Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

बिहार में सरस्वती पूजा का ज्यादा चंदा लेने के लिए 'छात्रगुंड' ने प्रफेसर को मारा-पीटा

1.13 K
शेयर्स

गुंडागर्दी करने वाले लंपट लोग किसी भी नाम पर बेहूदगी कर सकते हैं. किसी भी रूप में बेहूदगी कर सकते हैं. कई गुंडे छात्रों के रूप में होते हैं. उन्हें छात्र कहना ठीक नहीं. छात्र रूपी गुंडों के झुंड के लिए हमने ‘छात्रगुंड’ शब्द का इस्तेमाल किया. बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय (BRA यूनिवर्सिटी) है. यहां के कुछ छात्रों ने सरस्वती पूजा के नाम पर अपने ही प्रफेसर को पीट दिया. उन्हें प्रफेसर से मोटा चंदा चाहिए था. नहीं मिला, तो गालियां दीं. फिर दिन-दहाड़े यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर प्रफेसर के साथ मारपीट की.

क्या हुआ? कब हुआ? क्यों हुआ?
ये हादसा हुआ डॉक्टर आतिफ रब्बानी के साथ. आतिफ लखनऊ के रहने वाले हैं. फिलवक़्त बी आर आंबेडकर यूनिवर्सिटी, मुजफ्फरपुर में डेप्युटी रजिस्ट्रार की पोस्ट पर हैं. इकॉनमिक्स के प्रफेसर भी हैं. आतिफ के साथ 9 फरवरी को यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर ये घटना हुई. सुबह के तकरीबन 10 बजे वो यूनिवर्सिटी के अंदर अपने ऑफिस जा रहे थे. उनका आरोप है कि वहां कुछ लड़के सरस्वती पूजा के नाम पर आने-जाने वालों से चंदा इकट्ठा कर रहे थे. इन लड़कों ने आतिफ को भी रोका. आतिफ पहले ही चंदा दे चुके थे. मगर ये लड़के और चंदा मांग रहे थे. आतिफ ने इनकार किया, तो उन्होंने आतिफ को गालियां दीं. फिर दौड़ाकर पीटा.

पूर्व JNU स्कॉलर और वर्तमान में बी.आर. अम्बेडकर विश्वविद्यालय मुज़फ्फ़रपुर (बिहार) के Deputy Registrar प्रोफेसर आतिफ़…

Posted by Tara Shanker on Saturday, February 9, 2019

प्रफेसर आतिफ रब्बानी का क्या कहना है?
हमारी बात हुई आतिफ से. उनका कहना है कि 15-20 के करीब लड़के रहे होंगे. आतिफ ने कहा, वो उन लड़कों के नाम तो नहीं जानते. पर चेहरे से पहचानते हैं. ये भी पता है कि वो यूनिवर्सिटी हॉस्टल के ही हैं. आतिफ का कहना है कि यूनिवर्सिटी का हॉस्टल गुंडागर्दी का अड्डा है. वहां इस तरह की काफी घटनाएं होती हैं. आतिफ ने अपने साथ हुई घटना पर पुलिस में शिकायत भी दर्ज़ करवाई है. उनकी कंप्लेंट के मुताबिक-

मैंने उनको बताया कि मैंने पूर्व में ही चंदा दे दिया है. तो वे लोग धमकी देते हुए अभद्र गाली-गलौज करने लगे. मेरे द्वारा बार-बार आग्रह करने पर भी वो नहीं माने और उन्होंने मेरे साथ मारपीट शुरू कर दी. उनसे किसी तरह बचकर मैं ऑडिटोरियम गेट के रास्ते बाहर निकलने की कोशिश करने लगा, परंतु ऑडिटोरियम स्थित पार्किंग एरिया में इन्होंने मुझे पकड़कर मेरे साथ पुन: मारपीट शुरू कर दी.

वहां से किसी तरह निकलकर मैं कुलचसिव आवास की तरफ भागने लगा. वे लड़के मुझे कुलचसिव आवास की मोड़ तक खदेड़ते रहे. संयोगवश उसी वक्त कुलसचिव महोदल अपने आवास से कार्यालय की ओर आ रहे थे. कुलसचिव महोदय ने जब लड़कों को मुझे खदेड़ते हुए देखा, तो वे लड़कों की ओर दौड़ पड़े. उनको अपनी ओर आता देख सभी लड़के छात्रावास की ओर भाग खड़े हुए.

 

ये प्रफेसर आतिफ रब्बानी की वो शिकायत है, जिसके आधार पर पुलिस ने FIR दर्ज़ की. इसमें प्रफेसर रब्बानी ने पूरा घटनाक्रम बताया है.
ये प्रफेसर आतिफ रब्बानी की वो शिकायत है, जिसके आधार पर पुलिस ने FIR दर्ज़ की. इसमें प्रफेसर रब्बानी ने पूरा घटनाक्रम बताया है.

यूनिवर्सिटी ने भी FIR लिखवाई है
आतिफ ने लिखा है कि यूनिवर्सिटी कैंपस में लगे CCTV फुटेज से इन लड़कों की पहचान की जा सकती है. इसके अलावा वो खुद भी उनकी पहचान कर सकते हैं. आतिफ की शिकायत पर यूनिवर्सिटी थाने में FIR लिख ली गई है. आतिफ के अलावा एक FIR यूनिवर्सिटी की तरफ से भी दर्ज़ करवाई गई है. विश्वविद्यालय प्रशासन ने आतिफ को आश्वासन दिया है. कि दोषी लड़कों की पहचान के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

पुलिस ने क्या बताया?
यूनिवर्सिटी कैंपस थाने के प्रभारी राम नाथ प्रसाद से हमारी बात हुई. उन्होंने बताया कि चंदे की वजह से मारपीट या तनाव की पहली घटना नहीं है ये. पहले भी इस तरह की घटनाएं हुई हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस फिलहाल आरोपियों की पहचान में जुटी है. घटना के बारे में पूछे जाने पर थाना प्रभारी ने बताया. कि मारपीट से पहले आतिफ रब्बानी की उन लड़कों के साथ बहस हुई थी. आतिफ ने उन लड़कों के बार-बार चंदा मांगने पर आपत्ति जताई थी. इससे लड़के तैश में आ गए. और उन्होंने अपनी ही यूनिवर्सिटी के डेप्युटी रजिस्ट्रार को दौड़ा-दौड़ाकर पीट दिया.

रसीद बुक में पहले ही आपके चंदे की रकम भर दी जाती है
अगर आप किसी बड़े शहर के रहने वाले हों, तो शायद नहीं जानते होंगे. छोटे शहरों, खासतौर पर हिंदी पट्टी में कई त्योहार होते हैं जहां लड़के ग्रुप बनाकर चंदा इकट्ठा करते हैं. घर-घर जाकर. कौन क्या करता है, किस पोस्ट पर है, अंदाजन कितना कमाता होगा, ये सारा अनुमान अपनी तरफ से लगा लेते हैं. फिर रसीद बुक में अपनी मर्ज़ी से एक रकम भर देते हैं. आपको पर्ची थमा दी जाती है. और फिर लड़कों के खौफ से लोगों को उतना चंदा देना पड़ता है. आप चंदा देना चाहते हैं कि नहीं, कितना देना चाहते हैं, इस बात से कोई मतलब नहीं रहता उन्हें.


मध्य प्रदेश: कांग्रेस नेता पर बसें रोक रोक बीयर बंटवाने का आरोप

ट्रंप के वायरल वीडियो में क्या वाकई नरेंद्र मोदी की तारीफ हो रही है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Deputy Registrar of BRA University, Muzaffarpur allegedly thrashed by students over Saraswati Puja chanda

टॉप खबर

भारत रत्न लेने पर बंटा भूपेन हजारिका का परिवार, वजह मोदी सरकार का ये बिल है

बेटा भारत रत्न नहीं लेना चाहता,बाकी परिवार चाहता है सम्मान मिले.

रफाएल पर 'द हिंदू' का एक और खुलासा, लेकिन क्या इसमें जानकर कुछ छिपाया गया?

'द हिंदू' के मुताबिक सरकार ने रफाएल से एंटी-करप्शन क्लॉज़ हटाया...

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा, जिसे ममता-मोदी दोनों तरफ के लोग अपनी जीत मान रहे हैं

CBI और कोलकाता पुलिस की लड़ाई असल में ममता और मोदी की लड़ाई मानी जा रही है...

सीबीआई को लेकर मोदी सरकार से क्यों टकरा रही हैं ममता बनर्जी

जानिए कोलकाता से लेकर दिल्ली तक क्यों बरपा है हंगामा, क्या-क्या हुआ अब तक?

CBI पहुंची थी कोलकाता कमिश्नर के घर, पुलिस ने टीम को ही हिरासत में ले लिया

मोदी बनाम ममता की लड़ाई अब पुलिस बनाम सीबीआई, ममता बनर्जी धरने पर.

'5 लाख तक टैक्स नहीं' ये सुनने के बाद कन्फ्यूजन क्यों फैला?

अंतरिम बजट आ गया है. आपके लिए क्या निकलकर आया, वो जानो.

इन्कम टैक्स पर मोदी सरकार का सबसे बड़ा ऐलान

गाइए - 'जिसका मुझे था इंतज़ार, वो घड़ी आ गई.'

हम पकौड़ों में रोज़गार तलाश रहे थे, बेरोजगारी 45 साल के टॉप पर पहुंच गई

रिसी हुई रिपोर्ट का रहस्योद्घाटन कि रोजगार के नाम पर तो रायता फ़ैल चुका है.

क्या है मायावती सरकार में हुआ 1400 करोड़ का स्मारक घोटाला, जिसमें ED ने छापा मारा है

सवा चार लाख का हाथी, बांटे गए 60 लाख. जमके लूट मची थी!

महात्मा गांधी की हत्या के तीन आरोपी, जिनके अभी भी जिंदा होने की आशंका है

गांधीजी के पड़पोते तुषार का कहना है कि ये अकेली लापरवाही नहीं थी!