Submit your post

Follow Us

बच्चों के बलात्कार पर अब होगी फांसी, मोदी सरकार का फैसला

955
शेयर्स

बच्चों के यौन शोषण और बलात्कार की घटनाओं की खबरों में और घटनाओं में कमी नहीं है. केंद्र सरकार सोच रही है इनमें कमी लाने का. शायद इसलिए इन घटनाओं से जुड़े क़ानून में बदलाव किये जाने की योजना है. अब ऐसे मामलों में अपराधियों को फांसी देने की तैयारी है.

कल प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो यानी PIB – वो वेबसाइट/संस्था जो सरकार से जुडी खबरों और फैसलों की जानकारी देती है – ने इस संशोधन के बारे में जानकारी दी.

बुधवार यानी 10 जुलाई को प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट की मीटिंग हुई. इस मीटिंग में पॉक्सो (POCSO) एक्ट – जिसका पूरा नाम Protection of Children from Sexual Offences (POCSO) है – में बच्चों-नाबालिगों के साथ बलात्कार या यौन शोषण के मामलों और कठिन सजा लाने पर सहमति बनी. सजा की अवधि तो बढ़ाई ही गयी है, इन मामलों में फांसी की सजा भी अब दी जाएगी.

बच्चों से जुड़े पोर्न यानी Child Pornography पर रोक लगाने के लिए फाइन लगाने और जेल भेजने का भी संशोधन इस कानून में किया जाएगा.

सरकार ने यह भी बताया है कि इससे क्या फायदा होगा? कहना है कि इससे सरकार बच्चों के खिलाफ यौन हिंसा में कमी लाने में सफल हो सकती है, क्योंकि कड़े कानूनों से अपराधियों के हौसले पस्त होंगे. सरकार का यह भी कहना है कि कानून में इस संशोधन से यौन अपराध और उसमें मिलने वाली सजा के बारे में स्थिति थोड़ी साफ़ होगी.

इसके पहले भी देश में होने आले यौन अपराधों में मौत की सजा देने की मांग उठती रही है. अदालतों ने भी इन मामलों में अक्सर फांसी की सज़ा सुनाई है, लेकिन अक्सर वह सज़ा “रेयरेस्ट ऑफ़ रेयर” केसों में ही दी जाती है.

साल 2012 में पॉक्सो एक्ट प्रकाश में आया था. वजह साफ़ थी. बच्चों को यौन शोषणों और बलात्कार की घटनाओं से बचाना. ताकि देश के बच्चे सुरक्षित रह सकें. इस कानून की ख़ासियत है कि इसे सिर्फ बच्चों तक सीमित रखा गया है, लेकिन बच्चों के सेक्स यानी लिंग तक सीमित नहीं किया गया है. यानी यौन अपराध किसी लड़के के साथ हो रहे हैं, या लड़की के साथ, या किसी थर्ड जेंडर के बच्चे के साथ, सज़ा सभी के साथ अपराध करने वालों को बराबर होगी.

इस कानून का यह भी ध्येय था कि 18 साल से कम आयु का हर नागरिक अच्छे मानसिक और शारीरिक स्थिति में रह सके. लेकिन घटनाएं थीं कि किसी स्थिति में रुकने का नाम नहीं ले रही थी, इसलिए हमेशा से इस कानून को और कठोर करने की बहसें होती रही थीं.

इसके पहले 28 दिसंबर 2018 को भी प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में मीटिंग हुई थी, जिसमें POCSO एक्ट में भी इन्हीं बदलावों पर कैबिनेट की सहमति बनी थी. बिल संसद में गया लेकिन संसद आम चुनाव के पहले मई 2019 में भंग हो गयी, जिससे इस बिल को सहमति नहीं मिल सकी. अब हो सकता है ये कि ये बिल फिर से लोकसभा और राज्यसभा में जाएगा, जहां से पास होने के बाद इसके क़ानून में तब्दील होने का रास्ता साफ़ हो जाएगा.


लल्लनटॉप वीडियो : झारखंड: तबरेज की लींचिंग के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन हुई जमकर हिंसा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

एक और बाबा ने लड़कियों का यौन शोषण किया, उनमें से एक ने वीडियो वायरल कर दिया

बाबा हो गए हैं फरार. लड़की कह रही 600 घंटों की वीडियो फुटेज है.

फंस गए पी. चिदंबरम तो राहुल गांधी ने वही कहा, जो हमेशा कहते हैं

और प्रियंका ने बताया चिदंबरम ने देश के लिए क्या किया?

सैफई यूनिवर्सिटी में भयानक रैगिंग, डेढ़ सौ छात्रों के सिर मुंडवा दिए

वीसी ने एक्शन लेने की जगह कहा ये तो हमारे जमाने का दस फीसदी भी नहीं है.

इधर इंडिया-पाकिस्तान में तनाव है, उधर पाक क्रिकेटर ने इंडियन लड़की से शादी कर ली

अब दोनों मुल्कों के लोग बधाइयां दे रहे हैं.

योगी ने 23 नए मंत्री बनाए, मगर ये 4 मंत्री हुए पैदल और विदाई की वजह जानने लायक है

योगी, मोदी का डंडा चला है.

क्या गिरफ़्तारी के डर से गायब हो गए हैं चिदंबरम?

INX मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री को खोज रही हैं CBI और ED.

पिता ने मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगाई, बेटी ने प्रेमी के साथ मिलकर मार डाला

लड़की की उम्र सिर्फ 15 साल है.

अब बिना एटीएम कार्ड के भी निकलेंगे एटीएम से पैसे

बस नोटबंदी न हुई हो.

जावेद मियांदाद ने कहा, भारत को न्यूक्लियर बम मारकर साफ कर देंगे

जेंटलमैन्स गेम से जुड़े खिलाड़ी की अभद्र भाषा.

क्या है कोहिनूर मिल केस, जिसकी जांच के दायरे में राज ठाकरे आ गए?

वरिष्ठ शिवसेना नेता मनोहर जोशी के बेटे का भी नाम आया है.