Submit your post

Follow Us

कौन सा गाना लगातार पांच दिन सुनकर सचिन ने सिडनी में 241 कूट दिए थे?

सचिन तेंडुलकर. 100 इंटरनेशनल शतक जमाने वाले इकलौते क्रिकेटर. सचिन ने पूरी दुनिया के बोलर्स के खिलाफ, हर तरह की पिच पर रन बनाए. ऐसे में उनकी किसी एक पारी को सर्वश्रेष्ठ करार देना आसान काम नहीं है. लेकिन कई लोगों का मानना है कि साल 2004 की बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के दौरान सचिन की सिडनी में खेली गई 241 रन की पारी उनकी बेस्ट है. ना सिर्फ उनकी बल्कि यह डबल सेंचुरी टेस्ट इतिहास की बेस्ट पारियों में से एक है.

इस टेस्ट से पहले सचिन ने इस सीरीज में 0,1,37,0 और 44 रन की पारियां खेली थीं. टीम इंडिया ने सीरीज 1-1 से बराबर कर रखी थी. सिडनी टेस्ट से पहले टीम इंडिया को उम्मीद थी कि ऑस्ट्रेलिया में पहली टेस्ट सीरीज जीत लेंगे. ऐसे में सचिन आगे आए और कमाल की डबल सेंचुरी जड़कर सीरीज जीतने की उम्मीद भी जगा दी. हालांकि ऐसा हो ना सका. टेस्ट ड्रॉ रहा. लेकिन सचिन की 241 रन की नॉटआउट पारी अमर हो गई.

# समर ऑफ 69

सचिन ने अब इस पारी से जुड़ा एक मजेदार क़िस्सा साझा किया है. अपने यूट्यूब चैनल पर एक सेशन के दौरान सचिन ने बताया कि वह इस टेस्ट के पांचों दिन एक ही गाना लगातार सुन रहे थे. सचिन ने कहा,

‘मुझे याद है जब मैंने 2004 में सिडनी में 241 रन की नॉटआउट पारी खेली थी. उन पांचों दिन मैंने सिर्फ एक गाना सुना था- ब्रायन एडम्स का समर ऑफ 69. मैंने उस गाने को लूप पर लगाया. फिर चाहे हम ग्राउंड तक जा रहे हैं, ड्रेसिंग रूम में, बैटिंग के लिए जाने से पहले, लंच टाइम, चाय ब्रेक, मैच के बाद, होटल वापस जाते हुए… पांच दिन सिर्फ और सिर्फ समर ऑफ 69, और कुछ नहीं.’

इस डबल सेंचुरी में तेंडुलकर ने 33 बाउंड्री लगाई थी. इस पारी से पहले सचिन लगातार ऑफ स्टंप के बाहर की गेंदों पर आउट हो रहे थे. इसलिए उन्होंने इस पारी में ऑफ स्टंप के बाहर की सारी गेंदें छोड़ दीं. 436 गेंदों की इस पारी में सचिन ने एक भी कवर ड्राइव नहीं मारा, जबकि यह उनके पसंदीदा शॉट्स में से एक था.


10 घंटे से ज्यादा बैटिंग करने वाले सचिन ने ज्यादातर वक्त सीधे बल्ले से खेला और कलाइयों के सहारे ऑन-साइड पर गैप निकाले. सचिन और वीवीएस लक्ष्मण के बीच हुई 353 रन की पार्टनरशिप के दम पर भारत ने इस पारी में 705 रन बनाए. सचिन ने इसी वीडियो में 2003 के वर्ल्ड कप का क़िस्सा भी साझा किया.

सचिन ने इस वर्ल्ड कप के दौरान लकी अली की फिल्म, सुर के गानों को खूब सुना था. इस वर्ल्ड कप में सचिन ने 671 रन बनाए थे. यह किसी भी एक वर्ल्ड कप में किसी प्लेयर द्वारा बनाए गए सबसे ज्यादा रन हैं. हालांकि इसके बावजूद भारतीय टीम चैंपियन नहीं बन पाई थी. सौरव गांगुली की कप्तानी वाली इस टीम को फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने हराया था.


जब 1981 के मैच के बीच डेनिस लिली पर बुरी तरह भड़क गए थे गावस्कर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

जब प्रणब मुखर्जी ने इन्दिरा गांधी की सलाह नहीं मानी और लड़ गए लोकसभा चुनाव

जब प्रणब मुखर्जी ने इन्दिरा गांधी की सलाह नहीं मानी और लड़ गए लोकसभा चुनाव

तब इंदिरा गांधी को प्रणब दा की जिद के आगे झुकना पड़ा था.

वो नेता, जिसने 5 साल पहले ही बता दिया था कि देश का बंटवारा होकर रहेगा

वो नेता, जिसने 5 साल पहले ही बता दिया था कि देश का बंटवारा होकर रहेगा

10 दिसंबर को ही चक्रवर्ती राजगोपालाचारी का जन्म हुआ था

वो किस्सा, जब पहली बार देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री पर बेहद करीब से गोलियां चलाई गई थीं

वो किस्सा, जब पहली बार देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री पर बेहद करीब से गोलियां चलाई गई थीं

नहीं, ये इंदिरा गांधी के समय की बात नहीं है.

जब चंद्रशेखर सिंह सत्ता गंवाने वाले  बिहार के इकलौते मुख्यमंत्री बने थे

जब चंद्रशेखर सिंह सत्ता गंवाने वाले बिहार के इकलौते मुख्यमंत्री बने थे

9 जुलाई 1986 को इनका निधन हो गया था.

बिहार का वो सीएम, जिसका एक लड़की के किडनैप होने के चलते करियर खत्म हो गया

बिहार का वो सीएम, जिसका एक लड़की के किडनैप होने के चलते करियर खत्म हो गया

वो नेता जिनसे नेहरू ने जीवन भर के लिए एक वादा ले लिया.

महात्मा गांधी का 'सरदार,' जो कभी मंत्री नहीं बना, सीधा मुख्यमंत्री बना

महात्मा गांधी का 'सरदार,' जो कभी मंत्री नहीं बना, सीधा मुख्यमंत्री बना

सरदार हरिहर सिंह के बिहार के मुख्यमंत्री बनने की कहानी

मजदूर नेता से सीएम बनने का सफर तय करने वाले बिंद्श्वरी दुबे का किस्सा सुनिए

मजदूर नेता से सीएम बनने का सफर तय करने वाले बिंद्श्वरी दुबे का किस्सा सुनिए

बेंगलुरू की मशहूर नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी इन्हीं की देन है.

बिहार के उस सीएम की कहानी जिसने लालू को नेता बनाया

बिहार के उस सीएम की कहानी जिसने लालू को नेता बनाया

वो CM जिसे बस कंडक्टर के चक्कर में कुर्सी गंवानी पड़ी.

बिहार का वो सीएम जिसे तीन बार सत्ता मिली, लेकिन कुल मिलाकर एक साल भी कुर्सी पर बैठ न सका

बिहार का वो सीएम जिसे तीन बार सत्ता मिली, लेकिन कुल मिलाकर एक साल भी कुर्सी पर बैठ न सका

बिहार के पहले दलित सीएम की कहानी.

मुख्यमंत्री: मंडल कमीशन वाले बिहार के मुख्यमंत्री बीपी मंडल की पूरी कहानी

मुख्यमंत्री: मंडल कमीशन वाले बिहार के मुख्यमंत्री बीपी मंडल की पूरी कहानी

बीपी मंडल, जो लाल बत्ती के लिए लोहिया से भिड़ गए थे.