Submit your post

Follow Us

फरहान अख्तर क्यों बनना चाहते हैं मुजाहिदीन?

251
शेयर्स

चौंक गए सुनील बाबू. कि अच्छा खासा लौंडा जावेद अख्तर का. फिलिम बना रहा था. एक्टिंग कर रहा था. गाना भी बर्दाश्त कर लिया देश की इनटॉलरेंट जनता ने. तो अब ये सब बातें फिदायीन की. दरअसल आप चौंकिए. मगर फरहान पर नहीं. अपनी स्टीरियोटाइप सोच पर. कि फिदायीन और मुजाहिदीन सुना तो तुरंत टेरर वाली टुन टुन बजने लगी दिमाग में.

पर गलती सिर्फ आपकी भी नहीं. मीडिया की भी है. जो ऐसी ही हेडिंग और डिस्क्रिप्शन दिखा आपका ध्यान खींचती है. और आप खिंच जाते हैं. गलती उन गधों की तो शर्तिया है,  जो गन उठाए हगने चले आते हैं इस तरफ. और नाम धर लेते हैं हिजबुल मुजाहिदीन, इंडियन मुजाहिदीन. चोमू. मुहाजिदीन हो तो इंडियन भी तो हो.

खैर, बेवकूफी की बात नहीं करेंगे. सीधे सीधे बताएं. फरहान और बच्चन अमिताभ की एक पिक्चर आई थी- ‘वजीर’. उसी का एक गाना है.  उसमें कवि कहता है कि ‘इश्क में तेरे मुजाहिदीन बन जाऊं मैं’. कवि का नाम है ए एम तुराज. यूपी के मुजफ्फरनगर के रहने वाले हैं. मुजफ्फरनगर याद है न गुरु. वैसे तुराज इससे पहले भंसाली की गुजारिश के लिए भी लिख चुके हैं.

पढ़िए मुजाहिदीन कविता. बाकी बातें उसके बाद.

“तेरे लिए मेरा करीम
फना हो जिस्म की जमीन
यही है मेरा यकीन
बनू तेरा मुजाहिदीन

दीन-ए-हक़ है तेरा दीन
जानशीन जानशीन
तेरा दीन तेरा दीन
तू हसीन से हसीन
मैं हकीर से हकीर

तेरे लिए मेरे करीम
फना हो जिस्म की जमीन
यही है मेरा यकीन
बनू तेरा मुजाहिदीन

तेरे लिए ऐ मेरे यार
ये ज़िन्दगी कौन निसार
ये दोस्ती का कर्ज है
यही तो मेरा फर्ज है

खुद को मैं फना करूं
तो हक तेरा अदा करूं
खुद को मैं फना करूं
फना करूं

ये सबसे अलादीन है
ये मेरा यकीन है
दिल इश्क-ए-फिदायीन है

तेरे लिए मेरे करीम
फना हो जिस्म की जमीन
यही है मेरा यकीन
बनू तेरा मुजाहिदीन”

~ ए. एम. तुराज, मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश 

वैसे आप चौंके भी क्यों? ‘मुजाहिदीन’ पर ? भला सा तो शब्द है. मुजाहिद का बहुवचन है. मुजाहिद वही जो जिहाद करते हैं. अब जिहाद के नाम पर न चौंकिएगा. जिहाद का मतलब सीधा सा हुआ करता था. सेवा और संघर्ष. माने जो अपनी कमाई का एक हिस्सा गरीब को दे डाले वो भी मुजाहिदीन है. और जो प्यासे को पानी पिलाकर उसका भला कर दे वो भी मुजाहिदीन है.

वजीर का गाना है. पानी में चुचुआते खड़े हैं फरहान. इधर गाना बज रहा है.

तो भैया ये बात लिख लो, नोट कल्लो, दिमाग में बइठा लो. असली जिहादी, मुजाहिदीन और फिदायीन बंदूक लेकर नहीं, इश्क में हुआ जाता है. इसी का तराना है फरहान का ये गाना. :-)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
why does farhan akhtar want to become a Mujahideen

10 नंबरी

अक्षय कुमार वो करने जा रहे हैं, जो उन्होंने अपने करियर में पहले कभी नहीं किया

आप गेस करने के अलावा कुछ नहीं कर सकते क्योंकि जानने के बाद आपके होश उड़ने वाले हैं.

Bharat Trailer: सलमान खान की फिल्म की सबसे खास बात, जो ट्रेलर में छुपाकर रखी गई है

सलमान खान अपने जीवन में पहली बार 71 साल के बूढ़े आदमी का रोल कर रहे हैं.

Impact Feature: ZEE5 की सीरीज़ 'अभय' में दिखेंगे तीन नृशंस अपराध, जिन्होंने देश को हिलाकर रख दिया

वो अपराध जिनके बारे में लगता है कि कोई इंसानी दिमाग भला ये सब करने के बारे में सोच भी कैसे सकता है!

अनिल कपूर ने श्रीलंका ब्लास्ट्स पर जो सवाल उठाया है वो सबके मन में है

श्रीलंका ब्लास्ट्स पर इन 22 बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ ने क्या कहा है?

भारत में इन 10 अजीब वजहों से अक्सर टूट जाती हैं शादियां

कभी किसी टूटी शादी में बाराती बने हो तो पता होगा.

IPL 2019 के वो 5 कैरेबियन खिलाड़ी जिन्होंने पूरा पईसा वसूल करवा दिया है

आंद्रे रसल से तो बॉलर खौफ खा ही रहे हैं.

इन 8 हिंदी गीतों के बिना अधूरा है गेम ऑफ थ्रोन्स के लास्ट सीज़न का पहला एपिसोड

हम बॉलीवुड के फैन गीतों के बिना कुछ भी नहीं सोच सकते.

इस फिल्म को बनाने के दौरान मौत शाहरुख ख़ान को छूकर निकली थी!

जानें इस मूवी की 16 बातें जो यंग शाहरुख फैंस नहीं जानते होंगे.

Avengers: Endgame देखने के पहले ये 40 बातें पढ़ लें, वर्ना ज़िंदगी भर पछताएंगे

मार्वल की आने वाली फिल्म के बारे में ये दिशा-निर्देश नहीं मानना, आपका मज़ा खराब कर देगा.

चीन देश से आए ऐप TikTok के डिलीट होने से भारत को 5 भारी नुकसान होंगे!

'अच्छा चलता हूं, दुआओं में याद रखना'