Submit your post

Follow Us

बांग्लादेश चुनाव में शेख हसीना ने ऐसी जीत दर्ज की कि यकीन नहीं होता!

6.63 K
शेयर्स

बांग्लादेश में रविवार को हुए आम चुनावों में प्रधानमंत्री शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग ने जोरदार जीत दर्ज की है. 298 में से 288 सीटें जीत जीतकर आवामी लीग बांग्लादेश की पहली ऐसी पार्टी बन गई है, जो लगातार 3 बार चुनाव जीती है. शेख हसीना चौथी बार प्रधानमंत्री बनने को तैयार है. प्रमुख विपक्षी दल बांग्लादेश नैशनलिस्ट पार्टी सिर्फ 7 सीटें जीत सकी है. सरकार बनाने के लिए किसी भी पार्टी को 151 सीटें चाहिए.

बांग्लादेश आम चुनाव के लिए पहली बार ईवीएम का इस्तेमाल किया गया. बांग्लादेश चुनाव आयोग के मुताबिक 300 संसदीय सीटों में से 299 सीटों पर चुनाव हुए हैं. एक उम्मीदवार के निधन के कारण एक सीट पर चुनाव नहीं हुआ. 299 सीटों में से केवल 6 सीटों पर ईवीएम का इस्तेमाल किया गया.

Presiding officers count votes at a voting center after the session has ended in Dhaka
ढाका, बांग्लादेश में मतदान केंद्र पर वोटों की गिनती करते हुए अधिकारी

गोपालगंज सीट से शेख हसीना को 2,29,539 वोट मिले, जबकि विपक्षी दल बांग्लादेश नैशनलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार को सिर्फ 123 वोट मिले. विपक्षी दलों ने चुनावी नतीजों का बहिष्कार किया है और फिर से चुनाव कराने की मांग की है. 2014 आम चुनावों में भी विपक्षी दलों ने चुनावों का बहिष्कार किया था. बांग्लादेश चुनाव आयोग के मुताबिक चुनाव में 1848 उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया. चुनाव के दौरान हिंसा में 18 लोगों की मौत हो गई और करीब 200 लोग घायल हो गए.

पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद हैं. जिया ने आम चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया था लेकिन हाईकोर्ट ने जिया का नामांकन खारिज़ कर दिया और जिया चुनाव न लड़ सकीं. बांग्लादेश के संस्थापक शेख मुजीबुर्रहमान की बेटी शेख हसीना (71) और पूर्व सैन्य तानाशाह जिया उर्रहमान की पत्नी खालिदा जिया (73) 1980 के दशक से बांग्लादेश की राजनीति की दो केंद्र बनी हुई हैं.

बांग्लादेशी संसद को जानिए

बांग्लादेश की संसद को जातीय संसद (Jatiya Sangsad) कहते हैं. इसमें कुल 350 सीटें हैं. 300 सीटें के लिए जनता वोट करती है और 50 सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होती हैं, जिसे सरकार बनाने वाली पार्टी चुनती हैं. बांग्लादेश की जनता 5 सालों के लिए सरकार चुनती है.

शेख हसीना एक बार फिर प्रधानमंत्री बनने को तैयार हैं.
शेख हसीना एक बार फिर प्रधानमंत्री बनने को तैयार हैं.

भारत और बांग्लादेश

आम चुनाव 2018 में भारत विरोधी रुख नहीं देखा गया है. इससे पहले भारत पर बांग्लादेश की राजनीति में दखल देने के आरोप लगते रहे हैं. भारत और बांग्लादेश करीब 4,100 किलोमीटर का बॉर्डर शेयर करते हैं. भारत की ऐक्ट ईस्ट पॉलिसी में बांग्लादेश प्रमुख देश है. पिछले कुछ सालों में बांग्लादेश में भारत का निवेश भी बढ़ा है. तीस्ता नदी को लेकर भी दोनों देशों में बात आगे बढ़ी है.

भारत ने बांग्लादेश चुनावों के दौरान कोई प्रतिक्रिया नहीं दी क्योंकि यह चुनावी मुद्दा बन सकता था. शेख हसीना की आवामी लीग पार्टी को भारतीय समर्थक के तौर पर देखा जाता है जबकि विरोधी खालिदा जिया की पार्टी को इस्‍लामिक चरमपंथियों को बढ़ावा देने वाला माना जाता है, जिससे भारतीय हितों को नुकसान पहुंचता है. हालांकि पिछले कुछ साल से बांग्लादेश नैशनलिस्ट पार्टी ने पुराना रुख छोड़कर भारत को सहयोगी के तौर पर देखना शुरू कर दिया है.


वीडियो: बांग्लादेश की पूरी पॉलिटिक्स दो औरतों के झगड़े की कहानी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Bangladesh Elections 2018: Landslide victory for sheikh hasina for third term as prime minister

क्या चल रहा है?

झारखंड के खूंटी में 5 लड़कियों के साथ जंगल में गैंगरेप हुआ था, कोर्ट ने फादर अल्फोंस को दोषी माना

अदालत इस मामले में 15 मई को सजा सुनाएगी.

रमज़ान के महीने में मार्केट से गायब कैसे हो गया रूह-अफज़ा?

पाकिस्तान कह रहा है, हमसे ले लो.

ऑस्ट्रेलिया ने वर्ल्ड कप की टीम में बदलाव कर दिया है

प्रदर्शन सुधरेगा या बिगड़ेगा?

20वें ओवर में 300 से ऊपर का स्ट्राइक रेट रखने वाले धोनी को जब बुमराह ने रनों के लिए तरसा दिया

वर्ल्ड कप से पहले बुमराह के नाम पर दुनिया भर से बल्लेबाजों के कान खड़े हो रहे होंगे.

तू-तड़ाक कह-कहलवा कर ओबामा ने मोदी का फायदा उठा लिया!

तुम तो ठहरे परदेसी, साथ क्या निभाओगे?

जुड़वा भाइयों की किडनैपिंग, हत्या करने वाले बहुत बड़े केस के एक आरोपी ने जेल में फांसी लगाई

इस खबर को सुनकर उन जुड़वा बच्चों के बाप ने वही कहा, जो शायद हर बाप कहता.

जानिए रेप के आरोपी एक्टर करण ओबेरॉय की बहन ने उनके बारे में क्या बोला है

''जिस लड़की ने शारीरिक संबंध बनाने के लिए मैसेज किया उसी ने रेप केस में फंसा दिया.''

चेन्नई बेशक किंग हो मगर 2010 से मुंबई के आगे तो पानी ही भर रही है

चेन्नई अपने घरेलू मैदान पर मुंबई के खिलाफ क्यों नहीं जीत पा रही है?

अलवर गैंग रेप केस: 12 दिन, 14 टीमें, 5 अपराधी और गिरफ्तार हुआ सिर्फ एक

पहले चुनावों के चलते पुलिस इस केस में एक कॉन्स्टेबल तक नहीं लगा पा रही थी, अब 14 टीमें जुट गईं.

स्टीफन हॉकिंग वाली बीमारी से जूझ रहे विनायक की एग्ज़ाम्स के दौरान मौत, रिज़ल्ट आया तो सब हैरान

यकीन कीजिए विनायक की कहानी आपको ज़िंदगी के हर एग्ज़ाम में मोटिवेट करेगी.