Submit your post

Follow Us

जमीन कब्जे की शिकायत लेकर गए थे, योगी आदित्यनाथ ने धक्का देकर भगा दिया!

राज कर रहे भू-माफिया, सो रही सरकार…
न गुंडाराज न भ्रष्टाचार, अबकी बार भाजपा सरकार

ये नारा 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने बंपर तरीके से चलाया था. वादा था कि प्रदेश से गुंडाराज और माफिया राज खत्म कर देंगे. सरकार आई. पुलिस-प्रशासन की सख्ती दिखी. कई इनकाउंटर की खबरें आईं. मगर एक वायरल वीडियो से इन सारी कोशिशों पर बट्टा लगता दिख रहा है. क्योंकि मामला सीधा सीएम योगी आदित्यनाथ से जुड़ गया है. यूपी की राजधानी लखनऊ के एक व्यापारी ने आरोप लगाया है कि जब वो सीएम योगी आदित्यनाथ से उनके जनता दरबार में मिला और अपनी जमीन पर कब्जा होने की बात कही तो योगी भड़क गए और उसे धक्का देकर भगा दिया. जमीन पर कब्जे का आरोप नौतनवा से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी पर है.

यूपी चुनाव के वक्त लगे पोस्टर.
यूपी चुनाव के वक्त लगे पोस्टर.

ये मामला सबके सामने 3 मार्च को आया. जब पीड़ित बताए जा रहे लखनऊ के व्यापारी आयुष सिंघल का एक वीडियो वायरल हुआ. उस दिन आयुष गोरखपुर पहुंचे थे, जहां मठ पर सीएम योगी आदित्यनाथ का जनता दरबारा लगा हुआ था. जब आयुष जनता दरबार से निकले तो रोने लगे. मीडिया ने उनसे सवाल पूछे तो उन्होंने जो कहा वो दिल दहला देने वाला है. वो बोले –

मैं लखनऊ से आया हूं. मेरी जमीन अमरमणि और अमनमणि त्रिपाठी ने कब्जा कर रखी थी. मैं महाराज जी से मिलने गया. महाराज जी धक्का मारकर भगा दिए. कहे तुम्हारी जिंदगी में कभी कोई कार्रवाई नहीं होगी. बताइये मेरी क्या गलती है. जान से मारने की धमकी अमनमणि देता है. घर पर पत्थर वो फिकवाता है. महाराज जी को वोट वो देता है. मेरी क्या गलती. हम तो व्यापारी आदमी हैं.

देखें वीडियो-

आयुष ने बताया कि उनके पास 22.5 बीधा जमीन है. ये जमीन लखनऊ के चिनहट थाने के पपनामऊ में है. 2012 में इसकी रजिस्ट्री करवाई थी, लेकिन इसके बाद उस पर पूर्व मंत्री और उनके विधायक बेटे द्वारा कब्जा कर लिया गया. आयुष ने बताया कि वो पहले भी दो बार योगी आदित्यनाथ से मिल चुके हैं. एक बार लखनऊ में और एक बार गोरखपुर में. 28 फरवरी को गोरखपुर जनता दरबार में मिलने पर सीएम ने लखनऊ एसएसपी को जांच के आदेश दिए थे, लेकिन एक महीने बाद भी केस में उचित कार्रवाई न होने पर वह फिर सीएम से मिलने पहुंचे. उनका आरोप है कि इस बार जब वो सीएम से मिले और अपना मामला बताना शुरू किया कि उनकी जमीन पर अमनमणि ने कब्जा कर रखा है. उन्हें कागज पकड़ाया तो योगी ने कागज फेंक दिए. कहा-आवारा कहीं का, जिंदगी में तुम्हारी कार्रवाई नहीं होगी. आयुष बोले –

जब से सरकार बनी है तब से दौड़ रहे हैं. पिछली सरकार तो समाजवादियों की थी. तो उसमें तो कुछ नहीं हो सकता था. उम्मीद थी कि इस सरकार में कुछ करेंगे. इसमें भी धक्का मारकर भगा दिया.

अमनमणि त्रिपाठी पर है जमीन कब्जाने का आरोप.
अमनमणि त्रिपाठी पर है जमीन कब्जाने का आरोप.

सोशल मीडिया में आयुष का वीडियो बहुत तगड़े तरीके से वायरल हो गया है. इस वाकये पर हर तरह की बातें हो रही हैं. इस मामले की टाइमिंग भी कुछ ऐसी है कि इस पर विवाद होना लाजमी है. मार्च में ही हुए राज्यसभा चुनाव में अमनमणि त्रिपाठी ने बीजेपी के पक्ष में वोट किया है. महाराज जी के गुणगान करते तो वो काफी समय से दिख रहे हैं. इससे भी इस वाकये को बल मिलता है. सही क्या है वो यूपी सरकार और उसका प्रशासन ही बता सकता है.

प्रशासन ने दिया जवाब

लखनऊ के डीएम कौशल राज का बयान भी इस मामले में आ गया है. उन्होंने बताया कि मामला कोर्ट में है. जमीन के 8 सहखाताधारक हैं. जमीन पर बंटवारा होना है. आयुष की शिकायत पर मामले की जांच करवाई गई थी. डीएम कौशल राज ने यह भी बताया कि सुनवाई के दौरान कोर्ट में आयुष सिंघल की तरफ से कोई पक्षकार पेश नहीं हुआ. उनका कहना है कि इस जमीन में सिंचाई विभाग का भी हिस्सा है.

उधर, अमनमणि त्रिपाठी ने मामले में कहा कि जमीन हमारी है और हमारी ही रहेगी. बोले- जब मामला कोर्ट में चल रहा है कि तो सीएम क्या उस पर कोई भी कुछ नहीं कर सकता.


ये भी पढ़ें-

दलितों के भारत बंद में हुई हिंसा पर पुलिस ने सबसे चौंकाने वाला खुलासा किया है

सरकार ने 38 भारतीयों के ताबूत न खोलने के लिए क्यों कहा

मोदी के भाषण के दौरान मंच पर एक पुलिसवाले के मरने की सच्चाई क्या है?

किसी मुस्लिम को गाली देने के 10 पॉइंट्स, उसे काट डालने के 500, तो मस्जिद उड़ाने के 1000 पॉइंट्स

लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

वो एक्टर जो लोगों को अंग्रेज़ लगता था, लेकिन था पक्का हिंदुस्तानी

वो एक्टर जो लोगों को अंग्रेज़ लगता था, लेकिन था पक्का हिंदुस्तानी

जिसकी हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी पर गज़ब की पकड़ थी.

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

इस आदमी पर से भरोसा उसी दिन उठ गया था, जब इसने सनी देओल का जीजा बनकर उन्हें धोखा दिया था

परदे पर अब तक 182 बार मर चुका है ये एक्टर.

वो 10 एक्टर्स, जिन्होंने पिछले एक साल में थिएटर्स बंद होने का गम भुला दिया

वो 10 एक्टर्स, जिन्होंने पिछले एक साल में थिएटर्स बंद होने का गम भुला दिया

'पाताल लोक' वाले जयदीप अहलावत से लेकर 'स्कैम 1992' वाले प्रतीक गांधी, सभी का शुक्रिया.

ये चीज ना सीख पाए तो नोवाक जोकोविच के मैच देखना ही बेकार है!

ये चीज ना सीख पाए तो नोवाक जोकोविच के मैच देखना ही बेकार है!

Djoko से ये सीख लिया तो जीवन सफल समझो.

सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स ने इन 6 लोगों पर हत्या और उकसावे के आरोप लगाए थे

सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स ने इन 6 लोगों पर हत्या और उकसावे के आरोप लगाए थे

आखिर सुशांत सिंह राजपूत को क्यों मारना चाहेंगे, सलमान खान, करण जौहर और महेश भट्ट?

सुशांत सिंह राजपूत की बरसी पर पढ़िए उनके 16 बेहतरीन डायलॉग्स

सुशांत सिंह राजपूत की बरसी पर पढ़िए उनके 16 बेहतरीन डायलॉग्स

जो हमें ज़िंदगी जीने का तरीका समझाते हैं.

सुशांत सिंह राजपूत केस में कब, क्या और कैसे हुआ? जांच कहां तक पहुंची?

सुशांत सिंह राजपूत केस में कब, क्या और कैसे हुआ? जांच कहां तक पहुंची?

सुशांत को गुज़रे एक साल हो गया, केस में क्या-क्या हुआ?

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

डेथ से पहले इन 5 प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे थे सुशांत सिंह राजपूत

आज सुशांत सिंह राजपूत की पहली पुण्यतिथि है.

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

सुशांत सिंह राजपूत के 50 ख्वाब, जो उन्होंने पर्चियों में लिख रखे थे

उनके ख्वाबों की लिस्ट में उनके व्यक्तित्व का सार छुपा हुआ है.

EMS नंबूदिरीपाद, वो शख्स जिसने भारत में लेफ्ट की पहली चुनी हुई सरकार बनाई

EMS नंबूदिरीपाद, वो शख्स जिसने भारत में लेफ्ट की पहली चुनी हुई सरकार बनाई

जन्मदिन पर 10 पॉइंट्स में जानिए नंबूदिरीपाद की कहानी.