Submit your post

Follow Us

सनी देओल की वो ब्लॉकबस्टर फिल्म, जिसे देखते ही नसीर ने कह दिया था- 'बुरी पिटेगी'!

“पाप से धरती फटी, अधर्म से आसमान
अत्याचार से कांपी इंसानियत, राज कर रहे हैवान
जिनकी होगी ताकत अपूर्व, जिनका होगा निशाना अभेद
जो करेंगे इनका सर्वनाश, वो कहलायेंगे त्रिदेव.”

फिल्म का ओपनिंग सीक्वेंस यहां देखिए:

बवाल बैकग्राउंड स्कोर के साथ नसीरुद्दीन शाह की आवाज़ में इन लाइनों को सुनने के बाद गूज़बंप्स वाली फीलिंग आ जाती है. लेकिन ये सारा रोमैंटिसाइजेशन तब जाता रहता है, जब आपको पता चलता है कि इस दौरान बैकग्राउंड में बजने वाला म्यूज़िक चोरी का है. ‘पेट शॉप बॉयज़’ के गाने ‘वन मोर चांस’ से तकरीबन जस का तस उठाया हुआ. ये सारी बतकही हो रही है 1989 में आई फिल्म ‘त्रिदेव’ के बारे में. घिसी-पिटी स्टोरीलाइन पर बनने के बावजूद ये फिल्म स्टारकास्ट से लेकर एक्शन सीक्वेंस और म्यूज़िक के मामले में ऐतिहासिक मानी जाती है. ऐतिहासिक इन द सेंस कि ‘त्रिदेव’ ने अपनी तरह की फिल्मों की ओर देखने का लोगों का नज़रिया बदल दिया. रेगुलर होते हुए भी रेगुलर से हटकर. इसका क्रेडिट जाता है राजीव राय और विजू शाह की जोड़ी को, जिन्होंने आगे हमें ‘विश्वात्मा’, ‘मोहरा’ और ‘गुप्त’ जैसी फिल्में दीं. लेकिन आज बात 7 जुलाई, 1989 को रिलीज़ होने वाली फिल्म ‘त्रिदेव’ की.

# वो फिल्म, जिसने नसीर का करियर 10 साल तक बढ़ा दिया

‘जॉनी मेरा नाम’, ‘दीवार’ और ‘त्रिशूल’ जैसी बड़ी फिल्मों के प्रोड्यूसर गुलशन राय के बेटे राजीव फिल्म बनाना चाहते थे. 1985 में राजीव ने अनिल कपूर, जैकी श्रॉफ और टीना मुनिम को लीड रोल्स में लेकर ‘युद्ध’ नाम की फिल्म से अपना डेब्यू किया. फिल्म नहीं चली. राजीव अगली फिल्म की तैयारी में लग गए. वो थ्री-हीरोज़ वाली स्लीक एक्शन थ्रिलर बनाना चाहते थे. अपनी फिल्म में उन्होंने सनी देओल और जैकी श्रॉफ को तो कास्ट कर लिया लेकिन तीसरा एक्टर तलाशने में उन्हें दिक्कत आ रही थी. इंडस्ट्री के तमाम नाम गिनाए जाते हैं, जिन्होंने इस फिल्म में काम करने से इन्कार कर दिया था. ऐसे में राजीव, नसीरुद्दीन शाह के पास पहुंचे. नसीर तब कमर्शियल फिल्मों में ज़्यादा एक्टिव थे नहीं. हालांकि उन्होंने ‘कर्मा’ समेत इक्का-दुक्का मसाला फिल्में कर रखी थीं. जब राजीव उनके पास पहुंचे, तो उन्हें लगा कि वो किसी कैरेक्टर रोल में उन्हें कास्ट करना चाहते हैं. लेकिन ऑफर सुनकर नसीर चौंक गए. क्योंकि ये सनी देओल और जैकी श्रॉफ के साथ पैरलल लीड रोल था. रेडिफ को दिए एक इंटरव्यू में नसीर बताते हैं कि उन्हें पक्का भरोसा था कि ये फिल्म ‘बुरी पिटेगी’. लेकिन इसने सफल होकर उन्हें सरप्राइज़ कर दिया. वो भले इस फिल्म के लिए राजीव का आभार जताते रहे हों क्योंकि ‘त्रिदेव’ ने उनका करियर अगले 10 साल तक के लिए बढ़ा दिया. लेकिन वो इस बात से कभी इन्कार नहीं कर सकते कि ‘त्रिदेव’ एक अच्छी फिल्म नहीं थी. कई इंटरव्यूज़ में नसीर ये भी कहते सुने गए कि वो राजीव राय की फिल्में सिर्फ पैसे के लिए करते थे.

फिल्म 'त्रिदेव' से जुड़े एक इवेंट में सनी देओल, नसीरुद्दीन शाह और जैकी श्रॉफ.
फिल्म ‘त्रिदेव’ से जुड़े एक इवेंट में सनी देओल, नसीरुद्दीन शाह और जैकी श्रॉफ.

# माधुरी को रातों-रात मिले स्टारडम ने गाने में उनकी पोजिशन बदल दी

‘त्रिदेव’ में सनी देओल के अपोज़िट पहली बार माधुरी दीक्षित को कास्ट किया गया था. हालांकि तब माधुरी इतनी बड़ी स्टार नहीं थीं लेकिन उनके मैनेजर रिक्कू राकेश नाथ हरसंभव उन्हें ‘बिग लीग’ में पहुंचाने की कोशिश में लगे हुए थे. वो माधुरी को बड़ी फिल्मों में काम दिलाने के लिए प्रोड्यूसर्स के ऑफिसों के चक्कर काट रहे थे. जब राजीव ने माधुरी को ‘त्रिदेव’ के लिए साइन किया, तब तक ‘दयावान’ के अलावा माधुरी की कोई और बड़ी फिल्म रिलीज़ नहीं हुई थी. फिरोज़ खान डायरेक्टेड ‘दयावान’ मणिरत्नम की गैंग्स्टर फिल्म ‘नायकन’ का रीमेक थी. लेकिन हिंदी मीडिया में ये चर्चा का विषय यूं थी कि इस फिल्म में विनोद खन्ना और माधुरी दीक्षित के बीच एक किसिंग सीन था. ‘दयावान’ के दो महीने बाद माधुरी की ‘तेज़ाब’ रिलीज़ हुई. फिल्म से उनका एक गाना ‘एक-दो-तीन’ मार्केट में खूब चल रहा था. इन्हीं दिनों राजीव अपनी फिल्म का एक गाना शूट कर रहे थे, जिसमें संगीता बिजलानी, सोनम और माधुरी को नज़र आना था. सोनम पिछले सालभर में दसियों फिल्में कर चुकी थीं और लोग उन्हें पहचानने लगे थे. कहने का मतलब फिल्में भले उनकी हिट न हो रही हों लेकिन तब भी वो माधुरी से बड़ी स्टार थीं. ‘गजर ने किया है इशारा’ गाने की शूटिंग चल रही थी. आम तौर पर सबसे बड़े स्टार को सेंटर स्टेज यानी स्टेज के सबसे मुख्य हिस्से में रखा जाता है. ‘ओए ओए’ के शुरुआती कुछ हिस्सों में वहां सोनम नज़र आती हैं. लेकिन ‘एक-दो-तीन’ रिलीज़ होने के बाद खेल बदल गया. गाने की शूटिंग के बीचों-बीच प्रोड्यूसर के कहने पर सोनम को साइड कर माधुरी को बीच में ले आया गया. ‘गजर ने किया है इशारा’ आप यहां देख सकते हैं:

# शूटिंग के दौरान डायरेक्टर को हीरोइन से प्रेम हो गया

इसे किसी गॉसिप कॉलम या ब्लाइंड आइटम की तरह न पढ़ा जाए. हम फिल्म से जुड़े किस्से बता रहे हैं और इसे उसी शक्ल में पढ़ा जाना चाहिए. ‘त्रिदेव’ की शूटिंग के दौरान सोनम और राजीव के बीच कुछ चल रहा था. लोगों ने तरह-तरह की बातों बनाईं. कहा गया, राजीव के करीब होने की वजह से ‘त्रिदेव’ में सोनम को बाकि दो हीरोइनों के ऊपर तरजीह मिल रही है. फिल्म में उनका फुटेज भी संगीता और माधुरी से ज़्यादा है. और ‘ओए ओए’ गाने के सेंटर स्टेज वाला किस्सा तो आप ऊपर पढ़ ही चुके हैं. 1991 यानी ‘त्रिदेव’ की रिलीज़ के दो साल बाद राजीव और सोनम ने शादी कर ली. इसके बाद डायरेक्टर और हीरोइन की इस जोड़ी ने ‘विश्वात्मा’ जैसी फिल्म में साथ काम किया. 1997 में ‘गुप्त’ की रिलीज़ के बाद राजीव पर अबू सलेम गैंग के लोगों ने हमला कर दिया. उन पर गोलियां चलाई गईं लेकिन वहां वो अपने बॉडीगार्ड के साथ किसी तरह बचकर निकल गए. इस घटना के बाद राजीव ने अपनी पत्नी सोनम के साथ इंडिया छोड़ दिया. लेकिन इस घटना के चार साल बाद यानी 2001 से दोनों सोनम और राजीव अलग-अलग रहने लगे. अगले 15 साल तक दोनों ने अपनी शादी यूं ही बचाकर रखी. क्योंकि वो अपने बेटे के 18 साल के होने का इंतज़ार कर रहे थे. 2016 में उन्होंने तलाक के लिए अप्लाई किया और अगले साल ऑफिशियली अलग हो गए. शादी से बाहर आने के बाद सोनम ने अपने बिज़नसमैन बॉयफ्रेंड मुरली से शादी कर ली.

पूर्व पत्नी सोनम के साथ फिल्ममेकर राजीव राय. फोटो थोड़ी बुरी क्वॉलिटी में है लेकिन काम चलाइए.
पूर्व पत्नी सोनम के साथ फिल्ममेकर राजीव राय. फोटो थोड़ी बुरी क्वॉलिटी में है लेकिन काम चलाइए. इनकी तस्वीरों का मिल जाना दुर्लभ बात ही समझिए.

# गाने बेटे के, नाम बाप का

‘त्रिदेव’ की सफलता का एक सिरा उसकी म्यूज़िक तक भी जाता है. ‘त्रिदेव’ एल्बम ‘गजर ने किया है इशारा’, ‘ओए ओए’, ‘गली गली में फिरता है’ और ‘मैं तेरी मोहब्बत में’ जैसे गानों से लैस था. एकदम फ्लॉपप्रूफ. हालांकि इस एल्बम को लेकर विवाद भी कई हुए. कहा गया फिल्म के गाने कल्याण जी-आनंद जी की जोड़ी ने बनाए लेकिन इसका क्रेडिट कल्याण जी के बेटे विजू शाह को दिया गया. हालांकि फिल्म के क्रेडिट प्लेट में विजू शाह को सिर्फ म्यूज़िक कंडक्टर का क्रेडिट दिया गया था. फिल्म का म्यूज़िक विवाद इतना बड़ा हो गया कि विजू शाह को अपने इंटरव्यूज़ में इसके पीछे की पूरी कहानी बतानी पड़ी. विजू शाह ने अपने एक इंटरव्यू में बताया कि ‘त्रिदेव’ के म्यूज़िक का पूरा काम उन्होंने खुद किया था. लेकिन फिल्म में नाम कल्याणजी-आनंदजी का इस्तेमाल हुआ. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि म्यूज़िक डायरेक्टर जोड़ी प्रोड्यूसर गुलशन के राय के साथ कॉन्ट्रैक्ट में बंधी हुई थी. ‘त्रिदेव’ के म्यूज़िक के साथ दोनों चीज़ें हुईं. फिल्म के तकरीबन हर गाने की धुन पर चोरी के आरोप लगे. इसका एक नमूना आप फिल्म के ओपनिंग सीक्वेंस में ऊपर देख चुके हैं. दूसरी तरफ इस फिल्म के गानों की पॉपुलैरिटी आज भी इतनी है कि ‘ओए ओए’ को ‘डबल धमाल’ और ‘अज़हर’ में रीमिक्स किया गया. वहीं ‘गली गली में फिरता है’ को फिल्म ‘केजीएफ- चैप्टर 1’ में इस्तेमाल के लिए रीमिक्स किया गया. फिल्म से जुड़ा एक रीमिक्स गाना यहां देखिए:


वीडियो देखें: 32 साल पहले Dr Dang को लगे थप्पड़ की गूंज आज तक सुनाई देती है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

वो क्रिकेटर, जो मैच में विकेट चटकाने के लिए अपने मुंह पर पेशाब मलता था!

किट बैग में गाय का गोबर लेकर घूमने और चूमने वाले क्रिकेटर की कहानी.

जब न्यूज़ीलैंड एयरपोर्ट पहुंची टीम इंडिया में अकेले हरभजन सिंह की एंट्री रोक दी गई!

हरभजन के बैग में वो क्या चीज़ थी कि एयरपोर्ट पर हंगामा मच गया?

उस टीम इंडिया की कहानी, जब टैलेंट नहीं, राजा होने की वजह से कप्तान बनाया जाता था!

जब मैच से चंद घंटों पहले कप्तान के खिलाफ पूरी टीम इंडिया ने कर दी बगावत!

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.

जब इंग्लैंड की दुकान में चोरी करते पकड़ा गया टीम इंडिया का खिलाड़ी!

कहानी उस मैच की, जब दुनिया की नंबर एक टीम 42 रनों पर ढेर हो गई.

टेस्ट के पांचों दिन पार्क में सोकर, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच खेला ये भारतीय क्रिकेटर!

जब किसी से बैट, किसी से पैड और किसी से गलव्स उधार लेकर खेलना पड़ा.

जब हज़ारों दर्शकों और कपिल देव के बीच स्टम्प लेकर खड़ा हो गया अंपायर!

इंडिया के खिलाफ इंग्लैंड के कप्तान ने पूरी टीम को ऑफ साइड पर बुला लिया.

क्या है टेस्ट क्रिकेट में अनोखा रिकॉर्ड बनाने वाले क्रिकेटर का शरद पवार कनेक्शन?

सदाशिव गणपतराव शिंदे, डोमेस्टिक क्रिकेट के दिग्गज से जुड़ा रोचक किस्सा.

जब नंबर 10 और 11 के बल्लेबाजों ने सेंचुरी ठोकी और पूरी टीम से ज़्यादा रन बना डाले

भारतीय थे. न उनसे पहले, न उनके बाद ये कारनामा कोई और कर पाया है.

जब क्रिकेट टीम को लेकर चला जहाज तूफान में फंसा, टुकड़े-टुकडे़ होकर डूब गया

ऐसी भयानक दुर्घटना, जिसमें मारी गई पूरी क्रिकेट टीम