Submit your post

Follow Us

क्या ये विवेकानंद की असली आवाज़ हैः शिकागो विश्व-धर्म संसद (1893) में उनके भाषण का ऑडियो

उन्नीसवीं सदी के आखिर में स्वामी विवेकानंद ने अपने इसी भाषण से पूरी दुनिया का परिचय हिन्दू धर्म और भारतीय वेदांत परंपरा से करवाया था. 1863 में कलकत्ता में जन्मे विवेकानंद 4 जुलाई 1902 को सिर्फ 39 की उम्र में गुज़र गए. उनकी याद.

10.49 K
शेयर्स

दूसरे धर्मों पर अपनी श्रेष्ठता महसूस करने का अवसर भारत में हिंदुओं को दो लोगों ने सबसे ज्यादा दिया.

मनोज कुमार ने 1970 में आई फिल्म ‘पूरब और पश्चिम’ के उस दृश्य में, जब लंदन में गोरों और प्रवासी भारतीयों के बीच क्लब में घूमती टेबल पर बैठकर उनका किरदार भारत गाता है – “जब ज़ीरो दिया मेरे भारत ने, दुनिया को तब गिनती आई”.

और एक स्वामी विवेकानंद ने 11 सितंबर 1893 को शिकागो की विश्व धर्म संसद में, जहां उन्होंने अपने ऐतिहासिक भाषण की शुरुआत “अमेरिका की मेरी बहनों और भाइयों” के संबोधन से की.

बीते करीब 124 वर्षों से विवेकानंद के इस पूरे भाषण की जनमानस में गजब की स्थापना रही है. लेकिन प्रशंसकों ने इस भाषण को या तो पढ़ा है या इसकी किंवदंतियों में खोए रहे हैं कि कैसे पश्चिमी लोगों को तब इस भाषण ने अवाक कर दिया था. लेकिन इंटरनेट पर ऐसे ऑडियो भी मिलते हैं जिनमें विवेकानंद का ये भाषण सुना जा सकता है, और कहा जाता है कि ये विवेकानंद की ही आवाज़ है. जैसे इस ऑडियो मेंः

लेकिन क्या सच में ये आवाज स्वामी विवेकानंद की ही है?

कुछ बातें सामने आती हैं जिनके मुताबिक ये आवाज विवेकानंद की नहीं है और ये शिकागो भाषण की रिकॉर्डिंग नहीं है.

1. विस्तृत शोध और जांचों के बाद मालूम होता है कि सितंबर 1893 में शिकागो में आयोजित धर्म संसद में प्रतिभागियों के भाषणों को रिकॉर्ड ही नहीं किया गया था. बेलूर मठ में जनवरी 1994 में यात्रा पर आई एक शोधकर्ता मैरी लुइज़ बर्क ने कहा था कि उनकी खुद की खोज और उस काल पर पकड़ रखने वाले दो अमेरिकी इतिहासकारों के मुताबिक स्वामी जी के भाषण को रिकॉर्ड नहीं किया गया था.

2. इंटरनेट पर मौजूद जिस आवाज और भाषण को विवेकानंद का बताया जा रहा है उसे खुद रामकृष्ण मिशन के लोग ही फर्जी मानते हैं जिसे विवेकानंद ने ही स्थापित किया था.

शिकागो में विश्व धर्म संसद में बाकी सब प्रतिभागियों के बीच बैठे विवेकानंद, इनसेट में भी. (फोटोः हिंदुइज़्म टुडे)
शिकागो में विश्व धर्म संसद में बाकी सब प्रतिभागियों के बीच बैठे विवेकानंद, इनसेट में भी. (फोटोः हिंदुइज़्म टुडे)

3. शिकागो भाषण के ऑडियो में सुनाई देता है कि एक महिला सबसे पहले माइक पर आकर अगले वक्ता का परिचय देती है और उसके बाद विवेकानंद बोलना शुरू करते हैं. जबकि असल में शिकागो के असली इवेंट में विवेकानंद का परिचय माइक पर मिस्टर बैरोज़ ने दिया था न कि किसी महिला ने. खुद विवेकानंद ने 2 नवंबर 1893 को अपने एक प्रशंसक को लिखे एक पत्र में ऐसा बताया था.

4. ये भी बताया जाता है कि तब इन भाषणों को यूं दर्ज करने की तकनीक भी नहीं थी.

5. ऐसा नहीं है कि विवेकानंद की कोई आवाज कभी कैद हुई नहीं थी. उन्होंने विदेश में कुछ रिकॉर्डिंग की थीं जिन्हें उन्होंने भारत भेजा था. 1892 और 1897 में मैसूर पैलेस और अंबाला में इन्हें दर्ज किया गया था लेकिन आज वो ऑ़डियो खो चुके हैं.


Also READ:
राज कुमार के 42 डायलॉगः जिन्हें सुनकर विरोधी बेइज्ज़ती से मर जाते थे!
श्रीदेवी की फिल्म ‘मॉम’ की वो बातें जो इसकी कहानी का खुलासा करती हैं
वो एक्टर, जिनकी फिल्मों की टिकट लेते 4-5 लोग तो भीड़ में दबकर मर जाते हैं
इंडिया की ये फिल्म ब्राजील की राष्ट्रपति ने भीड़ में बैठ देखी है, हम बैन कर रहे हैं
बाहुबली-2 से पहले साउथ की इन हिंदी फिल्मों ने की थी खूब कमाई
आपने किसे देखा था भीगी साड़ी में ज़ीनत अमान को या भगवान शिव को?
बिमल रॉय: जमींदार के बेटे ने किसानी पर बनाई महान फिल्म ‘दो बीघा ज़मीन’
इंडिया का पहला सुपरस्टार, जिसने पत्नी की न्यूड पेंटिंग बनाई, अफेयर कबूले
लैजेंडरी एक्टर ओम प्रकाश का इंटरव्यू: ऐसी कहानी सुपरस्टार लोगों की भी नहीं होती!
जिसे हमने एडल्ट कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Voice of Swami Vivekananda from his 1893 Chicago Speech: But is it real?

10 नंबरी

इंडिया की सबसे मशहूर पॉलिटिकल डेथ पर बन रही है फिल्म

तीन साल की रिसर्च और जनता से जानकारी लेने के बाद बनी है ये फिल्म.

अल्का याज्ञ्निक के 36 लुभावने गानेः जिन्हें गा-गाकर बरसों लड़के-लड़कियों ने प्यार किया

प्लेलिस्ट जो बार-बार सुनी जाने वाली है. अल्का आज 53 की हो गई हैं.

अजय देवगन अपनी अगली फिल्म में इंडियन एयर फोर्स विंग कमांडर का रोल करने जा रहे हैं

वो अफसर, जिसने युद्ध के बीच लोकल लोगों की मदद से एयरपोर्ट की मरम्मत की थी.

अपनी अगली फिल्म में आलिया भट्ट के साथ काम करने जा रहे हैं सलमान खान

भंसाली की फिल्म को 'कुत्ता भी देखने नहीं गया' कहने के बाद सलमान और भंसाली कैसे आए एक साथ.

पूरी दुनिया में कहीं भी लेफ्ट की सरकार न थी, ये शख्स पहली चुनी हुई सरकार लाया

10 पॉइंट्स में जानिए कौन था वो जिसके सर पर 1000 रुपए का ईनाम था.

वो 5 मैच, जिनमें आख़िरी बॉल पर सिक्स मारकर मैच जीता गया

और छठा मैच वो जिसके चलते हमने ये स्टोरी की. जिसमें दिनेश कार्तिक ने पहली और एकमात्र बार फाइनल में ऐसा कारनामा किया.

10 ऐसे किस्से जब धाकड़ सिंगर-संगीतकार-स्टार एक दूसरे से लड़ पड़े

अलीशा चिनॉय ने अनु मलिक पर केस ठोका, किशोर ने अमिताभ के लिए गाने से मना किया.

'जियो वाले, रिलायंस वाले सब सुन लें, कानेपुर से अन्नू अवस्थी बोल रहे हैं'

व्हॉट्स अप पर खूब वायरल हुआ था इनका ऑडियो, अब नए पोस्टर के साथ आए हैं

'ठग्स ऑफ़ हिंदुस्तान' के पिटने के बाद आमिर खान अब लाल सिंह चड्ढा बना रहे हैं

ये एक धांसू हॉलीवुड फिल्म का रीमेक है. जिसमें आमिर सरदार का रोल करने वाले हैं.