Submit your post

Follow Us

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

25 जून. भारतीय क्रिकेट का इतिहास बदलने वाली तारीख. इस तारीख को क्रिकेट के मक्का, लॉर्ड्स में जो हुआ वो कमाल था. आप सोच रहे होंगे कि हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि, इसी तारीख को भारत ने वर्ल्ड कप जीता था. काफी हद तक आप सही भी हैं. लेकिन इस वर्ल्ड कप से लगभग 51 साल पहले एक और इतिहास रचा जा चुका था. वो तारीख भी 25 जून ही थी.

25 जून, 1932 को भारत ने अपना पहला टेस्ट खेला, यहीं लॉर्ड्स के मैदान में. ये अलग बात है कि अब 25 जून को याद करते हुए सब 1983 वर्ल्ड कप फाइनल की ही बात करते हैं. तमाम चीजों पर भारी पड़ने वाली ट्रॉफी इसी दिन जो उठी थी. इस मैच को भारत ने जीता, अंडरडॉग से वर्ल्ड क्रिकेट का बॉस बना. हम सबको जश्न मनाने का एक मौका मिला. इस जीत को 37 साल हो चुके हैं. लोग इसके बारे में काफी कुछ पढ़ चुके हैं. तमाम क़िस्से-कहानियां सुनी और सुनाई जा चुकी हैं.

यहां तक कि अब तो इस पर पिच्चर भी आ रही है. लेकिन अभी भी कुछ ऐसे क़िस्से हैं जो लगभग अनसुने हैं. ऐसा ही एक क़िस्सा हम आज आपके लिए लाए हैं.

# इंदिरा ने मानी फारुख की बात

उस रोज लॉर्ड्स के मैदान में वेस्ट इंडीज़ ने टॉस जीता. विंडीज़ की टीम पूरा मैच खेलने के मूड में नहीं थी. कहते हैं कि इसीलिए कैप्टन क्लाइव लॉयड ने टॉस जीतकर पहले बोलिंग का फैसला किया. भारतीय टीम इस वर्ल्ड कप में ठीकठाक ही खेल रही थी. लेकिन उनकी तमाम जीतों को अब भी उतनी इज्जत ना मिलती थी जितनी मिलनी चाहिए थे. लोग सोचते थे कि भारत भाग्य के भरोसे आगे बढ़ता जा रहा है. ऐसा सोचने वालों में विंडीज़ के खिलाड़ी भी शामिल माने जाते थे.

लॉयड ने सोचा था कि पहले बोलिंग कर भारत को जल्दी समेट देंगे और फिर फटाफट मैच खत्म. लॉयड की सोच का पहला हिस्सा बहुत सही था, वैसा हुआ भी. भारतीय टीम 183 पर ही सिमट गई. क्रिस श्रीकांत ने सबसे ज्यादा 38 रन बनाए. विंडीज़ के लिए एंडी रॉबर्ट्स ने तीन जबकि मैल्कम मार्शल, माइकल होल्डिंग और लैरी गोमेज ने दो-दो विकेट लिए. जवाब में भारतीय बोलर्स ने अच्छी बोलिंग की, हालांकि स्कोर ही इतना कम था कि बहुत उम्मीद नहीं लग रही थी.

जैसा कि होता है, कॉमेंटेटर्स अपना-अपना गेस मार रहे थे. कौन जीतेगा, क्या होगा टाइप से. इंडियन टीम के पूर्व विकेटकीपर फारुख इंजिनियर उस वक्त बीबीसी रेडियो के लिए कॉमेंट्री कर रहे थे. मैच खत्म होने के करीब था और तभी साथियों ने उनसे ऑन एयर ही पूछा,

‘अगर भारत जीत गया, तो क्या भारतीय प्राइम मिनिस्टर इंदिरा गांधी छुट्टी घोषित करेंगी?’

इंजिनियर बोले,

‘निश्चित तौर पर.’

थोड़ी ही देर में बीबीसी के हेडक्वॉर्टर पर एक फोन आया. उधर से कहा गया कि इंडियन फॉरेन ऑफिस ने कॉल करके बताया है कि अगर भारत जीता तो प्राइम मिनिस्टर अगले दिन पब्लिक हॉलिडे घोषित कर देंगी. मज़ेदार बात ये है कि मैच शनिवार को खेला गया था. यानी अगला दिन संडे था. मतलब इंदिरा अगर छुट्टी की घोषणा नहीं करतीं तो भी मैच के अगले दिन छुट्टी होती ही.


जब 1983 वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में कपिल देव के सामने कूदे भारतीय फैन्स कूदे और इंग्लैंड कंफ्यूज हो गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

RSS के पहले सरसंघचालक हेडगेवार ने गोलवलकर को ही क्यों चुना अपना उत्तराधिकारी?

हेडगेवार की डेथ एनिवर्सरी पर जानिए ये पुराना किस्सा.

कैलाश नाथ काटजू : यूपी का वो वकील, जिसे नेहरू ने मध्यप्रदेश का मुख्यमंंत्री बना दिया

जो खुद चुनाव हार गया और फिर वकालत करने लौट गया.

नहीं रहे अजित जोगी, जिन्हें उनके दुश्मन ने ही मुख्यमंत्री बनाया था

छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री थे अजीत जोगी.

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री. आज के दिन निधन हुआ था.

उमा भारती : एमपी की वो मुख्यमंत्री, जो पार्टी से निकाली गईं और फिर संघ ने वापसी करवा दी

जबकि सुषमा, अरुण जेटली और वेंकैया उमा की वापसी का विरोध कर रहे थे.

अशोक गहलोत : एक जादूगर जिसने बाइक बेचकर चुनाव लड़ा और बना राजस्थान का मुख्यमंत्री

जिसकी गांधी परिवार से नज़दीकी ने कई बड़े नेताओं का पत्ता काट दिया.

जब महात्मा गांधी को क्वारंटीन किया गया था

साल था 1897. भारत से अफ्रीका गए. लेकिन रोक दिए गए. क्यों?

सुषमा स्वराज: दो मुख्यमंत्रियों की लड़ाई की वजह से मुख्यमंत्री बनने वाली नेता

कहानी दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री सुषमा स्वराज की.

साहिब सिंह वर्मा: वो मुख्यमंत्री, जिसने इस्तीफा दिया और सामान सहित सरकारी बस से घर गया

कहानी दिल्ली के दूसरे मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा की.

मदन लाल खुराना: जब दिल्ली के CM को एक डायरी में लिखे नाम के चलते इस्तीफा देना पड़ा

जब राष्ट्रपति ने दंगों के बीच सीएम मदन से मदद मांगी.