Submit your post

Follow Us

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

शास्त्री ने हाल ही आई अपनी किताब ‘स्टारगेजिंग’ में क्रिकेट से जुड़े कई दिलचस्प क़िस्से लिखे हैं.  और इन्हीं क़िस्सों में से एक क़िस्सा जुड़ा है पूर्व पाकिस्तानी कप्तान जावेद मियांदाद से.

# Shastri vs Miandad

बात है 1987 की. पाकिस्तान की टीम पांच टेस्ट और छह वनडे मुकाबले खेलने के लिए भारत आई थी. 20 मार्च को दोनों टीमों के बीच तीसरा वनडे मुकाबला हैदराबाद में खेला गया. पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी थी. भारतीय टीम के ओपनर्स को पाकिस्तान ने सस्ते में चलता कर दिया.

लेकिन रवि शास्त्री के 69 और कपिल देव के 59 की बदौलत भारतीय टीम ने 44 ओवर में 212 रन बना दिए. अब रनों का पीछा करने उतरी पाकिस्तान. पाकिस्तान को शुरुआत अच्छी मिली लेकिन मुकाबला अंत तक गया. मैच की आखिरी गेंद. पाकिस्तान को जीत के लिए दो रन चाहिए थे. और अब्दुल कादिर दूसरा रन लेने के चक्कर में रनआउट हो गए.

स्कोर बराबर रहा लेकिन उस वक्त के नियमों के मुताबिक भारत को जीता घोषित कर दिया गया. दरअसल मैच में भारत ने छह और पाकिस्तान ने सात विकेट खोए थे. और यही एक विकेट कम गिरने के चलते भारत मैच जीत गया.  और मैच हारने के बाद पाकिस्तान के जावेद मियांदाद चीखते हुए भारतीय ड्रेसिंग रूम में आए और बोले,

‘तुम चीटिंग से जीते हो.’

ये सुनते ही रवि शास्त्री को गुस्सा आया और वो जूता उठाकर मियांदाद के पीछे-पीछे पाकिस्तानी ड्रेसिंग रूम तक पहुंच गए. वहां पाकिस्तानी कप्तान इमरान खान ने बीच-बचाव कर मामले को शांत किया. हालांकि दोनों प्लेयर्स ने इस बात को आगे नहीं बढ़ाया और जल्दी ही इसे भुला दिया.

अगले मैच के लिए जब दोनों टीमें पुणे जा रही थी, तो दोनों ने फ्लाइट में भी साथ समय बिताया. और फिर कभी आगे इस बात का ज़िक्र भी नहीं किया. लेकिन अब शास्त्री की किताब के जरिए यह क़िस्सा पब्लिक डोमेन में आ चुका है.


दनील मेदवेदेव ने नोवाक जोकोविच को 21वां ग्रैंड स्लैम जीतने से कैसे रोका?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

कल्याण सिंह: UP की राजनीति का वो ‘अम्ल’, जो ‘क्षार’ से उलझकर अपनी सियासत जला बैठा!

"कल्याण सिंह में धैर्य होता तो अटल के बाद वही भाजपा के कप्तान होते."

निसिथ प्रमाणिक: पीएम मोदी के सबसे युवा मंत्री, जितने कामयाब उतने ही विवादित

7 जुलाई 2021 को 35 साल के निसिथ प्रमाणिक ने मंत्री पद की शपथ ली थी.

वो मुख्यमंत्री, जिसकी कुर्सी प्याज की महंगाई ने छीन ली

दिल्ली के दूसरे मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा की आज बरसी है.

पिता-पुत्र की वो जोड़ी, जो गांधी परिवार के सात बार करीब आए तो आठ बार दूर गए

बात जितेंद्र और जितिन प्रसाद की.

पिनारायी विजयन: केरल का वो वाम नेता, जिसे वहां के लोग 'लुंगी वाला मोदी' कहते हैं

..और जिसने भरी विधानसभा में लहराई थी खून से सनी शर्ट.

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

आज इनकी बरसी है.

असम की राजनीति का ‘विस्मय बालक’, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

हिमंत बिस्व सरमा, जिनसे बात करते हुए राहुल गांधी 'पिडी' को बिस्किट खिला रहे थे.

राजनीति में आने वाला देश का पहला आईआईटीयन, जिसके आर्थिक सुधार का क्रेडिट कोई और ले गया!

किस्से चौधरी अजित सिंह के.

वो नेता जिसने विधानसभा में अपनी ख़ून से सनी शर्ट लहरायी और चुनाव जीत गया

पिनारायी विजयन के पॉलिटिकल क़िस्से

हिमंत बिस्व सरमा की कहानी, जो राहुल गांधी के कुत्ते से चिढ़े और बीजेपी की सरकार बनवा डाली

कांग्रेस से बीजेपी में गए और उसे जीत दिला दी.