Submit your post

Follow Us

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

638
शेयर्स

31 अक्तूबर 1987. नागपुर का विदर्भ क्रिकेट स्टेडियम. डिफेंडिंग चैंपियन इंडिया का रिलायंस विश्व कप में आखिरी लीग मैच न्यूजीलैंड के विरुद्ध. हालांकि कपिल देव की टीम पहले ही सेमीफाइनल में अपना स्थान पक्का कर चुकी है. तब फ्लडलाइट्स में मैच नहीं होते थे.

सुबह-सुबह न्यूजीलैंड के कप्तान जेफ्री क्रो ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया लेकिन इंडिया की कसी गेंदबाजी के सामने किवी बल्लेबाज जम नहीं पाए. ओपनर जॉन राइट ने 35 रन एवं आलराउंडर दीपक पटेल ने 40 रन बनाए. निर्धारित 50 ओवरों में न्यूजीलैंड की टीम 9 विकेट पर 221 रन हीं बना सकी. चेतन शर्मा ने केन रदरफोर्ड, विकेटकीपर इयान स्मिथ एवं इवान चैटफील्ड- तीनों को बोल्ड कर विश्व कप की पहली हैट्रिक बनाई. यह इंटरनेशनल क्रिकेट के इतिहास की पहली हैट्रिक थी जिसमें सभी बल्लेबाज बोल्ड हुए थे. साथ ही यह किसी भी इंडियन बॉलर की पहली हैट्रिक थी.

Chetan
चेतन शर्मा ने इंडिया के लिए वर्ल्ड कप में पहली हैट्रिक ली थी.

अब इंडिया की बल्लेबाजी शुरू होती है. कृष्णामाचारी श्रीकांत और टेस्ट क्रिकेट में रनों और शतकों के शहंशाह लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर (बुखार के बावजूद) मैदान में उतरे. दोनों ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी शुरू की. जब पहला विकेट श्रीकांत के रूप में गिरा तब तक स्कोरबोर्ड पर 136 रन टंग चुके थे. श्रीकांत 58 गेंदों पर 9 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 75 रन बनाकर आउट हुए. अब गावस्कर और स्टाइलिश हैदराबादी मोहम्मद अज़हरुद्दीन की साझेदारी शुरू हुई एवं दोनों ने इंडिया को 32.1 ओवर में ही लक्ष्य के पार (224 रन) पहुंचा दिया.

गावस्कर 88 गेंदों पर 10 चौकों और 3 छक्कों की मदद से नॉट आउट 103 रन बनाए तथा अजहरुद्दीन ने 51 गेंदों पर 41 रन बनाए. गावस्कर ने तो इयान चैटफील्ड के एक ओवर में ही तीन छक्के और 1 चौके के साथ 22 रन ठोक डाले थे. इस मैच में गावस्कर ने केवल 85 गेंद में शतक बनाया जो उस समय तक वनडे क्रिकेट में किसी भी भारतीय द्वारा बनाया गया सबसे तेज शतक था. इस मैच में, जो गावस्कर का सेकेंड लास्ट मैच था (सेमीफाइनल में भारत की हार के साथ हीं गावस्कर ने ग्लव्स टांग दिये थे यानी संन्यास की घोषणा कर दी थी). सुनील गावस्कर अंततः शतक बनाने में कामयाब हो गये अन्यथा दुनिया इस बात पर आश्चर्य करती कि जिस बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में रनों एवं शतकों का माउंट एवरेस्ट खड़ा कर दिया उसके नाम वनडे मैचों में तीन अंकों की कोई पारी नहीं है.


 ये किस्सा दी लल्लनटॉप के लिए अभिषेक ने लिखा है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री. आज बड्डे है.

जब बाबरी मस्जिद गिरी और एक दिन के लिए तिहाड़ भेज दिए गए कल्याण सिंह

अब सीबीआई कल्याण सिंह से पूछताछ करना चाहती है

वो नेता जिसने पी चिदंबरम से कई साल पहले जेल में अंग्रेजी टॉयलेट की मांग की थी

हिंट: नेता गुजरात से थे और नाम था मोदी.

बिहार पॉलिटिक्स : बड़े भाई को बम लगा, तो छोटा भाई बम-बम हो गया

कैसे एक हत्याकांड ने बिहार मुख्यमंत्री का करियर ख़त्म कर दिया?

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

पूर्व प्रधानमंत्री के पहले और आखिरी चुनाव का किस्सा.

सोनिया गांधी ने ऐसा क्या किया जो सुषमा स्वराज बोलीं- मैं अपना सिर मुंडवा लूंगी?

सुषमा का 2004 का ये बयान सोनिया को हमेशा सताएगा.

हाथ में एक नेता की तस्वीर लेकर मुजफ्फरपुर की गलियों में क्यों भटकी थीं सुषमा स्वराज?

जब सब डर से कांप रहे थे, 24 साल की सुषमा ने इंदिरा गांधी के खिलाफ मोर्चा लिया था.

जब सुषमा स्वराज ने सोनिया गांधी को लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया था

रात दो बजे फोन की घंटी बजी और तड़के पांच बजे सुषमा बेल्लारी के लिए निकल चुकी थीं.

सुषमा स्वराज कैसे भारत की प्रधानमंत्री होते-होते रह गयीं?

और उनके साथ आडवाणी का भी पत्ता कट गया था.

अटल सरकार के बारे में दो चौंकाने वाले खुलासे

अटल सरकार का एक मंत्री जो फिर चर्चा में है, लेकिन उसे ही पता नहीं है.