Submit your post

Follow Us

क्या आप जानते हैं शरलॉक होम्स के 'पापा' सर आर्थर कॉनन डॉयल का क्रिकेट कनेक्शन?

शरलॉक होम्स. नाम-काम, दोनों से तगड़ा कैरेक्टर. कहते हैं कि इससे बड़ा जासूस आज तक नहीं हुआ. फिल्मों और सीरीज में धमाल मचाने से 122 साल पहले यह कैरेक्टर पैदा हुआ था किसी के दिमाग में. नाम आर्थर इग्नाटिस कॉनन डॉयल. डॉयल पेशे से डॉक्टर थे. लेकिन उनकी पहचान बनी उनकी कलम से. ये बड़ी बात है. क्योंकि आमतौर पर डॉक्टरों की कलम पहचान पाना आसान नहीं होता. डॉयल ने शरलॉक होम्स को बनाया और फिर होम्स ने डॉयल को बनाया. ये क़िस्सा हर वो व्यक्ति जानता है, जिसे जासूसी में जरा भी इंट्रेस्ट है.

जासूसी में इंट्रेस्ट की बात करें, तो इसमें छिपे रहस्य और रोमांच को देखते हुए इस दुनिया में कम ही लोग होंगे, जिन्हें इसमें इंट्रेस्ट न हो. डॉयल के इस रूप से लगभग सभी लोग परिचित हैं, लेकिन उनका जो रूप हम आपको बताने जा रहे हैं, उसे कम ही लोग जानते हैं. जी हां, ऑर्थर कॉनन डॉयल एक फर्स्ट क्लास क्रिकेटर भी थे. उन्होंने अपने करियर में कुल 10 फर्स्ट क्लास मैच खेले.

कहा तो यह भी जाता है कि उन्होंने शरलॉक का पहला नाम दो क्रिकेटर्स के नाम को जोड़कर बनाया था. ये क्रिकेटर थे, नॉटिंघमशायर के लिए खेलने वाले बॉलर TF शैकलॉक और विकेटकीपर मोरडेकाइ शेरविन. यह भी कहते हैं कि शरलॉक के भाई मायक्रॉफ्ट को रचने का खयाल डॉयल को डर्बीशायर की टीम में एकसाथ खेलने वाले दो भाइयों को देखकर आया था.

# कॉनन का क्रिकेट करियर

कॉनन डॉयल अपने फर्स्ट क्लास डेब्यू से पहले ही स्टार बन चुके थे. उनके कैरेक्टर शरलॉक होम्स और डॉक्टर वॉटसन पूरी दुनिया में छा चुके थे. इसके बाद 41 साल की उम्र में साल 1900 में उन्होंने मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (MCC) के साथ अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू किया. एक गेम में उन्होंने लेजेंडरी विलियम गिल्बर्ट ‘WG’ ग्रेस को आउट भी किया. जो नहीं जानते वो पढ़ लें– WG ग्रेस क्रिकेट के भीष्म पितामह थे. उन्होंने 43 साल तक फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेला. ग्रेस ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 54 हजार से ज्यादा रन बनाने के साथ और 2800 से ज्यादा विकेट भी लिए थे. ख़ैर ग्रेस की बात फिर कभी करेंगे. डॉयल पर लौटें, तो उन्होंने ग्रेस को आउट करने के बाद एक कविता भी लिखी.

क्रिकेट के अपने उल्लास से भरे दिनों में.
एक दिन जो मैं कभी याद करूंगा.
मैंने वो यशस्वी विकेट लिया.
महानतम, सभी से बड़ा.

डॉयल के फर्स्ट क्लास करियर से जुड़ा एक और मशहूर क़िस्सा है. साल 1903 में वह केंट के खिलाफ बैटिंग कर रहे थे. विलियम ब्रैडली की एक बॉल सीधे आकर उनकी जांघ पर लगी. डॉयल की जेब में माचिस पड़ी थी और इस चोट से उसकी तीलियों ने आग पकड़ ली. इस गेम में उनके टीममेट रहे ग्रेस ने इसे देख कहा,

‘तुम्हें आउट नहीं कर पाए, इसलिए तुम्हें आग लगानी पड़ी’

डॉयल ने अपने 10 फर्स्ट क्लास मैचों की 18 पारियों में 231 रन बनाए. 43 रन उनका हाईएस्ट स्कोर रहा. उन्होंने अपने फर्स्ट क्लास करियर में सिर्फ एक विकेट लिया- क्रिकेट के भीष्म पितामह का. कॉनन डॉयल का ये क़िस्सा हमने आपको इसलिए बताया, क्योंकि आज उनकी जयंती होती है. सर कॉनन डॉयल 22 मई, 1859 को पैदा हुए थे.


इंडिया के ख़िलाफ इतिहास रचने से पहले नेट्स पर मैच क्यों खेला ये जमाती?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री. आज के दिन निधन हुआ था.

उमा भारती : एमपी की वो मुख्यमंत्री, जो पार्टी से निकाली गईं और फिर संघ ने वापसी करवा दी

जबकि सुषमा, अरुण जेटली और वेंकैया उमा की वापसी का विरोध कर रहे थे.

अशोक गहलोत : एक जादूगर जिसने बाइक बेचकर चुनाव लड़ा और बना राजस्थान का मुख्यमंत्री

जिसकी गांधी परिवार से नज़दीकी ने कई बड़े नेताओं का पत्ता काट दिया.

जब महात्मा गांधी को क्वारंटीन किया गया था

साल था 1897. भारत से अफ्रीका गए. लेकिन रोक दिए गए. क्यों?

सुषमा स्वराज: दो मुख्यमंत्रियों की लड़ाई की वजह से मुख्यमंत्री बनने वाली नेता

कहानी दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री सुषमा स्वराज की.

साहिब सिंह वर्मा: वो मुख्यमंत्री, जिसने इस्तीफा दिया और सामान सहित सरकारी बस से घर गया

कहानी दिल्ली के दूसरे मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा की.

मदन लाल खुराना: जब दिल्ली के CM को एक डायरी में लिखे नाम के चलते इस्तीफा देना पड़ा

जब राष्ट्रपति ने दंगों के बीच सीएम मदन से मदद मांगी.

राहुल गांधी का मोबाइल नंबर

प्राइवेट मीटिंग्स में कैसे होते हैं राहुल गांधी?

जब बाबरी मस्जिद गिरी और एक दिन के लिए तिहाड़ भेज दिए गए कल्याण सिंह

अब सीबीआई कल्याण सिंह से पूछताछ करना चाहती है

वो नेता जिसने पी चिदंबरम से कई साल पहले जेल में अंग्रेजी टॉयलेट की मांग की थी

हिंट: नेता गुजरात से थे और नाम था मोदी.