Submit your post

Follow Us

2021 में ज़ी5 पर जो भी रिलीज़ हुआ, उनमें ये सीरीज़ और फ़िल्में मस्ट वॉच हैं

2021 खत्म होने को है. और 2022 गेट पर खड़ा नॉक कर रहा है. ये साल सिनेमा और सिनेमाघरों के लिए राहत भरा रहा. लंबे अरसे बाद थिएटर्स खुले और कई अच्छी फ़िल्में रिलीज़ हुईं. ओटीटी पर भी इस साल कई सारे अच्छे शोज़ और फ़िल्में आईं. वैसे तो सभी की यही कोशिश रहती है कि कुछ अच्छा कॉन्टेंट मिस ना हो जाए. लेकिन कितना भी कर लो इतने सारे ओटीटी प्लेटफॉर्म हैं कि ना चाहते हुए भी कुछ न कुछ मिस हो ही जाता है.

लल्लनटॉप सिनेमा पर हम आपके लिए हर ओटीटी प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध बढ़िया शोज़ और फ़िल्मों की लिस्ट तैयार कर रहे हैं. ताकि आप कुछ भी मिस ना करें. इसी क्रम में हमने ज़ी5 की बेहतरीन फ़िल्मों और शोज़ की लिस्ट तैयार की है. लिस्ट देखें और फिर लिस्ट में लिखे शोज़ और फिल्में देखें. आइए स्टार्ट करें.


1. बॉब बिस्वास(हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – अभिषेक बच्चन, चित्रांगदा सिंह
डायरेक्टर – सुजॉय घोष
'बॉब बिस्वास' में अभिषेक बच्चन ने बेहतरीन किरदार निभाया है.
‘बॉब बिस्वास’ में अभिषेक बच्चन ने बेहतरीन किरदार निभाया है.

कहानी- ये फ़िल्म 2012 में आई विद्या बालन स्टारर ‘कहानी’ के एक कैरेक्टर का स्पिनऑफ है. कहानी है बॉब बिस्वास की. ऊपर से बीमा एजेंट, पर अंदर से अंडरकवर एजेंट. जो बिना चेहरे पर शिकन लाए हल्लू से मर्डर कर देता है. मगर पंगा ये है कि इस मर्डरर की यादाश्त चली गई है. अब उसकी मेमरी सही में चली गई या वो नाटक कर रहा है, यही फिल्म की कहानी है.

ख़ास बात- इंडिया में बनी दूसरी स्पिनऑफ फिल्म है ‘बॉब बिस्वास’. फ़िल्म में अभिषेक की परफॉरमेंस देखने लायक है.


2. सनफ्लॉवर(हिंदी सीरीज़)
कास्ट – सुनील ग्रोवर, आशीष विद्यार्थी
डायरेक्टर – विकास बहल, राहुल सेनगुप्ता
 'सनफ्लॉवर' शो एमिन सुनील ग्रोवर और आशीष विद्यार्थी लीड रोल में हैं.
‘सनफ्लॉवर’ शो में सुनील ग्रोवर और आशीष विद्यार्थी लीड रोल में हैं.

कहानी- मुंबई की एक सनफ्लॉवर नाम की मिडल क्लास हाउसिंग सोसाइटी में मर्डर हो जाता है. मर्डर का शक सीधा सोसाइटी में रह रहे लोगों पर जाता है. इस मर्डर मिस्ट्री के हल होने के दौरान कई ऐसे मौके आते हैं जब सोसाइटी में रह रहे सोनू सिंह (सुनील ग्रोवर) के साथ अजब-गज़ब हरकतें हो जाती हैं.

ख़ास बात- ‘सनफ्लॉवर’ लीक से हटकर डार्क ह्यूमर से भरी थ्रिलर सीरीज़ है.


3. कागज़ (हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – पंकज त्रिपाठी, सतीश कौशिक
डायरेक्टर – सतीश कौशिक
'कागज़' फ़िल्म में पंकज त्रिपाठी ने बेमिसाल अभिनय किया है.
‘कागज़’ फ़िल्म के एक सीन में पंकज त्रिपाठी.

कहानी- ‘कागज़’कहानी है भरत लाल बिहारी की जिनका सरकारी कागज़ों में बतौर मृतक नाम दर्ज है. फ़िल्म में आपको भरतलाल की अपने आप को जीवित प्रूव करने की मशक्कत देखने को मिलती है.

ख़ास बात- ‘कागज़’ सरकारी ढर्रे की खस्ताहाल हालत को बड़े व्यंगात्मक ढंग से हंसाते हुए दिखलाती है. इस फिल्म का सलमान खान ने प्रोड्यूस किया था.


4. मास्टर (तमिल फ़िल्म)
कास्ट – जॉसफ विजय, विजय सेतुपति
डायरेक्टर – लोकेश कनगराज
'मास्टर' में विजय चंद्रशेखर, विजय सेतुपति लीड रोल में हैं.
‘मास्टर’ में विजय और विजय सेतुपति लीड रोल में हैं.

कहानी- शराब की लत से जूझ रहे JD नाम के प्रोफेसर को जुवेनाइल रिफॉर्म स्कूल में बच्चों को पढ़ाने भेजा जाता है. वहां पहुंचकर JD को मालूम चलता है कि वहां का लोकल क्रिमिनल भवानी उसके स्टूडेंट्स का इस्तेमाल अपने गुनाहों को छुपाने के लिए कर रहा है. यहां से JD बेगुनाह बच्चों को बचाने के लिए भवानी के खिलाफ़ जंग छेड़ देता है.

ख़ास बात- ‘मास्टर’ एक ज़बरदस्त मास एंटरटेनर फिल्म है. इस फिल्म में थलपति विजय और विजय सेतुपति को एक दूसरे से भिड़ते देखने मजेदार एक्सपीरियंस है.


5. रिपब्लिक (तेलुगु फ़िल्म)
कास्ट – साई धर्म तेज, ऐश्वर्या राजेश
डायरेक्टर – देव कट्टा
'रिपब्लिक' एक ज़बरदस्त पॉलिटिकल ड्रामा है
‘रिपब्लिक’ फिल्म का एक सीन.

कहानी- ये स्टोरी है IIT गोल्ड मेडलिस्ट अभी की. वो एग्जाम पास कर बतौर डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर नियुक्त होता है. यहां उसका सामना होता है नेता विशाखा वाणी से. जो सत्ता की गद्दी तक एशिया के सबसे बड़े तालाब को दूषित कर पहुंची है. विशाखा वहां के मासूम लोगों को भ्रमित कर अपने साथ मिलाए हुए है. ऐसे में अभी, पर्यावरण को बचाने और लोगों में जागरूकता लाने के लिए अभी विशाखा के खिलाफ़ जंग छेड़ देता है. क्या अभी कामयाब होता है या सत्ता की ताकत के आगे घुटने टेक देता है? जानने के लिए देखें ‘रिपब्लिक’.

ख़ास बात- ‘रिपब्लिक’ एक ज़बरदस्त पॉलिटिकल ड्रामा है जो नॉर्मल एंटरटेनमेंट रूट लेने की बजाय वास्तविकता के काफी करीब रहने की कोशिश करती है.


6. राजा राजा चोरा (तेलुगु फ़िल्म)
कास्ट – श्री विष्णु, मेघा आकाश
डायरेक्टर – हसित गोली
 'राजा राजा चोरा' एक गजब की सिच्युएश्न्ल कॉमेडी फिल्म है
‘राजा राजा चोरा’ एक सिचुएशनल कॉमेडी फिल्म है.

कहानी- इस स्टोरी का हीरो है भास्कर. लोगों को बताता है सॉफ्टवेयर इंजिनियर है. मगर असल में भास्कर चोरियां करता है. ऐसे ही एक चोरी में वो ऐसा फंसता है कि जान के लाले पड़ जाते हैं.

ख़ास बात- ‘राजा राजा चोरा’ एक गजब की सिच्युएश्न्ल कॉमेडी फिल्म है. जो हंसा-हंसाकर पेट में बल ला देती है.


7. रश्मि रॉकेट (हिंदी फ़िल्म)
कास्ट -तापसी पन्नू, प्रियांशु पेंयुली, सुप्रिया पाठक
डायरेक्टर – आकर्ष खुराना
रश्मि छोटे शहर की लड़की है. दिन रात मेहनत करके रश्मि एथलीट बनती है.
रश्मि छोटे शहर की लड़की है. दिन रात मेहनत करके एथलीट बनती है. मगर उसके साथ बड़ा कांड हो जाता है.

कहानी- रश्मि छोटे शहर की लड़की है. दिन रात मेहनत करके एथलीट बनती है. दौड़ में जीते पुरस्कारों से घर की अलमारी सज जाती है. लेकिन जल्दी ही रश्मि की दुनिया उलट जाती है. जब उसका जेंडर टेस्ट कराया जाता है. कुछ ऐसा रिजल्ट आता है कि लोग उसका बहिष्कार करने लगते हैं. रश्मि उम्मीद छोड़ देती है. लेकिन रश्मि की मां उसकी शक्ति बनती हैं. रश्मि की इस लड़ाई में एक वकील साब भी जुड़ जाते हैं, जो रश्मि का केस लड़ते हैं. क्या रश्मि अन्याय की इस लड़ाई को जीत पाएगी, जानने के लिए देखिए ‘रश्मि रॉकेट’.

ख़ास बात- फ़िल्म में महिला एथलीट्स के साथ होने वाले भेदभाव और जेंडर टेस्ट के नाम पर होने वाले शोषण को दिखाया जाता है.


8. नेल पॉलिश(हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – अर्जुन रामपाल, मानव कौल
डायरेक्टर – बग्स भार्गव कृष्णा
'नेल पॉलिश' फ़िल्म देख कर आपको 'अंधाधुन', 'असुर' जैसी फिल्मों और वेब सीरीज़ की याद आ जाएगी.
‘नेल पॉलिश’ फ़िल्म देख कर आपको ‘अंधाधुन’, ‘असुर’ जैसी फिल्मों और वेब सीरीज़ की याद आ जाएगी.

कहानी- वीर सिंह नाम के बंदे पर कोर्ट में दो माइग्रेंट बच्चों के रेप और मर्डर का केस चल रहा है. वीर पहले सिक्योरिटी फ़ोर्स में था. बाद में NGO में काम करने लगा. वीर सिंह जाना-माना नाम है. लिहाज़ा उसका केस मीडिया की सुर्खियां बना हुआ है. वीर का केस लड़ रहे हैं सिद्धार्थ जय सिंह. क्या सिद्धार्थ जय सिंह वीर को बेक़सूर साबित कर पाता है या वीर सिंह ही असली गुनहगार निकलता ,है जानने के लिए देखें ‘नेल पॉलिश’.

ख़ास बात- ‘नेल पॉलिश’ फ़िल्म देखकर आपको ‘अंधाधुन’, ‘असुर’ जैसी फिल्मों और वेब शोज़ की याद आ जाएगी. कर्रा थ्रिलर है. एक बार ज़रूर देखें.


9. ऑपरेशन जावा(मलयालम फ़िल्म)
कास्ट – बालू वर्गिज़, अंजू मैरी थॉमस, लुकमान
डायरेक्टर – तरुण मूर्ती
सत्य घटनाओं से प्रेरित है फ़िल्म 'ऑपरेशन जावा'.
सत्य घटनाओं से प्रेरित है फ़िल्म ‘ऑपरेशन जावा’.

कहानी- ‘ऑपरेशन जावा’ कहानी दिखलाती है दो इंजीनियरिंग ग्रैजुएट्स की. जो एक IT कंपनी में बतौर इंटर्न जॉइन करते हैं. वहां उनके साथ ख़राब व्यवहार होता है. और अंत में नौकरी भी नहीं मिलती. जिसके बाद वे फिल्म पायरेसी, जॉब फ्रॉड और मर्डर जैसे गुनाहों में शामिल हो जाते हैं.

ख़ास बात- ये फ़िल्म असली फ्रॉड केसेज़ से प्रेरित हैं. फ़िल्म देखकर आपको नेटफ्लिक्स की ‘जामताड़ा’ जैसी सीरीज़ भी याद आएगी.


10. जिन्ने जम्मे सारे निकम्मे (पंजाबी फ़िल्म)
कास्ट – अनमोल अरमान, जसविंदर भल्ला, पुखराज भल्ला
डायरेक्टर – कैनी छाबड़ा
कमाल कॉमेडी फ़िल्म है 'जिनने जम्मे सारे निकम्मे'.
कमाल कॉमेडी फ़िल्म है ‘जिनने जम्मे सारे निकम्मे’.

कहानी- स्टोरी है निरंजन सिंह और सतवंत कौर की, जिनके चार बड़े-बड़े बच्चे हैं. मगर कोई अपने मम्मी-पापा को वक़्त नहीं देता. एक दिन निरंजन अपनी पत्नी के साथ ‘बधाई हो’ देखने जाते हैं. फ़िल्म देखकर निरंजन और उनकी पत्नी एक और बच्चा पैदा करने का फैसला करते हैं. यहां से फ़िल्म में कॉमेडी शुरू होती है जो ख़ूब हंसाती है.

ख़ास बात- ये बहुत ही कमाल की कॉमेडी फिल्म है. फ़िल्म से आपको पूरी ‘बधाई हो’ वाली वाइब आएगी.


11. हल्ला हो 200 (हिंदी फ़िल्म)
कास्ट – अमोल पालेकर, बरुण सोबती, रिंकू राजगुरू
डायरेक्टर – आलोक बत्रा
'हल्ला हो 200' में एक लंबे अरसे बाद अमोल पालेकर ने वापसी की थी.
‘हल्ला हो 200’ में एक लंबे अरसे बाद अमोल पालेकर ने वापसी की थी.

कहानी- बाली चौधरी नाम का गुंडा नागपुर के स्लम एरिया में रह रहीं दलित महिलाओं का सालों से यौन शोषण करता आ रहा है. कई सालों के ज़ुल्म के बाद उसे आखिरकार पुलिस गिरफ्तार कर लेती है. कोर्ट की पेशी के दौरान 200 महिलाएं कोर्ट में घुस आती हैं और बाली चौधरी को लिंच कर देती हैं.

ख़ास बात- फिल्म की कहानी 2004 के एक रियल केस से इंस्पायर्ड है, जहां 200 महिलाओं ने अक्कू यादव नाम के सीरियल रेपिस्ट को नागपुर कोर्टरूम में घुस कर लिंच कर दिया था. ये फिल्म अलग और बड़ी दर्दनाक घटनाओं से प्रेरित थी. मगर किसी भी वजह से हमें मॉब लिंचिंग जैसे कॉन्सेप्ट को प्रमोट नहीं करना चाहिए.


12. ब्रेक पॉइंट(इंग्लिश डॉक्यूमेंट्री)
कास्ट – लिएंडर पेस, महेश भूपति
डायरेक्टर – अश्विनी अय्यर तिवारी, नितेश तिवारी
ये डाक्यूमेंट्री इंडियन टेनिस के सुपरस्टार डुओ लीएंडर पेस और महेश भूपति के करियर ग्राफ पर विस्तार से बात करती है.
ये डॉक्यूमेंट्री इंडियन टेनिस के सुपरस्टार डुओ लिएंडर पेस और महेश भूपति के करियर ग्राफ पर विस्तार से बात करती है.

कहानी- ये डॉक्यूमेंट्री इंडियन टेनिस के सुपरस्टार डुओ लिएंडर पेस और महेश भूपति के करियर पर विस्तार से बात करती है. डॉक्यूमेंट्री में लिएंडर और महेश अपनी ग्राउंड केमिस्ट्री और बाद में अपने बीच आए मतभेदों पर खुलकर बात करते हैं.

ख़ास बात-अगर टेनिस में दिलचस्पी रखते हैं, तो ये आपके लिए बढ़िया वॉच साबित होगी. अगर इन लीजेंड्स के बारे में जानना चाहते हैं, तो ‘ब्रेक पॉइंट’ देख डालिए.


13. क्रैक (तेलुगु फ़िल्म)
कास्ट – रवि तेजा, श्रुति हसन
डायरेक्टर – गोपीचंद मलिनेनी
'क्रैक 200' में रवि तेजा लीद रोल में हैं.
‘क्रैक’ में रवि तेजा लीड रोल में हैं.

कहानी- कहानी है पोथाराजू शंकर नाम के पुलिस ऑफिसर की. जो अपने इलाके के तीन-तीन खूंखार गैंगस्टर्स को मारकर जेल पहुंचा रहा है.

ख़ास बात-क्रैक’ एक फुल ऑन मसाला एंटरटेनर है. फ़िल्म में कई सीटीमार सीन आपको देखने को मिलेंगे.

ये हैं Zee5 पर इस साल रिलीज़ हुई 13 बेहतरीन फिल्में और शोज़. मौक़ा मिलते ही ताबड़तोड़ निबटा दें.


वीडियो: नागा चैतन्य के साथ तलाक को लेकर समांथा को भद्दी बात बोली, मिला करारा जवाब

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

ये फिल्म सिनेमा माध्यम का उपहास करती है.

मूवी रिव्यू: रनवे 34

मूवी रिव्यू: रनवे 34

‘रनवे 34’ की सबसे अच्छी बात ये है कि वो लाउड हीरोज़ के दौर में वैसा बनने की कोशिश नहीं करती.

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

कुछ बढ़िया ढूंढ़ रहे हैं, तो इसे देखना बनता है.

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

'ऑपरेशन रोमियो' एक फेथफुल रीमेक है. मगर ये किसी भी फिल्म के होने का जस्टिफिकेशन नहीं हो सकता.

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म अपने इमोशनल मोमेंट्स को जितना जल्दी बिल्ड अप करती है, ठीक उतना ही जल्दी नीचे भी ले आती है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

सीरीज़ की सबसे अच्छी और शायद बुरी बात सिर्फ यही है कि इसका पूरा फोकस सिर्फ शील पर है.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

एक मौलवी और बच्चे की ये फिल्म इस दौर में बेहद ज़रूरी है.

फिल्म रिव्यू- KGF 2

फिल्म रिव्यू- KGF 2

KGF 2 एक धुआंधार सीक्वल है, जो 2018 में शुरू हुई कहानी को एक सैटिसफाइंग तरीके से खत्म करती है.

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

विजय के फैन हैं तो ही फ़िल्म देखने जाएं. नहीं तो रिस्क है गुरु.

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

विजय राज ने महफ़िल लूट ली.