Submit your post

Follow Us

राहुल गांधी का मोबाइल नंबर

5
शेयर्स

मोदी से पूछा, 47 में कहां थे?

तारीख- जुलाई, 2017
जगह- जिमखाना क्लबनई दिल्ली

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने एक लंच रखा. अमेरिका से आए एक थिंकटैंक के मेहमानों के लिए. राजधानी के पत्रकारोंचुनिंदा बुद्धिजीवियों को भी बुलाया. एक और व्यक्ति आने वाला था. जिसके बारे में आने वाले नहीं जानते थे. राहुल गांधी. उस वक्त तक कांग्रेस के महासचिव. राहुल आए तो पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया. लगभग पांचेक साल पुराना सवाल नए सिरे से मांजकर उछाल दिया. आप कांग्रेस की कमान कब संभालेंगे? राहुल ने पलटकर कहा. जाहिर है कि अंग्रेजी में.

Why don’t you all tell me? Where Narendra Modi was at my age and what he was doing in his forties? (आप लोग ही बताइए. जब नरेंद्र मोदी मेरी उम्र के थेतब क्या कर रहे थे)

Rahul Gandhi
प्रेस कांफ्रेंस में राहुल गांधी (फोटो: PTI)

नरेंद्र मोदी 47 साल की उम्र में अपने गृहराज्य गुजरात से एक समझौता फॉर्मूले के तहत बाहर भेज दिए गए थे. ये समझौता केशुभाई पटेल और शंकरसिंह वाघेला के बीच हुआ था. मोदी गुजरात से दिल्ली आ गए. पार्टी महासचिव बन गए और प्रभारी रहेजम्मू कश्मीरहिमाचल प्रदेश और हरियाणा के.

मगर राहुल ये क्यों याद दिला रहे थे. कई कांग्रेसी नेताओं को लगता है कि राहुल को ऐसा लगता है कि उम्रवक्त उनके साथ है. देर सवेर उनका नंबर आएगा. यही कई कांग्रेसी नेता ये भी पूछते हैंकि मान लीजिएकुछ या कई बरसों में नंबर आ गयातो क्या तब तक कांग्रेस बचेगी.

मीटिंग में सब लोग मेरी तरफ क्यों देख रहे थे?

तारीख – मई का आखिरी सप्ताह, 2014
जगह- 24 अकबर रोडनई दिल्ली

कांग्रेस हेडऑफिस में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की मीटिंग चल रही थी. सब कांग्रेस के सबसे बुरे प्रदर्शन (लोकसभा में कुल 44 सीट) पर बात कर रहे थे. वजहें गिना रहे थे और बार-बार राहुल गांधी की तरफ देख रहे थे. उस मीटिंग से निकलकर राहुल गांधी ने अपने एक दोस्त से गुस्से में कहायूपीए के खिलाफ जनादेश आया है. इसके लिए मैं कैसे जिम्मेदार हो सकता हूं. मैं तो इस सरकार का हिस्सा भी नहीं था.

Rahul Gandhi Press Conference
वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीएल पूनिया, अशोक गहलोत, रणदीप सुरजेवाला के साथ राहुल गांधी (फोटो: PTI)

राहुल गुस्सा थे. उन बूढ़ों की फौज से. जिसने उनकी मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को घेर रखा था. राहुल क्या चाहते थे. वही जो दशकों पुराने बल्ब के ऐड में असरानी चाहते थे. पूरे घर को बदल डालूंगा. मगर सोनिया समझती थीं. कांग्रेस में झटका नहींहलाल चलता है. हौले हौले से. पर राहुल राजी नहीं थे. गुस्से के मारे लोकसभा में पार्टी के नेता भी नहीं बने. ऐसे ही फरवरी 2015 में बीच बजट सत्र दो महीने की छुट्टी पर भी चले गए. म्यामांरथाईलैंड इत्यादि की बौद्ध स्थलों वाली आध्यात्मिक यात्रा पर. इसमें उनके साथ थे एक दोस्त. जिनके पापा राहुल के पापा के दोस्त थे. समीर शर्मावल्द कैप्टन सतीश शर्मा.

मैं मां हूं. अपने बेटे की इच्छाओं के खिलाफ नहीं जा सकती

तारीख- मार्च का एक दिन, 2015
जगह- 12 तुलगक लेननई दिल्ली

राहुल गांधी का घर वाला दफ्तर. ड्राइंग रूम में असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोईप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अंजन दत्ता और गोगोई कैबिनेट के मेंबर हेमंत बिस्वशर्मा.

हेमंत 1993 से कांग्रेस से जुड़े थे. वह अपने आप को गोगोई का उत्तराधिकारी समझते थे. लगातार आलाकमान पर सूबे में सीएम बदलने का दबाव बना रहे थे. 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद उनके राजधानी के फेरे और बढ़ गए. उनका दावाज्यादातर विधायक मेरे साथ. सोनिया ने इसकी जांच के लिए मल्लिकार्जुन खडगे को पर्यवेक्षक बना गुवाहटी भेजा. उन्होंने लौटकर अहमद पटेल को रिपोर्ट दी. 78 में से 52 विधायक हेमंत के साथ हैं. हेमंत का दावा है कि इसके बाद सोनिया ने यकीन दिलाया कि कुछ ही दिनों में सत्ता बदलेगी. लेकिन राहुल गांधी ने वीटो कर दिया. गुस्साए हेमंत ने कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया.

इस सबके बाद ही समझौते के लिए राहुल के घर ये मीटिंग हो रही थी. मीटिंग शुरू होने के पांच मिनट बाद ही बकौल हेमंतराहुल ने दिलचस्पी खो दी. उन्होंने हेमंत को चेताते हुए कहादेखोतुम्हें जो करना है करोमुझे फर्क नहीं पड़ता. सीपी जोशी (कांग्रेस महासचिवइंचार्जअसम) से बात करो. वही तुम्हारी समस्याएं निपटाएंगे. मेरे पास दोबारा मत आना.

ये कहकर राहुल अपने पालतू कुत्ते पिडी को खिलाने लगे. यहां खिलाने शब्द में श्लेष अलंकार है. वाक्य में शब्द एक बार आएमगर अर्थ कई हों.

Rahul Gandhi With Pidi
राहुल गांधी का पालतू कुत्ता पिडी (फोटो: Twitter | RahulGandhi)

क्या अर्थ. पहलाराहुल अपने प्रिय कुत्ते के संग खेलने लगे. दूसराराहुल ने अपने प्रिय कुत्ते को मेज पर मेहमानों के लिए रखे बिस्किट ऑफर किएखाने के लिए.

इस दूसरे अर्थ ने अनर्थ किया. राहुल की छवि के लिए. हेमंत ने ये कहानी खूब सुनाई. दोहराई. राहुल की राजनीतिक समझगंभीरता पर सवालिया निशान उठाने के लिए.  अपने अपमान की गाथा सुनाने के लिए. उधर कांग्रेसियों ने इसका काउंटर क्या दिया. उन्होंने कहा कि हम हेमंत के छह लोगों को कैबिनेट में लेने के लिए राजी थे. मगर वह पहले ही भाजपा की गोद में जाने को तैयार थे. और एक बहाना खोज रहे थे.

अब ये लिखकर कहानी खत्म की जा सकती है कि हेमंत फिर भाजपा में चले गए. असम में भाजपा जीत गई. फिर एक एक नॉर्थईस्ट के सब राज्यों में कांग्रेस लगभग साफ हो गई. लेकिन कहानी का ये अंत पॉपुलर है. इस तरह पहुंचने के दो किस्से नए हैं. सो वे सुनिए.

इस पिडी प्रसंग के कुछ दिन बाद हेमंत ने सोनिया गांधी से समय मांगा. उन्हें समय मिला. और साथ में हिदायतकि 10 जनपथ आएंमगर पीछे के दरवाजे से. जब हेमंत ने इसका सबब पूछातो उनके मुताबिक सोनिया का जवाब था,

हेमंततुम भी एक पिता हो. तुम समझ सकते हो कि एक मां के तौर पर मैं अपने बेटे की इच्छाओं के खिलाफ नहीं जा सकती.

शर्मा समझ गए. टाइम अप. अगस्त 2015 में वह वाया राममाधव भाजपाई हो गए. जब राहुल गांधी को ये पता चला कि हेमंत पार्टी बदल रहे हैं तो उन्होंने खूब कॉल किए. कई मिस्ड कॉल्स के बाद फाइनली हेमंत ने राहुल से बात की. और इतना ही कहा.

Himanta Biswa Sarma And Amit Shah
अमित शाह के साथ हेमंत बिस्वशर्मा (फोटो: Twitter | himantabiswa)

माफ करिए राहुल जी. मैं अमित शाह जी को वादा कर चुका हूं.

राहुल गांधी जीअपना मोबाइल नंबर बताइए

समय- कोई भी
जगह- कोई भी

शिकायत एक सी. राहुल गांधी फुल टाइम नेता नहीं. वह कांग्रेस को एनजीओ स्टाइल में चलाना चाहते हैं. कौशल विद्यार्थीअलंकारसंदीप सिंह से लेकर सचिन राव और कनिष्क सिंह तक. उनकी कोटरी में सब लोग लेफ्ट की तरफ झुकाव वाले और जमीन की राजनीति कम समझने वाले. और जो पुराने चावल हैंराहुल उनको भाव नहीं देते. कांग्रेस में आपको कितने ही पूर्व मुख्यमंत्री मिल जाएंजिन्हें सीएम रहते हुए भी राहुल से मिलने के लिए हफ्तों इंतजार करना होता था. जबकि राहुल हर पब्लिक फंक्शन मेंलोकसभा की बहस मेंअपना मोबाइल निहारते पाए जाते थे. ऐसे में महाराष्ट्र के एक सीनियर लीडर ने अपनी नजर में डेयरिंग की. एक पार्टी फंक्शन में उन्होंने राहुल गांधी को घेर लिया. और वहीं मौके पर हीउनका मोबाइल नंबर मांगने लगे. राहुल मुस्कुरा दिए. और फिर नेता जी को अपनी टीम की तरफ इशारा कर दिया.

इशारा साफ था. दफ्तर से बात करिए. ईमेल करिए. फोन करिए. वही आपको समय देंगे.

राहुल खुद समय अपने हिसाब से देते हैं.

जैसे लोकसभा का मौजूदा सत्र. ये शुरू हुआ 18 नवंबर 2019 को. राहुल ने इसे एक हफ्ते बाद का समय दिया. 25 नवंबर को वह लोकसभा में नजर आए.

जैसे कांग्रेस. ये शुरू हुई 1885 में. अगर इंदिरा गांधी वाला कांग्रेस संस्करण लें तो वो शुरू हुई 1979 में. आज से चालीस साल पहले. बतौर अध्यक्ष तमाम मान मनव्वल के बाद इस कांग्रेस को राहुल ने अपना समय और अध्यक्षी की सहमति दी 2017 में. और डेढ़ साल बाद ही लगभग 2014 सी बुरी हार झेली तो फिर उन्होंने अपने आप को एक मीटिंग में पाया. जहां हार के कारणों पर चर्चा के दौरान सब उनकी तरफ देख रहे थे.

Inc Congress Rahul Gandhi
दिसंबर 2017 के आख़िरी में राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए गए थे. (फोटो: रॉयटर्स)

राहुल बाहर निकले. गुस्सा फिर आया. 2014 जैसा. इस बार दोस्त के बजाय उन्होंने सबसे कहाआई क्विट. एक चिट्ठी लिख राहुल गांधी ने कांग्रेस की अध्यक्षी छोड़ दी.

एंटर. सोनिया गांधी. मां हैं न. न कांग्रेस छोड़ सकती हैंन राहुल को रोक सकती हैं.

इसलिए कभी कभी वर्किंग नजर आती कांग्रेस में फिलहाल सोनिया वर्किंग प्रेजिडेंट हैं. बूढ़ों की फौज फिर सक्रिय है. और राहुल ब्रिगेड के नेता कभी बायो बदल रहे हैं तो कभी डेटा को कोस रहे हैं.

2019 How Modi Won India
राजदीप सरदेसाई की नई किताब: 2019 How Modi Won India

(इस किताब में बयान किए गए सभी किस्सों का आधार है, सीनियर जर्नलिस्ट राजदीप सरदेसाई की नई किताब का एक चैप्टर, एन एनिग्मा कॉल्ड राहुल गांधी. राजदीप की किताब का टाइटिल है 2019 How Modi Won India. इसे हार्पर कॉलिंस ने छापा है. )


वीडियो- नरेंद्र मोदी के सरकारी बंगले की सुरंग कहां जाती है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.