Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

श्रीलंका के बैट्समैन का ध्यान भटकाने के लिए कोहली ने लिया दर्शकों का सहारा

टेस्ट मैच में टेस्ट शब्द एकदम सटीक है. पांच दिन का खेल. वो भी तब ज़िन्दगी ही चार दिन की होती है. पांच दिन आपको अपने तन और मन से खेल में घुसे रहना पड़ता है. बदले में धन जो मिलता है, सो मिलता है. हर किसी का टेस्ट हो रहा होता है. खिलाड़ी, अम्पायर, पिच बनाने वाले, कमेंट्रेटर, कैमरापर्सन. सभी का. सारा खेल इस बात का होता है कि आप कितनी देर चीज़ों पर ध्यान लगा सकते हैं. ध्यान भटका और गड़बड़ हुई. यहां आप एक जगह 10 मिनट बैठ नहीं सकते हैं, वहां आपको पांच दिन एक ही जगह दिमाग लगाये रखना होता है. आपको एक एक बारीक बात का ख्याल रखना पड़ता है.

जब आप बैटिंग कर रहे होते हैं तब तो ये सब कुछ और भी ज़रूरी हो जाता है. खासकर तब जब आप चौथी इनिंग्स में अपनी टीम को बचाने के लिए बैटिंग कर रहे हों. इंडिया और श्रीलंका के बीच चल रहे तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच में इंडिया ने श्रीलंका को 410 रनों का टार्गेट दिया था. श्री लंका ने चौथा दिन ख़त्म होने तक 3 विकेट गंवा दिए थे. लग ऐसा रहा था कि इंडिया तीसरे सेशन की शुरुआत तक श्रीलंका को निपटा देगी. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. मैच ड्रॉ हुआ. चौथी इनिंग्स में धनंजय डिसिल्वा की सेंचुरी और रोशन सिल्वा के 74 रनों की बदौलत श्रीलंका ने मैच ड्रॉ करवा लिया.

इस इनिंग्स के दौरान मैच के एकदम आखिरी हिस्से में जब श्रीलंका ड्रॉ की ओर कदम बढ़ाती दिख रही थी और इंडियन बॉलर्स ज़्यादा असरदार साबित नहीं हो रहे थे, विराट कोहली ने सेट हो चुके बैट्समेन के ध्यान को भटकाने की एक आख़िरी कोशिश की. वो रहाने और पुजारा के बीच में स्लिप्स में खड़े हुए थे. इन तीनों ने बैट्समैन के पीछे से जोर जोर से तालियां बजानी शुरू कीं. इनकी तालियों का शोर पूरे स्टेडियम में गूंजने लगा. इन्हें देख दिल्ली की जनता ने भी शोर मचाना शुरू किया. ये एक तरीका था सेट हो चुके बैट्समेन को एल ऐसा माहौल देना जो उसके ख़िलाफ़ भी था और काफी बदला हुआ भी था क्यूंकि काफी देर से वो शांत हो चुके दर्शकों के बीच में खेल रहे थे. साथ ही इसने तेज़ गेंदबाज इशांत शर्मा को भी ऊर्जा से भर दिया जो उस वक़्त गेंद थामे हुए थे. उन्होंने दो गेंदों में ही एक गेंद रोशन सिल्वा के पैड्स पर दे मारी.

मैच अपने आखिरी घंटे में पहुंचकर दोनों कप्तानों की आपसी सहमति के बाद ड्रॉ क़रार दे दिया गया. श्रीलंका ने पांच विकेट खोकर 299 रन बनाये. सीरीज़ ख़त्म होने पर इंडिया ने 1-0 से सीरीज़ जीती. विराट कोहली को मैन-ऑफ़-द-मैच और मैन-ऑफ़-द-सीरीज़ क़रार दिया गया.


 ये भी पढ़ें:

रवीन्द्र जडेजा को सबसे बड़ा बर्थडे गिफ्ट तो अम्पायर ने दिया

‘डिक्लेयर कब करें?’ इस सवाल के लिए एक प्लेयर शास्त्री और कोहली के बीच कबूतर बना हुआ था

जब कोहली और दिल्ली की जनता श्रीलंका के प्लेयर के लिए ताली बजा रहे थे

साहा के अलावा कल एक और बेहतरीन कैच लिया गया था

 

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

इंडिया का वो बॉलर जिसका बॉलिंग एक्शन मैक्ग्रा को बहुत पसंद है

यूनीक बॉलिंग एक्शन वाले जसप्रीत बुमराह का आज जन्मदिन है.

8 वाकये जो साबित करते हैं कि 'ससुराल सिमर का' देश का सबसे बेहूदा शो है

इस सीरियल के 2 हजार एपिसोड पूरे हुए. सवाल है, क्यों?

'ईश्वर मर चुका है' कहने वाले इंसान के ये 10 कथन किसी की भी भावनाएं आहत कर दें

नित्शे के बिना आधुनिक समाज और दर्शन की कल्पना ही नहीं की जा सकती

जब तक ये 11 गाने रहेंगे, शशि कपूर याद आते रहेंगे

हर एज ग्रुप की प्ले लिस्ट में आराम से जगह बना सकते हैं ये गाने.

उसने कहा, 'नवाब तुम्हारी पेंटिग्स कबाड़ हैं'

अमृता शेरगिल को नेहरू भी अपना पोर्टेट बनाने के लिए राजी नहीं कर सके थे. आज बरसी है.

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी को किसी भी कीमत पर छोड़ने होंगे ये काम!

राहुल की ताजपोशी के बाद उनकी जिम्मेदारी खतरनाक ढंग से बढ़ेगी.

शशि कपूर ने बताया था, दुनिया थर्ड क्लास का डिब्बा है

पढ़िए उनके दस यादगार डायलॉग्स.

जिमी शेरगिल: वो लड़का जो चॉकलेट बॉय से कब दबंग बन गया, पता ही नहीं चला

इन 5 फिल्मों से जानिए कैसे दबंगई आती गई.

पोस्टमॉर्टम हाउस

UP निकाय चुनाव: क्या था 12784 का चक्कर जिसके चलते बीजेपी जीत गई?

एक वायरल मैसेज के मुताबिक, ईवीएम से सेटिंग करके बीजेपी ने 12784 चक्कर चलाया और जीत गई.

फ़िल्म रिव्यू : पंचलैट

अमितोष नागपाल और अनुराधा मुखर्जी की फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : तुम्हारी सुलु

विद्या बालन और मानव कौल की फ़िल्म.

फ़िल्म रिव्यू : शादी में ज़रूर आना

राजकुमार राव और कृति खरबंदा की फ़िल्म.

फिल्म रिव्यू: करीब करीब सिंगल

इसमें इरफान और पार्वती हैं.

सेक्स एजुकेशन पर इससे सहज, सुंदर फिल्म भारत में शायद ही कोई और हो!

बड़े होते किशोरों को ये पता ही नहीं होता कि उनका शरीर अजीब तरह से क्यों बिहेव करता है.

जब हेमा के पापा ने धर्मेंद्र को जीतेंद्र के सामने धक्का देकर घर से निकाल दिया

घरवाले हेमा-धर्मेंद्र की शादी के सख्त खिलाफ थे.

क्या आपको पता है हेमा को 'ड्रीम गर्ल' कहना भी एक स्ट्रेटेजी थी?

अपनी बायोग्राफी में हेमा ने अपनी ज़िंदगी के कई राज़ खोले हैं.

फिल्म रिव्यू: इत्तेफाक

इसमें अक्षय खन्ना हैं.

उस फिल्म का ट्रेलर आया है जिसे देखने के लिए कॉलेज-ऑफिस से छुट्टी लेनी चाहिए

'कड़वी हवा,' जिसमें 75 साल का अंधा बूढ़ा सुपरमैन है. जो दुनिया को बचाना चाहता है.