Submit your post

Follow Us

आज़ादी पर एक नई फिल्मः जिस-जिस को क्रांति करनी है, देख लो

‘हरामखोर’, ‘द लंचबॉक्स’ और ‘मसान’ जैसी फिल्मों के प्रोड्यूसर्स ने बुधवार को एक शॉर्ट फिल्म ऑनलाइन रिलीज की. 19 मिनट से ज्यादा की इस फिल्म का नाम है ‘शट अप.’ गुनीत मोंगा की कंपनी सिख्या एंटरटेनमेंट के यूट्यूब चैनल पर इसे सार्वजनिक किया गया. इसे डायरेक्ट किया है डेब्यूटेंट आशुतोष पाठक ने.

पिछले दो साल से देश में अभिव्यक्ति की आज़ादी से जुड़े हुए कई इश्यू लोगों ने उठाए. हाल तक आते-आते जेएनयू और रामजस जैसे कैंपस इस वजह से चर्चा में रहे. ये फिल्म इन्हीं सब विषयों को पिरोकर बात करती है. बहुत कम शब्दों में फिल्म कई मसलों की ओर संकेत करती चलती है. शहरी प्रोटेस्ट कल्चर को इसकी कहानी में बैकग्राउंड बनाया गया है. बिना जजमेंटल हुए क्रांति की मांग के साथ लंबे लेक्चर पिलाने वाले ‘क्रांतिकारियों’ के अंदर की घुटन से ये रूबरू करवाती है.

इसकी कहानी अर्जुन (अर्जुन राधाकृष्णन) से शुरू होती है. वो लड़का अपनी पार्टनर के साथ रहता है. लिबरल माने जाने वाले महानगर मुंबई में. एक दिन पहले एक नामी स्टैंड अप कॉमेडियन के साथ मारपीट हुई है क्योंकि उसने प्रधानमंत्री पर जोक कर दिया था किया था. अब इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन होने वाला है. अर्जुन इसमें जाने की तैयारी कर रहा है. लेकिन उसी शाम उसकी पार्टनर समीया (अनुरित्ता झा) के पैरेंट्स ने उसे मिलने भी बुलाया है. अर्जुन के लिए चुनाव बहुत आसान है, वो रैली में ही जाएगा. समीया के माता-पिता से मिलने का वो वादा नहीं करता.

लेकिन जैस-जैसे फिल्म आगे बढ़ती है, हमें मालूम चलता है कि अर्जुन का क्रांति लाने का अहद उतना पक्का नहीं होता जितना शुरुआत में लगता है. पूरा दिन अर्जुन रैली में जाने, न जाने के गणित में उलझा रहता है. फिर कुछ होता है. शाम को वो उस पार्टी में भी पहुंचता है जिसमें उसकी पार्टनर के माता पिता मिलते हैं. वहां अर्जुन विरोधी विचारधारा से दो-चार होता है, हिंसा से दो-चार होता है. उसके बाद वो अपने बारे में एक ऐसी सच्चाई को अपना लेता है जिससे वो भाग रहा था.

यहां देखें फिल्म ‘शट अपः’

‘शट अप’ अभिव्यक्ति की आज़ादी से जुड़े एक-एक पहलू को सिलसिलेवार ढंग से टटोलती है. लेकिन इसकी असल विषयवस्तु है अर्जुन. उसके ज़रिए फिल्म एक संभावित ‘क्रांतिकारी’ को परत दर परत उघाड़ती है. अर्जुन के अंदर समाज और सिस्टम के प्रति गुस्सा है, एक अलहदा राय है. लेकिन वो इस सिस्टम पर चोट करने से, अपनी राय की कीमत चुकाने से डरता है. एक ऐसे समय में जब पॉलिटिकली करेक्ट होने का बेतहाशा प्रेशर आपको घेरे रहता है, उसमें अर्जुन ने एक नायाब समझौता कर लिया है. वो अपनी सहूलियत के हिसाब से ‘क्रांति’ कर रहा है. वो एक गरीब को बर्गर देने में क्रांति करने का सुख ढूंढ रहा है. लेकिन उसकी बातें एक ऐसी छवि गढ़ती है कि वो चे गुवेरा का वंशज हो. इसमें वो पिस रहा है. इस पिसाई से निकलने वाली फिल्म है ‘शट अप’ जो ज़रूर देख जानी चाहिए.


ये भी पढ़ेंः

सेक्स जैसी एक सहज मानवीय भावना को गुनाह में बदल देते हैं हम

सोनाक्षी के पहले भी हमने देखी हैं ऐसी-ऐसी पत्रकार

इस ऐड ने मुझे बताया, मेरे पापा आदर्श पापा नहीं हैं

मुगले-आजम आज बनती तो Hike पर पिंग करके मर जाता सलीम

नसीरुद्दीन शाह और पंकज कपूर से भी बड़ी तोप एक्टर हैं उनकी सासू मां

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' की मेकिंग की 21 बातें जो कलेजा ठंडा कर देंगी!

'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' की मेकिंग की 21 बातें जो कलेजा ठंडा कर देंगी!

मशहूर हॉलीवुड एक्टर करनेवाला था शाहरुख़ वाला रोल.

'लूडो' ट्रेलर: लाइफ के 'बोर्ड' पर भागते दिख रहे हैं सारे किरदार

'लूडो' ट्रेलर: लाइफ के 'बोर्ड' पर भागते दिख रहे हैं सारे किरदार

'लूडो' खेलना छोड़िए, पहले फिल्म का ट्रेलर देखिए.

ये हैं फ़्लिपकार्ट, ऐमजॉन की सबसे बढ़िया मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन डील

ये हैं फ़्लिपकार्ट, ऐमजॉन की सबसे बढ़िया मिड-रेंज स्मार्टफ़ोन डील

15-20 हज़ार के बजट में सबसे बढ़िया मिड -रेंज स्मार्टफ़ोन डील!

बजट फ़ोन की तलाश है तो ऐमज़ॉन, फ़्लिपकार्ट की ये डील ज़रूर देखें

बजट फ़ोन की तलाश है तो ऐमज़ॉन, फ़्लिपकार्ट की ये डील ज़रूर देखें

8 हज़ार से लेकर 12 हज़ार तक के बढ़िया फ़ोन!

सनी देओल के 40 चीर देने और उठा-उठा के पटकने वाले डायलॉग!

सनी देओल के 40 चीर देने और उठा-उठा के पटकने वाले डायलॉग!

वो 64 साल के हो चुके हैं और उन्हें आज भी किसी के यहां कुत्ता बनकर रहना मंजूर नहीं!

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

वो इंडियन डायरेक्टर जिसने अपनी फिल्म बनाने के लिए हैरी पॉटर सीरीज़ की फिल्म ठुकरा दी

मीरा नायरः जो भारत से बाहर रहकर भारतीय समाज पर फिल्में बनाती हैं.

15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमाघर और फिर से रिलीज़ होंगी ये छह फिल्में!

15 अक्टूबर से खुलेंगे सिनेमाघर और फिर से रिलीज़ होंगी ये छह फिल्में!

सुशांत सिंह राजपूत की भी फिल्म है इस लिस्ट में.

अशोक कुमार की 32 मज़ेदार बातेंः इंडिया के पहले सुपरस्टार थे पर कहते थे 'भड़ुवे लोग हीरो बनते हैं'

अशोक कुमार की 32 मज़ेदार बातेंः इंडिया के पहले सुपरस्टार थे पर कहते थे 'भड़ुवे लोग हीरो बनते हैं'

महान एक्टर दिलीप कुमार उनको भैय्या कहते थे और उनसे पूछ-पूछकर सीखते थे.

फ़्लिपकार्ट, ऐमज़ॉन की सालाना सेल में ये होंगी 10 सबसे बड़ी डील्स

फ़्लिपकार्ट, ऐमज़ॉन की सालाना सेल में ये होंगी 10 सबसे बड़ी डील्स

फ़ोन खरीदने का बढ़िया मौक़ा है

आईफोन 12 से लेकर वनप्लस 8T तक, कौन-कौन से फोन लॉन्च हो रहे हैं इस महीने

आईफोन 12 से लेकर वनप्लस 8T तक, कौन-कौन से फोन लॉन्च हो रहे हैं इस महीने

सवा लाख का फ़ोन लेहेव?