Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

क्या मोदी के दांव की वजह से आलोक वर्मा को मजबूर होकर इस्तीफ़ा देना पड़ा?

5
शेयर्स

आलोक वर्मा ने इंडियन पुलिस सर्विस (IPS) की अपनी नौकरी से इस्तीफ़ा दे दिया है. 31 जनवरी, 2019 तक की नौकरी बची थी उनकी.  उन्हें जुलाई 2017 में ही रिटायर होना था. मगर फिर वो CBI के निदेशक बना दिए गए. नियमों के मुताबिक, इस पद पर दो साल का कार्यकाल तय है. इसी वजह से उनके कार्यकाल को एक्सटेंशन मिला था. इस्तीफ़े की अपनी चिट्ठी में उन्होंने लिखा है कि अब जबकि वो CBI डायरेक्टर ही नहीं रहे, तो फिर बचे कार्यकाल का क्या मतलब. इस मामले में एक तकनीकी ऐंगल भी है. 10 जनवरी को उन्हें CBI डायरेक्टर के पद से हटाने के बाद फायर सर्विसेज़, होमगार्ड्स और सिविल डिफेंस का डायरेक्टर जनरल बनाया गया था. इस पद के लिए अधिकतम उम्र सीमा 60 है, जबकि वर्मा 62 के हैं. तकनीकी तौर पर उन्हें ये पोस्ट दी ही नहीं जा सकती थी. फिर भी दी गई. क्यों दी गई, ये नहीं पता. क्या जान-बूझकर उन्हें ये पोस्टिंग दी गई, ताकि वो जॉइन न कर पाएं?

CBI में और भसड़ मची, कोर्ट ने नंबर 2 अस्थाना की गिरफ्तारी पर लगी रोक हटाई

ये है आलोक वर्मा की इस्तीफ़े वाली चिट्ठी.
ये है आलोक वर्मा की इस्तीफ़े वाली चिट्ठी.

इस्तीफ़े में क्या कुछ लिखा है आलोक वर्मा ने?
आलोक वर्मा ने इस्तीफ़े की अपनी चिट्ठी में जो चार पॉइंट्स लिखे हैं. इनका मोटा-मोटी सार है-

1. CBI डायरेक्टर के पद से हटाने वाली सिलेक्शन कमिटी ने उन्हें (वर्मा को) अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया.
2. ये न्याय के सिद्धांत के मुताबिक नहीं.
3. सिलेक्शन कमिटी ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया कि उनके (वर्मा) खिलाफ CVC ने जो रिपोर्ट दी है, वो राकेश अस्थाना की शिकायतों के आधार पर है. जबकि अस्थाना की खुद ही जांच हो रही है.
4. CBI एक स्वतंत्र जांच एजेंसी है. आज की तारीख में ये भारत की सबसे जरूरी संस्थाओं में से एक है. 10 जनवरी को जो फैसला लिया गया, वो इस बात की मिसाल कायम करेगा कि सरकार CVC की मदद से किसी संस्थान के साथ कैसा सलूक कर सकती है.
5.आलोक वर्मा तो 31 जुलाई, 2017 को ही रिटायर हो जाते. मगर फिर उन्हें CBI डायरेक्टर बना दिया गया. चूंकि ये दो साल का तय कार्यकाल है, इसलिए उन्हें एक्सटेंशन मिला और अब वो 31 जनवरी, 2019 को रिटायर होते. मगर अब तो वो CBI डायरेक्टर ही नहीं हैं. फिर उन्हें जिस फायर सर्विसेज़, सिविल डिफेंस और होम गार्ड्स का डायरेक्टर जनरल बनाया गया है, उसकी रिटायरमेंट ऐज़ है 60 साल. वर्मा 62 के हैं. इसीलिए को खुद ही रिटायरमेंट हो रहे हैं.


CBI विवाद: जस्टिस सीकरी ने मल्लिकार्जुन खड़गे की जगह नरेंद्र मोदी का साथ क्यों दिया?

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
CBI Controversy: Alok Verma resign, says natural justice scuttled

क्या चल रहा है?

जगदीप सिंह, वो जज जिसने राम रहीम को मर्डर केस में दोषी करार दिया

रेप केस में राम रहीम को 20 साल के लिए सलाखों के पीछे इन्होंने ही पहुंचाया.

डिलिवरी के वक्त खींचने से दो टुकड़े हुए बच्चे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और भी बहुत कुछ कहती है

मामले में राजस्थान मानवाधिकार आयोग ने रिपोर्ट मंगवा ली है.

कोहली से उनकी रिटायरमेंट के बारे में पूछा गया तो जवाब बहुत मजेदार मिला

कोई और होता तो ये नहीं कहता.

जिस 'गया मर्डर केस' के लिए बिहार में बवाल हुआ, उस लड़की को परिवार वालों ने मारा था!

जानिए, इस केस में कैसे क्या हुआ पुलिस के मुताबिक...

कोहली की ब्रैंड वैल्यू = शाहरुख़ + रणवीर + अक्षय की ब्रैंड वैल्यू

कोहली सिनेमा के तमाम धुरंधरों से मीलों आगे हैं.

CBI चीफ को हटाने में मोदी का साथ देने वाले जज पर जस्टिस काटजू ने क्या बताया?

जस्टिस काटजू मोदी सरकार की नीतियों की अक्सर आलोचना करते रहते हैं.

लल्लनटॉप नौकरी की खोज में हैं तो इधर आइए

हमें 7 तरह के साथियों की ज़रूरत है.

हार्दिक पंड्या के लड़कियों वाले बयान मामले पर कप्तान कोहली क्या बोले?

सिडनी में मैच से पहले कोहली से पूछा गया इस पर सवाल.

पीएम का फोटो लगाकर 2 हजार गरीबों से 3 करोड़ रुपए ठग लिए

दिल्ली पुलिस ने इस आदमी को पकड़ा है.