Submit your post

Follow Us

कांग्रेस-बीजेपी में धुकधुकी बंधी हुई थी, RSS मुख्यालय में प्रणब का भाषण सुनकर आया चैन

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के राजनीतिक सफर की बात हो और उनके आरएसएस मुख्यालय के दौरे का जिक्र न हो तो कुछ अधूरा-सा लगता है. बात 2018 की है. प्रणब ने जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के न्यौते पर हामी भरी थी, तभी से न सिर्फ उनकी अपनी पार्टी कांग्रेस बल्कि आरएसएस की विचारधारा से जुड़ी भारतीय जनता पार्टी और यहाँ तक कि वामपंथी दलों के भीतर भी यह धुकधुकी थी कि आखिर प्रणब दा नागपुर जाकर क्या बोलेंगे.

बहुतों को तो इस बात पर आश्चर्य हो रहा था कि ‘2010 में कांग्रेस के बुराड़ी अधिवेशन में जिन प्रणब मुखर्जी ने आरएसएस पर आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया था, और राष्ट्र के आधारभूत सिद्धांतों पर “सांप्रदायिकता” से हमला करने के लिए इस संगठन को फटकार लगाई थी, अब वही उसके कार्यक्रम में शामिल होने का न्यौता स्वीकार कर रहे हैं.’

F9ff65f6 892b 499a Ae93 B6e922d17f48
राहुल गांधी के साथ प्रणब मुखर्जी

कांग्रेस के लोगों को इस बात की भी बेचैनी थी कि जिस संगठन के साथ उसकी स्थापना के समय से ही कांग्रेस का वैचारिक विरोध रहा है, उसके मुख्यालय जाने का निमंत्रण आखिर उस नेता ने कैसे स्वीकार कर लिया, जिसने पूरी जिंदगी कांग्रेस और कांग्रेस की विचारधारा को मानने वाले दलों के साथ गुजारी हो. बता दें, प्रणब दा शुरुआत में बांग्ला कांग्रेस नामक एक क्षेत्रीय दल से जुड़े थे. नागपुर जाकर प्रणब क्या संदेश देंगे?

इस मुद्दे पर गाँधी परिवार ने तो खुलकर कुछ नहीं कहा लेकिन कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने इस पर अपनी आपत्ति जता दी थी. पूर्व रेल मंत्री सीके जाफर शरीफ ने बाकायदा एक चिठ्ठी लिखकर प्रणब मुखर्जी से नागपुर न जाने की अपील की थी. तब दिल्ली कांग्रेस के नेता संदीप दीक्षित ने भी प्रणब मुखर्जी के इस फैसले पर आश्चर्य जताते हुए कहा था, ‘जिस विचारधारा से हमारी पार्टी के बुनियादी मतभेद रहे हैं, उस विचारधारा के संगठन के कार्यक्रम में प्रणब मुखर्जी के शामिल होने से अच्छा संदेश नहीं जाएगा.
खुद प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा ने अपने पिता के नागपुर जाने के फैसले का विरोध किया था. तब शर्मिष्ठा ने कहा था,

“आने वाले समय में आपकी स्पीच भुला दी जाएगी और फ़ुटेज को फेक न्यूज के साथ परोसा जाएगा. इसलिए मैं आपसे आग्रह करती हूँ कि आप नागपुर में संघ मुख्यालय के कार्यक्रम में शामिल होने के अपने फ़ैसले पर दोबारा विचार करें.”

लेकिन प्रणब मुखर्जी नहीं माने. नागपुर जाने के अपने फैसले पर अडिग रहे. 7 जून 2018 को आरएसएस मुख्यालय में उनके भाषण देने का कार्यक्रम तय किया गया था. तय वक्त पर प्रणब मुखर्जी वहाँ गए और अपनी बात रखी.

भाषण शुरू होने तक कांग्रेस में सबको एक ही डर सता रहा था कि प्रणब दा क्या बोलेंगे. लेकिन प्रणब ने जब आरएसएस प्रचारकों के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रवाद पर संबोधन किया, तब जाकर उन लोगों को राहत की सांस आई. प्रणब दा ने राष्ट्र और राष्ट्रवाद पर कहा कि संविधान के प्रति देशभक्ति ही असली राष्ट्रवाद है. उन्होंने कहा था,

“सिर्फ़ एक धर्म, एक भाषा भारत की पहचान नहीं है बल्कि संविधान से राष्ट्रवाद की भावना बहती है. मैं यहां पर राष्ट्र, राष्ट्रवाद और देशभक्ति समझाने आया हूँ. विविधताओं से भरे देश भारत में भारतीय संविधान में आस्था ही असली देशभक्ति है. विविधतता हमारी सबसे बड़ी ताकत है. हम विविधता में एकता को देखते हैं. हमारी सबकी एक ही पहचान है, भारतीयता.”

इस मौके पर उन्होंने कौटिल्य को उद्धृत करते हुए यह भी कहा,

“प्रजासुखे सुखं राज्ञः प्रजानां च हिते हितम्।
नात्मप्रियं हितं राज्ञः प्रजानां तु प्रियं हितम्।।

अर्थात प्रजा की खुशी में ही राजा की प्रसन्नता निहित रहती है. प्रजा के हित में ही राजा का हित होता है. प्रजा की अच्छाई राजा की अच्छाई होती है.

मुखर्जी ने आगे कहा कि आज लोगों में गुस्सा बढ़ रहा है. हर रोज़ हिंसा की ख़बर सामने आती रहती हैं. हिंसा और ग़ुस्से को छोड़कर हमें शांति के रास्ते पर चलना चाहिए.

सबसे मज़ेदार बात यह थी कि उन्होंने संक्षेप में भारत के इतिहास की भी चर्चा की. संघ मुख्यालय के मंच से सरसंघचालक की उपस्थिति में नेहरू और गांधी के दर्शन का पाठ पढ़ाया. उन्होंने विविधता में एकता की बात भी कही. खुशहाली सूचकांक के बहाने सरकार को खुशहाल जनमानस की अहमियत से भी रूबरू करवाया.

326c3f31 D4e5 48cb Af8b 3291dd873048
संघ शिक्षा वर्ग के समापन समारोह को संबोधित करने नागपुर पहुंचे थे प्रणब मुखर्जी

प्रणब दा ने अपने भाषण से सबको ख़ुश कर दिया था. कांग्रेस इस बात पर ख़ुश हो गई कि उन्होंने संघ के मुख्यालय पर जाकर संघियों को गांधी और नेहरू का पाठ पढ़ाया. संघ इसलिए ख़ुश हो गया कि पूर्व राष्ट्रपति के भाषण से ठीक पहले संघसरचालक मोहन भागवत ने भी विविधता में एकता की बात कही थी. प्रणब मुखर्जी ने अपने भाषण में उस पर अपनी मोहर लगा दी.

प्रणब मुखर्जी के नागपुर में दिए भाषण ने काफी वाहवाही बटोरी. लेकिन उनके आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर गाँधी परिवार की चुप्पी को कई राजनीतिक टिप्पणीकारों ने उनकी वाहवाही के दायरे में नहीं समेटा. इन टिप्पणीकारों के अनुसार,
‘नागपुर के संघ मुख्यालय में प्रणब मुखर्जी की स्पीच के 5 दिन बाद 12 जून 2018 को जब तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इफ्तार पार्टी का आयोजन किया, तब उसमें प्रणब मुखर्जी का नहीं बुलाया जाना गाँधी परिवार का इस दौरे के प्रति अपनी असहमति प्रकट करने का एक तरीका था.’

बहरहाल यह सियासत है और इस सियासी दांव-पेंच के खेल में हर व्यक्ति हर घटना के निहितार्थ को अपने तरीके से समझने और समझाने के लिए स्वतंत्र होता है.


 

बिहार: यूनिवर्सिटी में बदलाव की पहल करने में जुटे थे असिस्टेंट प्रोफेसर, दबंग छात्रों ने की मारपीट

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

ब्रेंडन मैकुलम की वो पारी जिसे राहुल द्रविड़ ने 'टॉर्चर' का नाम दिया था!

ब्रेंडन मैकुलम की वो पारी जिसे राहुल द्रविड़ ने 'टॉर्चर' का नाम दिया था!

उस बैटिंग का एक दर्शक बाद में टीम इंडिया का सबसे चहेता बल्लेबाज बन गया.

'बेला' हथिनी मैदान पर आई और पहली बार भारत ने इंग्लैंड को हरा दिया!

'बेला' हथिनी मैदान पर आई और पहली बार भारत ने इंग्लैंड को हरा दिया!

आज़ादी के 24 साल बाद जब टीम इंडिया ने गुलामी की बेड़िया तोड़ दीं.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.

इन तमाम यादों के लिए शुक्रिया, भारतीय क्रिकेट के 'लालबहादुर शास्त्री'

इन तमाम यादों के लिए शुक्रिया, भारतीय क्रिकेट के 'लालबहादुर शास्त्री'

क्रिकेट के महानतम ब्रोमांस को सलाम.

ऑस्ट्रेलियन लिजेंड ने बाउंसर मारी, इस इंडियन ने जवाब में मूंछ खींच दी!

ऑस्ट्रेलियन लिजेंड ने बाउंसर मारी, इस इंडियन ने जवाब में मूंछ खींच दी!

वो इंडियन क्रिकेटर, जिसे वेस्ट इंडियन 'मिस्टर बीन' बुलाते थे.

जब संसद में छिड़ा ग्रेग चैपल का ज़िक्र और गांगुली ने कमबैक कर लिया!

जब संसद में छिड़ा ग्रेग चैपल का ज़िक्र और गांगुली ने कमबैक कर लिया!

चैपल के सामने सौरव ने बतौर खिलाड़ी पूरी टीम को 15 मिनट का लेक्चर दिया.

वो क्रिकेटर, जो मैच में विकेट चटकाने के लिए अपने मुंह पर पेशाब मलता था!

वो क्रिकेटर, जो मैच में विकेट चटकाने के लिए अपने मुंह पर पेशाब मलता था!

किट बैग में गाय का गोबर लेकर घूमने और चूमने वाले क्रिकेटर की कहानी.

जब न्यूज़ीलैंड एयरपोर्ट पहुंची टीम इंडिया में अकेले हरभजन सिंह की एंट्री रोक दी गई!

जब न्यूज़ीलैंड एयरपोर्ट पहुंची टीम इंडिया में अकेले हरभजन सिंह की एंट्री रोक दी गई!

हरभजन के बैग में वो क्या चीज़ थी कि एयरपोर्ट पर हंगामा मच गया?

उस टीम इंडिया की कहानी, जब टैलेंट नहीं, राजा होने की वजह से कप्तान बनाया जाता था!

उस टीम इंडिया की कहानी, जब टैलेंट नहीं, राजा होने की वजह से कप्तान बनाया जाता था!

जब मैच से चंद घंटों पहले कप्तान के खिलाफ पूरी टीम इंडिया ने कर दी बगावत!

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.