Submit your post

Follow Us

वो एक्टर जिसने अपना रोल देकर अमिताभ बच्चन को लॉन्च किया!

आज हम एक ऐसे शख्स की बात करेंगे, जिसने हिंदी सिनेमा को उसका सबसे बड़ा सुपरस्टार दिया. अमिताभ बच्चन दिया. आज हम बात करेंगे विरेंदर राज आनंद की जिन्हें दुनिया ने मक़बूल एक्टर और फिल्मेकर टिनू आनंद के नाम से जाना.

टिनू मशहूर फिल्म राइटर इंदर राज आनंद के बेटे थे. इंदर साहब ने राज कपूर के लिए अनाड़ी और संगम समेत 4 फिल्में लिखीं. इसके अलावा वो छोटी-बड़ी पचासों फिल्मों के राइटर रह चुके थे. इंडस्ट्री में उनकी साख थी. बड़े लोगों के साथ उठना-बैठना था. मगर उन्हें ये भी पता था कि फिल्म इंडस्ट्री बड़ी रिस्की जगह है. यहां एक शुक्रवार सारे इक्वेशन बदल देता है. इसलिए वो नहीं चाहते थे कि उनके बेटे फिल्मों में आए.

फिल्म इंडस्ट्री से दूर रखने के लिए उन्होंने अपने बेटों टिनू और बिट्टू का एडमिशन अजमेर के मेयो कॉलेज में करवा दिया. ये सिर्फ लड़कों के लिए बना बोर्डिंग स्कूल था. जब स्कूल से लौटने के बाद टिनू ने अपने पिता को बताया कि वो फिल्ममेकर बनना चाहते हैं, तो इंदर साहब का पारा चढ़ गया. मगर थोड़े ही दिनों में उन्हें ये समझ आ गया कि ये लड़का फिल्मों के अलावा कुछ और नहीं करेगा. थक हारकर उन्हें टिनू की बात माननी पड़ी.

1.

टिनू आनंद को तीन फिल्मी दिग्गजों के साथ करियर शुरू करने का मौका मिला था

जब टिनू पूरी तरह से फिल्मों में जाने का मन बना चुके थे, तो पापा ने कुछ लोगों को फोन लगाए. उन्होंने फिल्ममेकिंग सीखने के लिए टिनू को तीन दिग्गजों के पास जाने को कहा. ये तीन लोग थे-

1) राज कपूर
2) सत्यजीत रे और
3) मशहूर इटैलियन फिल्ममेकर फेड्रिको फेलिनी.

राज कपूर के पास जाने का कोई फायदा नहीं था. क्योंकि आनंद और कपूर परिवार के काफी गाढ़े संबंध थे. ऐसे में फिल्म सेट पर जाकर काम सीखने की बजाय खिलवाड़ करना ठीक ऑप्शन नहीं था. टिनू ने फेड्रिको फेलिनी के यहां जाना चुना. वो खुश थे कि फिल्म ट्रेनिंग के साथ-साथ उन्हें इटली घूमने का भी मौका मिलेगा. मगर फेलिनी की ये शर्त थी कि अगर टिनू इटली आते हैं, तो उन्हें इटैलियन लैंग्वेज सीखकर आना होगा. इसमें 6 महीने का समय लगना था. इसलिए ये वाला ऑप्शन भी ड्रॉप हो गया. अब बचे सत्यजीत रे, जो कि इंदर राज आनंद के अच्छे दोस्त थे.

अपने करियर के शुरुआती दिनों में टिनू आनंद.
अपने करियर के शुरुआती दिनों में टिनू आनंद.

इंदर साहब ने सत्यजीत रे को एक चिट्ठी लिखी. इसमें उन्होंने रे से गुज़ारिश की कि उनके बेटे को अपनी छत्र-छाया में फिल्ममेकिंग की ट्रेनिंग दें. एक महीने बाद रे का जवाब आया. वो टिनू को अपने साथ रखकर फिल्ममेकिंग सीखाने के लिए तैयार थे.

2.

वो एक्टर जिसने अमिताभ को अपना रोल देकर फिल्मों में लॉन्च किया

जब तक सत्यजीत रे की चिट्ठी का जवाब आता, उतने समय में टिनू आनंद ने एक फिल्म साइन कर ली थी. फिल्ममेकर K.A. Abbas टिनू के पिता के दोस्त थे. टिनू स्कूल की छुट्टियों में जब भी अजमेर से बम्बई आते, अब्बास साहब के यहां पहुंच जाते फिल्म में रोल मांगने. टिनू उनकी फिल्मों में पासिंग शॉट्स में भी दिखने को तैयार थे. मगर इस बार K.A. Abbas ने टिनू को अपनी फिल्म में लीड रोल दे दिया था. ये फिल्म थी- सात हिंदुस्तानी. इसमें टिनू का रोल एक कवि का था.

टिनू की कास्टिंग के बाद अब्बास साहब फिल्म की हीरोइन ढूंढ रहे थे. उन दिनों टिनू की एक दोस्त दिल्ली से आई हुई थीं. नीना नाम था उनका. अब्बास ने उन्हें टिनू के घर पर देखा और पूछवा लिया कि वो एक्टिंग में दिलचस्पी रखती हैं. नीना फिल्म में काम करने को तैयार हो गईं. एक दिन नीना ने टिनू को अपने एक दोस्त की फोटो दी. नीना ने बताया कि ये लड़का कलकत्ता में रहता है और एक्टिंग करना चाहता है. अब्बास साहब से पूछकर देखो इसका कुछ हो सकता है क्या!

जो तस्वीर नीना ने टिनू को दी थी, उसमें अमिताभ विक्टोरिया मेमोरियल के सामने खड़े नज़र आ रहे थे. उस तस्वीर की डेस्क्रिप्शन के सबसे करीब हमें अमिताभ की यही फोटो लगी.
जो तस्वीर नीना ने टिनू को दी थी, उसमें अमिताभ विक्टोरिया मेमोरियल के सामने खड़े नज़र आ रहे थे. उस तस्वीर की डेस्क्रिप्शन के सबसे करीब हमें अमिताभ की यही फोटो लगी.

टिनू अपने एक इंटरव्यू में बताते हैं कि उन्होंने जब वो फोटो देखी, उसमें उन्हें एक लंबा सा लड़का नज़र. जो विक्टोरिया मेमोरियल के बाहर खड़ा था. टिनू ने वो फोटो K.A. Abbas साहब को दिखाई. अब्बास साहब की एक शर्त थी. शर्त ये कि फोटो में दिख रहे इस लड़के को अगर एक्टिंग करनी है, तो ऑडिशन के लिए अपने खर्चे पर कलकत्ता से बम्बई आना होगा. अब्बास ने ये भी कहा कि उन्हें नहीं पता कि ऑडिशन कब तक हो पाएगा. इसलिए जब तक ऑडिशन नहीं हो जाता, तब तक उस भावी एक्टर को अपने खर्चे पर बम्बई में ठहरकर इंतज़ार करना होगा. जिस लंबे लड़के की बात हो रही है,उसका नाम था अमिताभ बच्चन. अमिताभ को K.A. Abbas की ये सारी शर्तें मंज़ूर थीं. वो अगले कुछ दिनों में कलकत्ता से बम्बई आ गए. टिनू अमिताभ को अब्बास साहब से मिलाने उनके ऑफिस ले गए. मगर देरी होने की बजाय उसी दिन शाम को अमिताभ का काम बन गया.

K.A. Abbas ने टिनू आनंद को एक काम दिया. काम ये था कि उन्हें अमिताभ बच्चन को सिर्फ 5 हज़ार रुपए में फिल्म सात हिंदुस्तानी के लिए साइन करना था. फिल्म में अमिताभ को लीडिंग मैन यानी कवि के दोस्त का रोल दिया गया था. मगर उस दौर के लिहाज़ से भी सपोर्टिंग एक्टर को दी जाने वाली ये बेहद कम फीस थी. अमिताभ किसी भी हाल में एक्टिंग करना चाहते थे, इसलिए उन्होंने ये ऑफर स्वीकार कर लिया. जब तक ये सब होता, तब तक इंदर साहब को सत्यजीत रे का जवाब आ गया. वो टिनू को फिल्ममेकिंग ट्रेनिंग देने के लिए तैयार थे. ऐसे में टिनू को फिल्म सात हिंदुस्तानी में लीड रोल छोड़कर कलकत्ता जाना पड़ा.

फिल्म सात हिंदुस्तानी के एक सीन फिल्म के सभी एक्टर्स. इसमें अमिताभ आपको सबसे दाहिने तरफ नज़र आएंगे.
फिल्म सात हिंदुस्तानी के एक सीन फिल्म के सभी एक्टर्स. इसमें अमिताभ आपको सबसे दाहिनी तरफ नज़र आएंगे.

इसके बाद जो रोल टिनू आनंद करने वाले थे, अब वो कवि वाला लीड रोल अमिताभ बच्चन को मिल गया. ये लीड रोल में अमिताभ बच्चन के करियर की पहली फिल्म थी. 1969 में आई फिल्म सात हिंदुस्तानी में अमिताभ के साथ उत्पल दत्त, जलाल आग़ा और अनवर अली जैसे एक्टर्स ने काम किया था.

3.

सत्यजीत रे की वजह से कोई टिनू को काम नहीं दे रहा था

सत्यजीत रे के साथ पांच साल काम करने के बाद टिनू आनंद बम्बई लौटे. अब वो अपनी फिल्म डायरेक्ट करना चाहते थे. साथ ही वो इस गुमान में भी थे कि सत्यजीत रे जैसे लिविंग लेजेंड के साथ काम किए होने की वजह से उन्हें फटाक से फिल्म मिल जाएगी. मगर बम्बई में उनके साथ कुछ उल्टा ही होने लगा. वो जिसके पास भी काम मांगने जाते, वो शख्स सत्यजीत रे का नाम सुनकर सकुचा जाता. लोगों को लगता कि टिनू ने सत्यजीत रे जैसी सीरियस फिल्ममेकर के साथ काम करके आए हैं. इसलिए वो भी सिर्फ गंभीर सिनेमा ही बनाएंगे. इसी चक्कर में टिनू दो साल तक बेरोज़गार रहे.

कलकत्ता में सत्यजीत रे के फिल्म सेट पर टिनू आनंद. टिनू ने सत्यजीत रे से पांच साल तक फिल्ममेकिंग की ट्रेनिंग ली थी.
कलकत्ता में सत्यजीत रे के फिल्म सेट पर टिनू आनंद. टिनू ने सत्यजीत रे से पांच साल तक फिल्ममेकिंग की ट्रेनिंग ली थी.

अपने एक इंटरव्यू में टिनू आनंद बताते हैं कि उन दो सालों तक बिना फिल्म मिले उनका काम इसलिए चलता रहा क्योंकि वो एक सफल बाप के बेटे थे. उन दो सालों में टिनू कोई फिल्म तो नहीं मिली, मगर इस दौरान उन्होंने 70 ऐड फिल्में डायरेक्ट कीं, जिससे उनके घर का चूल्हा जलता रहा.

4.

टिनू को सत्यजीत रे ने नहीं, अजय देवगन के पिता ने सिखाई फिल्ममेकिंग

टिनू आनंद अपने तमाम इंटरव्यूज़ में खुलकर बताते हैं कि उन्होंने बेशक सत्यजीत रे जैसे मास्टर आदमी के साथ काम किया हो. मगर उन्हें फिल्ममेकिंग के गुर एक्शन डायरेक्टर वीरु देवगन ने सिखाए. टिनू बताते हैं कि वीरु ने उन्हें वो सबकुछ अनलर्न करने के लिए कहा, जो वो सत्यजीत रे इंस्टिट्यूट से सीखकर आए थे. वीरु ने उन्हें गुरु ज्ञान देते हुए कहा कि अगर हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में काम करना है, तो बिना हीरो के काम करना सीख लो. इससे उनका मतलब ये था कि टिनू को वो ट्रिक्स सीखने चाहिए, जिससे वो सेट पर हीरो की एब्सेंस में भी शूटिंग जारी रख सकें.

फिल्म कालिया के फैनमेड पर पोस्टर अमिताभ बच्चन और अमजद खान. इस फिल्म को टिनू ने डायरेक्ट किया था.
फिल्म कालिया के फैनमेड पर पोस्टर अमिताभ बच्चन और अमजद खान. इस फिल्म को टिनू ने डायरेक्ट किया था.

टिनू ने वीरु की सिखाई बात सुनी और उसे अमल में लेकर आए. अब वो अपनी फिल्में हीरो के डुप्लीकेट लोगों के साथ शूट कर लेते थे. अब उन्हें सिर्फ उन्हीं सीन्स में हीरो की ज़रूरत पड़ती थी, जहां हीरो को स्क्रीन पर डायलॉग बोलना होता था. टिनू अपनी इस कला का एक नायाब नमूना पेश करते हुए एक किस्सा सुनाते हैं. बकौल टिनू एक बार अमिताभ डबिंग स्टुडियो में अपने सीन्स डब करने आए हुए थे. यहां उन्हें अमज़द खान के साथ उनका एक सीन दिखाया, जिसे देख अमिताभ हैरान-परेशान रह गए. अमिताभ बार-बार सिर्फ एक ही बात कहते-

”मैंने तो कभी अमज़द के साथ ये सीन शूट ही नहीं किया.”

अब तो टेक्नॉलजी की मदद से इस तरह की चीज़ें होना आम बात हैं. मगर 70-80 के दशक में इस तरह की टेक्निकैलिटी को इस्तेमाल में लाना फिल्ममेकर्स के लिए गौरव की बात होती थी.

5.

जिन टिनू की वजह से अमिताभ एक्टर बने, उनकी फिल्म को ही टरकाने लगे

टिनू आनंद जब बतौर डायरेक्टर अपनी पहली फिल्म ‘दुनिया मेरी जेब में’ बना रहे थे, तब वो एक दूसरी फिल्म के आइडिया पर भी काम कर रहे थे. बाद में इसी आइडिया पर फिल्म कालिया बनी थी. खैर, कालिया की स्क्रिप्ट पूरी करने के बाद टिनू ने इसकी कहानी कई एक्टर्स को सुनाई. मगर कोई इस फिल्म में काम करने को तैयार नहीं हुआ. इसके बाद टिनू ने सुपर-बिज़ी अमिताभ के पीछे दौड़ना शुरू किया. एक साल तक अमिताभ के फेर में वो स्टुडियोज़ की खाक छानते रहे.

एक दिन अमिताभ जब फिल्म डॉन की शूटिंग कर रहे थे, तो टिनू अड़ गए. तब जाकर अमिताभ उनकी कहानी सुनने को तैयार हुए. जब टिनू ने कालिया की स्क्रिप्ट सुनाकर खत्म की, तो अमिताभ बिलकुल शांत थे. टिनू ने उस शांति को भंग करते हुए कहा-

”आपको ये कहने की ज़रूरत नहीं है कि मेरी स्क्रिप्ट अच्छी लगी. क्योंकि मुझे पता है कि ये कहानी आपको पसंद आ गई है.”

टिनू की ओर से की गई ये बड़ी ओवर-कॉन्फिडेंट और वीयर्ड चीज़ थी. अमिताभ ने टिनू से पलटकर पूछा कि उन्हें कैसे पता कि ये स्क्रिप्ट उन्हें अच्छी लगी है.

एक फिल्म के सेट पर अमिताभ बच्चन और नेपथ्य चश्मा लगाए टिनू आनंद.
एक फिल्म के सेट पर अमिताभ बच्चन और नेपथ्य चश्मा लगाए टिनू आनंद.

इसके बाद टिनू ने अपने इस ओवर-कॉन्फिडेंस के पीछे की ट्रिक बताई. टिनू ने बताया कि वो अमिताभ को स्क्रिप्ट सुनाने से पहले कई लोगों से मिलकर आए थे. उन लोगों ने उन्हें बताया कि अगर स्क्रिप्ट सुनते वक्त अमिताभ आकाश की ओर देखते हैं या अपने बाल संवारने लगते हैं, इसका मतलब स्क्रिप्ट उन्हें पसंद नहीं आई. मगर कालिया की स्क्रिप्ट सुनते वक्त अमिताभ ने इनमें से कोई हरकत नहीं की थी. अमिताभ मुस्कुराकर टिनू की उस फिल्म पर काम करने को तैयार हो गए. कालिया के बाद अमिताभ ने टिनू के डायरेक्शन में बनीं शहंशाह और मैं आज़ाद हूं जैसी फिल्मों में काम किया. जब अमिताभ ने अपनी प्रोडक्शन कंपनी शुरू की, तब उन्होंने मेजर साब नाम की फिल्म डायरेक्ट करने के लिए टिनू को बुलाया.

6.

जब कमल हासन ने टिनू को कहा- अगर आपने ये फिल्म कर ली, तो कभी मद्रास की सड़कों पर नहीं घूम पाएंगे!

शहंशाह की शूटिंग के दौरान एक दिन टिनू के लिए STD फोन कॉल आई. ये फोन मद्रास से एक्ट्रेस सारिका ने किया था. तब तक सारिका और कमल हासन शादी कर चुके थे. बतौर एक्टर टिनू की जो पहली फिल्म थी, उसमें नसीरुद्दीन शाह, अमोल पालेकर और सारिका ने भी काम किया था. हालांकि वो फिल्म कभी रिलीज़ नहीं हो पाई. इसलिए सारिका और टिनू की जान-पहचान पुरानी थी.

सारिका ने बताया कि कमल हासन पुष्पक नाम की एक फिल्म प्लान कर रहे हैं. इस फिल्म में एक रोल के लिए अमरीश पुरी से बात हुई थी, मगर वो बहुत व्यस्त होने की वजह से ये फिल्म नहीं कर पाएंगे. उस रोल के लिए एक्टर्स तलाशने के दौरान कमल की नज़र टिनू की फोटो पर पड़ गई. अब वो उस रोल में उन्हें कास्ट करना चाहते हैं. सारिका चाहती थीं कि टिनू अगले ही दिन चेन्नई चले आएं. टिनू ने बताया कि वो अमिताभ बच्चन के साथ काम कर रहे हैं, इसलिए वो नहीं आ पाएंगे. मगर कमल हासन की रिक्वेस्ट को मना नहीं कर पाए.

फिल्म शहंशाह की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन के साथ डायरेक्टर टिनू आनंद.
फिल्म शहंशाह की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन के साथ डायरेक्टर टिनू आनंद.

इसके बाद टिनू अमिताभ से बात करने गए. टिनू के एक दिन के लिए मद्रास जाने से अमिताभ को कोई दिक्कत नहीं थी. इस तरह से फिल्म पुष्पक में टिनू आनंद को एक ज़रूरी किरदार निभाने का मौका मिला. पुष्पक एक साइलेंट-एक्सपेरिमेंटल फिल्म थी. पुष्पक की शूटिंग के दौरान कमल हासन ने टिनू को अपनी एक फिल्म के बारे में बताया. कमल ने बताया कि वो मणिरत्नम नाम के एक नए लड़के के साथ नायकन नाम की फिल्म कर रहे हैं. उन्होंने उस फिल्म के लिए 10 दिन की शूटिंग की है. उन्हें लगता है कि ये फिल्म तमिल ही नहीं इंडियन सिनेमा के लिए मील का पत्थर साबित होगी. कमल ने बताया कि उस फिल्म में एक बड़ा शानदार रोल है, उसके लिए उन्होंने मणिरत्नम को टिनू का नाम सुझाया है. टिनू ने ये बात हंसी-हंसी में निकाल दी. मगर कमल इसे लेकर सीरियस थे. उन्होंने टिनू से कहा-

”अगर ये रोल वैसा ही उभरकर आता है, जैसे हमने इसे प्लान किया है, तो आप मद्रास की सड़कों पर कभी घूम नहीं पाएंगे.”

और हुआ भी यही. जब टिनू आनंद पुष्पक और नायकन जैसी फिल्मों की रिलीज़ के बाद मद्रास की सड़कों पर निकले, तो पब्लिक वाकई उनके पीछे दौड़ रही थी. टिनू फिल्ममेकर से कब इतने पॉपुलर एक्टर बन गए उन्हें खुद भी पता नहीं चला.

फिल्म पुष्पक के एक सीन में कमल हासन और टिनू आनंद.
फिल्म पुष्पक के एक सीन में कमल हासन और टिनू आनंद.

7.

आज कल कहां हैं टिनू आनंद और क्या कर रहे हैं?

टिनू आनंद ने अपने करियर 8 फिल्में डायरेक्ट कीं और 60 से ज़्यादा फिल्मों में बतौर एक्टर नज़र आए. वो खिलाड़ी, त्रिमूर्ती, घातक, चाइना गेट और लज्जा जैसी फिल्मों में एक्टर के तौर पर नज़र आए. वो सलमान खान की दबंग सीरीज़ का भी हिस्सा रह चुके हैं. एक इंट्रेस्टिंग ट्रिविया ये भी जान लीजिए कि कल्ट फिल्म अंदाज़ अपना अपना में पहले क्राइम मास्टर गोगो का रोल टिनू आनंद ही करने वाले थे. उन्होंने तीन दिन तक इस फिल्म की शूटिंग भी की थी. मगर डेट्स की दिक्कतों की वजह से उन्हें ये फिल्म छोड़नी पड़ी. ‘आंखें निकालकर गोटियां खेलूंगा’ जैसा पॉपुलर डायलॉग खुद टिनू ने अपने क्राइम मास्टर गोगो वाले किरदार के लिए लिखा था. बाद में वो रोल शक्ति कपूर के खाते में चला गया. टिनू फिल्म डायरेक्शन से तो लंबे समय से दूर हैं. पिछले दिनों चर्चा थी कि 75 साल के हो चुके टिनू, अपनी पॉपुलर फिल्म शहंशाह को रीमेक करने जा रहे हैं. मगर फिलहाल ये प्रोजेक्ट किसी भी एंगल से मटीरियलाइज़ होता नज़र नहीं आ रहा. बतौर एक्टर वो आखिरी बार प्रभास की फिल्म साहो में दिखलाई पड़े थे. टिनू मुंबई की भाग-दौड़ भरी ज़िंदगी से दूर मड आइलैंड में बने अपने घर में रहते हैं.


वीडियो देखें: दिलीप कुमार और अमिताभ बच्चन की इस फिल्म के प्रड्यूसर को किसने किडनैप किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

क़िस्से उस दिग्गज के, जिसकी एक लाइन ने 16 साल के सचिन को पाकिस्तान टूर करा दिया!

वासू परांजपे, जिन्होंने कहा था- ये लगने वाला प्लेयर नहीं, लगाने वाला प्लेयर है.

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

इंग्लिश कप्तान ने कहा, इनसे तो नाक रगड़वाउंगा, और फिर इतिहास लिखा गया

विवियन ने डिक्शनरी में 'ग्रॉवल' का मतलब खोजा और 829 रन ठोक दिए.

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

अंग्रेज़ों ने पास देने से इन्कार क्या किया राजीव गांधी का मंत्री वर्ल्डकप टूर्नामेंट छीन लाया!

इसमें धीरूभाई अंबानी ने भी मदद की थी.

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

जब क्रिकेट मैदान के बाद पोस्टर्स में भी जयसूर्या से पिछड़े सचिन-गांगुली!

अमिताभ को भी था जयसूर्या पर ज्यादा भरोसा.

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

ब्रिटिश अखबारों से खौराकर कैसे वर्ल्ड कप जीत गई टीम इंडिया?

क़िस्सा 1983 वर्ल्ड कप का.

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

धक्के, गाली और डंडे खाकर किसे खेलते देखने जाते थे कपिल देव?

कौन थे 1983 वर्ल्ड कप विनर के हीरो?

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

जब किरमानी ने कपिल से कहा- कप्तान, हमको मार के मरना है!

क़िस्सा वर्ल्ड कप की सबसे 'महान' पारी का.

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

83 वर्ल्ड कप में किसी टीम से ज्यादा कपिल की अंग्रेजी से डरती थी टीम इंडिया!

सोचो कुछ, कहो कुछ, समझो कुछ.

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

1983 वर्ल्ड कप फाइनल में फारुख इंजिनियर की भविष्यवाणी, जो इंदिरा ने सच कर दी

जानें क्या थी वो भविष्यवाणी.

जब इंग्लैंड की दुकान में चोरी करते पकड़ा गया टीम इंडिया का खिलाड़ी!

जब इंग्लैंड की दुकान में चोरी करते पकड़ा गया टीम इंडिया का खिलाड़ी!

कहानी उस मैच की, जब दुनिया की नंबर एक टीम 42 रनों पर ढेर हो गई.