Submit your post

Follow Us

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

179
शेयर्स

इंग्लैंड की टीम वेस्टइंडीज की मेजबानी करने वाली थी. वेस्टइंडीज की टीम मई 1976 में यहां ऑस्ट्रेलिया से 5-1 की हार के बाद पहुंची थी. इसके बावजूद क्रिकेट एक्सपर्ट और मीडिया ये मान रहा था कि क्लाइव लॉयड की कप्तानी वाली ये वेस्ट इंडियन टीम काफी मजबूत है. इसी बीच सीरीज से पहले टोनी ग्रेग ने बीबीसी को एक इंटरव्यू दिया. इसमें इस कप्तान ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि ये टीम इतनी मजबूत है जितनी बताई जा रही है. उनकी फितरत हमेंश खुश करने की है. मैं चाहूंगा कि हम उनसे यही काम करवाएं.” टोनी के इस बयान का मतलब था कि वेस्टइंडीज के लोग ब्रिटेन के गुलाम रहे हैं और उनकी आदत में अभी भी यही है कि वो ब्रिटिशर्स के सामने सेवाभाव से रहें. टोनी की ये बयान अपने अाप में काफी बेइज्जती भरा था.

हालांकि ये एक माइंडगेम था, मगर इस बयान को सुनकर न सिर्फ वेस्टइंडीज की टीम ने इसे अपनी प्रतिष्ठा और स्वाभिमान का सवाल बना लिया. वहीं दूसरी ओर हजारों क्रिकेट फैन्स ने भी टोनी ग्रेग का विरोध करने के लिए मैदान पर आकर वेस्टइंडीज की टीम को सपोर्ट करना शुरू कर दिया. टोनी की इस सोच का मीडिया में भी खूब विरोध हुआ. सीरीज शुरू हुई और पहले दोनों टेस्ट ड्रॉ पर खत्म हुए. मगर तीसरा टेस्ट हुआ मैनचेस्टर में जिसे वेस्टइंडीज ने 425 रनों से जीत लिया. अगला टेस्ट था लीड्स में जहां इस कैरीबियन टीम ने इंग्लैंड को 55 रन से पटखनी दी.

मगर सबसे खुंखार हमला दिखा आखिरी टेस्ट में. यानी टेस्ट सीरीज का पांचवां और आखिरी टेस्ट हुआ ओवल के मैदान पर. पिच सपाट थी. मतलब ये कि गेंदबाजों को पिच से कोई मदद नहीं थी. मगर एक वेस्टइंडीज बॉलर के जबरदस्त स्पीड थी.यहां 17 अगस्त का दिन था मगर असल में दिन वेस्टइंडीज के फास्ट बॉलर माइकल होल्डिंग का था. सीरीज में 2-0 से आगे होने के बाद विव रिचर्ड्स ने पहले टीम के स्कोर को 687 पहुंचा दिया. जवाब में इंग्लैंड की टीम 435 के स्कोर पर आउट हो गई. अपनी स्पीड के बूते ही माइकल होल्डिंग ने अकेले 8 विकेट लिए. 33 ओवरों में 9 मेडन और 92 रन देकर 8 विकेट. दूसरी पारी में माइकल होल्डिंग ने 6 विकेट लिए. यानी एक टेस्ट में कुल 14 विकेट. ये किसी भी वेस्टइंडीज के खिलाड़ी का टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड है. वेस्टइंडीज इस मैच को 231 रनों से जीती और सीरीज 3-0 से.

ये वीडियो देखिए:


Also Read

टीम में बुमराह की वापसी हो रही है, मगर उमेश यादव का क्या होगा?

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

अजीत वाडेकर, वो कप्तान जिसने दुनिया जीती अौर फिर खो दी

कौन है ये लड़का जिसे टीम इंडिया में शामिल करने से हमारी बैटिंग मजबूत हो सकती है?

विराट कोहली की टीम को इंग्लैंड में जीत का मंत्र अजीत वाडेकर दे गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

बिहार पॉलिटिक्स : बड़े भाई को बम लगा, तो छोटा भाई बम-बम हो गया

कैसे एक हत्याकांड ने बिहार मुख्यमंत्री का करियर ख़त्म कर दिया?

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

पूर्व प्रधानमंत्री के पहले और आखिरी चुनाव का किस्सा.

सोनिया गांधी ने ऐसा क्या किया जो सुषमा स्वराज बोलीं- मैं अपना सिर मुंडवा लूंगी?

सुषमा का 2004 का ये बयान सोनिया को हमेशा सताएगा.

हाथ में एक नेता की तस्वीर लेकर मुजफ्फरपुर की गलियों में क्यों भटकी थीं सुषमा स्वराज?

जब सब डर से कांप रहे थे, 24 साल की सुषमा ने इंदिरा गांधी के खिलाफ मोर्चा लिया था.

जब सुषमा स्वराज ने सोनिया गांधी को लोहे के चने चबाने पर मजबूर कर दिया था

रात दो बजे फोन की घंटी बजी और तड़के पांच बजे सुषमा बेल्लारी के लिए निकल चुकी थीं.

सुषमा स्वराज कैसे भारत की प्रधानमंत्री होते-होते रह गयीं?

और उनके साथ आडवाणी का भी पत्ता कट गया था.

अटल सरकार के बारे में दो चौंकाने वाले खुलासे

अटल सरकार का एक मंत्री जो फिर चर्चा में है, लेकिन उसे ही पता नहीं है.

आज़म खान : यूपी का वो बड़बोला मंत्री जो 'मिक्की मियां का दीवाना' बोलने पर गुस्सा जाता है

जिसने पहला चुनाव जिताया, उसकी ही मुखालफ़त में रामपुर की शक्ल बदल दी.

जब बम धमाके में बाल-बाल बचीं थीं शीला दीक्षित!

धमाका इताना जोरदार था कि कार के परखच्चे उड़ गए.

बीजेपी का जायंट किलर, जिसने कभी राजीव गांधी सरकार के गृहमंत्री को मात दी थी

और कभी जिसने कहा था, बाबा कसम है, मैं नहीं जाऊंगा.