Submit your post

Follow Us

सलमान के घर में उनके पापा से भी ज़्यादा इज़्ज़त किसकी होती थी?

6.53 K
शेयर्स

2018 के आखिरी वीकेंड से टीवी पर ‘द कपिल शर्मा शो’ की वापसी हुई है. पिछले साल कई विवादों और कपिल शर्मा की तबीयत के चलते ये शो बंद गया था. इसके बाद कपिल शर्मा एक नया शो लेकर आए ‘फैमिली टाइम विद कपिल शर्मा’. लेकिन कुछ ही हफ्तों के बाद वो शो भी बंद हो गया. 28 दिसंबर, 2018 को ‘द कपिल शर्मा शो’ का दूसरा सीज़न टीवी पर आया. इस सब के बीच कपिल की शादी भी हो गई. शो के ओपनिंग एपिसोड में फिल्म ‘सिंबा’ की टीम आई. जहां कपिल की शादी से ज़्यादा रणवीर-दीपिका की शादी की बात हुई. नए साल और शो के दूसरे हफ्ते में वहां पहुंचा खान परिवार. यानी सलीम खान, सलमान खान, अरबाज खान और सोहैल खान. इस दौरान हमें सलीम खान का वन मैन शो देखने को मिला. वो जितनी भी देर शो में थे, पूरे समय लोग सिर्फ उनकी ही बात पर हंस रहे थे. इस दौरान कपिल तक को भी पंच या जोक मारने का मौका नहीं मिला. और ये सारी कॉमेडी किस्सों की मदद से हो रही थी. शो पर सलीम खान ने कुछ मजेदार किस्से सुनाए, जो हम आपको नीचे पढ़वा रहे हैं.

अरबाज खान पहले सिंगर बनना चाहते थे, लेकिन सलीम खान चाहते थे कि वो क्रिकेट खेलें

अरबाज खान अपने करियर को लेकर परेशान थे. वो क्रिकेटर और सिंगर में से कुछ बनना चाहते थे. एक दिन सलीम साहब ने सुना कि जो टीचर अरबाज को गाना सिखाने आता है, वो नाक से गाता है. और उसकी देखा-देखी अरबाज भी वैसे ही गाते. इसके बाद वो मास्टर कहता कि नाक से मत गाओ. अरबाज परेशान हो गए. पापा के पास जाकर पूछा कि उन्हें क्या करना चाहिए, क्रिकेट खेलना चाहिए या सिंगर बनना चाहिए. इस पर सलीम साहब ने कहा- ‘बेटा तुम क्रिकेट खेलो’. एक्साइटेड होते हुए अरबाज ने पूछा, ‘क्या आपने मुझे बैटिंग करते हुए देखा है?’ सलीम साहब ने जवाब दिया- ‘नहीं, मैंने तुम्हें गाते हुए सुना है.’

सलीम खान ने कपिल शर्मा के शो पर अपने करियर से जुड़े कुछ मजेदार किस्से बताए.
सलीम खान ने कपिल शर्मा के शो पर अपने करियर से जुड़े कुछ मजेदार किस्से बताए.

कौन था वो आदमी, जिसे घर में सलमान खान के पापा से भी ज़्यादा इज़्ज़त मिलती थी?

किस्सों की झोली से एक और किस्सा निकालते हुए सलीम साहब ने बताया कि कैसे एक बाहरी आदमी को उनके ही घर में उनसे भी ज़्यादा इज़्ज़त मिलती थी. उस आदमी का नाम था गणेश. जैसे ही वो आता, उनके तीनों बेटे उसकी सेवा-सत्कार में लग जाते. कोई चाय दे रहा है. कोई नाश्ता करवा रहा है. इतना सब होता देख सलीम साहब ने ये पता लगाना शुरू किया कि ये आदमी है कौन! फिर उन्हें पता चला कि जैसे ही स्कूल का कोई पेपर लीक होता, गणेश उसे लाकर उनके बेटों सलमान, सोहैल और अरबाज को दे देता था. जिसकी बदौलत वो इग्जाम पास करते थे.

अपने तीनों बेटों सलमान, अरबाज़ और सोहेल के साथ मशहूर फिल्म राइटर सलीम खान.
अपने तीनों बेटों सलमान, अरबाज़ और सोहेल के साथ मशहूर फिल्म राइटर सलीम खान.

‘हेल्लो ब्रदर’ क्यों फ्लॉप हुई जानिए सलीम खान से?

1999 में एक फिल्म आई थी ‘हेल्लो ब्रदर’. ये खान परिवार की होम प्रोडक्शन थी. इसे सोहैल खान ने प्रोड्यूस और डायरेक्ट किया था. और काम किया था सलमान खान के साथ अरबाज खान और रानी मुखर्जी ने. ये फिल्म बहुत बुरी तरह से फ्लॉप हुई थी. इस फिल्म के बारे में सलीम खान का ये कहना था कि फिल्म में सलमान खान और अरबाज खान के किरदारों की अदला-बदली होनी चाहिए थी. क्योंकि सलमान का किरदार इंटरवल के आसपास ही मर जाता है. आधी फिल्म में ही हीरो मर गया, तो कोई फिल्म क्यों देखेगा. अगर सलमान की जगह अरबाज का किरदार मर जाता, तो जनता को ज़्यादा बुरा नहीं लगता. और शायद फिल्म चल भी जाती. ये बात उन्होंने सलमान और अरबाज के सामने ही कही.

फिल्म 'हेल्लो ब्रदर' के एक सीन में सलमान और अरबाज़ खान. दूसरी तस्वीर में अपने पिता सलीम खान के साथ अरबाज़.
फिल्म ‘हेल्लो ब्रदर’ के एक सीन में सलमान और अरबाज़ खान. दूसरी तस्वीर में अपने पिता सलीम खान के साथ अरबाज़ खान.

बड़ा एक्टर और डायरेक्टर घर में होते हुए भी कभी बाप को काम क्यों नहीं मिला?

सलीम खान बॉम्बे हीरो बनने ही आए थे. लेकिन कुछ ऐसी घटनाएं हो गईं कि सलीम खान को पता चल गया कि एक्टिंग इतना आसान काम भी नहीं है. इसके बाद वो हीरो बनने का ख्वाब भूलाकर फिल्म लेखन में आ गए. वो क्या घटनाएं थी, सलीम साहब ने कपिल शर्मा के शो पर उनका ज़िक्र किया. सलीम खान बताते हैं कि एक फिल्म में उन्हें विलेन का रोल मिला था, जिसमें उन्हें सिर्फ हलक सूखने की एक्टिंग करनी थी. जब डायरेक्टर आता इनसे पूछता कि सीन में क्या करेगा? तो ये वो कर के दिखा देते. कई बार प्रयास करने के बाद वो इन्हें रट गया. लेकिन शूट होते-होते लंच टाइम हो गया और सब खाना खाने चले गए. लौटने के साथ ही वो सीन शूट होना था. अब डायरेक्टर कैमरा लगाकर बैठा है कि एक्टर एक्टिंग करे, तो वो शूट करें. लेकिन सलीम खान से अब वो चीज़ हो ही नहीं पा रही. इसके बाद उनके मुंह में पानी रखकर ये करवाने की कोशिश की गई, तो वो उनके मुंह से बाहर निकल गया. इसके बाद डायरेक्टर महेश कौल उनके पास आए और कहा कि उन्होंने अपने करियर में ऐसा एक्टर नहीं देखा, जिसे थूक घोंटकर गला सूखने की एक्टिंग करनी भी नहीं आती हो.

एक्टिंग छोड़ लेखन क्षेत्र में आने के बाद सलीम खान जावेद अख्तर के साथ लिखने लगे.
एक्टिंग छोड़ लेखन क्षेत्र में आने के बाद सलीम खान जावेद अख्तर के साथ लिखने लगे.

दूसरा हादसा ये हुआ कि सलीम साहब को जूता पहनकर सोना पड़ा. हुआ ये कि एक सीन के लिए उन्हें जूता पहनना था. लेकिन प्रोडक्शन से जो जूता आया, वो सलीम साहब के साइज़ से दो नंबर छोटा था. शूटिंग करने के लिए उन्हें वही पहना दिया गया. शूट वगैरह हो गया. पैकअप के बाद सब लोग अपने-अपने घर जाने लगे और लेकिन इनका जूता ही न निकले. सेट पर मौजूद लोगों से भी मदद मांगी लेकिन कोई फायदा नहीं. वो जूता पांव से निकल ही नहीं रहा था और उसे पहनकर चलना भी दूभर था. जैसे-तैसे वही पहनकर सलीम खान अपने घर पहुंचे. घरवालों ने भी कई कोशिशें की लेकिन सब नाकाम. बहुत देर तक टाइट जूता पहनने की वजह से सलीम साहब का खून जाम हो गया. फिल्ममेकर की प्रॉपर्टी थी इसलिए उसे काट-छांट भी नहीं सकते थे. थक-हारकर उन्हें वो जूता पहनकर ही सोना पड़ा और पांव हवा में रखना पड़ा ताकि ब्लड सर्कुलेशन कायदे से हो. इन्हीं घटनाओं के बाद सलीम खान ने डिसाइड किया कि उन्हें एक्टिंग नहीं करनी. इसलिए उनके बेटों ने भी कभी उन्हें रोल ऑफर नहीं किया.

जब एक नौकर सलीम खान को फोन उठाने ही नहीं देता था

सलीम साहब ने बताया कि उनके घर में एक नौकर था. उसका नाम था सलाम. उसे फोन उठाने का हद से ज़्यादा शौक था. सलीम साहब बताते हैं कि फोन उनके ठीक सामने रखा है और बज रहा है. वो चश्मा उतारकर उसे उठाने पहुंच ही रहे होते थे कि सलाम आकर फोन उठा लेता. फोन का एक कनेक्शन हॉल में था और दूसरा सलीम साहब के बेडरूम में. एक बार फोन आया और सलीम साहब ने अपने कमरे में उठा लिया लेकिन उन्हें पता था कि बाहर सलाम ने भी उठा लिया है.

सलीम साहब ने कहा- सलाम!
जवाब- वालेकुम अस्सलाम
सलीम साहब- सलाम!
जवाब- बोला तो वालेकुम अस्सलाम!
सलीम साहब- फोन रख
जवाब- मैं क्यों फोन रखूं आपने किया है, आप रखिए!
सलीम साहब- मैं बेडरूम से बात कर रहा हूं
जवाब- किसके बेडरूम से बात कर रहे हैं?
सलीम साहब- सलाम फोन रख
जवाब- मैं क्यों रखूं?

इसके बाद सलीम साहब ने कमरे से बाहर झांककर कहा कि फोन रख. इससे सलाम कंफ्यूज़ हो गया कि जो आदमी फोन पर है वो भी कह रहा है फोन रख, ये भी कह रहे हैं फोन रख. तब उसे पूरा मामला समझ आया.


वीडियो देखें: 300 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके सतीश कौल गुमनाम हो गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.