Submit your post

Follow Us

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

8.12 K
शेयर्स

जैक्स कैलिस. वो क्रिकेटर जिसे भरोसेमंद खिलाड़ियों की जमात में बहुत ऊंचा स्थान हासिल है. दुनिया के बेहतरीन ऑल राउंडर्स में से एक. कपिल देव, इमरान खान, रिचर्ड हैडली की श्रेणी के. कुछ मामलों में तो उनसे भी बेहतर. 16 अक्टूबर को कैलिस का जन्मदिन हुआ करता है. जब भी कैलिस का जन्मदिन आता है या कैलिस का ज़िक्र छिड़ता है, लोग उनके रिकार्ड्स, रन्स, विकेट्स की बातें करते हैं. लेकिन भारतीय क्रिकेट प्रेमियों का एक बड़ा तबका ऐसा भी है जिन्हें कैलिस का नाम सुनते ही श्रीसंत याद आ जाते हैं. हम भी ऐसे ही लोगों में आते हैं. ऐसा होने की वजह भी बताते हैं आपको. थोड़ा सा पीछे जाना होगा.

साल था 2010. महीना दिसंबर का. भारत की टीम साउथ अफ्रीका के दौरे पर थी. 26 दिसंबर से दूसरा टेस्ट शुरू हुआ. भारत सीरीज़ में 1-0 से पिछड़ रहा था. इस टेस्ट में श्रीसंत ने कैलिस को एक ऐसी करिश्मासाज़ गेंद फेंकी थी जिसे सच्चा क्रिकेटप्रेमी घंटों लूप पर देख सकता है. श्रीसंत ने उस दिन के बाद अगर एक भी गेंद नहीं फेंकी होती तब भी वो क्रिकेट प्रेमियों को हमेशा रहते. उसी एक गेंद का किस्सा है ये.

इंडियन क्रिकेट में रेयर एग्रेशन के झंडाबरदार श्रीसंत.
इंडियन क्रिकेट में रेयर एग्रेशन के झंडाबरदार श्रीसंत.

मैच का चौथा दिन. चौथी इनिंग्स चल रही थी. साउथ अफ्रीका को जीतने के लिए 303 रन्स का टारगेट मिला था. 34 ओवर में 3 विकेट खोकर 123 रन उन्होंने बना भी लिए थे. एबी डिविलियर्स और कैलिस मैदान पर थे. ये दो नाम बताने के बाद ये अलग से बताने की ज़रूरत नहीं है कि कैसे ये दोनों खतरनाक साबित हो सकते थे. ये जोड़ी टूटनी बहुत ज़रूरी थी. इसी अहम मौके पर आई श्रीसंत की वो अद्भुत गेंद.

पैंतीसवां ओवर. श्रीसंत का ग्यारहवां. दूसरी गेंद. शॉर्ट ऑफ़ लेंथ. टप्पा खाने के बाद किसी कोबरा नाग की तरह कैलिस की तरफ झपटी. इस रफ़्तार से कि उससे बचना कैलिस के लिए नामुमकिन सा हो गया. हालांकि कोशिश उन्होंने बहुत की. हवा में आड़े-तिरछे उछले. उछलते हुए यूं पीछे की तरफ मुड़ गए कि आदमी काम धनुष ज़्यादा लगने लगे. इतने जतन के बावजूद बॉल डक नहीं कर सके. कोबरा ने हथेली पर डस ही लिया. गेंद ग्लव्स को छूकर हवा में उछल गई. गली में खड़े सहवाग ने दौड़कर कैच लपक लिया.

देखिए वो नज़रों को सुकून देने वाला वीडियो:

कुछ भी समझ आता इससे पहले कैलिस आउट हो चुके थे. 123 रनों पर अफ्रीका का चौथा विकेट गिर गया और इससे हासिल जोश ने टीम इंडिया में चिंगारी भर दी. आगे का काम ज़हीर खान और हरभजन ने निपटा डाला. साउथ अफ्रीका को 215 पर ऑल आउट कर दिया और 87 रनों से मैच जीत लिया.

श्रीसंत के करियर की वो सर्वश्रेष्ठ गेंद मानी जानी चाहिए. उस एक गेंद ने इतनी ख़ुशी दी है कि श्रीसंत की स्पॉट फिक्सिंग वाली कंट्रोवर्सी भी माफ़ करने का मन करता है.


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Remembering Sreesanth’s lethal bouncer to Jacques Kallis

पॉलिटिकल किस्से

इस मोदी को जानो, हंसते-हंसते समझ बढ़ जाएगी

किस्से पीलू मोदी के, जो संसद में पीएम को भी नहीं बख्शते थे.

शिवराज सिंह चौहान : एमपी का वो मुख्यमंत्री जिसने उमा और कैलाश विजयवर्गीय को किनारे लगा दिया

दिग्विजय सिंह ने शिवराज को बंगला दिया और फिर शिवराज को कोई हिला नहीं पाया.

शिवराज सिंह चौहान : ABVP का वो नेता जो एमपी से दिल्ली गया और लौटा तो मुख्यमंत्री बन गया

कहानी शिवराज सिंह चौहान की, जिन्होंने हर तरह की क्राइसिस को मैनेज कर लिया.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी ताजपोशी से पहले जयपुर में कर्फ्यू लगा

और जिसकी गांधी-नेहरू परिवार की तीन पीढ़ियों से अनबन रही. आज पुण्यतिथि है.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी शादी के विरोध में बाजार बंद हो गए थे

जिसने नेहरू के खास रहे मुख्यमंत्री जयनारायण व्यास का तख्तापलट कर दिया. आज पुण्यतिथि है.

पिता की मौत के बाद प्रियंका ने राहुल से क्या कहा?

प्रियंका गांधी वो कहानी जो आपको गूगल पर भी नहीं मिलेगी.

बाबूलाल गौर : मध्यप्रदेश का वो मुख्यमंत्री, जो पैदा यूपी में हुआ और शराब बेचने एमपी आ गया

आज बाबूलाल की बात इसलिए क्यूंकि आज इन्होंने ऐसी बात कही है कि अब यूपी के बाद मध्यप्रदेश को लेकर भी भाजपा की नींदें उड़ सकती हैं!

जब बम धमाके में बाल-बाल बचीं शीला दीक्षित!

धमाका इताना जोरदार था कि कार के परखच्चे उड़ गए.

अशोक गहलोत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जो हारने के बाद केंद्र में आया और अब राहुल के बाद नंबर दो है

जिसने जादू दिखाया, जीत-हार का स्वाद चखा और दो बार मुख्यमंत्री बना.

अशोक गहलोत : एक जादूगर जिसने बाइक बेचकर चुनाव लड़ा और बना राजस्थान का मुख्यमंत्री

जिसकी गांधी परिवार से नज़दीकी ने कई बड़े नेताओं का पत्ता काट दिया.