Submit your post

Follow Us

ब्रायन लारा ने सिर्फ 153 रन मारे, फिर भी उनकी ये पारी टेस्ट इतिहास की दूसरी बेस्ट पारी क्यों है?

साल 1999. कप्तान ब्रायन लारा के करियर के सबसे चैलेंजिंग सालों में से एक. बोर्ड के साथ विवाद हुआ. लारा की अगुवाई में वेस्ट इंडीज़ क्रिकेट टीम बग़ावत पर उतर आई. बड़ी मुश्किलों के बाद हालात सुधरे और टीम एक हफ्ते की देरी से साउथ अफ्रीका टूर पर गई. और वहां मिली 5-0 की करारी हार. दशकों तक क्रिकेट पर राज करने वाली विंडीज़ क्रिकेट टीम पहली बार यूं बेइज्जत हुई थी. और इतिहास गवाह है, हर बड़ी बेइज्जती के बाद क़ुर्बानियां ली जाती हैं.

इस बार की लिस्ट में सबसे पहला नाम चढ़ा त्रिनिदाद के राजकुमार ब्रायन चार्ल्स लारा का. साफ कर दिया गया कि विंडीज़ आ रही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली टेस्ट सीरीज उनकी कप्तानी का लिटमस टेस्ट होगी. और इस लिटमस टेस्ट सीरीज के पहले टेस्ट में विंडीज़ की टीम 51 रन पर सिमट गई. वो भी लारा के घर, पोर्ट ऑफ स्पेन में. ऑस्ट्रेलिया ने टेस्ट को 312 रन से जीत लिया. अब अगला टेस्ट जमैका में था.

# Jamaica में Lara

वही जमैका, जहां के लोगों का बस चलता तो वो ब्रायन लारा को दरिया में फेंक देते. क्योंकि उनका मानना था लारा के चलते उनके देश के नायक कर्टनी वॉल्श से टीम की कप्तानी छीन ली गई. दरअसल हाल ही में लारा ने विंडीज़ के कैप्टन के रूप में वॉल्श की जगह ली थी. यह बात वॉल्श के देश, जमैका के लोगों को सख्त नापसंद थी.

और इस बार तो लारा का हाल भी बहुत बुरा था. अपनी टीम की दुर्दशा और अपनी फॉर्म से वह टूट चुके थे. और इसी टूटन में उन्होंने मैच से पहले अपने पुराने मित्र और फातिमा स्कूल क्रिकेट टीम के कैप्टन रहे निकलस गोमेज़ को फोन घुमा दिया. इस बारे में गोमेज़ ने क्रिकेट-मंथली से कहा था,

‘उसने मुझे फोन किया और कहा- मैं सच में बहुत, बहुत निराश हूं. मुझे नहीं पता कि मैं कल मैदान पर उतरूंगा भी या नहीं. मैं सोच रहा हूं कि कुछ गंभीर चल रहा है.’

लारा की यह बात सुनकर गोमेज़ ने जवाब दिया,

‘क्या! इस पर बात करते हैं.’

लारा और गोमेज़ ने घंटे भर फोन पर बात की. फिर लारा ने टीम मीटिंग की बात कहकर फोन काट दिया. लारा का ये हाल देख गोमेज़ से रहा नहीं गया. वह अगली सुबह साढ़े चार बजे की फ्लाइट लेकर जमैका पहुंच गए. लारा की पहली कंपटिटिव इनिंग्स से उनको देख रहे गोमेज़ सबीना पार्क पहुंचे. ऑस्ट्रेलिया की टीम 256 पर सिमट गई. लेकिन विंडीज़ ने भी दिन का खेल खत्म होने तक 37 पर चार विकेट गंवा दिए थे.

शाम को दोनों मित्र साथ बैठे और काफी देर तक पुराने दिनों की बातें करते रहे. इन बातों ने लारा पर कुछ वैसा ही असर किया जैसा हनुमान पर जामवंत की इन बातों ने.

कहइ रीछपति सुनु हनुमाना। का चुप साधि रहेहु बलवाना।।
पवन तनय बल पवन समाना। बुधि बिबेक बिग्यान निधाना।।

अगले दिन लारा जब खेलने पहुंचे तो गोमेज़ स्टैंड्स में ऐसी जगह बैठे जहां से लारा उन्हें आसानी से देख सकें. लारा ने खेलना शुरू किया और पूरे दिन खेले. लारा के हर शॉट पर गोमेज़ स्टैंड्स से चिल्लाकर उनका हौसला बढ़ा रहे थे. दिन का खेल खत्म होने तक लारा के नाम 212 रन थे. और इस पारी के दौरान सबीना पार्क की जनता कम से कम दो बार मैदान तक उतर आई थी. उस लारा के आगे नतमस्तक होने, जिसे वहां खड़े रहने के लिए वॉल्श की मदद लेनी पड़ी थी.

दरअसल मैच के पहले दिन लारा को लेकर दर्शकों में इतनी टेंशन थी कि वॉल्श को आकर लारा के कंधे पर हाथ रखकर लोगों को शांत करना पड़ा था. और अब वही भीड़ लारा के लिए पगलाई हुई थी. अगले दिन लारा 213 रन बनाकर आउट हो गए. लेकिन यह पारी विंडीज़ को जीत दिलाने के लिए काफी थी.

# अब बारी Barbados की

मेजबानों ने सीरीज 1-1 से बराबर कर ली. अब बारी थी बारबडोस टेस्ट की. स्टीव वॉ ने टॉस जीतकर 199 रन अकेले मार दिए. रिकी पॉन्टिंग ने भी सेंचुरी जड़ी और ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी खत्म हुई 490 पर. जवाब में विंडीज़ का हाल बुरा. टीम ने 98 रन पर छह विकेट खो दिए. इसमें लारा भी शामिल थे. हालांकि ओपनर शेरविन कैम्पबेल एक छोर से टिके रहे. उनकी सेंचुरी के दम पर विंडीज 329 रन तक पहुंच गया.

ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में कोर्टनी वॉल्श ने धमाल किया. पांच विकेट निकालते हुए मेहमानों को 146 पर समेट दिया. अब विंडीज के सामने टार्गेट था 308 रन का. चौथे दिन का खेल खत्म हुआ तो विंडीज 85 रन पर तीन विकेट खो चुका था. लारा 2 रन बनाकर नाबाद लौटे. पिछले ही मैच में डबल सेंचुरी मारने के बावजूद लारा का आत्मविश्वास डगमगाया था. ऐसे में उन्होंने गोमेज़ और अपने स्कूल डेब्यू के वक्त कैप्टन रहे ह्यू स्कॉट को फोन मिला दिया.

सुबह पांच बजे आई ये कॉल उठाने से ठीक पहले गोमेज़ और स्कॉट सोने की तैयारी कर रहे थे. वो दोनों उस वक्त बारबडोस के मशहूर हार्बर लाइट्स से पूरी रात पार्टी करके लौटे थे. लारा ने फोन पर कहा,

‘निक, तुम क्या कर रहे हो?’

निकलस ने जवाब दिया,

‘ब्रायन तुम्हें भरोसा नहीं होगा, मैं अभी तुरंत ही हार्बर लाइट्स से लौटा हूं. अब हम सोने जा रहे हैं.’

लारा ने अनुनय भरे स्वर में कहा,

‘निक, यार, मुझे तुम्हारी मदद चाहिए. मुझे तुम्हारी मदद चाहिए, मुझे नहीं पता कि आज कैसे बैटिंग करूं.’

ये सुनकर निकलस ने जब ह्यू से कहा कि लारा उन्हें बुला रहे हैं. तो ह्यू को लगा कि उनकी मौज ली जा रही है. फिर निकलस ने उन्हें जमैका का क़िस्सा बताया और बड़ी मुश्किल से अपने साथ चलने के लिए राजी किया. सुबह साढ़े पांच बजे दोनों लारा के होटल पहुंचे. अब होटल के उस कमरे में नशे में धुत फातिमा स्कूल के दो पूर्व कप्तान ह्यू और निकलस अपने आप से भरोसा खो चुके वेस्टइंडीज़ के कप्तान ब्रायन लारा को समझाने की कोशिश कर रहे थे.

इसी सिलसिले में शीशे के आगे खड़े होकर गोमेज़ ने कहा,

‘ब्रायन, चलो शॉर्ट बॉल्स की शैडो प्रैक्टिस करते हैं. एक प्लान बनाते हैं, देखते हैं कि हम शॉर्ट बॉल्स को कैसे खेलेंगे. चिंता करने की बात नहीं है. तुम्हें पता है कि यह कैसे करते हैं.’

मैच शुरू होने तक चली चर्चा के बाद लारा बैटिंग करने आए. जल्दी ही विंडीज का स्टोर 105 पर पांच विकेट हो गया. अब जिमी एडम्स आए. जिमी ने काफी देर बैटिंग की और लारा के साथ 133 रन जोड़े. इस साझेदारी में जिमी का योगदान 38 रन का था. 238 पर जिमी एडम्स के आउट होने के बाद स्कोर में सिर्फ 10 रन और जोड़कर विकेटकीपर रिडली जैकब्स और नेहेमिया पेरी भी लौट गए. विंडीज़ 248 रन पर 8 विकेट गंवा चुका था.

अब आए कर्टली एम्ब्रोस. उन्होंने 82 मिनट तक बैटिंग करते हुए लारा के साथ 52 रन जोड़े. इन 54 रनों में एम्ब्रोस का योगदान 12 रन का था. 302 के टोटल पर जेसन गिलेस्पी ने उन्हें चलता कर दिया. अंतिम बल्लेबाज के रूप में आए कर्टनी वॉल्श ने किसी तरह पांच गेंदें बिना आउट हुए निकालीं. और फिर लारा ने जेसन गिलेस्पी की गेंद पर अपने ट्रेडमार्क कवर ड्राइव के जरिए चौका मार विंडीज़ को जीत दिला दी.

लगभग छह घंटे चली लारा की इस पारी को बाद में विज़्डन ने टेस्ट इतिहास की दूसरी सबसे बेहतरीन बैटिंग परफॉर्मेंस माना था. इस पारी की एक और खास बात थी. लारा के 153 रन की नाबाद पारी को हटा दें तो विंडीज़ की ओर से दूसरा बड़ा स्कोर जिमी एडम्स के 38 रन थे.


INDvsENG: विराट कोहली ने वो कर दिया, जो बड़े-बड़े भारतीय दिग्गज नहीं कर पाए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पॉलिटिकल किस्से

बीजेपी का जायंट किलर, जिसने कभी राजीव गांधी सरकार के गृहमंत्री को मात दी थी

बीजेपी का जायंट किलर, जिसने कभी राजीव गांधी सरकार के गृहमंत्री को मात दी थी

और कभी जिसने कहा था, बाबा कसम है, मैं नहीं जाऊंगा.

वो मुख्यमंत्री जिसने इस्तीफा दिया और सामान सहित सरकारी बस से घर गया

वो मुख्यमंत्री जिसने इस्तीफा दिया और सामान सहित सरकारी बस से घर गया

दिल्ली के दूसरे मुख्यमंत्री साहिब सिंह वर्मा का आज जन्मदिन है

पी.ए. संगमा, कांग्रेस का वो नेता जिसे बीजेपी ने अपनी सरकार बचाने की कोशिश में लोकसभा सौंप दी थी

पी.ए. संगमा, कांग्रेस का वो नेता जिसे बीजेपी ने अपनी सरकार बचाने की कोशिश में लोकसभा सौंप दी थी

संगमा ने सोनिया गांधी के खिलाफ बगावत क्यों की थी?

जीएमसी बालयोगी की भलमनसाहत ने कैसे वाजपेयी सरकार गिरवा दी थी?

जीएमसी बालयोगी की भलमनसाहत ने कैसे वाजपेयी सरकार गिरवा दी थी?

12वीं और 13वीं लोकसभा के अध्यक्ष रहे जीएमसी बालयोगी की आज पुण्यतिथि है.

गुलाम नबी आजाद, वो नेता जिसने वाजपेयी पर हमले कर रहे संजय गांधी का कुर्ता खींच दिया था

गुलाम नबी आजाद, वो नेता जिसने वाजपेयी पर हमले कर रहे संजय गांधी का कुर्ता खींच दिया था

जानिए गुलाम नबी आजाद की पत्नी उनके बारे में क्या कहती हैं.

कैसे भारत-अमेरिका परमाणु समझौते पर लेफ्ट UPA सरकार का संकट बना था और अमर सिंह संकटमोचक?

कैसे भारत-अमेरिका परमाणु समझौते पर लेफ्ट UPA सरकार का संकट बना था और अमर सिंह संकटमोचक?

परमाणु डील पर अमर सिंह ने मनमोहन सरकार कैसे बचाई?

दिग्विजय सिंह : कहानी मध्यप्रदेश के उस मुख्यमंत्री की, जिसका नाम लेकर बीजेपी लोगों को डराती है

दिग्विजय सिंह : कहानी मध्यप्रदेश के उस मुख्यमंत्री की, जिसका नाम लेकर बीजेपी लोगों को डराती है

जो सिर्फ एक ही चुनाव मैनेज कर पाया. हारा तो कांग्रेस अब तक सत्ता में नहीं लौटी.

क्यों बाबरी विध्वंस के बाद भी एसबी चव्हाण ने गृह मंत्री पद नहीं छोड़ा था?

क्यों बाबरी विध्वंस के बाद भी एसबी चव्हाण ने गृह मंत्री पद नहीं छोड़ा था?

बतौर गृह मंत्री एसबी चव्हाण का कार्यकाल कई अप्रिय घटनाओं का गवाह रहा.

हिंदुत्व की राजनीति के 'बलराज', जिन्होंने वाजपेयी को कांग्रेसी कह दिया था

हिंदुत्व की राजनीति के 'बलराज', जिन्होंने वाजपेयी को कांग्रेसी कह दिया था

RSS ने बलराज मधोक के बजाय वाजपेयी को तवज्जो क्यों दी?

वाजपेयी के दोस्त सिकंदर बख्त से RSS की क्या खुन्नस थी?

वाजपेयी के दोस्त सिकंदर बख्त से RSS की क्या खुन्नस थी?

सिकंदर बख्त ने अटल बिहारी वाजपेयी के प्रभाव में भाजपा ज्वाइन की थी. आज उनकी डेथ एनिवर्सरी है.