Submit your post

Follow Us

ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति किसने तोड़ी, ये वीडियो किस ओर इशारा करते हैं?

3.89 K
शेयर्स

14 मई को कोलकाता में अमित शाह का रोड शो था. इसी रोड शो के दौरान जमकर तोड़ फोड़ हुई. हिंसा और आगजनी के लिए अब एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं. बीजेपी का कहना है कि ये काम टीएमसी ने किया और टीएमसी न्यूटन का थर्ड लॉ के तहत आरोप उसी गति से वापस लगा रही है. ममता बनर्जी का कहना है कि ये सब अमित शाह की साज़िश है और अमित शाह कह रहे हैं कि ‘चुनाव तो पूरे देश में हो रहे हैं फिर हिंसा केवल बंगाल में क्यों?’ इस पर हमारी ख़बर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

इसी हिंसा में प्रसिद्ध विचारक और शिक्षाविद ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी गई. मूर्ति तोड़ना बंगाल में बड़ा मुद्दा बन गया है. टीएमसी ये मैसेज देना चाहती है कि ‘विद्यासागर का अपमान हम सबका अपमान है’.

#बीजेपी का क्या है आरोप?

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में टीएमसी पर आरोप लगाए हैं-

अमित शाह ने कहा कि शाम को साढ़े सात बजे की घटना है. कॉलेज बंद हो चुका था. तो मेरा यही सवाल है कि चाबी बीजेपी कार्यकर्ताओं के पास कहां से आएगी? कॉलेज पर किसका प्रशासनिक कब्ज़ा है? मूर्ति तक पहुंचने के लिए दो दरवाज़े पार करने पड़ते हैं. टीएमसी ने ही मूर्ती तोड़ी है.

लेकिन इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक ख़बर के अनुसार अमित शाह के इन दावों से सच्चाई थोड़ी अलग है. वीडियो किसी और ही तरफ़ इशारा कर रहे हैं.

अख़बार कहता है कि जिस तरह के वीडियो सामने आए हैं उसमें ‘चाबी’ की ज़रूरत दिखाई नहीं दे रही है. वीडियो में दिखाई दे रहा है कि भगवा टी शर्ट पहने कुछ लोग कॉलेज का गेट तोड़ने की लगातार कोशिश कर रहे हैं.

#पकड़े गए सब लोग बीजेपी कार्यकर्ता हैं:

इंडियन एक्सप्रेस की पुलिस अधिकारियों से बातचीत में पता चला कि, कोलकाता पुलिस ने हिंसा के लिए कुल 58 लोगों को गिरफ्तार किया है. और ये सब बीजेपी के कार्यकर्ता हैं.

# वीडियो में मूर्ति जैसा टुकड़ा लिए दिख रहे भगवा टीशर्ट-धारी:

ऑल्ट न्यूज़ ने भी एक वीडियो जारी किया है. वेबसाइट का कहना है कि ‘एक मूर्ति जैसा सफ़ेद टुकड़ा’ वीडियो में बार-बार दिखाई दे रहा है. इसी वीडियो में जो भीड़ उस सफ़ेद टुकड़े को उठाकर दीवार पर फेंक रही है उसमें दो लोग भगवा टी शर्ट पहने हैं.

#बीजेपी क्या कह रही है?

पार्टी का कहना है कि पहले पत्थरबाज़ी कॉलेज के भीतर से हुई. अचानक चलते हुए रोड शो के बीच में कॉलेज कैम्पस से पत्थर फेंके गए. टीएमसी के लोगों ने ही तोड़ फोड़ की है और मूर्ति भी इन्हीं लोगों ने तोड़ी है.

#ममता बनर्जी के घटनास्थल पहुंचने पर सवाल:

बीजेपी आईटी सेल हेड अमित मालवीया ने ममता बनर्जी पर सवाल उठाते हुए कहा है कि ‘टेलीग्राफ अख़बार के मुताबिक़ मूर्ति अंदर एक शीशे के बॉक्स में रखी थी. लेकिन जब ममता बनर्जी आईं तो मूर्ति के टुकड़े बड़ी सफ़ाई से बाहर रखे गए थे. साथ में मीडिया भी था. सवाल ये है कि ममता घटनास्थल पर क्यों नहीं गईं?

आरोप प्रत्यारोप अपनी जगह हैं, लेकिन इससे जो नुक्सान हो रहा है वो हम सबका है. देश का है. ईश्वरचंद्र विद्यासागर ने शिक्षा के लिए देश को जो योगदान दिया, उससे हमने शिक्षा शायद ली नहीं.


वीडियो देखें:

जब मंदिर और मजार का झगड़ा अफवाह की शक्ल में फैलने लगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Bengal Violence Reports says: Men in saffron shirts seen breaking vidyasagar statue. stones came from university campus

टॉप खबर

कठुआ केस के छह दोषियों को क्या सज़ा मिली?

अदालत ने सात में से छह आरोपियों को दोषी माना था. मास्टरमाइंड सांजी राम का बेटा विशाल बरी हो गया.

कठुआ केस में फैसला आ गया है, एक बरी, छह दोषी करार

दोषियों में तीन पुलिसवाले भी शामिल हैं.

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में बंपर वोट खींचने वाला ऐलान कर दिया है

वो ऐसी स्कीम लेकर आए हैं कि दिल्ली-NCR की महिलाएं खुश हो गईं.

आखिर क्या सोचकर मोदी ने UP के इन नेताओं को कैबिनेट में जगह दी है?

इनमें कुछ से पिछली सरकार के दौरान बीच में ही मंत्रालय छीन लिया गया था.

मुस्लिम युवक को पीटने और 'जय श्री राम' के नारे लगवाने के मामले की सीसीटीवी फुटेज में क्या दिखा?

क्या है मामले की पूरी सच्चाई?