Submit your post

Follow Us

जब एक फिल्म में शक्ति कपूर और जैकी श्रॉफ पर सच में मधुमक्खियां छोड़ दी गईं

75
शेयर्स

एक्टर जैकी श्रॉफ बॉलीवुड में अपने खास अंदाज के लिए फेमस हैं. वह करीब 38 सालों से फिल्म इंडस्ट्री में मौजूद हैं. जैकी श्रॉफ को सुभाष घई की फिल्म ‘हीरो’ ने सुपरस्टार बनाया था. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि उनका डेब्यू 1982 में आई फिल्म ‘स्वामी दादा’ से हुआ था. इस फिल्म में लीड रोल देव आनंद का था. और जैकी श्रॉफ फिल्म में विलेन के रोल में थे. इस फिल्म की बात हम इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि जैकी श्रॉफ ने मुंबई मिरर को दिए इंटरव्यू में अपनी पहली फिल्म से जुड़े दो मजेदार किस्से शेयर किए.

उन्होंने कहा,

‘फिल्म इंडस्ट्री में मेरा पहला दिन फिल्म स्वामी दादा में बतौर जूनियर आर्टिस्ट था. आज जब मैं उस फिल्म के बारे में सोचता हूं तो दो ही वाकये मेरे दिमाग में आते हैं. पहला वो जब मैं, शक्ति कपूर और एक दूसरा विलेन सेट पर थे. एक सीन में हमारे ऊपर मधुमक्खियों को छोड़ना था और हमें तेजी से भागना था. सीन शुरू हुआ और एक्शन बोलते ही मधुमक्खियों का झुंड पर पर टूट पड़ा. हमने तेजी से भागना शुरू कर दिया, लेकिन भागते हुए मैं सोच रहा था कि ये तो एक्टिंग नहीं है. ये तो रियल है.’

फिल्म में पद्मिनी कोल्हापुरे बच्चों के साथ मिलकर जैकी श्रॉफ और शक्ति कपूर पर मधुमक्खियां छोड़ देती हैं.
फिल्म में पद्मिनी कोल्हापुरे बच्चों के साथ मिलकर जैकी श्रॉफ और शक्ति कपूर पर मधुमक्खियां छोड़ देती हैं.

दूसरा किस्सा भी उसी फिल्म का और उसी दिन का है. वह बताते हैं,

‘उसी दिन एक और सीन शूट होना था. देव साहब (देव आनंद) के बॉडी डबल को मुझे पीठ की तरफ से पकड़कर फेंकना था. मुझसे वो सीन नहीं हो रहा था. अपुन स्ट्रीट फाइटर है, ऐसा टेक्नीक नहीं आता था. तो मैंने फाइट मास्टर से कहा, सर ये हो नहीं पा रहा. फाइट मास्टर को गुस्सा आ गया और वो गाली देने लगे. वहीं पास में देव साहब (देव आनंद) बैठे हुए थे. उन्होंने फाइट मास्टर से कहा, इसको गाली मत दो यार. आराम से काम करो. नया लड़का है, इसको सिखाओ कैसे करना है. अगर तुम उसे अच्छी तरह से सिखाओगे, तो वो जल्दी सीखेगा. उस दिन मैंने सीखा कि अगर सेट पर कोई नया एक्टर आता है, आपको उसके साथ इज्जत के साथ पेश आना चाहिए. ये रवैया नहीं रखना चाहिए कि मैं केवल सीनियर या सुपरस्टार की रेस्पेक्ट करूंगा. मैंने जो कुछ भी देव साहब (देव आनंद) से सीखा कि सभी से प्यार करना और ख्याल रखना चाहिए.  जैसे देव साहब मुझसे प्यार करते थे, जब मैं कुछ भी नहीं था. मैं आज भी उसे फॉलो करता हूं.’

देव आनंद ‘स्वामी दादा’ के डायरेक्टर भी थे. उन्होंने टी के देसाई के साथ मिलकर फिल्म का निर्देशन किया था. फिल्म में उनके अलावा और जैकी श्रॉफ के अलावा मिथुन चक्रवर्ती, कुलभूषण खरबंदा, शक्ति कपूर, ए के हंगल, उर्मिला भट्ट, सुधीर दलवी जैसे एक्टर्स थे.


देखें वीडियो- ‘द फैमिली मैन’: हंसता गुदगुदाता इंटरव्यू जो आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.