Submit your post

Follow Us

जब अमिताभ बच्चन को फोन कर गोविंदा ने कहा, मैं सेट पर लेट आऊंगा

गोविंदा आला रे! 

ये नाम है दिल्ली के ताज पैलेस होटल में हुए ‘एजेंडा आज तक’ के एक सेशन का. इस सेशन में आज तक की एंकर श्वेता सिंह गोविंदा से बातचीत कर रही थीं. यहां गोविदा ने अपनी आने वाली फिल्म ‘रंगीला राजा’ से लेकर करियर से जुड़े दूसरे पहलुओं पर बात की. इस बातचीत से कई किस्से निकलकर आए, जो हम आपको नीचे पढ़वा रहे हैं.

कैसे मिली थी पहली फिल्म ?

गोविंदा ने बताया कि उन्हें बतौर एक्टर अपना करियर शुरू करने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़े थे. लोगों को अपना काम दिखाने के लिए उन्होंने अपनी एक्टिंग की एक सीडी बना ली थी, जो वो प्रोड्यूसर्स-डायरेक्टर्स को देते फिरते थे. एक दिन वो पहलाज निहलानी के पास पहुंचे. तब पहलाज मिथुन चक्रवर्ती के साथ काम कर रहे थे. उन्होंने गोविंदा की सीडी में उनका काम देखा और कहा कि उनकी अगली फिल्म के हीरो वही होंगे. ये फिल्म थी 1986 में रिलीज़ हुई ‘इल्जाम’ . इसे पहलाज निहलानी के लिए शिबू मित्रा ने डायरेक्ट की थी. इस फिल्म के बाद गोविंदा को बहुत काम मिलने लगा. गोविंदा को भी लगा इतने दिन से काम नहीं किया अब बहुत सारा काम करेंगे. इसी चक्कर में उन्होंने दो हफ्तों में 49 फिल्में साइन कर लीं थीं. और वो दिन-रात अलग-अलग फिल्मों की शूटिंग करते रहते थे.

आज तक के मंच पर पहुंचे गोविंदा के साथ उनकी फिल्म के प्रोड्यूसर पहलाज निहलानी और हीरोइन मिशिका चौरसिया भी थीं.
आज तक के मंच पर पहुंचे गोविंदा के साथ उनकी फिल्म के प्रोड्यूसर पहलाज निहलानी और हीरोइन मिशिका चौरसिया भी थीं.

जब अमिताभ बच्चन को फोन कर गोविंदा ने कहा कि वो सेट पर लेट आएंगे

गोविंदा ने 1998 में एक फिल्म की थी ‘बड़े मियां छोटे मियां’. इस फिल्म में वो अमिताभ बच्चन के साथ काम करने वाले थे. गोविंदा सेट पर आमतौर पर लेट ही पहुंचते थे. लेकिन बच्चन साहब समय की पाबंदी के लिए जाने जाते हैं. सभी चीज़ें तय समय पर ही करना पसंद करते हैं. जब ये बात गोविंदा को पता चली, तो वो दिक्कत में फंस गए. उन्हें लगा अमिताभ बच्चन इतने सीनियर कलाकार हैं, उनके सामने अगर वो लेट आएंगे, तो मामला बिगड़ जाएगा. ये मसला सुलझाने के लिए उन्होंने अमिताभ बच्चन को ही फोन कर दिया. फोन करने के बाद उन्होंने कहा कि वो आमतौर पर सेट पर लेट पहुंचते हैं क्योंकि वो एक साथ कई फिल्मों की शूटिंग कर रहे होते हैं. अमिताभ ने इसका जो जवाब दिया, वही उन्हें इस सदी का महानायक बनाता है. बच्चन साहब ने गोविंदा को कहा कि वो अपने सेट पर पहुंचने का समय बता दें, वो उसी के हिसाब से सेट पर पहुंच जाएंगे. बाकी लोगों को जो सोचना है, वो सोचते रहें. इस तरह से ‘बड़े मियां छोटे मियां’ की शूटिंग पूरी हुई.

फिल्म 'बड़े मियां छोटे मियां' में अमिताभ और गोविंदा ने पुलिसवाले का किरदार निभाया था.
फिल्म ‘बड़े मियां छोटे मियां’ में अमिताभ और गोविंदा ने पुलिसवाले का किरदार निभाया था.

शाहरुख खान के साथ ‘देवदास’ करने का ऑफर गोविंदा ने क्यों ठुकरा दिया?

संजय लीला भंसाली फिल्म ‘देवदास’ बना रहे थे. इस फिल्म में मुख्य किरदार निभाने के लिए उन्होंने शाहरुख खान को चुना गया. चुन्नी लाल का किरदार गोविंदा को ऑफर किया गया. लेकिन गोविंदा ने ये फिल्म करने से मना कर दिया. उन्हें लगा कि इस तरह की फिल्में उनके लिए नहीं है. फिल्म के लिए मना करने के दौरान गोविंदा ने कास्टिंग डायरेक्टर से पूछा कि क्या उनमें वो चुन्नी लाल दिखता है, जो किसी को शराब पिलाकर मार दे? कास्टिंग डायरेक्टर ने कहा नहीं. इसी सवाल-जवाब के बाद गोविंदा ने उस फिल्म में काम करने से इन्कार कर दिया. बाद में चुन्नी लाल के किरदार के लिए जैकी श्रॉफ को फाइनल कर लिया गया.


वीडियो देखें: 2.0 के बाद रजनीकांत की अगली फिल्म ये है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

26/11 नहीं होता तो श्रीलंका की जगह धोनी, सचिन, द्रविड़ पर होता हमला!

जयावर्धने ने गर्दन हिलाई और गोली उनके कान को लाल करते हुए निकली.

'आप की पाकिस्तान के ख़िलाफ़ खेली इनिंग ने विश्वकप को सफ़ल बना दिया है'

विश्वकप के आयोजक सदस्य ने जब भारतीय बल्लेबाज़ को फैक्स कर ये कहा था.

उस सीरीज का किस्सा, जिसने ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया का 71 साल का सूखा खत्म किया

सीरीज के दौरान भी खूब ड्रामे हुए थे.

Vizag में जिन वेणुगोपाल का गेट बना है उन्होंने गुड़गांव में पीटरसन और इंग्लैंड को रुला दिया था

वेणुगोपाल की इस पारी के आगे द्रविड़ की ईडन की पारी भी फीकी थी.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं