Submit your post

Follow Us

वॉर: मूवी रिव्यू

हृतिक रोशन अपने हाथ में चुंबक पहनते हैं और पास पड़ी कुर्सी को अपनी ओर खींचते हैं. सारे दर्शक चिल्लाते हैं- धूम 2. लेकिन धूम फ़्रेंचाइज़ का ये नास्टैल्जिया यहीं खत्म नहीं होता. कार चेज़, बाइक चेज़, डांस सिक्वेंस, फाइट सीन्स और यश राज का बैनर. ऐसी कई चीज़ें हैं जो इस फिल्म को धूम फ़्रेंचाइज़ की ही मूवी सरीखा बना देती हैं.

# कहानी-

अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी की जयंती के दिन रिलीज़ हुई ‘वॉर’ कबीर और खालिद, यानी गुरु और चेले की कहानी है, जिसमें गुरु जब करप्ट हो जाता है तो चेले को टास्क दिया जाता है कि जाओ उसे रोको. फिल्म का ट्रेलर देखते वक्त ही आपको अंदाज़ा हो गया होगा कि कहानी कुछ बुरी तरह फ्लॉप बॉलीवुड मूवीज़ का मैशअप है- जैसे कोहराम, अय्यारी वगैरह. इसके अलावा आगे जो होता है, वो शायद लेखक को लिखते वक्त शॉकिंग या सरप्राइजिंग लगा हो पर दर्शकों को नहीं.

हां तो, गुरु हैं हृतिक रोशन, चेले हैं टाइगर श्रॉफ और गुरु को रोकने का टास्क देते हैं आशुतोष राणा जिन्होंने इस फिल्म में कर्नल लूथरा का किरदार निभाया है.

वॉर - फीचर
बेहतरीन क्राफ्ट, औसत आर्ट और हार्ट

वाणी कपूर इसमें एक ‘सिविल एसेट’ बनी हैं. एसेट बोले तो वो लोग जो मिलट्री, पुलिस या डिफेंस में नहीं होकर भी उनकी हेल्प करते हैं.

फिल्म का क्लाइमेक्स ‘दी डार्क नाइट’ सरीखा लगता है जहां टाइगर श्रॉफ का किरदार हार्वी डेंट और हृतिक रोशन का बैटमैन की याद दिलाता है. साथ में जिस तरह से एंड होती है उससे ये भी लगता है कि ‘वॉर टू’ भी ज़रूर आएगी.

# कुछ, जो बुरा लगा-

फिल्म देखकर आपको यकीन हो जाएगा कि इसकी कास्टिंग पहले हुई है और स्क्रिप्ट बाद में लिखी गई है. क्यूंकि हृतिक, टाइगर और इन दोनों के ब्रोमांस के अलावा स्क्रिप्ट में ज़्यादा कुछ नहीं है. ‘फेस-ऑफ’ मूवी की तरह प्लास्टिक सर्जरी की नींव के ऊपर सस्पेंस की पूरी इमारत खड़ी कर लेना एक लेज़ी स्क्रिप्ट का उदाहरण है.

इंट्रेस्टिंग बात ये कि वाणी ‘वॉर’ में कास्ट किए जाने से पहले रियल लाइफ में काफी प्लास्टिक सर्जरियों से गुजरी हैं, इसलिए ये जानने के लिए कि ये ‘बेफिक्रे’ वाली ही वाणी कपूर हैं या नहीं, आपको उन्हें गौर से देखना पड़ेगा. लेकिन गौर से देखने का ये वक्त ‘वॉर’ आपको देती नहीं. वाणी के छोटे से रोल के चलते. सेकेंड हाफ के बाद और चंद मिनटों के लिए- टू लिटिल टू लेट.

वाणी कपूर- टू लिटिल, टू लेट
वाणी कपूर- टू लिटिल, टू लेट

# कुछ अच्छी बातें-

फिल्म में आर्ट और हार्ट नहीं है लेकिन टेक्निकली और क्राफ्ट के लिहाज़ से ये एक बहुत स्ट्रॉन्ग मूवी है. कुछ सीन वाकई कमाल के हैं. जैसे अंटार्कटिका की बर्फ में फिल्माया कार चेज़ और गलियों से लेकर सीढ़ियों में चल रहा एक बाइक चेज़ सीक्वेंस. इस दौरान बैकग्राउंड म्यूज़िक भी नया सा है. ‘ढे़ंट ढे़ंण’ से थोड़ी अलग. थोड़ी सॉफ्ट. मगर पर्दे पे जो चल रहा है उसे कॉम्प्लीमेंट करता. आसमान से हज़ारों फीट ऊपर एरोप्लेन का फाइट सीन और उसके स्टंट आपको ‘दी डार्क नाइट राइजेज़’ के ओपनिंग सीन की याद दिलाते हैं. टाइगर जिस सीन में एंट्री करते हैं, उसे देखकर लगता है कि ये एक लम्बा इंगेजिंग वन शॉट सीन है जिसमें शायद ही कैमरे को कट बोला गया होगा.

देश विदेश के 17 से ज़्यादा शहरों की सिनेमाटोग्राफी बहुत खूबसूरत है. ड्रोन शॉट्स, बर्ड आई व्यू और स्लो-मो शॉट्स ‘व्यूइंग प्लेज़र’ वाली कैटेगरी में आते हैं.

# कुछ औसत-

अब्बास टायरवाला डायलॉग औसत से लेकर बुरे की रेंज में हैं-

इससे पहले कि और कोई फना हो जाए इसे जन्नत भेजने का वक्त आ गया है. लेकिन इसके जन्नत का डिस्क्रिप्शन सुनके मेरा भी मन करता है कि मैं जन्नत चले जाऊं.

और ये डायलॉग कोई विलेन नहीं बल्कि हृतिक रोशन बोलते हैं. वो भी फिल्म के बिलकुल शुरुआत में.

गुरु-चेले का ब्रोमांस
गुरु-चेले का ब्रोमांस

म्यूज़िक औसत है तो लिरिक्स ऐसी कि गीत आपको न रिमिक्स लगेंगे न ऑरिजनल- ‘घूंघरू टूट गए’ और और ‘जय जय शिवशंकर’ जैसे मुखड़े आप पहली बार नहीं सुन रहे होते हैं. और अंतरे दोबारा नहीं सुनना चाहते. हृतिक और टाइगर का डांस कमाल है, जो ‘वॉर’ के प्रोड्यूसर्स जानते हैं. और उसे कैश करवाने की कोशिश यू ट्यूब में इसे रिलीज़ करते वक्त की गई पैकेजिंग से ही पता लग जाती है.

# अंततः-

फिल्म में एक जगह वाणी का किरदार हृतिक से कहता है कि तुम्हें शहीद होने की पड़ी है क्यूंकि घर में तुम्हारा कोई इंतज़ार नहीं कर रहा. इस फिल्म के साथ भी यही बात लागू होती है. फिल्म शहीद हो जाती है क्यूंकि इसमें घर वापस आने के लिए कोई सब्सटेंस नहीं है. फिल्म एक ऐसा गिफ्ट है जिसका रैपर बहुत बढ़िया है लेकिन उसके अंदर प्लास्टिक का पेंसिल बॉक्स रखा हुआ है.


वीडियो देखें- कौन हैं अंजुला अचारिया जिन्होंने प्रियंका चोपड़ा के हॉलीवुड करियर को आगे बढ़ाया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

'सूरमा भोपाली' के अलावा जगदीप के वो 7 किरदार, जिन्होंने हंगामा मचा दिया था

शोले ने कल्ट आइकन बना दिया, लेकिन किरदार इनके सारे गजब थे.

सौरव गांगुली के वो पांच फैसले, जिन्होंने इंडियन क्रिकेट को हमेशा के लिए बदल दिया

जाने कितने प्लेयर्स और टीम इंडिया का एटिट्यूड बदलने वाले दादा.

वो 7 बॉलीवुड सुपरस्टार्स, जिनकी आखिरी फिल्में उनकी मौत के बाद रिलीज़ हुईं

सुशांत सिंह राजपूत की 'दिल बेचारा' से पहले इन दिग्गजों के साथ भी ऐसा हो चुका है.

वो 8 बॉलीवुड एक्टर्स, जो इंडियन आर्मी वाले मजबूत बैकग्राउंड से फिल्मों में आए

इस लिस्ट में कुछ एक्टर्स ऐसे भी हैं, जिनके परिवार वालों ने देश की रक्षा करते हुए अपनी जान गंवा दी.

सरोज ख़ान के कोरियोग्राफ किए हुए 11 गाने, जिनपर खुद-ब-खुद पैर थिरकने लगते हैं

पिछले कई दशकों के आइकॉनिक गाने, उनके स्टेप्स और उनके बारे में रोचक जानकारी पढ़ डालिए.

मोहम्मद अज़ीज़ के ये 38 गाने सुनकर हमने अपनी कैसेटें घिस दी थीं

इनके जबरदस्त गानों से कितने ही फिल्म स्टार्स के वारे-न्यारे हुए.

डॉक्टर्स डे पर फिल्मी डॉक्टर्स के 21 अनमोल वचन

बत्ती बुझेगी, डॉक्टर निकलेगा, सॉरी कहेगा. हमारी फिल्मों के डॉक्टर्स के डायलॉग सदियों से वही के वही रह गए हैं.

फादर्स डे बेशक बीत गया लेकिन सेलेब्स के मैसेज अब भी आंखें भिगो देंगे

'आपका हाथ पकड़ना मिस करता हूं. आपको गले लगाना मिस करता हूं. स्कूटर पर आपके पीछे बैठना मिस करता हूं. आपके बारे में सब कुछ मिस करता हूं पापा.'

वो एक्टर जो लोगों को अंग्रेज़ लगता था, लेकिन था पक्का हिंदुस्तानी

जिसकी हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी पर गज़ब की पकड़ थी.

भारत-चीन तनाव: PM मोदी के बयान पर भड़के पूर्व फौजी, कहा- वे मारते मारते कहां मरे?

पीएम ने कहा था न कोई हमारी सीमा में घुसा है न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है.