. तारीफ की असली हकदार कोई पाकिस्तानी नहीं, जर्मनी की एक बूढ़ी औरत है. नाम डॉक्टर रुथ फॉ, वही जो निकली तो थीं इंडिया के सफर पर, लेकिन रुक गईं कराची में ही.

जिस पाकिस्तान के डेरा गाज़ी खान इलाके में कभी 10 में से 8 लोग कोढ़ की बीमारी से जूझ रहे थे. अब वहां इस बीमारी से बमुश्किल सिर्फ 10 मरीजों का इलाज चल रहा है. थैंक्स टू डॉक्टर रुथ फॉ.

dr rauf

कौन हैं रुथ फॉ?
जब वर्ल्डवॉर-2 चल रहा था. उस दौरान 1929 में जर्मनी में पैदा हुई थीं रुथ फॉ. रूस ने ईस्ट जर्मनी पर कब्जा कर लिया था. रूथ फैमिली के साथ वेस्ट जर्मनी चली गईं. बड़ी हुईं तो तय किया, मेडिकल की पढ़ाई करूंगी. पर समाजसेवा इस कदर भरी हुई थी कि सिर्फ मेडिकल में भी मन नहीं लगा. और बन गईं नन, समाजसेवा करने के लिए.

Dr ruth Pfau-2

पाकिस्तान कनेक्शन?
कोढ़ बीमारी के खिलाफ रुथ की लड़ाई शुरू हुई 1960 में. कराची की लेपरोसी (कुष्ठ या कोढ़) कॉलोनी गईं. वहां जाकर देखा तो लोगों का बुरा हाल था कोढ़ की बीमारी से. बस रुथ ने वहीं छोटा सी झोपड़ी बसाई. और लोगों का इलाज करना शुरू कर दिया.

The Marie Adelaide Leprosy Centre बनाया. साथ दिया डॉक्टर आईके गिल ने. ये सब 1963 की बात है, साल 1965 में इंडिया और पाकिस्तान की लड़ाई से दो साल पहले वाला टाइम. क्लीनिक में लोगों का इत्ते अच्छे से इलाज हुआ कि कराची के अलावा पूरे पाकिस्तान और अफगानिस्तान से भी लोग इलाज कराने जाने लगे.

dr ruth pfau

कित्ता मिला सम्मान?
डॉक्टर रुथ फॉ पूरे पाकिस्तानी घूमीं. जर्मनी से डोनेशन का जुगाड़ करवाया. फॉ की इस लगन और नेकी को देखते हुए पाकिस्तान ने साल 1988 में अपने मुल्क की सिटीजनशिप दे डाली. पाकिस्तान का सबसे बड़ा अवॉर्ड निशां-ए-कायद-ए-आजम अवॉर्ड भी फॉ को मिला. लोग इस कदर मुहब्बत करते हैं कि प्यार से पाकिस्तान की मदर टेरेसा कहने लगे.

रुथ फॉ की कोशिशों से 1996 में पाकिस्तान एशिया का पहला ऐसा देश बन गया था, जिसने कोढ़ की बीमारी पर कंट्रोल पा लिया था. ये हम नहीं, वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन कह रहा है. ‘द डॉन’ ने रुथ फॉ पर एक बढ़िया वीडियो बनाया है. हम यहां चेपे दे रहे हैं, ताकि आप थोड़ा और करीब से जान सकें इस पाकिस्तानी मदर टेरेसा को:

रुथ की कहानी, उन्ही की जुबानी

Dr Ruth Pfau: Light to Pakistan’s lepers from Dawn.com on Vimeo.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

खेतान : बस नाम ही रह गया, पंखा कंपनी उड़ गयी

एक और कंपनी बंद. जानिए क्यों?

टिक टॉक के नए बादशाह बने अमित शाह

वायरल हो गए हैं गृह मंत्री.

रेपिस्ट राम रहीम ने परोल मांगी तो कोर्ट ने ऐसा जवाब दिया जो कई साल दर्द देगा

कोर्ट का जला बरनॉल मांगे.

प्री-वेडिंग फोटोशूट में रिश्वत लेने की एक्टिंग कर रहे थे थानेदार जी, नप गए

फोटोग्राफर उन्हें चुलबुल पांडे बनाना चाहता था, मगर वो छेदी सिंह बनकर रह गए.

बांग्लादेश की हाई कोर्ट ने लड़कियों के लिए एक ऐतिहासिक फैसला दिया है

जिन्हें लगता है कि लड़कियों को शादी तक 'वर्जिन' होना चाहिए, वो इस खबर से निराश होंगे.

15 साल की लड़की का गैंगरेप हुआ, पंचायत ने जो किया उससे आपको घिन आएगी

पांच लोगों ने गैंगरेप किया था.

भाजपा के पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली लड़की किडनैप हो गई!

पहले भी रेप का आरोप लगा था स्वामी चिन्मयानन्द पर.

क्या वाकई अब एक रुपए में मिलेंगे सैनिटरी पैड्स?

जिन दुकानों पर मिलेंगे, उन दुकानदारों की बातें भी सुन लें.

28 सितंबर को दिल्ली में इंडिया टुडे का 'माइंड रॉक्स', फिल्मी हस्तियां समेत कई दिग्गज होंगे शामिल

रजिस्ट्रेशन करने का तरीका समझ लें, सीधा अपने नेताओं से सवाल करने का मौका मिलने वाला है.

जिस परिवार पर 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' बनी थी, उसमें असल में पंगा हो गया

'फैजल खान' के भांजों ने अपना अलग गैंग बना लिया है.