Submit your post

Follow Us

जोधपुर के सूरसागर की छोटी घटना ऐसा रंग ले लेगी किसी ने सोचा भी नहीं होगा

1.50 K
शेयर्स

राजस्थान के जोधपुर का सूरसागर इलाका अब शांत है. लोग डर के माहौल से निकलकर अपनी सामान्य ज़िंदगी में लौटने की कोशिश कर रहे हैं. मगर, 13 अप्रैल के दिन यहां सब कुछ तनाव से भरा था. रामनवमी वाले दिन यहां दो पक्षों की बीच जमकर पत्थरबाजी हुई. गाड़ियां जलाई गईं. एक दूसरे को नुकसान पहुंचाने की पूरी कोशिश की गई. लेकिन सवाल है ऐसा क्यों? इस टकराव के पीछे, दो गुटों के बीच हुई छोटी सी बहस थी. जो 11 अप्रैल के दिन हो गई थी.  मामले ने शनिवार, 13 अप्रैल को ऐसा तूल पकड़ा. जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी. सूरसागर सांप्रदायिक तनाव से झुलस गया. सालों से साथ रहते आए हिंदू और मुसलमान टकरा गए. और एक-दूसरे पर हमलावर हो उठे थे.

क्या हुआ था उस दिन 

लोकल मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 11 अप्रैल के दिन कुछ लड़के इलाके से गुजर रहे थे, तभी किसी बात पर उनकी भिड़ंत दूसरे वर्ग के लोगों से हो गई. हाथापाई और मारपीट के बाद लोगों ने बीचबचाव करके मामला शांत करा दिया था. दो दिन बाद रामनवमी थी. उस दिन हर साल की तरह इलाके में झांकी निकाली गई. शोभायात्रा के दौरान सब ठीक-ठाक रहा. कहीं कोई टकराव नहीं दिखाई दिया. जब शोभायात्रा खत्म करके लोग वापस लौट रहे थे, उसी वक्त अचानक किसी बात पर दोनों वर्ग के लोग भिड़ गए. ये वही लड़के थे, जो 11 अप्रैल वाले दिन एक दूसरे से लड़ गए थे.

पत्थरबाज़ी के बाद भीड़ ने कई बाईक और गाड़ियों में आग लगा दी. (तस्वीर- वीडियो ग्रैब)
पत्थरबाज़ी के बाद भीड़ ने कई बाइक और गाड़ियों में आग लगा दी. 

देखते-देखते टकराव ने हिंदू-मुस्लिम विवाद का रूप ले लिया. वर्ग विशेष के लोगों ने इलाके की दुकानों और राहगीरों को निशाना बनाना शुरू कर दिया. पत्थरबाजी करने लगे. व्यापारी वर्ग के घरों में हमला बोल दिया. उन पर कुछ नकाबपोश बदमाशों ने पथराव किया. इससे गुस्साए व्यापारियों ने भी विरोध में पत्थरबाजी शरू कर दी.

महिलाओं ने मीडिया के सामने रो-रोकर पत्थरबाजी की पूरी कहानी बताई.
महिलाओं ने मीडिया के सामने रो-रोकर पत्थरबाजी की पूरी कहानी बताई.(तस्वीर- वीडियो स्क्रीनशॉट)

दोनों पक्षों के बीच हुई इस पत्थरबाजी में कई लोगों को चोटें आई. कई गाड़ियों को नुकसान पहुंची और कई घरों के शीशे टूट गए. मुसलमानों ने आरोप लगाया कि व्यापारी वर्ग के लोगों ने मुहल्ले में आगजनी की. कई गाड़ियां आग के हवाले कर दीं. इस दौरान पुलिस ने प्रभावी कार्रवाई नहीं की.

पुलिसवाले भी घायल हुए 

मीडियो रिपोर्ट्स के मुताबिक जब इस घटना की जानकारी पुलिस को मिली, तो वो मौके पर पहुंची और पत्थरबाजी कर रहे लोगों को खदेड़ने की कोशिश की. मगर उग्र भीड़ को काबू करने में उसे काफी मशक्कत करनी पड़ी. इस दौरान दो पुलिस वाले भी घायल हो गए उनको पत्थर लगने से चोटें आईं. स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि ये घटना पुलिस की लापरवाही की वजह से बढ़ी. शोभायात्रा समिति ने कुछ दिन पहले ही इस इलाके में ज्यादा पुलिस बल लगाने को कहा था. लेकिन पुलिस ने इस पर ध्यान नहीं दिया.

जोधपुर के सूरसागर में दो पक्षों के बीच जमकर पत्थरबाज़ी हुई. (तस्वीर- वीडियो ग्रैब)
जोधपुर के सूरसागर में दो पक्षों के बीच जमकर पत्थरबाज़ी हुई. (तस्वीर- वीडियो स्क्रीनशॉट)

घटना के बाद सियासत शुरू

लोकसभा चुनाव चल रहा है. ऐसे में सांप्रदायिक घटना को लेकर सियासत भी शुरू हो गई. पुलिस कुछ लोगों को पकड़कर थाने ले आई. इस पर लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया. लोगों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने गलत लोगों को हिरासत में लिए है. कुछ ही देर में यहां कांग्रेस और बीजेपी के नेता भी पहुंच गए. पहले, कांग्रेस नेता राजेंद्र सोलंकी और इलाके की विधायक मनीषा पंवार आईं.  फिर बीजेपी के लोकसभा प्रत्याशी गजेंद्र सिंह शेखावत भी पहुंच गए. दोनों ओर से रात 11 बजे तक नेतागिरी की. वे पकड़े गए लोगों को छोड़ने की मांग कर रहे थे. बाद में धरना खत्म कर दिया गया.

सूरसागर थाने पर भीड़ जमा होकर गिरफ्तार किए गए लोगों को छोड़ने की मांग करने लगी. (तस्वीर- वीडियो ग्रैब)
सूरसागर थाने पर भीड़ जमा होकर गिरफ्तार किए गए लोगों को छोड़ने की मांग करने लगी. (तस्वीर- वीडियो स्क्रीनशॉट)

अब माहौल क्या है?

हिंसा के बाद पूरे इलाके में भारी पुलिसबल की तैनाती है. लोगों के बीच डर का माहौल तो है, लेकिन धीरे-धीरे ज़िंदगी सामान्य हो रही है.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Clash between two group in Sursagar of Jodhpar after ramnavmi shobha yatra

टॉप खबर

पंजाब में गुरु ग्रंथ की बेअदबी के आरोपी और डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी मोहिंदर की जेल में हत्या

जानिए क्या है पूरा मामला जिसके चलते पूरे पंजाब में अफवाहों और कानाफूसियों का माहौल है और सीएम ने भी लोगों से शांति बनाए रखने की रिक्वेस्ट की है.

मज़दूर के बेटे ने तीरंदाज़ी में भारत को सिल्वर मेडल दिला डाला

गरीब बस्ती में पले बढ़े इस लड़के ने भारत का नाम रोशन कर दिया.

क्या सन्नी देओल से छिन जाएगी उनकी सांसदी?

वजह चुनाव आयोग का एक नियम है.

CM नीतीश कुमार अस्पताल में थे, बच्चे की मौत हो गई

चमकी कहें या इंसेफेलाइटिस, अब तक 129 बच्चों की मौत हो चुकी है.

मनमोहन सिंह को राज्य सभा में भेजने के लिए कांग्रेस ये तिगड़म भिड़ा रही है

अपना एक मात्र चुनाव हारने वाले मनमोहन सिंह पिछले 28 साल में पहली बार संसद के सदस्य नहीं होंगे.

राजीव गांधी के हत्यारे ने संजय दत्त की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

जेल में बंद पेरारिवलन ने संजय दत्त से जुड़ी बहुत सी जानकारी इकट्ठी की है.

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.