Submit your post

Follow Us

राज्यसभा जा रहे मनमोहन सिंह सिर्फ एक लोकसभा चुनाव लड़े, उसमें क्या हुआ था?

229
शेयर्स

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं. दो वजहों से. पहला उन्होंने कश्मीर पर बयान दिया कि ये फैसला कई लोगों को पसंद नहीं आया है. आइडिया ऑफ इंडिया के विचार को पुख्ता करने के लिए इस मामले में जम्मू-कश्मीर के लोगों की बात सुनी जानी चाहिए. दूसरी चर्चा की वजह है उनका एक बार फिर राज्यसभा में जाना तय होना. 13 अगस्त को राजस्थान से उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में नामांकन पत्र दाखिल कर दिया. जहां पार्टी की सीटों को देखते हुए मनमोहन का चुना जाना तय है. मगर तीन दशक तक राज्यसभा माने संसद के उच्च सदन में रहने वाले मनमोहन सिंह एक बार लोकसभा में भी जाने की कोशिश कर चुके हैं. तब क्या हुआ था. आज आपको उसी की कहानी सुनाते हैं. मनमोहन के पहले और आखिरी चुनाव की, जिसमें उनको नाकों चने चबाने पड़ गए थे.

बात 1999 के लोकसभा चुनाव की है. मनमोहन सिंह नरसिम्हा राव सरकार में वित्त मंत्री रहे थे. पार्टी के बड़े नेताओं में उनकी गिनती होती थी. नई-नई पार्टी की कमान संभाली सोनिया गांधी के साथ भी मनमोहन के संबंध अच्छे थे. मनमोहन को लगा चुनावी राजनीति में उतरने का ये सही वक्त है. उन्हें दक्षिणी दिल्ली की लोकसभा सीट से टिकट भी मिल गया. लोग कहने लगे कि इस सीट पर तो मनमोहन का जीतना तय. पहली वजह इस सीट पर मध्यमवर्गीय आबादी का बहुमत था जिन्हें आर्थिक उदारीकरण का लाभ मिला था. दूसरी वजह सिंह जैसे राष्ट्रीय नेता के सामने बीजेपी के राज्य स्तर के नेता वीके मल्होत्रा खड़े थे. फिर इस सीट में मुस्लिम और सिखों को मिलाकर आबादी भी 50 फीसदी से ज्यादा थी.

2004 में सोनिया गांधी खुद प्रधानमंत्री नहीं बनीं. लेकिन सरकार में ज्यादा अनुभवी प्रणब मुखर्जी की जगह उन्होंने मनमोहन सिंह को बतौर प्रधानमंत्री चुना.
2004 में सोनिया गांधी खुद प्रधानमंत्री नहीं बनीं. लेकिन सरकार में ज्यादा अनुभवी प्रणब मुखर्जी की जगह उन्होंने मनमोहन सिंह को बतौर प्रधानमंत्री चुना.

फिर शुरू हुआ चुनावी अभियान. ग्राउंड की लड़ाई. और फिर आई दिक्कत. पैसे की दिक्कत. उस चुनाव में मनमोहन को चुनाव लड़ने के लिए पार्टी से 20 लाख रुपये मिले थे. मगर ये नाकाफी थे. विधायकों, पार्षदों और कार्यकर्ताओं को सक्रिय रखने के लिए और पैसे की जरूरत थी.  मनमोहन को लग रहा था कि उनको टिकट सीधा सोनिया गांधी से मिला है तो कार्यकर्ता उनके साथ होंगे. पर ऐसा हो नहीं रहा था. फिर मनमोहन अपने उसूलों के चलते चंदा लेने को तैयार नहीं थे. वो चुनावी फाइनैंसरों से मिलते तक नहीं थे.

एक दिन उनको चुनाव लड़ा रहे दिल्ली के एक नेता ने आकर कहा- हम चुनाव हार रहे हैं. कार्यकर्ता साथ नहीं दे रहे. वो पैसा मांगते हैं. कार्यालय खोलना है. लोगों को नाश्ता पानी करवाना है. बिना पैसे के ये सब कैसा होगा. इन सब बातों को सुनकर आखिर मनमोहन ने इस सिस्टम के आगे घुटने टेक दिए. उन्होंने फाइनैंसरों से मिलना शुरू किया. चंदा इकट्ठा हुआ. चुनाव में तेजी आई. चुनाव बाद करीब 7 लाख रुपये बचे जो मनमोहन ने पार्टी को लौटा दिए. मगर जो नहीं बचा वो थी सीट. मनमोहन सिंह चुनाव हार गए थे. करीब 30 हजार वोटों से.

बीजेपी के विजय मल्होत्रा को 261230 वोट मिले. जबकि मनमोहन को 231231 वोट मिले.

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह
पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह

मनमोहन के लिए ये चुनावी हार एक धक्के की तरह थी. उनको लगने लगा कि उनका चुनावी करियर शुरू होने के साथ ही खत्म हो गया. मगर ऐसा नहीं था. मनमोहन अपनी राज्यसभा सीट पर बने रहे. सोनिया गांधी के सलाहकार के रूप में काम करते रहे. और इसका फल उनको 2004 में मिला. प्रधानमंत्री बनकर. मगर पहली चुनावी हार का असर मनमोहन पर इस कदर हावी रहा कि उन्होंने 2004 में चुनाव लड़ने से साफ इनकार कर दिया था. ये हार उनमें इस कदर घर कर गई थी.


लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.