Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

30 साल बाद भारत में फौज के लिए नई तोप आई है

3.58 K
शेयर्स

दिल्ली की सड़कों के साथ-साथ आसमान में भी बहुत भीड़ होती है. दिन भर में हज़ार के करीब प्लेन यहां आते-जाते हैं. लेकिन 18 मई को एक बड़े खास प्लेन ने दिल्ली की ज़मीन को छुआ. ये अमरीका से M777 अल्ट्रा लाइट होवित्ज़र गन लेकर आया था. तीस साल बाद भारत में कोई नई आर्टिलरी गन आई है.

होवित्ज़र गन होती क्या है?

पुराने ज़माने में फौज के तीन हिस्से होते थे. पैदल सिपाही, घुड़सवार और हाथी पर सवार सैनिक और उनके पीछे तोपखाना. आज की फौज में भी लगभग इसी तर्ज पर तीन कोर होती हैं – सबसे आगे इंफेंट्री, उसके पीछ आर्मड कोर और सबसे पीछे आर्टिलरी. आर्टिलरी के पास अलग-अलग तरह की बड़ी-बड़ी तोप होती हैं जिनसे वो दुश्मन पर बड़े-बड़े गोले गिराते हैं. इन्हीं में से एक होती है होवित्ज़र.

होवित्ज़र गन किसी ऐसी गन को कहते हैं जिसका गोला एक तीखे एंगल पर फायर किया जाता हो, माने 45-90 डिग्री पर. इससे गोला काफी ऊंचाई तक जाता है, और फिर ज़मीन पर लौटता है. तो इससे सीधी ज़मीन के साथ पहाड़ों पर बैठे दुश्मन पर भी फायर किया जा सकता है.

कार्गिल में जीत दिलाने वाली बोफोर्स भी एक होवित्ज़र है.
कारगिल में जीत दिलाने वाली बोफोर्स भी एक होवित्ज़र है.

कारगिल युद्ध की सबसे यादगार तस्वीरों में बोफोर्स गन को फायर करते हुए दिखाया जाता है. बोफोर्स भी एक होवित्ज़र गन है. लेकिन ये 1986 में स्वीडन से इंपोर्ट की गई थी. माने काफी पुरानी है. इसलिए फौज लंबे समय से चाहती थी कि उसके लिए एक नई होवित्ज़र या तो देश में बना ली जाए, या तो विदेश से मंगा ली जाए.

लेकिन देसी होवित्ज़र धनुष के बनने में काफी देरी हुई. ये बोफोर्स के प्लेटफार्म पर ही बनी है और अब तक फील्ड ट्रायल में खुद को साबित नहीं कर पाई है. और बाहर से गन खरीदने पर भी बात बन नहीं पा रही थी. बोफोर्स घोटाले में जिस तरह लोगों के हाथ जले, उसके बाद रक्षा सौदों को लेकर अफसरों और नेताओं दोनों में डर बैठ गया. रक्षा सौदे वैसे भी बहुत पेचीदा होते हैं, एमओयू साइन होने से लेकर फील्ड ट्रायल और असल खरीद तक में काफी माथा पच्ची होती है. तिस पर इतने फूंक-फूंक कर कदम रखे जाने लगे कि मामला कभी असल खरीद तक पहुंचता ही नहीं था.

देसी होवित्ज़र धनुष
देसी होवित्ज़र धनुष

इसलिए जब नवंबर 2016 में भारत ने जब अमरीका से 5000 करोड़ के बदले 145 होवित्ज़र गन खरीदने का करार किया तो ये उसे ऐतिहासिक कहा गया. इसके तहत अमरीका अपने फॉरेन मिलिटरी सेल्स प्रोग्राम के ज़रिए भारत को गन एक्सपोर्ट करने वाला था. ये गन थी BAE Systems की M777A2. इसे आम बोलचाल में M777 कहा जाता है. डील के तहत 25 गन अमरीका से इंपोर्ट की जाएंगी और बाकी भारत में बनेंगी. इसके लिए BAE ने महिंद्रा डिफेंस के साथ करार किया है.

आइए जानें कि M777 में ऐसा क्या है कि इसे फौज के लिए पसंद किया गया:

रेंज
ये 30 किलोमीटर तक गोला फायर कर सकती है. बोफोर्स के मामले में ये दूरी 29 किलोमीटर थी.

रेट ऑफ फायर
M777 30 सेकंड में एक गोला फायर कर देती है. और ऐसा ये लगातार कर सकती है. ये इसका सस्टेंड फायरिंग मोड है. इसके अलावा इसमें एक इंटेस फायरिंग मोड भी है. इसमें ये एक मिनट में 5 गोले फायर कर सकती है. इंटेंस फायरिंग मोड में गन एक बार में 2 मिनट तक रह सकती है.

कहां तैनात होंगी
आर्मी इन्हें नॉर्दन और ईस्टर्न सेक्टर में तैनात करना चाहती है. आर्मी एक नई माउंटेन स्ट्राइक कोर भी खड़ी कर रही है जिसका हेडक्वार्टर बंगाल के पानगढ़ में होगा. इस कोर को भी ये गन मिलेंगी.

हेलिकॉप्टर से ले जाई जाती M777. (फोटोःReuters)
हेलिकॉप्टर से ले जाई जाती M777. (फोटोःWikimedia Commons)

हेलिकॉप्टर से भी ले जाई जा सकती हैं
M777 में एल्यूमिनियम और टाइटेनियम का इस्तेमाल हुआ है. इस तरह इसका वज़न काफी कम हो गया है. करीब सवा चार टन भारी ये गन हैलिकॉप्टर के नीचे टांग कर भी कहीं ले जाई जा सकती है. यानी किसी दुर्गम इलाके में इन्हें घंटों में तैनात किया जा सकता है. दूसरी गन के साथ ये संभव नहीं था क्योंकि वो M777 से लगभग दोगुनी भारी होती हैं. देसी बोफोर्स धनुष गन भी तकरीबन 13 टन की है.

एम्युनिशन

M777 में 155 MM का गोला इस्तेमाल होता. 155 MM गोले का डायमीटर होता है. इसीलिए इस गन को 155 MM गन भी कहते हैं. बोफोर्स  भी एक 155  MM गन है.

चलाने में कितने लोग लगते हैं?

आमतौर पर 7 सैनिक. लेकिन ज़रूरत पड़ने पर 5 सैनिकों का क्रू भी चला सकता है.

अब तक का रिकॉर्ड
M777 दुनियाभर की फौज इस्तेमाल करती हैं. खासकर अमरीका की फौज. हाल के समय में इनका इस्तेमाल अफ्गानिस्तान और इराक में हुआ है.
दिल्ली पहुंची दो गन पहले पोकरण भेजी जाएंगी जहां फौज इन्हें अपनी ज़रूरत के हिसाब से कैलिबरेट करेगी और रेंज टेबल बनाएगी. रेंज टेबल में मौसम और इलाके के हिसाब से गन और उसमें चलाए जाने वाले गोले की सेटिंग्स होती हैं. इसके बाद और ट्रायल होंगे जो एक साल तक चलेंगे.


ये भी पढ़ेंः

6 किस्से भारत के उस आर्मी चीफ के, जिसके बेटे को बंदी बना पाक आर्मी चीफ ने तुरंत फोन किया था

कौन है वो आदमी, शरीफ के मुताबिक जिसके जरिए भारत पाकिस्तान से चोरी-छिपे बात कर रहा है!

इस आतंकवादी संगठन की वजह से एक मुस्लिम देश पाकिस्तान पर हमला करने वाला है!

22 साल के लेफ्टिनेंट उमर फयाज़ की हत्या युद्ध के हर नियम के खिलाफ है

इंडियन आर्मी ने पाकिस्तानी बंकरों को उड़ा उनकी हैवानियत का बदला लिया, क्या सच में?

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गांधी की हत्या में RSS की क्या भूमिका थी?

इस सवाल पर दशकों से सिर धुना जा रहा है, जवाब किसी के पास नहीं है.

क्यों हार्दिक की तथाकथित सेक्स सीडी बीजेपी को भारी पड़ सकती है

2016 में आए एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद बीजेपी को लेने के देने पड़ गए थे.

भला हो गुजरात चुनाव का...मेरा कुछ फायदा तो हुआ

केंद्र सरकार ने 211 चीजों के टैक्स स्लैब में किया बदलाव.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपए का इनाम जीतिए

दि लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

नन्हे प्रद्युम्न की हत्या में अब 11वीं का छात्र हिरासत में लिया गया है

रायन स्कूल में हुई हत्या के मामले में सीबीआई ने हरियाणा पुलिस की थ्योरी खारिज कर दी है.

फर्जी कंपनियों में पैसा लगाने के सवाल पर बीजेपी सांसद ने रिपोर्टर को सुट्ट कर दिया

पैराडाइज पेपर्स लीक का मामला है, सांसद का जवाब 'देखकर' उनकी होशियारी के कायल हो जाओगे.

पैराडाइज़ पेपर्स लीकः भारत के कौन से ताकतवर लोगों का नाम सामने आया है?

एक करोड़ चौतीस लाख गोपनीय पन्नों का ये ऐतिहासिक खुलासा देश और दुनिया को हिलाकर रख देगा.

12 साल पहले 12 हजार रुपए की खीर खा गए थे नरेंद्र मोदी!

RTI के हवाले से ये दावा गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री ने किया है, जो भाजपा में रह चुके हैं.

कहानी उस अस्पताल की, जिसमें आतंकी पकड़ा गया और अब कांग्रेस-बीजेपी आमने-सामने हैं

गुजरात के मुख्यमंंत्री विजय रुपाणी और अहमद पटेल के बीच जारी है जुबानी जंग

गुजरात में किसकी बनेगी सरकार, जानिए क्या कहता है लेटेस्ट सर्वे

गुजरात की जनता का मूड टटोलता इंडिया टुडे-एक्सिस सर्वे.

पाकी टॉकी

'मैं जो हूं जौन एलिया हूं जनाब, इसका बेहद लिहाज़ कीजिएगा'

जनाब कहते थे, मुझे खुद को तबाह करने का मलाल नहीं है. जानिए अकेले में रहने वाले शायर को.

70 साल बाद पाकिस्तान गए इस शख्स की कहानी हम सबके काम की है

दोनों मुल्कों के दरमियान कड़वाहट का जवाब भी मिलेगा.

पाकिस्तान में जिसे अब प्रधानमंत्री बनाया गया है, वो दो साल जेल में रह चुके हैं

जेल से छूटकर चुनाव लड़े और हार गए थे. अब 45 दिन के लिए पीएम बन गए.

मनी लॉन्ड्रिंग केस में नवाज शरीफ दोषी करार, नहीं रहेंगे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

पनामा पेपर्स लीक ने दुनियाभर में हलचल मचाई थी.

जब अफरीदी ही औरतों को चूल्हे में झोंकना चाहते हों, इस खिलाड़ी पर ये भद्दे कमेंट हमें हैरान नहीं करते

पिता के साथ एयरपोर्ट से बाइक पर घर जाती इस पाक खिलाड़ी को निशाना बनाया जाना शर्मनाक है.

गोरमिंट को गालियां देकर वायरल हुईं इन आंटी के साथ बहुत बुरा हो रहा है

'ये गोरमिंट बिक चुकी है. अब कुछ नहीं बचा.' कहने वाली आंटी की ये बुरी खबर है.

क्या जिन्ना की बहन फातिमा का पाकिस्तान में कत्ल हुआ था?

उनके जनाज़े पर पत्थर क्यों बरसे?

'मैं अल्लाह के घर से चोरी कर रहा हूं, तुम कौन होते हो बीच में नाक घुसाने वाले'

चोर का ये ख़त पढ़ लीजिए. सोच में पड़ जाएंगे!

छिड़ी बहस, क्या सच में डॉल्फिन से सेक्स कर रहे हैं पाकिस्तानी?

रमज़ान के पाक महीने में डॉल्फिन को बचाने की बात हो रही है.

कौन है ये पाकिस्तानी पत्रकार, जिसने पूरी टीम के बदले 3 साल के लिए विराट कोहली को मांगा है

दोनों देशों में ट्रोल हुई हैं. ट्रोल करने वालों को इनके ये पांच ट्वीट देख लेने चाहिए.

भौंचक

उत्तर प्रदेश में 3 दिन पहले हुए इस 'गैंगरेप' की सच्चाई ये है

यूपी के उन्नाव की इस घटना का कनेक्शन अहमदाबाद से है.

अपना नाम ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में देखने के लिए फॉलो करें ये 5 स्टेप्स

ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी ने आप सब से सुझाव मांगे हैं.

यदि न्यूडिटी की उम्मीद है तो ‘न्यूड’ का यह ट्रेलर मत देखना!

गोवा के फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाई जानी थी, अंतिम समय में हटा दी गयी

हॉरर मूवी 'दी ब्लैक कैट' जिसे अपने बच्चों को ज़रूर दिखाना चाहिए

बच्चों के लिए इतना सीरियस काम इससे पहले गुलज़ार को ही करते देखा था.

क्या आपको पता है कि बॉल पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?

बॉल पेन के कैप में बना छेद यूं ही नहीं बना होता है. ना ही ये स्याही को सूखने से बचाता है.

नितिन गडकरी ने किसानों को बचाने का बदबूदार आइडिया दिया है

पहली नजर में आपको बकैती लगेगी लेकिन सीरियसता से पढ़ना.

पर्यटन विभाग दिया जाना चाहिए इक्यावन बार ट्रांसफर हो चुके खेमका जी को

इतनी बार तो हमने अपने बैचलर-शिप में मैगी नहीं खाई!

कांग्रेस वालो, किसी का माल उड़ाओ तो कम से कम क्रेडिट तो दे ही दो

कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य नाराज हैं, बोले- परमिशन लेनी चाहिए थी.

चुनाव आयोग ने इस शख्स के लिए जो किया है, वो लोकतंत्र के लिए सुखद है

जंगल के बीच रहने वाला ये बुजुर्ग वोटर सबसे वोट डालने की अपील करता है.

बिना ड्राइवर दौड़ गया ट्रेन का इंजन, 13 किलोमीटर बाद पकड़ा जा सका

लोको पायलट और स्टेशन मास्टर बाइक से पीछे दौड़ पड़े.