Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

दो ट्रेन भर के दिल्ली आए समर्थकों संग चंद्रबाबू नायडू अनशन पर बैठ गए हैं

338
शेयर्स

पिछले हफ्ते बंगाल पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी अनशन पर थीं. वजह थी सीबीआई की छापेमारी. 6 फरवरी यानी पांच दिन पहले उन्होंने अपना अनशन खत्म किया. कहा ‘अब आगे की लड़ाई दिल्ली से लड़ी जाएगी.’ उस समय ममता के साथ मंच पर एक और सीएम मौजूद था. चंद्रबाबू नायडू. अब आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री नायडू दिल्ली पहुंच गए हैं. अकेले नहीं. बल्कि  ट्रेन भर-भर के समर्थक भी ले आए हैं. समर्थकों के साथ इसलिए क्योंकि नायडू आंध्र भवन में एक दिन के अनशन पर बैठे हैं. और दिल्ली में शक्ति प्रदर्शन का इससे बेहतर मौका दूसरा नहीं हो सकता. कुल मिलाकर ये कहा जा सकता है कि विपक्ष के नेता अब अपने राज्यों से बाहर निकल रहे हैं और केंद्र सरकार को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं.

‘लोकेश के पिताजी’ कहने पर भड़के नायडू

रैली को संबोधित करते हुए नायडू ने केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आप हमारी मांगों को पूरा नहीं करते हैं. तो हमें पता है कि उन्हें पूरा करने के लिए क्या करना है. यह आंध्र प्रदेश के लोगों के आत्मसम्मान की बात है. हम इस पर कोई भी हमला स्वीकार नहीं करेंगे. नायडू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को व्यक्तिगत हमले करना बंद करना चाहिए. दरअसल हाल ही में पीएम मोदी ने चंद्रबाबू नायडू को ‘लोकेश के पिताजी’ कहकर संबोधित किया था. लोकेश मुख्यमंत्री नायडू के बेटे हैं और राज्य सरकार में मंत्री भी हैं. पलटवार करते हुए नायडू ने भी पीएम की पत्नी जशोदाबेन का जिक्र किया था.

अनशन से पहले सीएम नायडू ने राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी
अनशन से पहले सीएम नायडू ने राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी

 राज्य सरकार ने बुक की है दो ट्रेन

टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने इस प्रदर्शन को ‘धर्म पोरता दीक्षा’ का नाम दिया है. नायडू ने केन्द्र सरकार पर आरोप लगाया कि उसने न ही आंध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम को पूरा किया और न ही विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा पूरा किया. 11 फरवरी की इस रैली के लिए आंध्र प्रदेश सरकार ने दक्षिण मध्य रेलवे से दो ट्रेन किराए पर ली हैं. दोनों ट्रेन में 20-20 डिब्बे हैं. ये अनंतपुरम और श्रीकाकुलम से चलकर दिल्ली आई हैं. इसमें करीब एक करोड़ रुपए का खर्चा आया है. राज्य सरकार द्वारा जारी प्रेस रिलीज के मुताबिक, कोई भी राजनीतिक पार्टी, संगठन, गैर सरकारी संगठन आदि एक दिन के इस प्रदर्शन में शामिल हो सकता है.

आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग करते टीडीपी समर्थक
आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग करते टीडीपी समर्थक

लंबे समय से हो रही है मांग

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे की मांग नई नहीं है. तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद से ही प्रदेश के राजनीतिक दल विशेष राज्य के दर्जे की मांग कर रहे हैं. 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी विशेष राज्य के दर्जे की मांग का समर्थन किया था, लेकिन सरकार बनने के बाद इस मांग पर कुछ हुआ नहीं . चार साल तक एनडीए सरकार का हिस्सा रही टीडीपी मार्च 2018 में इसी मुद्दे पर सरकार से अलग हो गई थी. एनडीए से अलग होने के बाद नायडू ने मोदी सरकार पर आंध्र प्रदेश की जनता के साथ अन्याय करने का आरोप लगाया था. नायडू ने कहा ‘मैं 29 बार दिल्ली गया. मैंने मोदी से आंध्र प्रदेश का हाथ थामने का आग्रह किया. लेकिन उनकी तरफ से कोई पहल नहीं की गई.’ केंद्र सरकार से अपना समर्थन वापस लेने के बाद 16 सांसदों वाली टीडीपी ने मोदी सरकार के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस भी दिया था. आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को खारिज करने के बाद यह अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था. मोदी सरकार के कार्यकाल में पहली बार इसी वजह से अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ा. हालांकि प्रस्ताव गिर गया.

संसद में प्रदर्शन करते हुए टीडीपी सांसद
संसद में प्रदर्शन करते हुए टीडीपी सांसद

मांग खारिज कर चुकी है केंद्र सरकार 

उस समय भाजपा ने साफ कर दिया था कि आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा संभव नहीं है. हालांकि सरकार ने विशेष राज्यों के समकक्ष वित्तीय मदद देने की पेशकश जरूर की थी. वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इसके पीछे कारण बताते हुए कहा था कि नए राज्य के गठन के समय विशेष राज्य का दर्जा देने की श्रेणी शामिल थी. लेकिन 14वें वित्त आयोग में इसे केवल नॉर्थ-ईस्ट और पहाड़ी राज्यों तक सीमित कर दिया गया है. ऐसे में विशेष राज्य का दर्जा देना संभव नहीं है. जेटली ने ये भी कहा कि राज्य के विभाजन के समय जो वादे केंद्र सरकार ने किए थे. उन्हें पूरा किया जा रहा है.


वीडियो देखें: ट्रंप के वायरल वीडियो में क्या वाकई नरेंद्र मोदी की तारीफ हो रही है?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Chandrababu Naidu begins hunger strike against Centre in Delhi to demand special status for Andhra Pradesh

टॉप खबर

रफाएल पर 'द हिंदू' का एक और खुलासा, लेकिन क्या इसमें जानकर कुछ छिपाया गया?

'द हिंदू' के मुताबिक सरकार ने रफाएल से एंटी-करप्शन क्लॉज़ हटाया...

सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा, जिसे ममता-मोदी दोनों तरफ के लोग अपनी जीत मान रहे हैं

CBI और कोलकाता पुलिस की लड़ाई असल में ममता और मोदी की लड़ाई मानी जा रही है...

सीबीआई को लेकर मोदी सरकार से क्यों टकरा रही हैं ममता बनर्जी

जानिए कोलकाता से लेकर दिल्ली तक क्यों बरपा है हंगामा, क्या-क्या हुआ अब तक?

CBI पहुंची थी कोलकाता कमिश्नर के घर, पुलिस ने टीम को ही हिरासत में ले लिया

मोदी बनाम ममता की लड़ाई अब पुलिस बनाम सीबीआई, ममता बनर्जी धरने पर.

'5 लाख तक टैक्स नहीं' ये सुनने के बाद कन्फ्यूजन क्यों फैला?

अंतरिम बजट आ गया है. आपके लिए क्या निकलकर आया, वो जानो.

इन्कम टैक्स पर मोदी सरकार का सबसे बड़ा ऐलान

गाइए - 'जिसका मुझे था इंतज़ार, वो घड़ी आ गई.'

हम पकौड़ों में रोज़गार तलाश रहे थे, बेरोजगारी 45 साल के टॉप पर पहुंच गई

रिसी हुई रिपोर्ट का रहस्योद्घाटन कि रोजगार के नाम पर तो रायता फ़ैल चुका है.

क्या है मायावती सरकार में हुआ 1400 करोड़ का स्मारक घोटाला, जिसमें ED ने छापा मारा है

सवा चार लाख का हाथी, बांटे गए 60 लाख. जमके लूट मची थी!

महात्मा गांधी की हत्या के तीन आरोपी, जिनके अभी भी जिंदा होने की आशंका है

गांधीजी के पड़पोते तुषार का कहना है कि ये अकेली लापरवाही नहीं थी!

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, गांधीजी की डेथ एनिवर्सरी पर जानिए कुछ इनसाइट्स.