Submit your post

Follow Us

अमिताभ बच्चन की सुपरहिट फिल्म की कहानी को धर्मेन्द्र ने इस रकम पर खरीदा था

‘इस इंडस्ट्री में ऐसे-वैसे लोग बन जाते हैं कैसे-कैसे
मुझे तो मैं भी न बनना आया, वैसा बनू तो कैसे…’

ऐसा हम नहीं, एक्टर धर्मेन्द्र कहते हैं. हाल ही में अपनी आने वाली फिल्म ‘यमला पगला दीवाना फिर से’ का प्रमोशन करते हुए धरम पाजी एक टीवी चैनल पहुंचे और वहां एक लम्बा इंटरव्यू दिया. इस इंटरव्यू में धर्मेन्द्र ने अपने शायराना अंदाज़ में कई किस्से सुनाए. अपने करियर और बॉलीवुड के कई और एक्टर्स के बारे में खुलकर बात की. उनमें से सारी तो नहीं पर कुछ खास हम आपको बता देते हैं:

‘ज़ंजीर’ में काम करने से धर्मेन्द्र ने मना कर दिया था

धर्मेन्द्र ने बताया कि उन्होंने फिल्म ‘ज़ंजीर’ (1973) की स्टोरी सलीम खान से साढ़े सत्रह हज़ार रुपए में खरीदी थी. काफी समय तक वो उन्हीं के पास पड़ी रही. डायरेक्टर प्रकाश मेहरा ने धर्मेन्द्र के साथ फिल्म ‘समाधि’ बनाने के बाद ‘ज़ंजीर’ बनाने की इच्छा ज़ाहिर की. वो इस फिल्म के लिए बहुत उत्साहित थे. इसलिए धर्मेन्द्र ने मेहरा को कहानी दे दी. ये बात जब धर्मेन्द्र के कज़िन रंजीत विर्क (जिन्होंने फिल्म ‘क्रोधी’ बनाई थी) को पता चली तो धर्मेन्द्र की बहन ने उनको कसम में बांध दिया. ये कहकर कि आप मेहरा के साथ ये फिल्म नहीं करेंगे क्योंकि उन्होंने हमारे एक ऑफर को ठुकराया था.

आज फिल्म 'ज़ंजीर' को रिलीज़ हुए 45 साल हो गए हैं
आज फिल्म ‘ज़ंजीर’ को रिलीज़ हुए 45 साल हो गए हैं

इस इमोशनल बंधन और घरवालों के दबाव में आकर धमेंद्र को फिल्म ‘ज़ंजीर’ छोड़नी पड़ी. जबकि डायरेक्टर प्रकाश मेहरा की पहली और आखिरी चॉइस धर्मेन्द्र ही थे. धर्मेन्द्र के इनकार करने के बाद प्रकाश मेहरा ने उस समय के बाकी फेमस हीरो जैसे दिलीप कुमार, राजकुमार और देवानंद को भी अप्रोच किया. लेकिन आखिर उन्हें अमिताभ को ही फाइनल करना पड़ा. ये एक रिस्क था. अमिताभ की तब तक सिर्फ एक फिल्म हिट रही थी आनंद. लेकिन आनंद की सफलता का श्रेय गया राजेश खन्ना को. अमिताभ की बाकी सारी फिल्में बमुश्किल औसत प्रदर्शन कर पाई थीं. फिल्म में धर्मेन्द्र की जगह अमिताभ आए तो एक और बड़ा बदलाव हुआ. पहले इस फिल्म में धर्मेन्द्र के साथ एक्ट्रेस मुमताज़ को कास्ट किया गया था. धर्मेन्द्र गए तो मुमताज़ की जगह भी जया भादुड़ी को कास्ट कर लिया गया.

शोले में जय वीरू की वजह से आया था 

ये वो बात है जो धर्मेन्द्र ने कभी सार्वजनिक रूप से नहीं कही. लेकिन इंटरव्यू में उन्होंने कहा,

”…लेकिन अब अमिताभ भी बोलते हैं तो मैं बता देता हूं कि हां, मेरे पास ऑफर आया. पूछा गया कि इस रोल के लिए किस एक्टर को ले कते हैं? तो मैंने अमित का नाम दे दिया. वैसे ये रोल शत्रुघ्न सिन्हा को जाने वाला था. शत्रुघ्न को जब पता चला तो वो मुझसे से बोले ”पाजी, ये क्या कर दिया?” तो मैंने कहा यार वो पहले आया तो मैंने कहा उसको दे दो.”

इस ‘पहले आया तो…’ को हम थोड़ी तफसील से आपको बताते हैं. अमिताभ उन दिनों स्ट्रगल कर रहे थे. तो वो बड़े स्टार्स से कहा करते थे कि यदि कोई रोल हो तो उन्हें याद कर लें. धर्मेन्द्र इसी की बात कर रहे हैं.

धर्मेन्द्र की ड्रीम कार 'फिएट' थी, वो भगवान से इस कार को पाने की कामना किया करते थे. (Source) - Filmfare
धर्मेन्द्र की ड्रीम कार ‘फिएट’ थी, वो भगवान से इस कार को पाने की कामना किया करते थे. (Source) – Filmfare

टैक्सी चलाकर गुज़ारा करने को तैयार थे धर्मेन्द्र

मुंबई आकर धर्मेन्द्र का पहला सपना था एक कार खरीदना. उनके पास पैसा आया तो उन्होंने कार खरीदी. पूरे 18,000 में. लेकिन ये सपना पूरा करते हुए भी उनके दिमाग में ये बात थी कि कहीं वो बतौर एक्टर असफल न हो जाएं. इसीलिए उन्होंने फिएट की कार ली. ये कार भरोसेमंद होती थी और इसीलिए बतौर टैक्सी बंबई की सड़कों पर चलती थी. तो धर्मेन्द्र की सोच ये थी कि अगर फिल्म इंडस्ट्री में न चले तो टैक्सी चलाकर पेट भरेंगे और उसके साथ स्ट्रगल करेंगे लेकिन मुंबई में कुछ बन कर रहेंगे.

जब धर्मेन्द्र ने बॉलीवुड की पहली मल्टी स्टारर फिल्म को करने से मन कर दिया

ये फिल्म थी ‘वक़्त’ (1965). यश चोपड़ा ने धर्मेन्द्र को फिल्म में तीन भाइयों में से सबसे बड़े का रोल दिया था. धर्मेन्द्र तब इंडस्ट्री में नए-नए छाए थे. तो धर्मेन्द्र ने यश साहब को मझले भाई (यानी फिल्म में जो किरदार सुनील दत्त ने किया था) का रोल मांगा और इसका रीज़न ये दिया कि अगर मैं बड़े भाई का रोल करूंगा तो मुझे बड़े भाई टाइप के रोल मिलने लग जाएंगे. मगर यश चोपड़ा धर्मेन्द्र टाल गए. तो धर्मेन्द्र बताते हैं फिर उन्होंने भी इस रोल को जाने दिया. ये रोल फिर राजकुमार ने किया.

 

'वक़्त' बी.आर. चोपड़ा और यश चोपड़ा की पहली फिल्म थी जो कलर में बनी थी.
‘वक़्त’ बी.आर. चोपड़ा और यश चोपड़ा की पहली फिल्म थी जो कलर में बनी थी.

मनमोहन देसाई की फिल्म ‘अमर अकबर एन्थनी’ के बारे में बताते हुए धर्मेन्द्र ने कहा कि जब ये फिल्म देसाई मेरे पास लेकर आए थे तब मैं 16-20 घंटे काम कर रहा था. क्योंकि तब ‘धरम वीर’ और ‘चाचा भतीजा’ की शूटिंग हो रही थी. इसलिए मैंने उन्हें कहा कि ये वाली फिल्म आप किसी और के साथ बना लीजिए, मैं आपकी नेक्स्ट फिल्म करूंगा. ये सुनकर देसाई कुछ बोले तो नहीं मगर उनके ईगो को ठेस पहुंच गई. फिर हमारे रास्ते अलग-अलग हो गए.

दूसरों की बीयर पी जाते थे धर्मेन्द्र 

1987 में आई फिल्म ‘आग ही आग’ की शूटिंग के दौरान एक दिन दोपहर में धर्मेन्द्र का बीयर पीने का मन किया. उन्होंने फिल्म की एक्ट्रेस मौशमी चैटर्जी को ग्लास में बियर डालकर लाने को कहा और साथ ही एक एक्स्ट्रा निर्देश दिया की उसमें झाग बनाकर लाना. तो मौशमी ने उनसे बंगाली एक्सेंट में पूछा, ”ए धर्मेन्द्र ये क्या पीता है?” मौशमी को पता होता था कि धर्मेन्द्र बीयर पी रहे थे. लेकिन वो जानबूझकर सबके सामने उनसे ये सवाल किया करतीं, ये देखने के लिए कि धर्मेन्द्र जवाब क्या देते हैं. मौशमी के सवाल पर धर्मेन्द्र ने कह दिया लस्सी ! तो मौशमी ने कह दिया, ”मुझे भी दे ना.” तब धर्मेन्द्र ने हारकर कह ही दिया, ‘हां, मैं बीयर पी रहा हूं.’

'शोले' में वीरु का पात्र खूब शराब पीता था. असल ज़िंदगी में भी धर्मेन्द्र को बीयर बहुत पसंद थी.
‘शोले’ में वीरु का पात्र खूब शराब पीता था. असल ज़िंदगी में भी धर्मेन्द्र को बीयर बहुत पसंद थी.

बीयर का दूसरा किस्सा है फिल्म ‘शोले’ का. शोले के एक कैमरामैन थे जिम. जिम का दिन में 5-7 बीयर पीने का रूटीन था. धर्मेन्द्र ने बताया कि एक दिन वो जिम के पीछे बैठे थे. पास में जिम की बीयर पड़ी थी. तो उन्होंने भी कुछ सिप मार लिए. उसके बाद जिम ने बोतल उठाकर देखी तो उन्होंने सोचा कि मैंने तो इतनी पी नहीं, फिर बीयर गई कहां. ऐसा कई बार हुआ. जिम बेचारे पूछते फिरते ‘हाउ कम दिस इस पॉसिबल?’ लेकिन एक दिन धर्मेन्द्र की चोरी पकड़ी गई. जिम ने बस इतना कहा, ‘ओह! सो यू आर द वन हू ड्रिंक्स माय बियर.’

बिना फिल्म के डायरेक्टर को बताए स्टंट कर लिया था

फिल्मों में धर्मेन्द्र ने अपने कई स्टंट्स खुद किए. ‘शोले’ (1975) में धर्मेन्द्र घोड़े पर सवारी करते हुए दूसरे आदमी पर कूदे और उसे लेकर नीचे गिर गए. बताते हैं कि जब उस आदमी को लेकर वो गिर रहे थे, तो घोड़े के पैर उस आदमी पर आने वाले थे. तब धर्मेन्द्र ने अपना पूरा ज़ोर लगाकर घोड़े को खींचा जिससे घोड़ा एक तरफ गिरा और वो आदमी दूसरी तरफ.

फिल्म 'मेरा गांव मेरा देश' का एक सीन.
फिल्म ‘मेरा गांव मेरा देश’ का एक सीन.

स्टंट्स को लेकर धर्मेन्द्र का एक और दिलचस्प किस्सा है. उन्होंने राज खोसला की फिल्म ‘मेरा गांव मेरा देश’ (1971) में काम किया. राज खोसला फिल्म के कास्ट और क्रू की सुरक्षा को लेकर बहुत ही सजग रहते थे. इस बात से धर्मेन्द्र वाकिफ थे. लेकिन फिल्म का एक सीन करने का उनका बहुत मन था. इसमें उन्हें घोड़े से गिरना था. राज ये स्टंट किसी प्रोफेशनल से करवाने वाले थे. लेकिन धर्मेन्द्र ने फिल्म के एक्शन डायरेक्टर से सेटिंग करके इस सीन में खुद स्टंट करने की स्कीम बनाई. उन्होंने एक्शन डायरेक्टर को राज खोसला से ये बात छुपाने को कहा ताकि वो सीन बिना रोक-टोक हो जाए. ये सब धर्मेन्द्र अपने सीन को और नेचुरल बनाने के लिए कर रहे थे. जैसे ही उन्होंने वो स्टंट किया, वो घोड़े से खतरनाक तरीके से गिरे. इसे देख खोसला उठ खड़े हुए. तभी एक्शन डायरेक्टर उन्हें समझाया कि सर कोई बात नहीं, धर्मेन्द्र ये सीन खुद करना चाहते थे. वो ठीक हैं, उन्हें कुछ नहीं हुआ है.


Also Read:

क्यों बिना देखे लता मंगेशकर ने सुनिधि चौहान को फर्स्ट प्राइज़ दे दिया था?
‘दादू’ अमरीश पुरी को भगवान मानने वाला लड़का बॉलीवुड में एंट्री लेने जा रहा है

उस पुलिसवाले की कहानी जिसके सामने संजय दत्त डरकर रोने लग गए थे
बाहुबली सीरीज़ टीजर: Netflix पर दिखाई जाएगी फिल्म के पहले की कहानी


Watch Video:  शाहिद की ये फिल्म बिजली कंपनियों की धांधली को दिखाने वाली है! | Batti Gul Meter Chalu

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

जब रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ा लिया

इमरान बीच में ना आते तो...

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

वासू परांजपे, जिन्होंने कहा था- ये लगने वाला प्लेयर नहीं, लगाने वाला प्लेयर है.

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

विवियन ने डिक्शनरी में 'ग्रॉवल' का मतलब खोजा और 829 रन ठोक दिए.

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

इसमें धीरूभाई अंबानी ने भी मदद की थी.

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

अमिताभ को भी था जयसूर्या पर ज्यादा भरोसा.

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

क़िस्सा 1983 वर्ल्ड कप का.

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

कौन थे 1983 वर्ल्ड कप विनर के हीरो?

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

क़िस्सा वर्ल्ड कप की सबसे 'महान' पारी का.

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

सोचो कुछ, कहो कुछ, समझो कुछ.

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.