Submit your post

Follow Us

पेप्सी को टैगलाइन देने वाले शहीद विक्रम बत्रा की बायोपिक की 9 शानदार बातें

1. सिद्धार्थ मल्होत्रा कैप्टन विक्रम बत्रा की बायोपिक ‘शेरशाह’ में काम कर रहे हैं. ये उनके करियर की पहली बायोपिक है. अनाउंसमेंट के तकरीबन दो साल बाद इस फिल्म के पोस्टर्स रिलीज़ किए गए हैं. यहां देखिए-

2. विक्रम 1999 के कारगिल वॉर के हीरो थे. उन्होंने जब पॉइंट 5140 को पाकिस्तानी कब्जे से मुक्त कर दिया तो अपनी कमांड पोस्ट को रेडियो से कहा था – “ये दिल मांगे मोर.” उनका ये वाक्य बहुत फेमस हुआ था. ऐसा दावा किया जाता है कि इसी लाइन से प्रेरित होकर कोल्ड ड्रिंक बनाने वाली कंपनी पेप्सी ने अपनी टैगलाइन बनाई. लेकिन इस बात पर कंफ्यूज़न अब भी बना हुआ है कि ये लाइन विक्रम ने पहले इस्तेमाल कि या पेप्सी ने. युद्ध के दौरान विक्रम ने एक इंटरव्यू दिया था जो उनका आखिरी साबित हुआ. उसमें उनका व्यक्तित्व करिश्माई लगा. बाद में जब वे दूसरे पॉइंट को कैप्चर करने गए तो अपने एक घायल साथी की जान बचाते हुए उन्हें गोली लग गई और वे शहीद हो गए. वे सिर्फ 24 साल के थे. उनके शब्द, उनकी ब्रेवरी और उनका स्टाइल हमेशा के लिए जिंदा रह गए. पाकिस्तानी सेना में उनको शेरशाह के कोडनेम से बुलाया जाता था. उन्हें मरणोपरांत भारत का सबसे ऊंचा वीरता पुरस्कार ‘परम वीर चक्र’ प्रदान किया गया था.

'ये दिल मांगे मोर' टैगलाइन वाले दौर में पेप्सी के साथ शाहरुख खान और सचिन तेंडुलकर जैसे सेलेब्स जुड़े हुए थे.
‘ये दिल मांगे मोर’ टैगलाइन वाले दौर में पेप्सी के साथ शाहरुख खान और सचिन तेंडुलकर जैसे सेलेब्स जुड़े हुए थे.

3. जे.पी.दत्ता की 2003 में आई फिल्म ‘एलओसी कारगिल’ में विक्रम बत्रा का किरदार था जो अभिषेक बच्चन ने निभाया था. उसमें पूरे वॉर की कहानी थी जिसमें कई हीरोज़ थे, वहीं ‘शेरशाह’ सिर्फ विक्रम पर केंद्रित होगी. उनकी बहादुरी, देशभक्ति और उनकी जिंदगी की कहानी पर.

फिल्म एलओसी कारगिल की शूटिंग के दौरान लीड एक्टर्स के बीच जे.पी.दत्ता.
फिल्म एलओसी कारगिल की शूटिंग के दौरान लीड एक्टर्स के बीच जे.पी.दत्ता.

4. अपने रोल की तैयारी सिद्धार्थ ने 2018 में ही शुरू कर दी थी, जब वे ‘अय्यारी’ का प्रमोशन कर रहे थे. इस दौरान वे सीमावर्ती इलाकों में गए. वहां बीएसएफ के जवानों-अफसरों से मिले. उनकी लाइफस्टाइल को देखा. उनके अनुशासन और उनकी ट्रेनिंग को समझा.

5. फिल्म में उनका डबल रोल होगा. वे न सिर्फ विक्रम बनेंगे, बल्कि उनके हमशक्ल भाई विशाल बत्रा भी बनेंगे. फिल्म में ज्यादातर हिस्से में विक्रम बत्रा ही दिखेंगे. लेकिन जितना थोड़ा भी ये डबल रोल होगा उसमें सिद्धार्थ के लुक और लहजे को चतुराई से प्रस्तुत करने के बारे में सोचा जा रहा है. फिल्म में सिद्धार्थ के साथ ‘कबीर सिंह’ फेम कियारा आडवानी भी काम कर रही हैं. वो विक्रम की मंगेतर के रोल में दिखाई देंगी.

विक्रम और उनके छोटे भाई विशाल.
विक्रम और उनके छोटे भाई विशाल.

6. सिद्धार्थ इस रोल को करते हुए अपनी वरीयता ये मानते हैं कि ये फिल्म फिक्शन नहीं है. और एकदम सच्ची कहानी है, ऐसे में ज़रूरी ये है जब भी ये फिल्म बनकर सामने आए तो देखकर विक्रम के परिवार को खुशी और गर्व होना चाहिए कि उनकी कहानी के साथ न्याय हुआ है.

7. करण जौहर ने घोषणा की थी कि इस बायोपिक को उनकी कंपनी धर्मा प्रोडक्शंस को-प्रोड्यूस करेंगी. साथ में शब्बीर बॉक्सवाला प्रोड्यूसर होंगे. सिद्धार्थ को करण ने ही हिंदी फिल्मों में लॉन्च किया था. फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ से. उसके बाद भी उनकी प्रोड्यूस की ‘इत्तेफाक़’, ‘कपूर एंड संस’ और ‘ब्रदर्स’ में सिद्धार्थ रहे हैं.

8. इस फिल्म को डायरेक्ट करेंगे विष्णु वर्धन. वो तमिल सिनेमा से आते हैं. उनका करियर करीब 28 साल का है. छोटे थे तब एक्टिंग करते थे. मणिरत्नम की 1990 में आई फिल्म ‘अंजलि’ में उन्होंने एक बच्चे का रोल किया था. छह-सात साल बाद मणि की ही फिल्म ‘इरुवर’ में भी उन्होंने एक्टिंग की. यही ‘इरुवर’ ऐश्वर्या की डेब्यू फिल्म थी. विष्णु ने डायरेक्टर-सिनेमैटोग्राफऱ संगीत सिवन को सात साल मुंबई में असिस्ट किया. उन्होंने ‘फिज़ा’ और ‘अशोका’ जैसी फिल्मों में छोटे रोल भी किेए. फिर 2003 में बतौर डायरेक्टर पहली तमिल फिल्म बनाई. वे मसाला फिल्में ही बनाते हैं. जैसे 2007 में आई अजीथ स्टारर ‘बिल्ला’ और 2001 में आई पवन कल्याण की ‘पंजा’. ‘शेरशाह’ उनकी पहली हिंदी फिल्म होगी.

9. संदीप श्रीवस्तव इस फिल्म के राइटर होंगे. वे ‘अब तक छप्पन’ (2004) और ‘न्यू यॉर्क’ (2009) जैसी फिल्मों के स्क्रीनप्ले और डायलॉग लिख चुके हैं. बीते साल सचिन पर एक डॉक्यूमेंट्री आई थी उसके हिंदी डायलॉग उन्होंने ही लिखे थे. मई 2019 में इस फिल्म की शूटिंग शुरू हुई थी. इसे चंडीगढ़, पालमपुर, लद्दाख और कश्मीर में शूट किया गया है. अब खत्म हो गई है. ‘शेरशाह’ 3 जुलाई, 2020 को थिएटर्स में उतरेगी.

Also Read:
सत्यजीत राय के 32 किस्से : इनकी फ़िल्में नहीं देखी मतलब चांद और सूरज नहीं देखे
‘संजू’ के टीज़र पर 10 बातें : क्या राजकुमार हीरानी की ये फ़िल्म निराश करेगी?
‘द पोस्ट’ – बहादुर जर्नलिज़्म पर बनी ये फिल्म इससे बेस्ट टाइम में नहीं आ सकती थी
एक प्रेरक कहानी जिसने विनोद खन्ना को आनंदित होना सिखाया
‘भावेश जोशी सुपरहीरो’ ट्रेलर की 10 बातेंः भ्रष्टाचार-विरोधी आंदोलन से निकला नायक?
इस फिल्म को बनाने के दौरान मौत शाहरुख ख़ान को छूकर निकली थी!
कैसे स्टीवन स्पीलबर्ग ने सत्यजीत राय की कहानी कॉपी करके झूठ बोला!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- भूत: द हॉन्टेड शिप

डराने की कोशिश करने वाली औसत कॉमेडी फिल्म.

फिल्म रिव्यू: लव आज कल

ये वाली 'लव आज कल' भी आज और बीते हुए कल में हुए लव की बात करती है.

शिकारा: मूवी रिव्यू

एक साहसी मूवी, जो कभी-कभी टिकट खिड़की से डरने लगती है.

फिल्म रिव्यू: मलंग

तमाम बातों के बीच में ये चीज़ भी स्वीकार करनी होगी कि बहुत अच्छी फिल्म बनने के चक्कर में 'मलंग' पूरी तरह खराब भी नहीं हुई है.

भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

हिंदी सिनेमा के इन बड़े विरले एक्टर को याद कर रहे हैं.

फिल्म रिव्यू- जवानी जानेमन

जब 50 का आदमी फिल्म में 40 का दिखे. और उसी उम्र में पहले बाप और फिर नाना बने, बात तो इंट्रेस्टिंग है.

नसीरुद्दीन शाह और अनुपम खेर की रगों में क्या है?

एक लघु टिप्पणी दोनों के बीच विवाद पर. जिसमें नसीर ने अनुपम को क्लाउन यानी विदूषक कहा था.

पंगा: मूवी रिव्यू

मूवी देखकर कंगना रनौत को इस दौर की सबसे अच्छी एक्ट्रेस कहने का मन करता है.

फिल्म रिव्यू- स्ट्रीट डांसर 3डी

अगर 'स्ट्रीट डांसर' से डांस निकाल दिया जाए, तो फिल्म स्ट्रीट पर आ जाएगी.

कोड एम: वेब सीरीज़ रिव्यू

सच्ची घटनाओं से प्रेरित ये सीरीज़ इंडियन आर्मी के किस अंदरूनी राज़ को खोलती है?