Submit your post

Follow Us

सुषमा स्वराज कैसे भारत की प्रधानमंत्री होते-होते रह गयीं?

151
शेयर्स

कल रात सुषमा स्वराज नहीं रहीं. उन्हें हार्ट अटैक आया. AIIMS ले जाया गया. उसके बाद सुषमा स्वराज को बचाने की कोशिशें हुईं, और इन कोशिशों में कोई सफलता नहीं मिली.

सुषमा स्वराज की गिनती भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के बीच होती रहेगी. विदेश मंत्री के तौर पर उनका नाम बुलंद था. सीधे-सीधे समस्याओं का निबटारा कर देती थीं. लेकिन सुषमा स्वराज का जीवन उनके पूर्व-विदेश मंत्री के ओहदे और भाजपा के वरिष्ठ नेता से भी ज्यादा विराट था. इतना विराट और उस जीवन में इतना फैलाव कि उनका राजनीतिक करियर सोशलिस्ट गलियारों से होता हुआ भाजपा के धड़े में शामिल होता था.

हालांकि सुषमा स्वराज के जीवन का एक किस्सा ऐसा है, जिसको सुनें तो पता चलता है कि शायद ऐसा भी होता कि सुषमा स्वराज देश की प्रधानमंत्री हो सकती थीं. ऐसा कहना इसलिए, क्योंकि सुषमा स्वराज ने बिना साफ़तौर पर ज़ाहिर किए प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी दावेदारी भी पेश कर दी थी.

किस्सा क्या है?

साल 2014. लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां शुरू हो चुकी थीं. लोगों को लग चुका था कि कांग्रेस की सत्ता का जाना तय है. ऐसे में भाजपा प्रधानमंत्री पद के लिए अदद उम्मीदवार की तलाश कर रही थी. लालकृष्ण आडवाणी का नाम सबसे आगे चल रहा था. वो भाजपा के सबसे वरिष्ठ नेता थे. 2009 में भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री उम्मीदवार भी थे.

और उनके साथ खड़ा था उनका विश्वासपात्र मंडल. इसमें आडवाणी के अलावा दो बड़े नेता थे. मुरली मनोहर और सुषमा स्वराज. लेकिन यहां वरिष्ठता ही एक पैमाना नहीं था. पैमाना था नेता प्रतिपक्ष होना.

सुषमा और आडवाणी
सुषमा और आडवाणी

2004-2009 की लोकसभा में लालकृष्ण आडवाणी नेता प्रतिपक्ष के पद पर काबिज़ थे. और भारत में ब्रिटिशकालीन वेस्टमिन्स्टर संसदीय परंपरा लागू होती है. इस परंपरा के तहत संसद में नेता प्रतिपक्ष का नाम अगली बार प्रधानमंत्री पद के लिए आटोमेटिक तौर पर आगे आ जाता है. इस वजह से ही 2009 में आडवाणी अगले प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार थे.

2009 में चुनाव में भाजपा हार गयी. फिर से यूपीए की सरकार बनी. लेकिन इस बार नेता प्रतिपक्ष बनीं सुषमा स्वराज.

फिर आया साल 2014. भाजपा चुनाव जीतने के पूरे मूड में थी. कायदे से सुषमा स्वराज का नाम उम्मीदवार के तौर पर सामने आना चाहिए था. लेकिन उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं हो रही थी. मीडिया और विपक्ष को समझ नहीं आ रहा था कि भाजपा किस वजह से अपने पत्ते छिपा रही है.

नरेंद्र मोदी और सुषमा स्वराज
नरेंद्र मोदी और सुषमा स्वराज

इसी बीच पत्रकारों ने सुषमा स्वराज से बात की. पूछा कि भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री कौन होगा? सुषमा स्वराज ने कहा कि देखिए! हमारे यहां तो राजनीति में वेस्टमिन्स्टर मॉडल चलता है. और इस मॉडल में तो नेता प्रतिपक्ष ही प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार होता है.

और सुषमा स्वराज नेता प्रतिपक्ष थीं. ऐसा कहते हुए उन्होंने खुद की उम्मीदवारी दबे पांव दे दी. इस तरीके से देखें तो सुषमा स्वराज खुद ही नेता प्रतिपक्ष के तौर पर प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवार हो जातीं. सब सही रहता तो वे भारत के प्रधानमंत्री की रेस में होतीं.

लेकिन कहते हैं कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को ये पसंद नहीं था. उसे सूझ रहा था गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम. न वरीयता के क्रम में आडवाणी का ही नाम आया और न ही वेस्टमिन्स्टर मॉडल के तौर पर सुषमा स्वराज का नाम.

हालांकि कहा तो ये भी जाता है कि सुषमा स्वराज के नेता प्रतिपक्ष के ओहदे को थोड़ा सम्मान देने के लिए नरेंद्र मोदी ने उन्हें विदेश मंत्री का पद दिया, और आडवाणी को मिला मार्गदर्शक मंडल.


लल्लनटॉप वीडियो : आर्टिकल 370: जब संविधान में इसे लागू किया गया, तब कहां थे पंडित नेहरू?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.