Submit your post

Follow Us

महमूद ने कहा- अमिताभ नहीं राजीव को फिल्म में लो, वो ज्यादा स्मार्ट दिखता है

1.24 K
शेयर्स

अमिताभ बच्चन की पहली फिल्म ‘सात हिंदुस्तानी’ 1969 में आई थी. लेकिन उसके बाद एक लीड हीरो की तरह उनका फिल्मी करियर ठीक से नहीं चल पा रहा था. इंदिरा गांधी तब तक देश की प्रधानमंत्री बन चुकी थीं. इंदिरा का जिक्र क्यों आया? क्योंकि अमिताभ की मां तेजी बच्चन और इंदिरा दोनों दोस्त थीं. ऐसे में अमिताभ के डगमगाते फिल्मी करियर को संभालने आगे आए राजीव गांधी. राजीव और अमिताभ बचपन के दोस्त रहे थे. राजीव और अमिताभ दोनों कॉमेडियन महमूद के पास मुंबई गए. महमूद उन दिनों फिल्म बॉम्बे टू गोवा की कास्टिंग का भी काम देख रहे थे.

बॉम्बे टू गोवा का पोस्टर. अमिताभ के पीछे महमूद दिख रहे हैं.
बॉम्बे टू गोवा का पोस्टर. अमिताभ के पीछे महमूद दिख रहे हैं.

हनीफ जवेरी की किताब ‘ए मैन ऑफ मैनी मूड्स’ के मुताबिक महमूद एक ड्रग लेने के आदी थे. इस ड्रग का नाम था काम्पोज़. ये एक टैबलेट होती है जिसकी हाई डोज़ लेकर महमूद नशा करते थे. जब राजीव और अमिताभ उनसे मिलने पहुंचे तो महमूद के छोटे भाई अनवर ने दोनों को इन्ट्रोड्यूस करवाया. पर महमूद उस टाइम कुछ समझ नहीं पाए कि उनसे क्या कहा गया. महमूद ने पांच हज़ार रुपए निकाले और अनवर को दिए. कहा कि ये पैसे अमिताभ के दोस्त को दे दो. अनवर थोड़ा परेशान हो गए. उन्होंने पैसों का कारण पूछा.

महमूद ने कहा,

“ये लड़का अमिताभ से ज्यादा गोरा और स्मार्ट है. ये आगे चलकर इंटरनेशनल स्टार बनेगा. इसको पैसे दो और साइन कर लो. अगली फिल्म में ये काम करेगा.”

अनवर माज़रा समझ गए कि नशे में महमूद राजीव को पहचान नहीं पाए हैं. अनवर ने महमूद को फिर से बताया कि ये राजीव हैं प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बेटे. इसके बाद महमूद को थोड़ा होश आया. इसके बाद सबने आपस में बतकही की और अमिताभ को बॉम्बे टू गोवा फिल्म मिल गई. जिसके बाद उनका डगमगाता फिल्मी करियर भी संभल गया.

बाद में राजीव के कहने पर अमिताभ पॉलिटिक्स में आए थे.
बाद में राजीव के कहने पर अमिताभ पॉलिटिक्स में आए थे. 1984 में इलाहाबाद से चुनाव लड़ा था और हेमवती नंदन बहुगुणा को चुनाव हराया था. लेकिन बोफोर्स घोटाले में नाम आने के बाद अमिताभ ने इस्तीफा देकर राजनीति छोड़ दी.

एक बार अमिताभ ने इसके बारे में बोलते हुए कहा था कि महमूद की बात एकदम सही थी. राजीव के अंदर एक इंटरनेशनल स्टार था लेकिन वो सिल्वर स्क्रीन पर नहीं पॉलिटिक्स के फील्ड में.

यह किस्सा राशिद किदवई की किताब 24 अकबर रोड से लिया गया है जिसे हैचेट पब्लिकेशन ने पब्लिश किया है.


ये भी पढ़ें-

राजीव गांधी का पारसी कनेक्शन और नेहरू को फिरोज का इनकार

राजीव गांधी की डिलीवरी के लिए इंदिरा गांधी मुंबई क्यों गईं थीं?

एक अदना कार्टूनिस्ट जो खूंखार बाल ठाकरे, इंदिरा गांधी को मुंह पर सुना देता था

अटल बिहारी ने किसे किताब में रख भेजा था प्रेमपत्र. 5 नए किस्से

वो एक्ट्रेस जिनकी फिल्म ने इंदिरा गांधी को डरा दिया था

वीडियो- सोनिया ने बताया वो राजीव को राजनीति में क्यों नहीं आने देना चाहती थी? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Mehmood offered signing amount to Rajiv Gandhi for his film instead of Amitabh Bachchan

क्रिकेट के किस्से

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.

टीम इंडिया 245 नहीं बना पाई चौथी पारी में, 1979 में गावस्कर ने अकेले 221 बना दिए थे

आज के दिन ही ये कारनामा हुआ था इंग्लैंड में. 438 का टार्गेट था और गजब का मैच हुआ.

जब 1 गेंद पर 286 रन बन गए, 6 किलोमीटर दौड़ते रहे बल्लेबाज

खुद सोचिए, ऐसा कैसे हुआ होगा.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.