Submit your post

Follow Us

बांग्लादेशी लड़कियों ने बताया, मदरसों में पढ़ाई के नाम पर किस तरह लड़कियों का रेप होता है

1.10 K
शेयर्स

बांग्लादेश के मदरसों में सेक्सुअल हैरेसमेंट का शिकार हुईं पूर्व छात्राएं सोशल मीडिया पर लगातार अपनी बात शेयर कर कर रही हैं. उनका कहना है कि मदरसों में टीचर्स और सीनियर स्टूडेंट्स उनका यौन शोषण करते हैं.

बांग्लादेश जैसे रुढ़िवादी देशों में इन सब चीजों पर लड़कियां अब भी खुलकर नहीं बोलतीं. अपने टीचर पर सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाने वाली एक लड़की को अप्रैल में जलाकर मार दिया गया था. इसके बाद से लड़कियां लगातार मुखर हो रहीं हैं और मदरसों में जो चल रहा है उस पर खुल कर सोशल मीडिया साइट्स पर लिख रही हैं.

बांग्लादेश के मदरसों में लंबे वक्त से चाइल्ड अब्यूज की खबरें आती रही हैं जो अधिकतर रिपोर्ट नहीं होतीं. 17 करोड़ की आबादी वाले इस देश में कट्टरपंथी इस्लामी ग्रुप्स का करीब दसियों हज़ार मदरसों पर असर है. सिर्फ जुलाई महीने में 5 मदरसे टीचर पर रेप के आरोप लगे और उन्हें गिरफ्तार किया गया. कई सीनियर लड़कों पर भी रेप के आरोप लगे हैं.

एक 11 साल की अनाथ लड़की के साथ रेप किया गया और उसके बाद उसका सर धड़ से अलग कर दिया गया. इस मामले को लेकर कई लड़कों को गिरफ्तार किया गया है. बांग्लादेश की राजधानी ढाका में एक मौलवी और मदरसा टीचर पर 12-19 साल के दर्जनों बच्चों के साथ सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप लगा है. ग्रामीण और गरीब मां-बाप अपने बच्चों को मदरसे में भेजते हैं और वहां की हालत भयावह है.

ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट्स का कहना है कि सेक्सुअल हैरेसमेंट में जबरदस्ती चूमने से लेकर रेप तक शामिल है. बांग्लादेश शिशु अधिकार फोरम के प्रमुख अब्दुस शाहिद ने न्यूज़ एजेंसी एएफपी से बात करते हुए कहा-

मामले की सेंसिटिविटी के कारण यह बातें अब तक सामने नहीं आईं. धार्मिक मुस्लिम लोग अपने बच्चों को मदरसों में भेजते हैं लेकिन वे इन अपराधों के बारे में नहीं बोलते क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे इन धार्मिक संस्थानों को नुकसान पहुंचेगा.

ढाका के 3 मदरसों में पढ़ाई कर चुके होजैफा अल ममदूह बताते हैं-

मदरसों में सेक्सुअल हैरेसमेंट इतना नार्मल है कि वहां पढ़ने वाले हर स्टूडेंट को इसके बारे में पता है. कई मदरसा टीचर को मैं जानता हूं, जो ये मानते हैं कि बच्चों के साथ रेप करना महिलाओं की रजामंदी से शादी के बाहर सेक्स करने की तुलना में कम जुर्म का काम है. वे सभी एक ही डॉर्मिटरी में रहते हैं ऐसे में वे आसानी से क्राइम कर उन्हें छिपा सकते हैं और गरीब, कमज़ोर बच्चों को धमका कर रखते हैं.

जब ममदूह ने मदरसों के बारे में कहना शुरू किया तो कट्टर इस्लामी संगठनों ने उन्हें धमकी दी. ममदूह को लोगों ने यहूदी और ईसाई एजेंट होने का आरोप लगाया. अविजीत रॉय नाम के एक ब्लॉगर की 2015 में हत्या कर दी गई थी क्योंकि वह सेक्स क्राइम पर ब्लॉग लिखा करते थे.

कट्टर इस्लामी ग्रुप हिफाज़त-ए-इस्लामी के प्रवक्ता ने कहा है कि करीब 1200 मदरसों के प्रमुखों को इस बात की शपथ दिलाई गई है कि वह सेक्स क्राइम के खिलाफ कठोर फैसला लेंगे. कई मदरसों के टीचर्स कहते हैं कि इस तरह के आरोप पूरी तरह से गलत हैं. यह दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है.


वीडियो- ट्रंप की पत्नी और कनाडा के राष्ट्रपति की तस्वीर पर लोग भद्दे कमेंट्स क्यों कर रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.

PMC खाताधारकों ने बीजेपी नेता को घेरा, तो पुलिस ने उन्हें बचाकर निकाला

RBI के साथ मीटिंग करने पहुंचे थे.

इस विदेशी सांसद को कश्मीर आने का न्योता दिया फिर कैंसल कर दिया, वजह हैरान करने वाली है

सांसद ने ऐसी शर्त रख दी थी कि विदेशी डेलिगेशन का हिस्सा नहीं बन पाए.

आज ही के दिन यूरोपियन यूनियन के सांसद कश्मीर क्यों पहुंचे? महबूबा मुफ्ती की बेटी ने बताया

आर्टिकल 370 में बदलाव के बाद कश्मीर के हालात का जायजा लेने पहुंचा है 27 सांसदों का दल