Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

179
शेयर्स

इंग्लैंड की टीम वेस्टइंडीज की मेजबानी करने वाली थी. वेस्टइंडीज की टीम मई 1976 में यहां ऑस्ट्रेलिया से 5-1 की हार के बाद पहुंची थी. इसके बावजूद क्रिकेट एक्सपर्ट और मीडिया ये मान रहा था कि क्लाइव लॉयड की कप्तानी वाली ये वेस्ट इंडियन टीम काफी मजबूत है. इसी बीच सीरीज से पहले टोनी ग्रेग ने बीबीसी को एक इंटरव्यू दिया. इसमें इस कप्तान ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि ये टीम इतनी मजबूत है जितनी बताई जा रही है. उनकी फितरत हमेंश खुश करने की है. मैं चाहूंगा कि हम उनसे यही काम करवाएं.” टोनी के इस बयान का मतलब था कि वेस्टइंडीज के लोग ब्रिटेन के गुलाम रहे हैं और उनकी आदत में अभी भी यही है कि वो ब्रिटिशर्स के सामने सेवाभाव से रहें. टोनी की ये बयान अपने अाप में काफी बेइज्जती भरा था.

हालांकि ये एक माइंडगेम था, मगर इस बयान को सुनकर न सिर्फ वेस्टइंडीज की टीम ने इसे अपनी प्रतिष्ठा और स्वाभिमान का सवाल बना लिया. वहीं दूसरी ओर हजारों क्रिकेट फैन्स ने भी टोनी ग्रेग का विरोध करने के लिए मैदान पर आकर वेस्टइंडीज की टीम को सपोर्ट करना शुरू कर दिया. टोनी की इस सोच का मीडिया में भी खूब विरोध हुआ. सीरीज शुरू हुई और पहले दोनों टेस्ट ड्रॉ पर खत्म हुए. मगर तीसरा टेस्ट हुआ मैनचेस्टर में जिसे वेस्टइंडीज ने 425 रनों से जीत लिया. अगला टेस्ट था लीड्स में जहां इस कैरीबियन टीम ने इंग्लैंड को 55 रन से पटखनी दी.

मगर सबसे खुंखार हमला दिखा आखिरी टेस्ट में. यानी टेस्ट सीरीज का पांचवां और आखिरी टेस्ट हुआ ओवल के मैदान पर. पिच सपाट थी. मतलब ये कि गेंदबाजों को पिच से कोई मदद नहीं थी. मगर एक वेस्टइंडीज बॉलर के जबरदस्त स्पीड थी.यहां 17 अगस्त का दिन था मगर असल में दिन वेस्टइंडीज के फास्ट बॉलर माइकल होल्डिंग का था. सीरीज में 2-0 से आगे होने के बाद विव रिचर्ड्स ने पहले टीम के स्कोर को 687 पहुंचा दिया. जवाब में इंग्लैंड की टीम 435 के स्कोर पर आउट हो गई. अपनी स्पीड के बूते ही माइकल होल्डिंग ने अकेले 8 विकेट लिए. 33 ओवरों में 9 मेडन और 92 रन देकर 8 विकेट. दूसरी पारी में माइकल होल्डिंग ने 6 विकेट लिए. यानी एक टेस्ट में कुल 14 विकेट. ये किसी भी वेस्टइंडीज के खिलाड़ी का टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड है. वेस्टइंडीज इस मैच को 231 रनों से जीती और सीरीज 3-0 से.

ये वीडियो देखिए:


Also Read

टीम में बुमराह की वापसी हो रही है, मगर उमेश यादव का क्या होगा?

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

अजीत वाडेकर, वो कप्तान जिसने दुनिया जीती अौर फिर खो दी

कौन है ये लड़का जिसे टीम इंडिया में शामिल करने से हमारी बैटिंग मजबूत हो सकती है?

विराट कोहली की टीम को इंग्लैंड में जीत का मंत्र अजीत वाडेकर दे गए हैं

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Michael Holding rips England batting lineup apart with 14 wickets in 5th and final Test in 1976

पॉलिटिकल किस्से

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री.

हरिदेव जोशी : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जो तीन बार CM बना लेकिन पांच साल पूरे नहीं कर सका

जिसका एक ही हाथ था, लेकिन हाथ वाली पार्टी की पॉलिटिक्स हैंडल करने में माहिर था.

बरकतुल्लाह खान : राजस्थान का इकलौता मुस्लिम सीएम जो इंदिरा गांधी को भाभी कहता था

जिन्हें फोन कर लंदन से सीएम बनने के लिए बुलाया गया था.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी ताजपोशी से पहले जयपुर में कर्फ्यू लगा

और जिसकी गांधी-नेहरू परिवार की तीन पीढ़ियों से अनबन रही.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी शादी के विरोध में बाजार बंद हो गए थे

जिसने नेहरू के खास रहे मुख्यमंत्री जयनारायण व्यास का तख्तापलट कर दिया.

टीकाराम पालीवाल : राजस्थान का पहला चुना हुआ कांग्रेसी सीएम, जो जनता पार्टी का अध्यक्ष बना

मास्टरी से शुरु हुआ करियर वकालत, नेतागिरी और फिर मास्टरी पर खत्म हुआ.

कदांबी शेषाटार वेंकटाचार : कर्नाटक का रहने वाला ये आदमी राजस्थान का मुख्यमंत्री कैसे बना?

मुख्यमंत्री बना तो IAS था, पद से हटा तो फिर IAS बन गया.

हीरालाल शास्त्री : राजस्थान के पहले सीएम, जिनकी बेटी का देहांत हुआ तो बनवा दी सबसे बड़ी गर्ल्स यूनिवर्सिटी

और एक दूसरी मौत के साथ ही इनके राजनीतिक करियर पर ग्रहण लगा दिया.

शिवराज सिंह चौहान : एमपी का वो मुख्यमंत्री जिसने उमा और कैलाश विजयवर्गीय को किनारे लगा दिया

दिग्विजय सिंह ने शिवराज को बंगला दिया और फिर शिवराज को कोई हिला नहीं पाया.