Submit your post

Follow Us

52 साल का पति 14 साल की पत्नी, चार साल बाद मुंबई हाईकोर्ट ने शादी को वैध करार दिया

215
शेयर्स

आंसु के गहने है और दुःख की है डोली, बंद किवारिया मोरे घर की ये बोली.

इस ओर सपने भी आया ना कीजो, अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो.

जावेद अख्तर की लिखी ये पंक्तियां आज एक लड़की की हालत पर बिल्कुल फिट बैठती है. 2 मई को बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक फैसला सुनाया. फैसला 18 साल की लड़की को अपने 56 साल के पति के साथ रहने का. साथ ही इस फैसले को सुनाते हुए जज ने ये भी कहा:

इस लड़की को कोई भी अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार नहीं करेगा.

क्योंकि 18 साल की लड़की जब 14 साल की थी, तभी उसकी शादी एक 52 साल के बुजुर्ग से कर दी गई थी. अब आपके मन में कई तरह के सवाल आ गए होंगे.

#1. लड़की की शादी 14 साल की उम्र में कैसे हो गई?

#2. लड़की की शादी 52 साल के बुजुर्ग से कैसे हो गई?

#3. जब शादी 14 साल में हो गई फिर 18 साल की उम्र में कोर्ट ने ऐसी टिप्पणी करते हुए लड़की को उसके पति के साथ रहने का फैसला कैसे सुनाया?

बारी-बारी से सब समझाते हैं आपको. आपके सारे सवाल के जवाब मिल जाएंगे. साथ ही आपको ऊपर लिखी लाइनें भी तर्क संगत लगेगी कि ऐसा हमने क्यों लिखा-‘अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो’

लड़की का आरोप है कि जब वो साल 2014 में 14 साल की थी, तब उसकी शादी उसके दादा-दादी ने 52 साल के बुजुर्ग वकील से ज़बरदस्ती करवा दी थी. शादी के बाद उसके पति ने कई बार ज़बदस्ती करने की कोशिश की. पति की ज़बरदस्ती से तंग आकर नाबालिग ने बुजुर्ग पति के खिलाफ शिकायत कर दी. शिकायत के बाद बुजुर्ग पति के खिलाफ पोक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया गया. फिर वो दिसंबर 2017 में गिरफ्तार हुआ और 10 महीने जेल में रहा.

अब सितंबर 2018 में नाबालिग लड़की बालिग हो गई. और अक्टूबर 2018 में बुजुर्ग पति जमानत पर रिहा हो गया. अब दोनों के बीच सुलह कैसे हुई, बात कैसे बनी, ये ऊपर वाला जाने लेकिन लड़की की तरफ से कोर्ट में याचिका डाली गई. वकील के खिलाफ दुष्कर्म को खारिज करने की याचिका. साथ ही याचिका में ये भी कहा गया कि वो बालिग हो चुकी है और अपने पति के साथ रहना चाहती है, कोर्ट इस बात की इजाज़त दें.

जिसके बाद 2 मई को बॉम्बे हाईकोर्ट में जस्टिस रंजीत मोरे और जस्टिस भारती डांगरे की खंडपीठ ने अनोखा फैसला सुनाया. कोर्ट ने दोनों की शादी को लीगल बताते हुए दोनों को साथ रहने की अनुमति दे दी. साथ ही कोर्ट ने ये भी कहा:

महिला अब बालिग हो चुकी है. उन्हें अपने भले बुरे की समझ है. महिला अब अगर अपने पति के साथ रहने को तैयार है. तो इसमें कोई दिक्कत नहीं है. हम सोचते हैं कि इसके बाद अब समाज में उसे जल्दी कोई पत्नी के रूप में स्वीकार नहीं करेगा. ऐसे में उसके भविष्य को सुरक्षित रखना भी जरूरी है. इसलिए महिला का पति उसके नाम 10 एकड़ जमीन 7 लाख रुपये की एफडी करें. साथ ही ध्यान रखे कि लड़की की पढ़ाई में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो.

हालांकि कोर्ट के इस निर्णय को लेकर दो धड़े बन गए हैं. सुनवाई के दौरान एडिशन प्रॉसिक्यूटर अरुण कामत पाई ने इस याचिका का विरोध किया. साथ ही ये भी कहा कि ऐसे मामले को रद्द करने से समाज में गलत उदाहरण पेश होगा और जनता के बीच गलत मेसेज जाएगा.

सोशल मीडिया भी कुछ यहां कह रहा है कि जब लड़की की शादी 14 साल में हो गई थी, तो उस शादी को रद्द करके, नए सिरे से अब शादी कराई जाए. क्योंकि लड़की अब 18 साल की हुई है.

दूसरे धड़े का कहना है जो कि कोर्ट के फैसले से ही मिलता जुलता है. कि लड़की अब 18 साल की हो चुकी है और उसे अपने बारे में सोचने का हक है. वो अपना भला-बुरा खुद सोच सकती है. ऐसे में उसने जो कोर्ट में याचिका डाली वो सोच समझ करके ही डाली होगी.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार में आर्थिक मंदी पर क्या कहा?

मनमोहन सिंह की बात पढ़ेंगे तो समझ जाएंगे कि मंदी क्यों आई.

असम के विधायक हैं, विपक्ष के नेता हैं, लेकिन NRC की लिस्ट में नहीं हैं अनंत कुमार मालो

कई नेताओं और सैनिकों के साथ ऐसा ही हुआ है.

BJP ने बड़बोली प्रज्ञा ठाकुर को चुप कराने का आईडिया निकाल लिया है

और प्रज्ञा ठाकुर बहुते परेशान हो गयी हैं

इमरान खान की भयानक बेज्ज़ती बिजली विभाग के क्लर्क ने कर दी है

सोचा होगा, 'हमरा एक्के मकसद है, बदला!'

जज साहब ने भ्रष्टाचार पर जजों का धागा खोला, मगर फिर जो हुआ वो बहुत बुरा है

कहानी पटना हाईकोर्ट के जज राकेश कुमार की, जो चारा घोटाले के हीरो हैं.

अयोध्या में बाबरी मस्जिद को बाबर ने बनवाया ही नहीं?

ये बात सुनकर मुग़लों की बीच मार हो गयी होती.

पेरू में लगभग 250 बच्चों की बलि चढ़ा दी गयी और लाशें अब जाकर मिली हैं

खुदाई करने वालों ने जो कहा वो तो बहुत भयानक है

देश के आधे पुलिसवाले मानकर बैठे हैं कि मुसलमान अपराधी होते ही हैं

पुलिसवाले और क्या सोचते हैं, ये सर्वे पढ़ लो

वो आदमी, जिसने पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण ठुकरा दिया था

उस्ताद विलायत ख़ान का सितार और उनकी बातें.

विधानसभा में पॉर्न देखते पकड़ाए थे, BJP ने उपमुख्यमंत्री बना दिया

और BJP ने देश में पॉर्न पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.