Submit your post

Follow Us

कोरोना से बचना ही नहीं, दूसरों को बचाना भी है जरूरी, डॉक्टर ने बताया कैसे

अतुल गावंडे. हावर्ड मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर हैं. बोस्टन में सर्जन हैं. मेडिकल से जुड़ी कई किताबें लिख चुके हैं. इंडिया टुडे के राजदीप सरदेसाई ने इनसे कोरोना वायरस को लेकर लंबी बातचीत की. अतुल ने कहा कि इस वक्त जब देश में कोरोना वायरस के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, ऐसे में लॉकडाउन में ढील देने से मामले और बढ़ेंगे. उन्होंने कहा कि इससे इकॉनमी सुधरने वाली नहीं है.

लॉकडाउन के बाद की दुनिया कैसी होगी?

अतुल ने बताया कि लॉकडाउन के बाद भी हमें कुछ बातों का खास ध्यान रखना होगा. उन्होंने कहा- हैंड वाशिंग, डिसइन्फेक्शन से हमारा हाइजिन सही रहेगा. बिना मास्क के घर से बाहर न निकलें. सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें. कम से कम 6 फुट की दूरी रखें. कोरोना वायरस के लक्षण दिखते ही स्क्रीनिंग हो.

कई लोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिखते, ऐसे में कैसे पता चले कि कोई कोरोना से संक्रमित है या नहीं?

ऐसे मामले देखने में आए हैं कि संक्रमित लोगों के शुरुआती टेस्ट नेगेटिव आए हैं. ऐसे में आपको खुद ही ध्यान रखना चाहिए. आपको अगर कोरोना वायरस से संबंधित कोई भी लक्षण दिखे तो आपको तुरंत हॉस्पिटल जाना चाहिए. लेकिन अगर आपको नहीं पता चल रहा तो आप मास्क लगाकर दूसरों को बचा सकते हैं. पोलियो को मिटाने में 20 साल लगे. हमारे पास अभी इसकी कोई वैक्सीन नहीं है और इसमें साल भर से ज्यादा लग सकता है.

भारत में लॉकडाउन कब खुलना चाहिए?

जब कोरोना वायरस के केस 2 हफ्ते तक लगातार गिर रहे हों, मामले बहुत कम हो गए हों. उस वक्त जब किसी को लगे कि उसे कोरोना वायरस है और वह फटाफट चेकअप करा सके. भारत में कोरोना वायरस का ग्राफ अभी बढ़ ही रहा है. फ्लैट भी नहीं हुआ है. अभी तक मामले कम होने नहीं शुरू हुए हैं. लॉकडाउन को चरणों में खोलना चाहिए.

भारत में मरने की रफ़्तार कम है, ऐसे में कई लोग तर्क दे रहे हैं कि लॉकडाउन खोलना चाहिए?

भारत में अभी भी 50 हज़ार से ज्यादा एक्टिव केस हैं. 3 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. ये बात सही है कि कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की आबादी अन्य देशों की तुलना में भारत में काफी कम है. लेकिन आपको यह देखना होगा कि यह फ्लू जैसी बीमारियों की तुलना में 5-10 गुना ज्यादा है. अगर 100 के बदले 1000 मौत हो तो यह किसी भी इकॉनमी को हिला सकता है.

1918 के स्पैनिश फ्लू की बात करें तो दुनियाभर के देश इससे बुरी तरह प्रभावित हुए. उससे हम यह सीख सकते हैं कि अगर आप 50 दिनों से ज्यादा लॉकडाउन में रहते हैं तो साल भर बाद आपकी इकॉनमी और रोजगार के मामले सबसे सही रहेंगे.

सेकंड वेव को लेकर अतुल ने कहा,

ये बहुत महत्वपूर्ण है. भारत को अपनी टेस्टिंग क्षमता बढ़ानी होगी. लोगों को समझाना-सिखाना होगा. हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को बेहतर किए जाने की जरूरत है. अगले चार हफ्ते में भारत शायद ग्राफ को नीचे ले जाए. मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग नया नॉर्मल होने जा रहा है. हमें इसके साथ जीना सीखना होगा.


विडियो- लॉकडाउन में आपको पोस्चर बनाते वक्त किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

IPL2020 के जरिए टीम इंडिया में आएगा फाजिल्का का ये लड़का?

सबकी उम्मीदें शुभमन गिल से लगी है.

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

आप दीपिका और रकुल प्रीत में उलझे रहे और राजस्थान में इतना बड़ा कांड हो गया!

दो दिन से बवाल चल रहा है.

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने वाले इस क़ानून को जरूरी बनाने की बात से पलटी मार ली

और यह जानकारी ख़ुद सरकार ने दी है.

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

किसान कर्फ्यू से पहले किसानों ने कहां-कहां ट्रेन रोक दी है?

कई ट्रेनों को कैंसिल किया गया, कई के रूट बदले गए.

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.