Submit your post

Follow Us

लाल इमली, टिनोपाल, वॉकमैन, कहां गए ये सब?

हम हाईटेक जमाने में हैं. चीजें बड़ी फास्ट होती हैं. कल पिच्चर आई, आज हिट हुई. कल कोई नामलेवा न होगा. कोई गाना आया. जम कर बजा. फिर गायब. हम लो मेमोरी वाले दौर में जी रहे हैं. ये अच्छा है या बुरा इसका पता नहीं. लेकिन इतना पता है कि कुछ चीजें ऐसी हुई हैं जो मिटाए से न मिटें. 70 या 80 के दशक में पैदा हुए लोग ही इनकी कीमत जानते हैं. उनको कुरेदो, HMV की ऑडियो कैसेट में “जब हम जवां होंगे” सुने हो? आंसू न निकल आएं तो कहिना. जिसके पास वो वॉकमैन होता था छोटू सा. भौकाल देखौ बस. उसमें जो बैटरी मने सेल पड़ते थे. वो औकात से बाहर ही रहते थे हमेशा. उसके अलावा ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनको याद करके ‘बीते हुए जवानों’ की आंखें भर आती हैं. पापा के जमाने वाली चीजों के बारे में हम डिस्कस कर चुके हैं. अब उस जमाने से लेकर बड़के भैया के जमाने तक सेंध मारते हैं. तैयार हो तो आ जाओ.

1. अफगान स्नोः

ये न पूछना किस बला का नाम है. कसम है अगर किसी ने तुमको इसके बारे में बताया न हो. जब बोरो पिलस और फेयर एंड लभली सात दिनों में गारंटीड गोरापन देने के लिए धरा पर अवतरित नहीं हुई थीं. तब अफगान स्नो ने नारी का हुश्न संवारा था. नेचुरल ब्यूटी के नाम पर. भई हम देखे नहीं हैं साफ बात. लेकिन सुने हैं. कि उसमें पाउडर और क्रीम एक में घेप कर पोता जाता था. अब तो इत्ती वैराइटी हैं और उनके इत्ते वादे हैं कि आप एक एक ब्रांड आजमाओ तो दुइ जनम पार हो जाएं.

Afgan


2. टिनोपालः

ये होता था एक पाउडर. कपड़े धोने के लिए. सफेद कपड़ों में व्हाइट हाउस जैसी सफेदी लाने के लिए. नील के साथ इस्तेमाल किया जाता था शायद. इत्ता फेमस ब्रांड था कि व्हाइट हो तो टिनोपाल. इसका नाम बहुत चल गया तो पता नहीं क्यों बदल कर रानीपाल कर दिया था.

Tinopal-Powder


 

3. केश निखारः

नाम से ही जाहिर है बालों की क्वालिटी लल्लनटॉप करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था. लेकिन मितरों, ये शैंपू नहीं साबुन था. येब्बड़ी सी बट्टी काली काली. लोहे जैसा तो रंग था उसका. इसके निखारे केश या तो आज इतिहास बन चुके हैं या खिचड़ी या फिर टोटल सफेद हो चुके हैं. अरे भैया उमर भी तो हो गई है.

keshnikhar-soap


 

4. 555 ताश के पत्तेः

ताश का खेल कोई खेल नहीं एक संस्कृति है. परंपरा है. इसे खेलने में किसी सीमा या बंधन का उल्लेख इतिहास में नहीं मिलता. लेकिन इस नंबर का मिलता है. 555. ये नंबर उन ताश के खिलंदड़ों पर ऐसा छपा है कि दिमाग की हार्डडिस्क डीप फॉर्मैट कर दो. 555 ताश के पत्ते न मिट पाएंगे.

555 card


5. चारमीनारः

सिगरेट थी भाईसाब. जैकी श्राफ इसका ऐड करते थे. हीरो थे भाई उस जमाने के. इसे बनाती थी वजीर सुल्तान टुबैको कंपनी. बड़े वाले शौकीनों के बस की बात थी इसे इस्तेमाल करना.

charminar cigarette


6. बजाज सन्नीः

सचिन तेंदुलकर इस स्कूटर का ऐड करते थे. उनका फेम आसमान पर छाया हुआ था उस वक्त. ये 60 CC का स्कूटर 50 किलोमीटर प्रति घंटे की मैक्सिमम रफ्तार से दौड़ता था. 120 किलो से ज्यादा वजन ले जाना ठीक नहीं था इस पर. तब स्कूटी नाम का शब्द नहीं आया था नहीं तो यही कहते. तब इससे फर्राटे भरने वाली लड़कियां आज ऑन्टी जी हैं. सन 1997 में इस स्कूटर का प्रोडक्शन बंद हो गया.

bajaj


7. बिगफनः

किसी के सामने बहुत चपड़ चपड़ बतियाओ तो वो क्या कहता है. नहीं नहीं कंटाप मारने से पहले. यही कि सेंटरफ्रेश खाओ. ई जबान पर लगाम लगाती है. च्युइंग गम का ये यूज बहुत बाद में शुरू हुआ. पहले तो खाली मुंह में भर कर फुलाया जाता था. जिसने सबसे पहले बचुवा लोगन का मन मोहा वो था बिगफन. गुजरे जमाने का बबलगम.

bigfun


8. लाल इमलीः

ये शॉल होती थी भाईसाब. यूपी वाले अच्छे से जानते हैं. कानपुर की एक पहचान लाल इमली भी है. वहां की रिश्तेदारियों में बड़ा लालच होता था जब तक लाल इमली की मिल चलती थी. ये फैक्ट्री जिस जगह पर थी वहीं एक इमली का पेड़ था. बड़ा हक्कान पेड़, जिसमें लाल रंग की बेहतरीन इमली फलती थी. ललचहे लोग पहुंचते थे कि चाचा गिरते गिरते एक लाल इमली की शॉल दे देंगे. बस जिंदगी सफल है उत्ते में.

Source: Ebay
Source: Ebay

9. क्लिक 3 कैमरा:

70s के दशक में चला ये कैमरा लक्जरी था भाईसाब. रेडियो, टेप रख ले आदमी वही बहुत था. कैमरा रखना तो बस रईसों के बस का था. जर्मनी की कंपनी ऐग्फा ये नयनसुख वाली चीज बनाती थी. इसके बारे में बहुत ज्यादा नहीं पता है. अपने पापा से पूछ लो. आज के कैमरों की तुलना उससे नहीं हो सकती. अब तो 300 रुपए के चाइनीज फोन में भी 2-4 मेगापिक्सल कैमरा मिल जाता है.

Agfa_Click-III_Camera


10. वॉकमैनः

कनौती समझते हो? कनखोंसना. कान में घुसे हुए लाल, नीले, पीले रंग के इयरफोन. जो आज हर कूल डूड की पहचान हैं. जब इनका अस्तित्व नहीं था तब भी हेडफोन होते थे. बहुत ही बकवास टाइप के. आवाज भी बहुत खास नहीं थी. लेकिन तब जो लौंडा एक दिन ये वॉकमैन लेकर स्कूल चला जाए, वो स्कूल का इल्तुतमिश हो जाता था. सोनी ने सबसे पहले निकाला. जो बाद में सोनी एरिक्सन के मोबाइल तक चला. लेकिन वॉकमैन का नाम था जो रह गया.

walkman


11. कैम्पा कोलाः

ये उस जमाने में यहां लोग सर उठा के पीते थे जब तक कोका कोला और पेप्सी की घुसपैठ यहां नहीं हुई थी. कैम्पा कोला प्योर ड्रिंक्स का आइटम था. और ये कंपनी भाईसाब…. सॉफ्ट ड्रिंक्स की मम्मी है इंडिया में. फिर 1991 में पीवी नरसिंहाराव की सरकार ने विदेशी कंपनियों को छूट दे दी. कि आओ इंडिया में कारोबार करो. कैम्पा का खेल खतम. 2000-01 में इसके दिल्ली में बॉटलिंग प्लांट और ऑफिस बंद हो गए.

campa


12. एनासिनः

सिरदर्द की टिकिया. बज्जर देहाती मघैयों के सिर में भी दर्द होता था तो कहते थे. “खोपड़ी फटी जात है एनासीन लिए आव”. तो भैया अइसी पुन्य प्रताप था एनासिन का. और सुनो. चली तो ये बहुत साल लेकिन आई थी सन 1916 में. विलियम मिल्टन नाइट ने खोजा था इस दवाई को. जिसमें होता है एस्पिरिन और कैफीन. चाहे जित्ती लड़ाई हो पड़ोसी से. सिरदर्द हो जाए तो एक गोली खाओ बस काम टनाटन.

Anacin


 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- ईब आले ऊ

साधारण लोगों की असाधारण कहानी, जो बिलकुल किसी फिल्म जैसी नहीं लगती.

इललीगल- जस्टिस आउट ऑफ़ ऑर्डर: वेब सीरीज़ रिव्यू

कहानी का छोटे से छोटा किरदार भी इतनी ख़ूबसूरती से गढ़ा गया है कि बेवजह नहीं लगता.

बेताल: नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

ये सीरीज़ अपने बारे में सबसे बड़ा स्पॉयलर देने से पहले स्पॉयलर अलर्ट भी नहीं लिखती.

पाताल लोक: वेब सीरीज़ रिव्यू

'वैसे तो ये शास्त्रों में लिखा हुआ है लेकिन मैंने वॉट्सऐप पे पढ़ा था.‘

इरफ़ान के ये विचार आपको ज़िंदगी के बारे में सोचने पर मजबूर कर देंगे

उनकी टीचर ने नीले आसमान का ऐसा सच बताया कि उनके पैरों की ज़मीन खिसक गई.

'पैरासाइट' को बोरिंग बताने वाले बाहुबली फेम राजामौली क्या विदेशी फिल्मों की नकल करते हैं?

ऐसा क्यों लगता है कि आरोप सही हैं.

रामायण में 'त्रिजटा' का रोल आयुष्मान खुराना की सास ने किया था?

रामायण की सीता, दीपिका चिखालिया ने किए 'त्रिजटा' से जुड़े भयानक खुलासे.

क्या दूरदर्शन ने 'रामायण' मामले में वाकई दर्शकों के साथ धोखा किया है?

क्योंकि प्रसार भारती के सीईओ ने जो कहा, वो पूरी तरह सही नहीं है. आपको टीवी पर जो सीन्स नहीं दिखे, वो यहां हैं.

शी- नेटफ्लिक्स वेब सीरीज़ रिव्यू

किसी महिला को संबोधित करने के लिए जिस सर्वनाम का इस्तेमाल किया जाता है, उसी के ऊपर इस सीरीज़ का नाम रखा गया है 'शी'.

असुर: वेब सीरीज़ रिव्यू

वो गुमनाम-सी वेब सीरीज़, जो अब इंडिया की सबसे बेहतरीन वेब सीरीज़ कही जा रही है.