Submit your post

Follow Us

जब बम धमाके में बाल-बाल बचीं थीं शीला दीक्षित!

1.13 K
शेयर्स

साल 1985 की एक दोपहर शीला दीक्षित का किस्सा खत्म हो गया होता. भला हो किसी की भूख का. एक लंच ने उन्हें बचा लिया.  जुलाई 1985. राजीव गांधी और संत हरचरण सिंह लोंगोवाल के बीच पंजाब पीस अकॉर्ड हुआ. लोगों को उम्मीद थी कि अब हालात ठीक हो जाएंगे. मगर फिर अगस्त में लोंगोवाल की हत्या कर दी गई. इसी माहौल में 25 सितंबर को विधानसभा चुनाव होने थे. शीला दीक्षित पहले भी कई इलेक्शन कैंपेन में शिरकत कर चुकी थीं. पंजाब भी भेजा गया उनको.

shiela Dixit

चुनाव प्रचार के आखिरी दिन की बात है. अंतिम रैली खत्म हुई. बिहार के एक सांसद की कार में बैठकर शीला दीक्षित बटाला से अमृतसर के लिए रवाना हुईं. कार में शीला थीं, वो सांसद थे, एक सुरक्षाकर्मी और एक ड्राइवर था. दिन के करीब एक बजे थे. ड्राइवर ने दोपहर के खाने के लिए एक रेस्तरां पर कार रोकी. कहा, अभी खाना खा लेते हैं. वरना अमृतसर पहुंचते-पहुंचते बहुत देर हो जाएगी. शीला अंदर कुर्सी पर बैठकर सॉफ्ट ड्रिंक का पहला घूंट गले में भरने ही जा रही थीं. कि तभी एक जोर की आवाज़ आई. एक धमाका हुआ था. उसी कार के अंदर, जिसमें कुछ मिनटों पहले शीला दीक्षित बैठी हुई थीं. कार टुकड़े-टुकड़े होकर उड़ गई. अगर ड्राइवर ने लंच के लिए गाड़ी नहीं रोकी होती, या कुछ मिनटों बाद रोकी होती, तो शीला धमाके के वक़्त कार के अंदर ही होतीं. ऐसा होता, तो शीला समेत बाकी तीनों लोग भी चिथड़ा-चिथड़ा होकर उड़ गए होते. ये लोग तो बच गए, मगर कार के पास मौजूद दो बच्चे मारे गए.

बाद में पुलिस ने बताया. कार के अंदर टाइम बम फिट था. इस धमाके का डर, ब्लास्ट की आवाज़, गाड़ी के परखच्चे उड़ने का फ्रेम, शीला को ये सब याद रहा. मगर उन्होंने कैंपेन में अपने हिस्से आई जिम्मेदारियां नहीं छोड़ीं. इस घटना के 13 साल और तीन महीने बाद शीला दीक्षित ने पहली बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

सोर्स: शीला दीक्षित की लिखी किताब- सिटिजन देल्ही, माय टाइम्स माय लाइफ (ब्लूम्सबरी पब्लिकेशन्स)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.