Submit your post

Follow Us

उपदेश राणा की वो बातें जो खुद उन्हें नहीं पता होंगी

उपदेश राणा नाम का एक एरोप्लेन उड़ा और जा घुसा टीपू सुल्तान मस्जिद में. कलकत्ता की टीपू सुल्तान मस्जिद. वहां गया और अपने हिन्दू क्रोध की अग्नि में मुस्लिम मौलवी को भस्म कर दिया. थोड़ी देर में मौलवी का वीडियो आया. पता चला उपदेश ने थप्पड़ जड़ दिया था.

असल मुद्दा यहां जाकर पढ़ें. अपने ही भाई ने लिखा है. मसले की पूरी जानकारी हियां मिलेगी.

लेकिन उपदेश राणा असल में कौन हैं? ये किसी नामाकूल खबरिया चैनल के स्ट्रिंगर को या डेस्क में बैठे सब एडिटर को खाक पता होगा. पसीना चुआना पड़ता है. मेहनत करनी होती है. आपके भाई ने मेहनत की. अगले की जन्मकुंडली ले आया.

#1 सबका सम्मान करते हैं. उनका नारा सबका सम्मान किसी-किसी का अपमान है. मनमोहन सिंह को बेचारा कहा है. इससे जाहिर है उन्हें पूरा आईडिया था सोनिया की के फेर में मनमोहन जी कैसी बेचारगी झेल रहे हैं. मनमोहन जी के लिए दया तो सीआईडी वाले एसीपी के पास भी नहीं थी. लेकिन उपदेश के दिल में थी. काहे कि पर उपदेश कुशल भतेरे.

updesh rana

#2. इस अपडेट से साफ़ होता है, राणा जी को इतिहास का भी ज्ञान है. उन्हें पता था कि दिसंबर में क्या हुआ साथ ही उपदेश जी उन लोगों में से नहीं हैं जो किसी का हक़ मार लें. देखिए जिस चीज पर जिस किसी का हक़ उन्हें जायज लगता है. उसे बताने से चूकते नहीं.

updesh 2003

#3. धर्म के नाम पर राजनीति करने वाले उन्हें बिलकुल भी पसंद नहीं हैं. इवेन उनको तो राजनीति ही पसंद नहीं है. इसीलिये हर जगह, हर जगह! खुद को अदयक्ष लिखते हैं, अध्यक्ष नहीं.

adyaksh

#4. वैवाहिक सम्मेलनों में रहती है उपस्थिति. ज़रा इनकी तस्वीरें देखिए. आदमी ऐसा किसी दूसरे की शादी में ही तैयार होता है. साथ ही याद कीजिए ऐसे हाथ से निकलती तस्वीरें आपने शादी की कैसेट के अलावा और कहां देखी थीं? तिलक वाला पूरा इफेक्ट इस्तेमाल किया जा रहा है. विवाहों से पुराना संबंध रहा है इनका.

updesh safa

#5. फिल्मों में भी है इंटरेस्ट. अजय देवगन की दिलवाले इन्हें इतनी पसंद थी कि जब शाहरुख की दिलवाले आई तो ये बुरा मान गए. बताया कि उनके गेट के सामने विरोध करेंगे. लेकिन डायलॉग जो मारा वो भाई सलमान के कमिटमेंट जैसा था.

salman fan

#6. बाप के भी बाप हैं ये. इनकी पार्टी के शुरुआती अक्षर उठाइए. जैसे आप AAP के उठाते हैं. निकलकर आता है BAP माने बाप. उसके अदयक्ष हैं माने कौन हुए?

UPDESH BAP

#7.डार्विन-वार्विन सब फ़ालतू में ही खप गए. सारे साइंटिस्ट खप गए. भाई ने सब दुखों की वजह बता दी. सोनम गुप्ता से भी सालों पहले बता दिया था बेवफाई कैसे आनुवांशिक रोग बन जाता है.

MAJBOORI

#8.भाई के घोषणापत्र ने हर पार्टी की बारह बजाने की ठान ली है. इनका घोषणापत्र, पत्र नहीं पवित्र है. एक बार नज़र फिराकर देखिए. आरक्षण से लेकर आम तक और कानून से लेकर भ्रष्टाचार तक को निबटा देंगे.

16830_1523770467885890_2701196604624002542_n

#9.भारत ही नहीं पाकिस्तान से भी हमदर्दी है, जिस रोज़ पेशावर में हमला हुआ. भाई का दिल वहां के बच्चों के लिए भी पिघल गया, जो ये साबित करता है कि उनको बेसिकली बुरे से समस्या है. और जहां भी कहीं बुरा होता है. उनको और ज्यादा बुरा लग जाता है.

UR

#10. और सबसे खास, भाई भी अपने जैसे अवेंजर्स का फैन है.

updesh-rana-fb-5_051917021248_190517-121400-522x400


 

ये भी पढ़ें 

उपदेश राणा ने मस्जिद में घुसकर इमाम बरकती को थप्पड़ मारा, मुझे उनसे बहुत उम्मीदें हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

फिल्म रिव्यू- हीरोपंती 2

ये फिल्म सिनेमा माध्यम का उपहास करती है.

मूवी रिव्यू: रनवे 34

मूवी रिव्यू: रनवे 34

‘रनवे 34’ की सबसे अच्छी बात ये है कि वो लाउड हीरोज़ के दौर में वैसा बनने की कोशिश नहीं करती.

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

सीरीज रिव्यू : गिल्टी माइंड्स

कुछ बढ़िया ढूंढ़ रहे हैं, तो इसे देखना बनता है.

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

फिल्म रिव्यू- ऑपरेशन रोमियो

'ऑपरेशन रोमियो' एक फेथफुल रीमेक है. मगर ये किसी भी फिल्म के होने का जस्टिफिकेशन नहीं हो सकता.

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म रिव्यू: जर्सी

फिल्म अपने इमोशनल मोमेंट्स को जितना जल्दी बिल्ड अप करती है, ठीक उतना ही जल्दी नीचे भी ले आती है.

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

वेब सीरीज़ रिव्यू: माई

सीरीज़ की सबसे अच्छी और शायद बुरी बात सिर्फ यही है कि इसका पूरा फोकस सिर्फ शील पर है.

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

शॉर्ट फिल्म रिव्यू- लड्डू

एक मौलवी और बच्चे की ये फिल्म इस दौर में बेहद ज़रूरी है.

फिल्म रिव्यू- KGF 2

फिल्म रिव्यू- KGF 2

KGF 2 एक धुआंधार सीक्वल है, जो 2018 में शुरू हुई कहानी को एक सैटिसफाइंग तरीके से खत्म करती है.

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

फ़िल्म रिव्यू: बीस्ट

विजय के फैन हैं तो ही फ़िल्म देखने जाएं. नहीं तो रिस्क है गुरु.

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

वेब सीरीज रिव्यू: अभय-3

विजय राज ने महफ़िल लूट ली.